Jump to content

Vidyasagar.Guru

Members
  • Content Count

    8,142
  • Joined

  • Last visited

  • Days Won

    162
My Favorite Songs

Vidyasagar.Guru last won the day on February 11

Vidyasagar.Guru had the most liked content!

Community Reputation

595 Excellent

About Vidyasagar.Guru

  • Rank
    Advanced Member

Recent Profile Visitors

The recent visitors block is disabled and is not being shown to other users.

  1. आमंत्रण पत्र विद्धत संगोष्ठी विषय- "राष्ट्र निर्माण में श्रमण वैदिक संस्कृति का योगदान" मंगल आशीर्वाद- परम पूज्य अध्यात्म सरोवर के राजहंस, आचार्य भगवन 108 श्री विद्यासागर जी महाराज मंगल सानिध्य- परम पूज्य मुनि 108 श्री कुन्थुसागर जी महाराज पावन मार्गदर्शन- प.पू. मुनि श्री 108 प्रमाणसागर जी महाराज एवं श्रद्धेय ऐलक 105 श्री सिद्धांत सागर जी महाराज प्रेरणा- ब्र. जिनेश मलैया, संस्कार सागर इंदौर, ब्र. धीरज भैया राहतगढ़, ब्र. आकाश भैया वाराणसी -कार्यक्रम- 13 फरवरी 2020 गुरुवार उद्घाटन सत्र- प्रातः 8:30 से 10:00 तक प्रथम सत्र- दोपहर 1:00 से 2:45 तक द्वितीय सत्र- दोपहर 3:00 से 4:30 तक तृतीय सत्र- सांय 6:00 से 8:00 तक 14 फरवरी 2020 शुक्रवार चतुर्थ सत्र- प्रातः 8:30 से 10:00 तक पंचम सत्र- दोपहर 1:00 से 2:45 तक षष्ठम सत्र- दोपहर 3:00 से 4:30 तक समापन सत्र- सांय 6:00 से 8:00 तक संगोष्ठी स्थल- भगवान पार्श्वनाथ जन्म स्थली, दिगंबर जैन मंदिर परिसर, भेलूपुर, वाराणसी आयोजक- सकल दिगंबर जैन समाज, वाराणसी एवं स्याद्वाद संस्कृत महाविद्यालय, भदैनीघाट, वाराणसी संयोजक- डॉ मुकेश विमल,दिल्ली निर्देशक-डॉ कमलेश जैन सह संयोजक- कमलेश जैन मुख्य अतिथि- मान.अमरीश जी, क्षेत्रीय मंत्री विश्व हिंदू परिषद संपर्क सूत्र- 98188 55130, 89898 34767, 89895 05108 निवेदन- आप भी आप सभी सादर आमंत्रित हैं।
  2. हिंदी विषय पर आचार्य श्री के सानिध्य में हुई अहम बैठक, देश भर के विद्वान शामिल हुए,
  3. ■ हिंदी विषय पर आचार्य श्री के सानिध्य में हुई अहम बैठक, देश भर के विद्वान शामिल हुए, आचार्य भग्वन के हुए विशेष प्रवचन ■ हिंदी विषय पर आज विशेष बैठक आचार्य श्री के सानिध्य में हुई। आचार्य श्री का हिंदी अभियान बीते अनेक साल से चल रहा है। अब इस अभियान को धरातल पर लाने के लिए जैन कालोनी में अहम बैठक हुई। यह जानकारी देते हुए बाल ब्रह्मचारी सुनिल भैया और मिडिया प्रभारी राहुल सेठी ने बताया की हिंदी को प्रचारित करने के लिए देश भर से आए जैन समाजजन की बैठक आज जैन कालोनी में आचार्य श्री १०८ विद्या सागर जी महाराज के सानिध्य में हुई। इस बैठक को ब्रह्मचारी सुनिल भैया जी द्वारा संजोया गया था। प्रफुल्ल भाई पारिख पूना, अशोक पाटनी, राजेंद्र गोधा जयपुर, एस के जैन दिल्ली, निर्मल कासलीवाल, कैलाश वेद उपस्थित थे। संचालन निर्मल कासलीवाल ने किया और आभार कैलाश वेद ने माना। ● आचार्य श्री ने बैठक में कहा की रामटेक में हमारा चातुर्मास चल रहा था, या गर्मी का काल चल रहा था, इंदौर से एक समूह आया था, उस समूह में इंजीनियर के सिवा कोई नहीं था, उनकी बड़ी भावना था, हम तो सामाजिक कार्य में तो भाग लेते ही है, हमारे पास जो समूह बना है उसको धार्मिक क्षेत्र में भी उपयोग किया जाए और जैन धर्म के पास इतनी क्षमता विद्यमान है, हम आशा नहीं विश्वास के साथ हम आए है आप इसके लिए अवश्य ही प्रेरणा एवं उत्साह प्रदान करे। विज्ञान की बात कर रहे है एक साधू से और ठीक विपरीत जैसा लगता है लेकिन सोचने की बात ये है इन दोनों का एक ही आत्मा है, स्पष्ट है किन्तु हम इसको जन जन तक क्यों नहीं ले जा पा रहे, इस कमियों को भी अपनी और देखना चाहिए। वो कमी हमने महसूस किया है, वो आपके सामने रखता हूं कि हमे बता दो विज्ञानं के द्वारा आखिर क्या होता है, विज्ञान कुछ उत्पन्न करता है या जो उत्पादित है उसको वितरित करता है या कुछ है उसको अभ्यक्त करता है।_ उनमें हमे सोचना है कि हमारे पास क्या क्षमता है और किस प्रकार की क्षमता है, इस और देखना चाहिए। जैसे समझने के लिए फूल की एक कली है , इस कली को मैं अपने विज्ञानं के माध्यम से खोल दू, खिला दू महक को चारों और बिखरा दू , क्या यह संभव है? समय से पूर्व ये काम करना असंभव है। विज्ञान इस क्षेत्र के लिए काम कर रहा है तो वो गलत माना जाएगा, हां उसका एक कार्य क्षेत्र अवश्य हो सकता है कि वो क्या है, उसके बारे में अपने को सोचना है कि हर एक व्यक्ति का अपना दृष्टिकोण रहता है और उसको फैलाने का वह अवश्य ही पुरुषार्थ भी करता है और एक समूह भी एकत्रित कर लेता है। तो हमे आज उपयोगी क्या है, आवश्यक क्या है ये सोचना है। दर्शन विचारों में बहुत जल्दी प्रमोद वगैरह को खो देता है, खोना भी चाहिए लेकिन हम युग की बात करते है , युग तक आपके पास जो धरोहर के रूप में आपके पास विद्यमान है, उसको आप कहाँ तक पहुँचा सकते है, इसकी उपयोगिता, उसके लिए कितनी है और उस उपयोग के माध्यम से कितने व्यक्ति उसकी गहराइयों तक पहुच सकते है, ये हम अपने दर्शन के माध्यम से ले जाना चाहे तो बहुत जल्दी ले जा सकते है। विज्ञान कहते है अतीत हमारा सब बंद हो जाता है केवल वर्त्तमान और भविष्य उसके साथ जुड़ जाता है। ये हमारा एक भ्रम है, किन्तु अतीत के साथ जुड़ कर के ये विज्ञान काम क्यों नहीं कर रहा, लगभग कर रहा है, फिर बीबी उसको यथावत रखने का साहस वो क्यू नहीं कर रहा है। आज इतिहास को छपाने से क्या हानि होती है आपके सामन है, देश को सुरक्षा प्रदान करने के लिए चुनाव होते है, आपका ही देश है ये।। एक देश चीन है, और उसने वास्तु चीज़े छुपाने का प्रयास कर दिया और उसको वह जो नियंत्रण में रखने का प्रयास कर रहा था, ताकि लोगो को दहशत न हो। आवश्यक था कि शासन का क्या कर्त्तव्य है, बड़ा पेचीदा है ये, इस शासन, प्रसाशन आदि आदि हमेशा हमेशा जागरूक रहना चाहिए, उनको अनुमति लेनी पड़ी, कोर्ट से अनुमति लेनी पढ़ी, क्या अनुमति ली आप सोचेंगे तो दंग रह जाएंगे, लेकिन स्थिति ऐसी गंभीर हो गई, यदि इसके बारे में हम कदम नहीं उठाते है तो ये लाख की संख्या करोड़ के ओर जाने में देर नहीं लगेगी, ऐसी स्थिति में हम केवल हाथ में माला ले करके बैठ जाए तो कुछ नहीं हो सकता है। इसीलिए उनको चाहिए की युग को संचालित करने के लिए आपको इतिहास का आधार लेना चाहिए। जहा भारत के पास विज्ञान था, ऐसा मैं पूछुंगा तो असंभव है, लेकिन इतिहास को तो देखना संभव नहीं कर सकेंगे, इतिहास हमारे सामने है, प्रशासकीय परीक्षाओं के कुछ इतिहास निर्धारित किया है उसी को इतिहास में करके हम चल रहे, इतिहास सबका होता रहता है, विश्व में बहुत सारे देश है , भारत को आखिर अपना इतिहास कुछ खोजना तो पढ़ेगा। क्या भारत के पास कोई इतिहास ही नहीं था, केवल 18 वीं शताब्दी को अपने हाथ में लेते है, आप दंग रह जाएंगे, इसीलिए मैं कहता हूं ,विज्ञानं को चाहिए भारतीय इतिहास क्या था, काम से कम भारत वाले तो इसको जानने का प्रयास करे, जिसने इस तथ्य को अपना लिया, पकड़ लिया, ऐसे iit के छात्रों के 15-16 साल अथक परिश्रम करके टेक्सटाइल विश्वविद्यालय में उन्होंने अपने अनुभव लिए दिए है। उन्होंने कुछ ऐसे वैज्ञानिक तथ्य भी सामने ला करके रखे है, इनको अमेरिका स्वीकार करता है। ऐसी दिशा में उन्होंने अपने इस अनुभव को विश्व के सामने लाने का प्रयास किया, वह भारतीय है। अब आपको सोचना चाहिए की iit कहते ही, आप ये नहीं कह सकते की ये कोण धर्मोनिष्ठ व्यक्ति आ गया, आपको तो मानना ही पढ़ेगा की iit का विद्यार्थी तो ज़माने में माना जाता है, वह कह रहा है, अंग्रेजी माध्यम का भ्रमजाल। इतना ही मैंने 2-3 महीने के पीछे इसको पहुचाने का मात्र कार्य किया है। 🔅 चीन देश ने अंग्रेज़ी को क्यू नहीं स्वीकारा- आचार्य श्री जी आचार्य श्री ने आगे कहा की अब ये बता दो चीन ने अंग्रेजी को क्यों नहीं स्वीकारा उन्नति के लिए? आर्थिक, ज्ञान, अनेक प्रकार की उन्नतियां है जो अपने राष्ट्र के लिए अपेक्षित है, चीन ने क्यों नहीं अपनाया, चीन की कोनसी भाषा है। उन्होंने चीन की भाषा में ही सब प्रबंध किया है। रूस के पास क्या कमी है ये बताओ, अमेरिका के साथ वो हिम्मत रखता था, आज वो कमजोर हो गया है। इसके उपरांत जर्मन और जापान कई बार मिट जाते है ये देश, और कई बार खड़े हो जाते है ये देश उन्हें किसी की आवश्यकता नहीं है, उनकी भाषा कोनसी है आप पूछो तो। आप पूछते भी नहीं और चिंता करते भी नहीं
  4. *विदिशा-* *नौ मुनिराजों का एवं ५८ आर्यिका माताओं* का *दीक्षा दिवस मनाया गया।* इस अवसर पर स्वर्ण प्राशन संस्कार वच्चों के शिविर का आयोजन किया गया। *मुनिश्री पुराण सागर जी* ने कहा कि *कर्नाटक* के इस संत ने *भारत का इतिहास पलट* कर रख दिया। *जंहा पर पहले दूर दूर तक मुनिराज के दर्शन नजर नही होते थे।* *पंडित दौलतराम जी* और *पंडित वनारसी दास जी* ने तो लिखा हैं कि *मुनि दर्शन को ये अंखिया तरस गयी* तो आज वही आज चारों और पूरे भारत में जैन मुनि महाराज नजर आ रहे है, एवं सभी *आचार्य गुरुवर विद्यासागरजी महाराज की जय जयकार* हो रही हैं। ★ उन्होंने कहा कि मेरे से किसी ने पूंछा कि *महाराज जी आपको वैराग्य कैसे आया?* तो उन्होंने कहा कि *गुरूवर की शांतमय मुद्रा को और उनकी वीतराग मुद्रा* को देख *उनकी चर्या को देखा और उनके पीछे* लग गये। उन्होंने पूज्य गुरुदेव का आभार मानते हुये कहा कि आज में धन्य हो गया और आज मेरा *मोक्षमार्ग प्रशस्त* हो गया। 🅰®
  5. पूज्यगुरूदेव आचार्य श्री १०८ विद्यासागर जी एवं संघस्थ मुनिश्री मुनिश्री दुर्लभसागर जी मुनिश्री निश्चलसागर जी मुनिश्री निर्लोभ सागर जी मुनिश्री निर्मोह सागर जी मुनिश्री निर्दोष सागर जी मुनिश्री श्रमणसागर जी मुनिश्री संधानसागर जी के नेमिनगर इंदौर में हुए केश लोच |
  6. मध्य भारत की एकमात्र पवन धरा जहाँ हुए शीतल नाथ प्रभु के ४ कल्याणक, वहाँ पधार रहें 4 फरवरी को आचार्य श्री के शिष्य, ४ मुनी मुनिश्री प्रसादसागर जी मुनिश्री शैलसागर जी मुनिश्री पुराणसागर जी मुनिश्री निकलंकसागर जी मंगलवार सुबह 9 बजे जैन मंदिर रेलवे स्टेशन विदिशा प्रभावना के इस कार्य में आपकी सहभागिता के हर कदम का स्वागत निवेदन कर रही जैन समाज विदिशा
×
×
  • Create New...