Jump to content
आचार्य श्री विद्यासागर मोबाइल एप्प डाउनलोड करें | Read more... ×
  • Blogs

    1. विद्यासागर डॉट गुरु वेबसाइट की स्टाल भाग्योदय तीर्थ सागर में 


      *क्या आप सागर आ रहे हैं, तो अब आप वेबसाइट के अनुभव हमसे साझा स्टाल पर आकर कर सकते हैं |
      अगर आप से  वेबसाइट पर अकाउंट नहीं बन रहा हैं तो आप इस स्टाल पर आकर सीख सकते हैं |

       

      स्थान - संत भवन के पास, भाग्योदय तीर्थ सागर 
      दिनांक 11 दिसम्बर से 13 दिसम्बर 2018

       

      *गुरु प्रभावन प्रतियोगिता, भाग्योदय तीर्थ सागर में* - जरूर भाग लें 
      *उपहार स्वरुप* हथकरघा निर्मित श्रमदान की साड़ी, कुर्ता एवं 10 सांत्वना पुरस्कार दिए जायेंगे|

       

       

       

      Sagar Quiz.jpg

    2. *🇮🇳भारत बोलो आंदोलन🇮🇳
              🙏🏻आहारचर्या‼*

                  *मुंगावली* 
        _दिनाँक :०९/१२/१८  *आगम की पर्याय महाश्रमण युगशिरोमणि १०८ आचार्य श्री विद्यासागर जी महामुनिराज* को आहार दान का सौभाग्य 【 *श्रीमान अरविंद (मक्कू भैया ) पूर्व अध्यक्ष एवं धोवन जी अतिशय क्षेत्र जी मुकेश जी राकेश जैन मुंगावली उनके परिवार वालो* को प्राप्त हुआ है।_
      इनके पूण्य की अनुमोदना करते है।
                  💐🌸💐🌸
      *भक्त के घर भगवान आ गये*

      *_सूचना प्रदाता-:श्री विशाल जी जैन मुंगावली_*
             🌷🌷🌷
      *अंकुश जैन बहेरिया 
      *प्रशांत जैन सानोधा 

    3. WhatsApp Image 2018-12-04 at 16.02.42.jpeg

       

      ऐतिहासिक पंचकल्याणक सागर (भाग्योदय) 8 दिसंबर से 14 दिसंबर पंचकल्याणक

       

      पात्र चयन 04/12/18


      भगवान के माता-पिता
      समाज श्रेष्ठी श्रीमान
      राकेश जी पिड़रुआ


      ध्वजारोहण कर्ता
      समाज श्रेष्ठी श्रीमान
      रमेश महेश संतोष बिलहरा परिवार


      सौधर्म इंद्र
      समाज श्रेष्ठी श्रीमान
      आनंद जी,अजित जी आनंद स्टील परिवार

       

    4. गुरुजी ने कल जो लीला दिखलाई उसे देखकर मेरा मन प्रफुल्लित हो उठा और उठी कलम✒ लिख डाली कुछ पंक्तियां।।
       *डॉ ० विद्या मैडम🖊 (इटारसी)* 

      आज पुनः रामायण दुहराई,
      बिन मांगे नाव🛶 शरण में आई,
      चौदह 💰करोड़💵 का लालच छोडा ,
      हुआ अहिंसक 🐄मन को मोड़ा,
      राम ने अहिल्या 🛶उपल की कीनी,
      तुमने 🙏नाव अहिंसक किनी।।
      दोहा:-
      देवगढ़ में चरण👣 पखारे आपके
      फिर बैठाया 🛶नाव,
      नदी 🚤नाव संयोग है आए मुंगावली गांव।।

      लेखिका:-
      डॉ ० *विद्या जैन* (रेट. प्रोफेसर)
      इटारसी(म. प्र)

       *निवेदन* :-
      🙏यह कविता *मुंगावली जैन समाज* के लिए है एवम् अगर आप चाहे तो यह बात गुरुजी तक पहुंचाए।।
      यह कविता में संशोधन करके गुरु के प्रति मेरी भावना को ठेस न पहुचाएं।।

  • गागर में सागर - हायकू (428).jpg

    संयम स्वर्ण महोत्सव
    संयम स्वर्ण महोत्सव
    आचार्य श्री द्वारा रचित हाइकू (हायकू)

    गागर में सागर - हायकू (34).jpg

    संयम स्वर्ण महोत्सव
    संयम स्वर्ण महोत्सव
    आचार्य श्री द्वारा रचित हाइकू (हायकू)

    गागर में सागर - हायकू (127).jpg

    संयम स्वर्ण महोत्सव
    संयम स्वर्ण महोत्सव
    आचार्य श्री द्वारा रचित हाइकू (हायकू)
  • Who's Online   6 Members, 0 Anonymous, 19 Guests (See full list)

×