Jump to content

Vidyasagar.Guru

Members
  • Content Count

    4,708
  • Joined

  • Last visited

  • Days Won

    65
My Favorite Songs

Vidyasagar.Guru last won the day on March 20

Vidyasagar.Guru had the most liked content!

Community Reputation

271 Excellent

About Vidyasagar.Guru

  • Rank
    Advanced Member

Recent Profile Visitors

The recent visitors block is disabled and is not being shown to other users.

  1. 🆎 मुहली में कल वेदी प्रतिष्ठा का आयोजन ⌨⌨⌨⌨⌨⌨⌨⌨⌨⌨ _*पूज्य आचार्य भगवन श्री विद्यासागर जी महाराज ससंघ* के पावन सानिध्य में कल 15 मार्च को प्रातःकालीन बेला में, *मुहली (मुँहाली)* में श्रीजी की वेदी प्रतिष्ठा का मंगल आयोजन किया जा रहा है। इससे समाज मे अत्यंत हर्ष व्याप्त है। *प्रतिष्ठाचार्य बाल ब्र.श्री सुनील भैया जी* के कुशल निर्देशन में यह मांगलिक कार्यक्रम सम्पन्न होगा।_ *कल की आहार चर्या- मोहाली में ही होगी।* ■ *अनिल जैन बड़कुल, ए बी जैन न्यूज़ समूह*
  2. *संत शिरोमणि आचार्य श्री विद्यासागर महाराज का ससंघ मंगल विहार बीना बारह से चल रहा हैं।* *आज 14 मार्च का रात्रि विश्राम हिनौती में होने की संभावना है अनंतपुरा से दूरी लगभग 11 किलोमीटर है* *मुहली से रास्ते कुंडलपुर और जबलपुर की ओर जाते है* *मुहली से जबलपुर की दूरी 82 किलोमीटर है और कुंडलपुर की दूरी भी लगभग 85 किलोमीटर है* क्या कहता हैं आपका अनुमान आपकी विशेष टिप्पणी का हमे हैं इंतज़ार आप सभी अपना अनुमान पोल (मत ) के माध्यम से दर्ज कराएं विहार अपडेट लिंक https://vidyasagar.guru/blogs/entry/1570-post/ आचार्य श्री तो अनियत विहारी हैं - यह poll तो भक्तो द्वारा गुरु दर्शन की चाहत के लिए हैं , ★ बाक़ी गुरूवर के मन की गुरूवर जानें..🙏🏿
  3. श्रेष्ठ मुनिश्री योगसागर जी संसंघ (07) पिच्छी (कुछ पिच्छी परिवर्तित) का मंगल विहार करेली, जिला-नरसिंगपुर की ओर हुआ..!! यहां से होगा गोटेगांव की तरफ विहार के साथ नगर में भव्य पंचकल्याणक महोत्सव...!!
  4. विश्व वंदनीय आचार्यश्री विद्यासागरजी महाराज (ससंघ), तिलवाड़ा स्थित दयोदय/ प्रतिभा स्थली जबलपुर में विराजमान हैं ---------------------------------------------------------- विहार अपडेट *आचार्यश्री जी विहार अपडेट-* 21 मार्च, बुधवार ■ _*परम पूज्य आचार्यश्री विद्यासागर जी महाराज ससंघ का मंगल विहार, मढिया जी क्षेत्र से तिलवाड़ा स्थित दयोदय/ प्रतिभा स्थली जबलपुर की ओर हुआ।*_ु 20-03-19 जैनाचार्य श्री विद्यासागर जी महामुनिराज☀ ससंघ का मंगल विहार अभी अभी 04:15 पर सहजपुर से जबलपुर की ओर हुआ..।* *● आज रात्रिविश्राम-* आर्या गार्डन (सहजपुर से 9km) *● कल की आहारचर्या-* मढिया जी *जबलपुर* (आर्या गार्डन 6km) *●◆■कल मंगल प्रवेश जबलपुर■◆●* 19-03 2019 *■ Big breking.....* *☀आचार्य श्री विद्यासागर जी महामुनिराज ☀का अभी अभी 03:30 पर मंगल विहार जबलपुर की ओर हुआ।* 🆎 *आचार्यश्री जी विहार अपडेट-* 19 मार्च, मंगलवार, संध्याकाल ■ _*परम पूज्य आचार्यश्री विद्यासागर जी महाराज ससंघ का मंगल विहार, शहपुरा से सहजपुर की ओर हुआ।*_ ◆ *आज रात्रि विश्राम-* राम जी पटेल का मकान, किसरोद चौराहा। यहाँ से सहजपुर 3 किमी। ◆ *कल मंगल प्रवेश एवम आहार चर्या-* सहजपुर ● *विहार की दिशा-* जबलपुर ________________________________ *_अनुमान है कि कल सहजपुर से विहार होकर रात्रि विश्राम भेड़ाघाट तथा 21 मार्च को प्रातःकालीन बेला में जबलपुर में भव्य अगवानी हो सकती है।_* साभार सूचना: ब्र. श्री सुनील भैया जी ■ *अनिल बड़कुल, ए बी जैन न्यूज़ समूह* 18 मार्च 2019 शहपुरा में आचार्य श्री विद्यासागरजी महामुनिराज के ससंघ सान्निध्य में हथकरघा का उदघाटन होने जा रहा है पूज्य गुरुदेव का दिनाँक 19 मार्च दिन मंगलवार को प्रातः शहपुरा में प्रवेश होगा। परम पूज्य आचर्य भगवन श्री 108 विधासागर महामुनि राज जी ससंघ का मंगल विहार अभी अभी पाटन से शहपुरा की ओर के लिए हुआ 👇👇*रात्रि विरात्र-- सिघई वेहर हाउस * *कल की आहार चर्या -- शहपुरा**आगामी दिशा जबलपुर* *सूचना प्रदाता* 17 मार्च 2019 _*परम पूज्य आचार्यश्री विद्यासागर जी महाराज ससंघ का मंगल विहार, तेन्दूखेड़ा से पाटन की ओर हुआ।*_ ◆ *रात्रि विश्राम-* 27 मील ◆ *कल की आहार चर्या- *पाटन* या अतिशय क्षेत्र श्री *कोनी जी*। ● *विहार की सम्भावित दिशा-* जबलपुर *दिनाँक:- १६ मार्च २०१९,* *विश्व वन्दनीय ,संत शिरोमणि ,बुंदलेखंड के छोटे बाबा, परम पूज्यगुरुदेव श्री १०८ विद्या सागर जी महाराज ससंघ का हुआ मंगल विहार झलोंन से तेंदूखेड़ा की और हुआ* *⛳रात्रि विरात्र-- बगदरी प्रमामिक स्कूल 11 km* *⛳कल की आहार चर्या:-* तेंदूखेड़ा 10km *आगामी संभावित दिशा अतिशय क्षेत्र:-* *कोनी जी , जबलपुर दिनांक 15 मार्च ☀परम पूज्य आचार्य श्री विद्यासागर जी महामुनिराज ससंघ(32)☀ का मंगल विहार आज अभी अभी मुहली से झाकन15km की ओर हो गया हैं..!! ● संभावित दिशा- सलोन 03km- तेंदूखेड़ा 20km-कोनी जी-पाटन- जबलपुर ★कुंडलपुर की आस अभी भी- झांकन से भी एक रास्ता दमोह,हथनी होते हुए कुंडलपुर जाता हैं..!! ● आज रात्रिविश्राम- झाकन 15km ● संभावित दिशा- श्री कुंडलपुर जी/जबलपुर दिनांक 14 मार्च 2019 परम पूज्य आचार्य श्री विद्यासागर जी महामुनिराज ससंघ(32)☀ का मंगल विहार अभी अभी अनन्तपुरा से छिरारी की ऒर हुआ..!! 🎊🎉संभावित आगामी दिशा- श्री बड़े बाबा,कुंडलपुर🎉🎊 ● विहारमार्ग संभावित- छिरारी,मुहली, वांसा, दमोह, कुंडलपुर ◆दूसरा मार्ग जबलपुर का भी खुला हुआ हैं..!!◆ ★ बाक़ी गुरूवर के मन की गुरूवर जानें..🙏🏿 *विहार अपडेट 14.3.19* *संत शिरोमणि आचार्य श्री विद्यासागर महाराज का ससंघ मंगल विहार बीना बारह से चल रहा हैं।* *आज का रात्रि विश्राम हिनौती में होने की संभावना है अनंतपुरा से दूरी लगभग 11 किलोमीटर है* *मुहली से रास्ते कुंडलपुर और जबलपुर की ओर जाते है* *मुहली से जबलपुर की दूरी 82 किलोमीटर है और कुंडलपुर की दूरी भी लगभग 85 किलोमीटर है* *15 मार्च को आहारचर्या मुहली में सम्भावित* *मुकेश जैन ढाना* *एमडी न्यूज़ सागर* आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज संसंघ का शान्तिधाम, बीनाबारह जी से हुआ मंगल विहार..!! सम्भावित दिशा - रहली पटनागंज दिनांक - 13 मार्च 2019 रात्रि विश्राम - सिंगपुर गंजन 10 km कल की आहारचर्या - अनन्तपूरा
  5. 🙏🏻गुरुवर तुम आज भी हो हमारे ह्रदय में🙏🏻 🥀 बहुत याद आते हो गुरुवर🥀 गुरुवर की कलम ने क्या लिख दिया...आज उनके समाधिस्थ होने पर हर शब्द जैसे खुद बयान कर रहे हो...... मुझे मौत मेँ जीवन के फूल चुनना है। अभी मुरझाना टूटकर गिरना और अभी खिल जाना है। कल यहाँ आया था, कौन कितना रहा इससे क्या ? मुझे आज अभी लौट जाना है। मेरे जाने के बाद लोग आएँ, अर्थी संभाले, कांधे बदलें, इससे पहले मुझे खुद संभल जाना है। मौत आए और जाने कब आए, अभी तो मुझे संभल-संभलकर रोज रोज जीना ओर रोज रोज मरना है| मुनि भगवान क्षमा सागर जी महाराज (समाधि दिवस 13मार्च) प्रेषक - संयम जैन, बोराव
  6. आचार्यश्री के ससंघ 51 मुनिराज, 2 ऐलक श्री, 63 आर्यिकाओं के सानिध्य में 100 प्रतिमाओं की प्रतिष्ठा, अब बीना बारहा का नया नाम होगा शांतिधाम अतिशय क्षेत्र बीना बारहा में 30 साल बाद दूसरी बार हुए पंचकल्याणक महाेत्सव के अंतिम दिन रविवार काे आचार्यश्री विद्यासागर महाराज के ससंघ सानिध्य में गजरथ महोत्सव में श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ी। गजरथ की सात फेरियों के साथ महोत्सव का समापन हाे गया और प्रभु का मोक्ष की ओर गमन हुआ। इस पूरे आयोजन में 100 प्रतिमाओं को प्रतिष्ठित किया गया, जिन्हें जबलपुर, हर्रई, केवलारी, महराजपुर, केसली, बंगलोर, देवरी के विभिन्न जैन मंदिरों में स्थापित किया जाएगा। पंचकल्याणक में आचार्यश्री विद्यासागर महाराज के ससंघ 51 मुनिराज, दाे एेलक जी, 63 आर्यिकाओं का सानिध्य मिला। अंतिम दिन कैबिनेट मंत्री हर्ष यादव गजरथ फेरी में शामिल हुए। आचार्यश्री ने बीनाबारहा का नया नाम शांतिधाम रखा। कमेटी के अध्यक्ष अलकेश जैन कोयला वालाें ने बताया कि सात दिवसीय इस कार्यक्रम में पाषाण से भगवान बनने की प्रक्रिया हुई। जो गर्भ कल्याणक से शुरू होकर और मोक्ष कल्याणक के रूप तक हुई। सुबह 8.10 बजे कैलाश पर्वत से भगवान का मोक्ष गमन हुआ। मोक्ष कल्याणक के बाद भगवान की शांतिधारा करने का सौभाग्य सभी इंद्र इंद्राणियाें को मिला। पाषाण से परमात्मा बनाने की पद्धति का नाम पंचकल्याण है: आचार्यश्री आचार्य श्री विद्यासागर महाराज ने कहा कि भगवान को आज आजादी की प्राप्ति हुई और उन्हें मोक्ष हुआ। स्वतंत्रता का अर्थ है स्व,तंत्र स्व की जहां मुख्यता हैं। अभी हम परतंत्र हैं, हम सभी भावना भाएं की हमें भी निर्वाण की प्राप्ति हो। पाषाण से परमात्मा बनाने की पद्धति का नाम पंचकल्याण है।
×
×
  • Create New...