Jump to content
आचार्य श्री विद्यासागर मोबाइल एप्प डाउनलोड करें | Read more... ×
  • Blogs

    1.  *‼आहारचर्या‼*
              *जरुआखेड़ा* 
        _दिनाँक :२१/०१/२०१९  *आगम की पर्याय महाश्रमण युगशिरोमणि १०८ आचार्य श्री विद्यासागर जी महामुनिराज* को आहार दान का सौभाग्य *ब्रह्मचारिणी वीणा दीदी  ब्रह्मचारिणी रचना दीदी  श्रीमान हुकुमचंद जी सुशील कुमार जी विनोद कुमार जी सतीश कुमार जी विक्रम कुमार जी आशीष कुमार विकास कुमार जी एवं मिठया परिवार जरुआखेड़ा एवं उनके परिवार वालो* को प्राप्त हुआ है।_
      इनके पूण्य की अनुमोदना करते है।
                  💐🌸💐🌸
      *भक्त के घर भगवान आ गये*

      _*आचार्य श्री जी की जरूरी जानकारी के लिए 7410821008 इस नंबर पर मिस्डकॉल अवश्य करे*_


      *_सूचना प्रदाता-:श्री अनूप जी खड्डर राकेश निश्चय,आशीष बाछल_*
             🌷🌷🌷
      *अंकुश जैन बहेरिया
      *प्रशांत जैन सानोधा

    2. 21 जनवरी 2019

      समय दोपहर 3.30 बजे
       संत शिरोमणि आचार्य श्री 108 विद्यासागर जी महाराज  जरुआखेड़ा (सागर-बीना रोड पर सागर से 36 किमी और खुरई से 18 किमी दूर ) में विराजमान है। आज विहार नही हुआ।

       

      20 जनवरी 2019 

      समय दोपहर 2.15 बजे
       संत शिरोमणि आचार्य विद्यासागर महाराज का मंगल बिहार बनहट (खुरई) से जरुआखेड़ा (सागर) की ओर हुआ । दूरी 7 किमी

       

       

      आज आहार चर्या  बंट में ही होगी 

       

      दोपहर में विहार होने की सम्भावना 

       

      19 जनवरी 2019 

      रात्री विश्राम -  बंट

      कल आहार चर्या जरुआखेड़ा में ही संभावित

       

      4 PM  पूज्य गुरुदेव ने बढ़ाये अपने कदम सिमरिया से भी आगे बंट की ओर।

      1 45 PM परम पूज्य आचार्य श्री 108 विद्यासागर जी महाराज का खुरई से सागर की ओर हुआ विहार।

      vihaar.jpg

    3. वज्र पाषाण हृदयी,  निर्मोही, निर्दयी, निष्ठुर, निर्मम, आचार्यश्री......

      प्राणिमात्र के हितंकर, दयावन्त, श्रमणेश्वर,साक्षात समयसार, मूलाचार के प्रतिबिम्ब समस्त चर ,अचरो के प्रति आपकी दया, करुणा,  हम मानवों में ही नही स्वर्गों के इंद्रो देवताओं में भी जगजाहिर है आप अनुकम्पा के विशाल महासागर अथवा चारित्र के उत्तुंग हिमालय जाने जाते हो ऐसे में उपरोक्त शीर्षक में आपके प्रति कठोर सम्बोधन लिखते समय मेरी उंगलियां कांप रही है लेकिन मैं क्या करूं जो है, सो है...... मेरे आपके हम सबके सामने है।


      भला कभी ऐसा होता है क्या..... जो पूज्यवर, यतिवर, गुरुदेव अपने दिव्यदेह के प्रति कर रहे है......
      अक्सर कहा जाता है कि जो अपने प्रति सहयोग करे उसका ध्यान रखना चाहिये अपने अनुचर, सहयोगी, उपकारी पर भी करुणा करना चाहिए लेकिन पिछले इक्यावन वर्षो से आचार्यश्री अपनी दिव्यदेह के प्रति ज़रा से भी करुणावान, दयालु नही दिखते चाहे ग्रीष्मकाल में सूरजदादा 48 डिग्री तापमान पर भी कीर्तिमान गढ़ने ततपर हो वह आपके सामने पानी पानी हो जाता है | लेकिन आप अपने करपात्र में दूध, फल, मेवा तो बड़ी दूर की बात, कुछ ही अंजुली जल और कुछ गिने नीरस ग्रास का आहार उदर तल तक तो दूर कंठ से उदर तक ही नही पहुचता और आपके आहार सम्पन्न हो जाते है।


      शीतकालीन तुषारी ठंड में भी आप अपनी दिव्यदेह को 3 से चार घण्टे विश्राम करने निष्ठुर पाटा ही देते हो। हम सभी पथरीले, हठीले, कटीले तपते विहार पथ में आपके कोमल कोमल लाल लाल, मृदुल पावन चरणयुगलो को छालों युक्त, रक्तरंजित देख चुके है और आप ऐसे निर्दयी है कि उनकी ओर नज़र तक नही उठाते और आज हम सबने देख और  सुन भी लिया कि पिछले दिनों से आपकी दिव्यदेह जर्जर हो चुकी है सप्ताह हो चुके दिव्यदेह के अस्वस्थ हुए और आपके निराहार के लेकिन आप तो ठहरे निर्मोही, अनियतविहारी, वीतरागी महासन्त आपको भला कोई रोक पाया है और वह बेचारा रोकने का विचार ही कैसे कर सकता है...... क्योंकि इन दिव्यदेहधारी ने अपनी दिव्यदेह के माता पिता भैया बहनों की नही मानी तो फिर  हम दूसरों की क्या बिसात....


      हमने माना कि चौथेकाल में ऐसे ही श्रमण होते थे उस काल मे वज्र सहनन क्षमता भी होती थी लेकिन इस महा पंचमकाल में जर्जर, वार्धक्य, दिव्यदेह के संग आपकी यह साधना, तपस्या सन्देश दे रही है कि कुछ ही भवों में दिव्यदेह धारी आचार्यश्री तीर्थंकर बन समोशरण में विराजित होंगे ऐसे कालजयी महासन्त के पावन चरणयुगलो में हृदय, आत्मा की असीम गहराइयों से कोटि कोटि नमोस्तु....... हे गुरुदेव! मेरी भी सुबुद्धि जागे काश..... मैं भी आपके समोशरण बैठ अपना भी कल्याण कर सकू..... क्षमाभावी एक नन्हा सा गुरुचरण भक्त.....

      राजेश जैन भिलाई

    4. 18 जनवरी 2019.jpeg

       

      बुंदेलखंड में कहते हैं कि ड्योढ़ लगी रहती है, तब गृहस्थी चलती है, ठीक ऐसे ही हमारा संसार चलता है: अाचार्यश्री

       

      हमारे अपने कर्म और हमारा अपना शरीर हमारे संसार के भ्रमण का और इस विविधता का कारण है। यहां तक, हमने इस बात को समझ लिया। कर्म कैसे हैं, वे हमारे साथ बंधते भी है, वे हमारे भोगने में भी आते हैं, वे हमारे करने में भी आते हैं। 

      तीन तरह के हैं, कुछ कर्म हैं जो हम करते हैं, कुछ कर्म हैं जिनका हम फल भोगते हैं। कुछ कर्म हैं जो हमारे साथ फिर से आगे की यात्रा में शामिल हो जाते हैं और इस तरह से यह यात्रा विषयाें का चक्र है इसलिए संसार को चक्र माना है जिसमें निरंतरता बनी रहती है। यह बात नवीन जैन मंदिर के मंगलधाम परिसर में प्रवचन देते हुए अाचार्यश्री विद्यासागर महाराज ने कही। 
      उन्होंने कहा कि ठीक एक गृहस्थी की तरह जैसे किसी गृहस्थी चलाने वाली मां को हमेशा इस बात का ध्यान रखना पड़ता है कि शक्कर कितने दिन की बची और गेहूं कितने दिन का बचा और आटा कितने दिन का बचा। इसके पहले कि वो डिब्बे में हाथ डालकर पूरा साफ करे। ऐसा मौका आता ही नहीं है, दूसरी तैयारी हो जाती है। 

      18 आचार्य श्री.jpg
      बुंदेलखंड में कहते हैं कि ड्योढ़ लगी रहती है, तब गृहस्थी चलती है। ड्योढ़ लगी रहती है, मतलब कोई भी चीज एकदम खत्म नहीं होती, खत्म होने के कुछ घंटे पहले ही सही वो शामिल हो जाती है तब चलती है गृहस्थी। ठीक ऐसे ही हमारा संसार चलता है। आचार्यश्री ने कहा कि हम जो भोगते हैं, उसके भोगते समय सावधानी और असावधानी हमारी होती है। दो ही चीजें हैं हमारी अपनी असावधानी जिसको हम अपनी अज्ञानता कह लें, हमारी अपनी आसक्ति। इनसे ही मैं अपने जीवन को विकारी बनाता हूं और इसके लिए मुझे करना क्या चाहिए। मेरे आचरण की निर्मलता और दूसरी मेरी अपनी साधना....समता की साधना। ये दो चीजें हैं। इस संसार की विविधता से बचने के लिए। कुल दो इतना ही मामला है और इतने में ही कुछ लोगों को समझ में आ सकता है, कुछ लोगों को इतने में समझ में नहीं आ सकता। तो आचार्य भगवन्त, तो श्री गुरू तो सभी जीवों का उपकार चाहते हैं। 

      तो फिर इसका विस्तार करते हैं और वह विस्तार अपन करेंगे। जो विस्तार रुचि वाले शिष्य हैं, उनको विस्तार से समझ में आता है जो संक्षेप रुचि वाले हैं उनको बात इतनी ही है समझने की और मध्यम बुद्धि वाले हैं उनको तो विस्तार करके बताना होगी।

  • गागर में सागर - हायकू (360).jpg

    संयम स्वर्ण महोत्सव
    संयम स्वर्ण महोत्सव
    आचार्य श्री द्वारा रचित हाइकू (हायकू)

    गागर में सागर - हायकू (238).jpg

    संयम स्वर्ण महोत्सव
    संयम स्वर्ण महोत्सव
    आचार्य श्री द्वारा रचित हाइकू (हायकू)

    गागर में सागर - हायकू (447).jpg

    संयम स्वर्ण महोत्सव
    संयम स्वर्ण महोत्सव
    आचार्य श्री द्वारा रचित हाइकू (हायकू)
  • Who's Online   0 Members, 0 Anonymous, 8 Guests (See full list)

    There are no registered users currently online

×