Jump to content
आचार्य श्री विद्यासागर मोबाइल एप्प डाउनलोड करें | Read more... ×
  • Blogs

    1. राष्ट्रीय हथकरघा संगोष्ठी संपन्न हुई 16 17 फरवरी को सागर भाग्योदय तीर्थ परिसर में दिगंबराचार्य श्री 108 विद्यासागर जी महाराज के ससंघ सानिध्य में दो दिवसीय राष्ट्रीय जेल हथकरघा संगोष्ठी संपन्न हुई करीब 20,000 की जनता द्वारा कार्यक्रम को सराहा गया 16 फरवरी की प्रातः मध्यप्रदेश शासन की लघु एवं कुटीर उद्योग मंत्री श्री हर्ष यादव द्वारा दीप प्रज्वलन की कार्रवाई संपन्न की दिल्ली तिहाड़ जेल से आए हुए डीआईजी श्री एसएस परिहार द्वारा जेल हथकरघा में बन रही साड़ियों की खूब सराहना की और तिहाड़ जेल में यथा शीघ्र प्रारंभ करने के लिए आचार्य श्री जी से निवेदन किया अनुबंध करने की तैयारी पूर्व में कर चुके है उत्तर प्रदेश के एआईजी जेल द्वारा भी आगरा जेल मिर्जापुर जेल और बनारस जेल में हथकरघा से साड़ियां बनवाने के लिए गुरु जी से निवेदन किया गया मुंबई से आए श्री प्रशांत टैक्सटाइल इंजीनियर जेल अधीक्षक द्वारा साड़ियों के नागपुर जेल में बनवाने के लिए गुरु जी से अनुरोध किया गया इसी प्रकार हरियाणा छत्तीसगढ़ और झारखंड से जेल अधिकारी आए हुए थे

       

      17 फरवरी को पर्यटन मंत्री श्री सुरेंद्र सिंह बघेला द्वारा दीप प्रज्वलन की कार्रवाई की अपने गुरु जी को विश्वास दिलाया मध्य प्रदेश पर्यटन विभाग की जहां जहां भी संपत्ति है वहां वहां हाथ करघा का  वस्त्र विक्रय किया जाएगा आचार्य श्री की प्रेरणा से चल रहे हथकरघा सेंटर की ब्र. अनुराग भैया ब्र. रुबी दीदी प्रतिभा मंडल की ब्र. नीरज दीदी एवं श्री प्रदीप पड़ा द्वारा भी हथकरघा संबंधी वक्तव्य दिया गया इस कार्यक्रम से भारतवर्ष में जागृति आई और लोगों का रुझान हाथ करघा के लिए बढ़ा केंद्रीय जेल सागर के अधीक्षक  श्री राकेश भांगरे द्वारा सागर जेल में  संचालित हाथ करघा की जानकारी दी जेलर श्री मदन कमलेश डिप्टी जेलर श्री नागेंद्र चौधरी द्वारा  कार्यक्रम को सफल बनाने में  महत्वपूर्ण योगदान दिया कार्यक्रम का संचालन डॉ रेखा जैन डीएसपी द्वारा किया गया सम्मान की कार्रवाई डॉक्टर नीलम जी ब्रह्मचारी राजा भैया द्वारा की गई


      सक्रिय सम्यक दर्शन सहकार संघ संस्था की ओर से ब्रह्मचारी सुनील भैया ने विशेष धन्यवाद दिया दिल्ली से आए हुए श्री चमन लाल जी जैन श्री एस के जैन रिटायर्ड आईपीएस एवं श्री एनसी जैन मॉडल टाउन को क्योंकि आपके ही सद् प्रयासों तिहाड़ जेल  के अधिकारी आए थे इसी प्रकार उत्तर प्रदेश जेल के अधिकारी श्री विनय कुमार जी जैन को विशेष रूप से धन्यवाद ज्ञापित किया बारामती से आए श्री अतुल काका जी को एवं श्रीमती संगीता भाभी को मुंबई राज्य के अधिकारियों को जोड़ने में अहम भूमिका रही इसी प्रकार हरियाणा से आए हुए श्री अजय कुमार जैन एडवोकेट जनरल को हरियाणा जींद के अधिकारी श्री अनिल कुमार जी को लाने में सहयोग करने के लिए धन्यवाद ज्ञापित किया श्री राजा भैया सूरत श्री प्रभात मुंबई विनोद बड़जात्या रायपुर श्री सुधीर जी छुई खदान इत्यादि अनेक गणमान्य नागरिक जिन्होंने कार्यक्रम को सफल बनाने में तन मन धन से सहयोग किया था एवं भाग्योदय तीर्थ के ट्रस्टी गण और सकल दिगंबर जैन समाज को साधुवाद किया l डॉ रेखा जैन ने बताया कि पिछले वर्ष की तरह इस बार भी जेल के बंदियों द्वारा राखी और रुमाल रक्षाबंधन के लिए तैयार किए जाएंगे और पूरे भारतवर्ष में ही नहीं विदेशों में भी जेल के बंदियों की सद्भावना राखी और रूमाल एवं साड़ियां उपलब्ध रहेगी विक्रय हेतु और अति शीघ्र तिहाड़ जेल दिल्ली और उत्तर प्रदेश की जेलों में गुरुदेव की कृपा पहुंचेगी बंदी जन वहां भी काम करेंगे l

    2. *‼आहारचर्या‼*
              *देवरी सागर* 
        _दिनाँक :२१/०२/२०१९_
      *आगम की पर्याय महाश्रमण युगशिरोमणि १०८ आचार्य श्री विद्यासागर जी महामुनिराज* को आहार दान का सौभाग्य *श्रीमान प्रिंस  श्रीमती गुलशन जबलपुर श्री नन्हे भाई राकेश कुमार जैन देवरी (मुकेश ढाना जी की ससुराल) एवं उनके परिवार वालो* को प्राप्त हुआ है।_
      इनके पूण्य की अनुमोदना करते है।
                  💐🌸💐🌸
      *भक्त के घर भगवान आ गये*

      _*आचार्य श्री जी की जरूरी जानकारी के लिए 7410821008 इस नंबर पर मिस्डकॉल अवश्य करे*_


      *_सूचना प्रदाता-:श्री राकेश निश्चय,आशीष बाछल_*
             🌷🌷🌷
      *अंकुश जैन बहेरिया 
      *प्रशांत जैन सानोधा 

    3.  

      विश्व वंदनीय आचार्यश्री विद्यासागरजी महाराज (ससंघ), बीना बारहा में विराजमान हैं। बीना बारहा सागर (Railway Station Code : SGO) से 45 किमी की दूरी पर है। 

       

      विहार अपडेट 

       

      दिनांक : 20 फरवरी 2019 2:00 p.m.
      संत शिरोमणि आचार्य श्री विद्यासागर महाराज ससंघ का विहार गौरझामर से देवरी की ओर हुआ|

       

      ◆रात्रि विश्राम - देवरी से 8 किलोमीटर पहले गोपालपुरा स्कूल में होगा | 
      21 फरवरी को देवरी में आहार चर्या होगी|

       

      दिनांक : 19 फरवरी 2019   1:35 p.m.
      आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज ससंघ का विहार गौरझामर की ओर हुआ। (दूरी 15 कि.मी.) 


      ◆ रात्रि विश्राम - बरकोटी तिग्गड़ा (दूरी - 11 कि.मी. गौरझामर) (5 कि.मी. बरकोटी से)
       

      दिनांक : 18 फरवरी 2019   1:50 p.m.

      आचार्य श्री 108 विद्यासागर जी ससंघ का भाग्योदय तीर्थ सागर से अभी अभी विहार हुआ |

       

      ◆ रात्रिविश्राम- ग्राम-दून 18km
      ◆ कल की आहरचर्या- ग्राम- चितौरा 05km संभावित

    4. 1.jpeg

       

      प्रसंग – ०५/०२/२०१९ को भाग्योदय से केन्द्रीय जेल की ओर विहार और जेल में चल रहे वृहद् हथकरघा केंद्र का निरिक्षण ।

       

       

      सबकी धड़कने बढ़ गयी जब हमारे अनियत विहारी गुरुदेव ससंघ अचानक ही संत भवन से निकले ... सब के मन में कौतुहल कि क्या हो रहा है ... पहले लगा शायद अस्पताल के निरीक्षण के लिए जा रहे हैं लेकिन जब भाग्योदय के प्रमुख प्रवेश द्वार के बाहर निकले तो सबकी दृदय गति में अचानक ही तेज़ संचार हो गया ... किसी को कुछ नहीं पता .... सारे शहर में ये खबर आग की तरह फैल गयी कि गुरूजी का भाग्योदय से विहार हो गया... क्या...???

      लेकिन शनैः शनैः स्पष्ट हुआ कि गुरुदेव जेल जा रहे हैं गए हैं आदरणीया ब्र. रेखा दीदी (पूर्व डीएसपी) की देख रेख में उनके निर्देशन में पल्लवित हो रहे भव्य हथकरघा केंद्र जिसका नाम बड़े बड़े अक्षरों में जेल में अंकित है आचार्य विद्यासागर हाथकरघा एवं कालीन प्रशिक्षण केंद्र, केंद्रीय जेल सागर का निरीक्षण करने जा रहे हैं ... और भक्तजन रास्तो का पता करते करते गुरुदेव के संग विहार में शामिल होने लगे ...।

      जेल के बाहर हजारों की संख्या में भक्तो का समूह एकत्रित हो गया और जेल के अन्दर जाने की जद्दोजहद करने लगे तब एक सज्जन ने कहा कि भाई लोगो को जेल आने के लिए इतना आतुर तो कभी नहीं देखा ... लेकिन गुरूजी नए श्रमजीवियों के ऊपर कृपा बरसाने गए है और अपना आशीष लुटाकर वापिस भाग्योदय पहुँच गए । 

      इसके साथ ही भक्तों के मन में सवाल जग रहे थे कि अभी तो गुरु जी के स्वास्थ्य में थोडा सुधार हुआ है और गुरूजी फिर इतना लंबा पद विहार कर गए ... लेकिन उनसे पूछे कौन ... लेकिन फिर लगा जेल में बंद नए श्रमजीवी भी तो अपने परम उपकारी गुरुदेव के दर्शन के अभिलाषी हैं तो... गुरुभक्तों की मुराद गुरूजी ही तो पूरी करेंगे ...।

      पावन वो धरा जहाँ ऐसे संत हो
      साक्षात् भगवंत सदा जयवंत हो

       

      ✍ पुष्पेन्द्र जैन नैनधरा सागर

       

      @Pushpendra Jain Naindhara

  • गागर में सागर - हायकू (11).jpg

    संयम स्वर्ण महोत्सव
    संयम स्वर्ण महोत्सव
    आचार्य श्री द्वारा रचित हाइकू (हायकू)

    गागर में सागर - हायकू (13).jpg

    संयम स्वर्ण महोत्सव
    संयम स्वर्ण महोत्सव
    आचार्य श्री द्वारा रचित हाइकू (हायकू)

    गागर में सागर - हायकू (22).jpg

    संयम स्वर्ण महोत्सव
    संयम स्वर्ण महोत्सव
    आचार्य श्री द्वारा रचित हाइकू (हायकू)
  • संत शिरोमणि 108 आचार्य श्री विद्या सागर जी महाराज

    ये ऐसे संत है जिनका जीवन एक सम्पूर्ण दर्शन है जिनके आचरण में जीवों के लिए करुणा पलती है जिनके विचारों में प्राणी मात्र का कल्याण आकर लेता है,जिनकी देशना में जगत अपने सदविकास का मार्ग प्रशस्त करता है |आप निरीह, निस्पृह वीतरागी है फिर भी आपके विचार भारतीयता के प्रति अगाध निष्ठा, राष्ट्रभक्ति और कर्तव्यपरायणता से ओतप्रोत है आपका चिंतन प्राचीन भारतीय हितचिंतको दार्शनिको एवं संतो का अनुकरण करते हुए भी मौलिक है |आचार्य महाराज तो ज्ञानवारिधी है और उनके विचारों को संकलित करना छोटी सी अंजुली में सागर को भरने का असंभव प्रयास करना है|

    रास्ता उनका, सहारा उनका, मैं चल रहा हूँ दीपक उनका, रौशनी उनकी मैं जल रहा हूँ प्राण उनके हर श्वास उनकी मैं जी रहा हूँ

     

    From Wikipedia Acharya Shri Vidyasagarji Maharaj (born 10 October 1946) is one of the best known modern Digambara Jain Acharya(philosopher monk). He is known both for his scholarship and tapasya (austerity). He is known for his long hours in meditation. While he was born in Karnataka and took diksha in Rajasthan, he generally spends much of his time in the Bundelkhand region where he is credited with having caused a revival in educational and religious activities. Know more about him

     

     

  • Who's Online   1 Member, 0 Anonymous, 41 Guests (See full list)

×