Jump to content
आचार्य श्री विद्यासागर मोबाइल एप्प डाउनलोड करें | Read more... ×

Blogs

Featured Entries

  • Vidyasagar.Guru

    संत शिरोमणि आचार्य श्री 108 विद्यासागर जी महाराज ससंघ भाग्योदय तीर्थ सागर में विराजमान हैं |

    By Vidyasagar.Guru

    संत शिरोमणि आचार्य श्री 108 विद्यासागर जी महाराज ससंघ भाग्योदय तीर्थ सागर में विराजमान हैं | सागर का स्टेशन कोड SGO (Saugor) हैं  आवास व्यवस्था - श्री देवेंद्र जैन  संपर्क सूत्र - 9406557744, 9589076916, ‎7582244369   25 जनवरी 2019     संत शिरोमणि आचार्य श्री 108 विद्यासागर जी महाराज  का ससंघ मंगल प्रवेश सागर शहर मे आज शाम 4 बजे (संभावित) होगा |   24 जनवरी 2019
    समय दोपहर 1.45 बजे
    संत शिरोमणि आचार्य श्री 108 विद्यासागर जी महाराज  का ससंघ मंगल विहार सागर की ओर हुआ। 
    रात्रि विश्राम सागर के निकटवर्ती ग्राम में होने की संभावना है। आज रात्रि विश्राम स्थल से भाग्योदय तीर्थ परिसर सागर की दूरी सिर्फ 10 किमी है | 25 जनवरी की शाम को गुरुदेव के भाग्योदय तीर्थ में प्रवेश की संभावना है   23 जनवरी 2019
    समय दोपहर 1.45 बजे
    संत शिरोमणि आचार्य श्री 108 विद्यासागर जी महाराज ससंघ का मंगल विहार ईशुरबारा से सागर की ओर हुआ। रात्रि विश्राम - नरयावली में होने की संभावना है। भाग्योदय तीर्थ परिसर सागर से नरयावली की दूरी सिर्फ 18 किमी है |   22 जनवरी 2019 ईसरबारा मे हुआ मंगल प्रवेश आचार्य संघ का ईशुरबारा मे आगमन हुआ ईशुरबारा मुनि श्री सुधा सागर जी महाराज की जन्मस्थली है|   22 जनवरी 2019 परम् पूज्य आचार्यश्री विद्यासागर जी महाराज ससंघ। जरुआखेड़ा से हुआ मंगल विहार। संभावित दिशा- पूज्य मुनिश्री सुधासागर जी महाराज की जन्मभूमि इसुरवाडा की ओर।   21 जनवरी 2019 समय दोपहर 3.30 बजे
     संत शिरोमणि आचार्य श्री 108 विद्यासागर जी महाराज  जरुआखेड़ा (सागर-बीना रोड पर सागर से 36 किमी और खुरई से 18 किमी दूर ) में विराजमान है। आज विहार नही हुआ।   20 जनवरी 2019  समय दोपहर 2.15 बजे
     संत शिरोमणि आचार्य विद्यासागर महाराज का मंगल बिहार बनहट (खुरई) से जरुआखेड़ा (सागर) की ओर हुआ । दूरी 7 किमी     आज आहार चर्या  बंट में ही होगी    दोपहर में विहार होने की सम्भावना    19 जनवरी 2019  रात्री विश्राम -  बंट कल आहार चर्या जरुआखेड़ा में ही संभावित   4 PM  पूज्य गुरुदेव ने बढ़ाये अपने कदम सिमरिया से भी आगे बंट की ओर। 1 45 PM परम पूज्य आचार्य श्री 108 विद्यासागर जी महाराज का खुरई से सागर की ओर हुआ विहार।
    • 3 comments
    • 4,927 views
 

पीड़ा - Anguish

पीड़ा
 घर का
 बँटवारा हो गया
 जमीन-जायदाद
 सब बँट गयी,
 अमराई और कुआँ भी
 आधे-आधे हो गये,
 अब मेरे हिस्से में मेरा
 और उसके हिस्से में
 उसका आकाश है!
 सवाल यह नहीं है
 कि किसे कम मिला
 और किसके हिस्से में 
 ज्यादा आया है,
 मेरी पीड़ा
 अपने ही
 बँट जाने की है!   Anguish
The house got divided.
The land and other property too
Got divided.
Even the mango grove
And the well got divided.
Now I have my sky
On my side,
And he has his sky
On his side.
It’s not a question
Of who got more
And who was cheated.
My anguish is
About myself being
Divided.

Vidyasagar.Guru

Vidyasagar.Guru

 

चिड़िया - Bird

चिड़िया
 मैं देखता हूँ
 चिड़िया
 रोज आती है!
 और मैं जानता हूँ
 वही चिड़िया
 रोज नहीं आती !
 पर वह दूसरी है
 मैं ऐसा कैसे कहूँ!
 अच्छा हुआ
 मैंने कोई नाम नहीं दिया
 उसे चिड़िया ही
  रहने दिया!
  Bird
I watch the bird as it comes
Each day;
I know its not the same bird
Which comes each day.
Yet how should I say
That this bird
Is a different bird!
I am glad
I did not name the bird.
Now the bird is
Just a bird.

Vidyasagar.Guru

Vidyasagar.Guru

 

 सम्बन्ध - Relationship

सम्बन्ध 
 नदी बहती है सदा 
 किनारे बन जाते हैं!
 नदी बदलती है रास्ता
 किनारे मुड़ जाते हैं!
 नदी उफनती है कभी
 किनारे डूब जाते हैं!
 नदी समा जाती है सागर में
 किनारे छूट जाते हैं!
 संबंधों की सार्थकता 
 मानो जीवन के प्रवाह की 
 पूर्णता में है!   Relationship
 The river banks are forged
 When a river flows.
 When river changes its course,
 The river banks too are changed.
 When the river overflows,
 The banks drown in the flow.
 When the river reaches the sea,
 The banks are left behind.
 I suppose, relationship are fulfilling
 Only when they help
 Our life to flow.

Vidyasagar.Guru

Vidyasagar.Guru

 

शीशा देने वाला - Mirror Holder

शीशा देने वाला
 जब भी मैं रोया करता 
 माँ कहती-
 यह लो शीशा,
 देखो इसमें 
 कैसे तो लगती है 
 रोनी सूरत अपनी 
 अनदेखे ही शीशा 
 मैं सोच-सोचकर
 अपनी रोनी सूरत 
 हंसने लगता!
 एक बार रोई थी माँ भी 
 नानी के मरने पर 
 फिर मरते दम तक
 माँ को मैंने खुलकर हँसते 
 कभी नहीं देखा!
 माँ के जीवन में शायद 
 शीशा देने वाला
 अब कोई नहीं था!
 सबके जीवन में ऐसे ही
 खो जाता होगा
 कोई शीशा देने वाला !   Mirror Holder
Whenever I cried
My mother held up
A mirror and said,
‘Look,this is how you look
When you weep.’
I laughed then,
Imagining my
Weepy face without even
Glancing at the mirror.
Mother too cried once
When her mother died.
After that my mother
Did not laugh as she used to
Till she died.
Perhaps there was no one
To hand a mirror to my mother.
Perhaps we lose
One by one,those who 
Show us our face
By holding up a mirror.

Vidyasagar.Guru

Vidyasagar.Guru

 

प्रतिदान - Giving

प्रतिदान
 चिड़िया ने
 अपनी चोंच में
 जितना समाया
 उतना पिया
 उतना ही लिया,
 सागर में जल
 खेतों में दाना
 बहुत था!
 चिड़िया ने 
 घोंसला बनाया इतना
 जिसमें समां जाए 
 जीवन अपना
 संसार बहुत बड़ा था !
 चिड़िया ने रोज 
 एक गीत गया
 ऐसा जो 
 धरती और आकाश
 सब में समाया 
 चिड़िया ने सदा सिखाया 
 एक लेना
 देना सवाया !   Giving
 The bird took
 Only as much as its beak
 Could hold;
 It swallowed only
 As much as it could drink.
 Thus the grain in the field,
 The water in the sea,
 Remained enough and plenty.
 The bird made its nest
 Only as big
 As its own body.
 The world remained so big
 And wide.
 The bird sang a song
 Each day
 A song that
 Filled the earth
 And the sky.
 The bird taught us;
 Take less
 And give plenty.

Vidyasagar.Guru

Vidyasagar.Guru

 

चित्रांकन - Painting

चित्रांकन
 उसने कहा-
 जीवन में 
 एक चित्र ऐसा बनाना
 कि जिसमें सब ओर
 खुला आकाश हो
 कि अपनी सीमाएं
 स्वयं निर्धारित करता 
 कोई महासागर हो,
 कि अपने ही बनाये 
 किनारों के बीच
 बहती नदी हो,
 कि अपने ही हाथों
 अपना सर्वस्व लुटाता
 एक वृक्ष हो 
 और समूचे आकाश को 
 अपने गीतों से 
 भर देने वाली 
 कोई चिड़िया हो,
 जरूर बनाना 
 जीवन का ऐसा चित्र,
 जिसमें जीवन और जगत के बीच
 सीधा सम्बन्ध हो !   Painting
 He said,’Please
 Paint a canvas
 With borers of the sky;
 A sea endless
 In its own making;
 A tree that gives away
 With both hands
 Its tree-life;also
 A bird filling the sky
 With its own swet singing.
 Please do make
 A painting of life
 Linking the universe
 Of life’s heartbeat.

Vidyasagar.Guru

Vidyasagar.Guru

 

आदत - Habit

आदत
 चिड़िया का 
 आकाश में 
 ऊँचे उड़ना
 प्रकृति का 
 सहज-सरल
 और उन्मुक्त होना,
 अब हमें प्रेरणा नहीं देता!
 वृक्षों का 
 हवाओं में लहराना
 और फल-फूलों से भरकर
 कृतज्ञता से झुक जाना
 अब हमें आंदोलित नहीं करता !
 किसी का 
 सच्चा होना
 भला और अच्छा होना
 अब हमें चुनौती नहीं देता !
 असल में 
 हमारी आदत नहीं रही
 आदतें बदलने की !   Habit
 The bird
 Flying high in the sky,
 And nature
 Vast in its spontaneity,
 No longer
 Inspire us.
 The tree swaying with the wind,
 Bending low with its
 Flower and fruit blessings,
 No longer thrills us.
 We are not impressed also,
 By anyone’s
 Uprightness
 Or honesty.
 I think, we no longer
 Wish to change
 Our set habits.

Vidyasagar.Guru

Vidyasagar.Guru

 

सुबह की तलाश - In Search of meaning

सुबह की तलाश
 कई बार सोचा
 कि सुबह होते ही
 पक्षियों का
 मधुर गान सुनूंगा !
 कि सुबह होते ही
 उगते सूरज
 खिलते फूल 
 और बहती नदी का
 सौंदर्य देखूंगा !
 किसी वृक्ष के नीचे
 शीतल शिला पर
 अपने में मगन होकर बैठूंगा !
 पर अपने ही 
 मन के मलिन अँधेरे में 
 अपने ही जीवन के 
 आर्त स्वरों में
 और अपने ही बनाये बंधनों में
 घिरा सिमटा में
 सुबह की तलाश में हूँ !   In Search of meaning
 Often I thought that
 I would listen to the birds
 When they sing at dawn.
 That I would
 Watch the rising Sun,
 Watch the flawer as it blossoms,
 Watch the river’s liveliness
 As it flows by.
 And I thought I would sit
 Under a tree on a rock
 And go deep in my own soul.
 But lost in the darkness
 Of my own dark mind,
 Lost in the distresses sounds
 Of my own mean life,
 Lost in the fetters
 Of my own making,
 I am looking still
 For that morning.

Vidyasagar.Guru

Vidyasagar.Guru

 

अपना घर - Home

अपना घर
 चिड़िया तुम आती हो
 मेरे घर
 मुझे अपना घर
 तब बहुत अच्छा लगता है!
 तुम बना लेती हो 
 अपना घर
 मेरे घर में
 मुझे यह भी अच्छा लगता है!
 मैं जानता हूँ 
 तुम मेरे घर 
 नहीं आती 
 अपने घर आती हो
 पर अपने घर
  आने के लिए
 तुम्हारा मेरे घर आना
 मुझे अच्छा लगता है
 सचमुच 
 तुम्हारे घर ने
 मेरे घर को 
 अपना घर बना दिया !   Home
 Bird, when you come to my house,
 Your coming
 Makes me like my house.
 Bird, I like you making
 Your home
 In my house.
 I know, Bird, you do not come
 To my house
 But to your own.
 But in coming to your own home
 I like your coming
 To my house.
 Bird, your making your home
 In my house,
 Makes my house
 So much my home.

Vidyasagar.Guru

Vidyasagar.Guru

 

आत्मीय स्पर्श - Soulfulness

आत्मीय स्पर्श
 जीवन आकाश-सा हो
 तो विस्तार असीम है
 वृक्ष सा हो
 तो छाया 
 सघन है
 जीवन 
 सूरज-सा हो
 तो रोशनी
 हरदम है
 जीवन में
 आत्मीय स्पर्श हो
 तो हर क्षण स्वर्णिम है!   Soulfulness
 Life is endless
 If it is like the sky.
 Life is dense shade
 If it is like a tree.
 If it is like the sun,
 Then life is light.
 Each moment is ecstacy
 If life has soulfulness
 In it.

Vidyasagar.Guru

Vidyasagar.Guru

 

निर्लिप्त - Detached

निर्लिप्त
 चिड़िया जानती है
 तिनके जोड़ना 
 नीड़ बनाना
 और बच्चे की 
 परवरिश करना
 बड़े होकर
 बच्चे बना लेते हैं
 अपना अलग नीड़
 वह सहज
 स्वीकार लेती है
 अकेले रहना
 उसे नहीं होती
 शिकायत
 अपने -पराये किसी से भी
 वह भूल जाती है
 तमाम विपदाएँ
 उसे याद रहता है सदा 
 गीत गाना/चहचहाना
 असीम आकाश में उड़ना 
 और अपना चिड़िया होना !   Detached
 The bird knows
 How to gather twigs
 For its nest.It knows
 How to raise its
 Younglings.
 When the younglings
 Grow up
 They make their separate
 Nests.
 The bird does not mind.
 It accepts its aloneness.
 The bird does not complain
 To anybody.
 The bird forgets all the past 
 Moments of crisis.
 It remembers
 Its own songs only.
 It remembers singing;
 And flying in the sky.
 The bird only remembers
 How to be a bird.

Vidyasagar.Guru

Vidyasagar.Guru

 

रीतापन - Emptiness

रीतापन
 चिड़िया आयी
 उसके करीब
 एक चिड़िया 
 और आयी
 चहचहायी 
 सारा आकाश भर गया
 चिड़िया की चहचहाहट से
 जीवन का रीतापन 
 भर नहीं पाया आदमी
 परस्पर मधुर संवाद से !   Emptiness
 A bird alighted;
 Near it another bird
 Came and sang.
 The entire sky
 Resounded with the birds’ singing.
 It’s man only who could not fill
 His life’s emptiness
 With mutual mild talk.

Vidyasagar.Guru

Vidyasagar.Guru

 

रास्ते - Paths

रास्ते 
 चिड़िया!
 पूरा आकाश
 तुम्हारा है
 हर बार
 तुम अपने लिए
 अपना रास्ता बनाती हो
 सुदूर क्षितिज तक
 आती-जाती
 और चहचहाती हो
 दुनिया ने
  जितने रास्ते बनाये 
 उनमें लोग 
 कभी भरमाये
 पर तुम्हारा 
 रास्ता साफ़ है
 जिससे गुजरने पर
 सारा आकाश
 जैसा है
 वैसा ही 
 रहता है!   Paths
 Bird, the entire sky
 Is yours. Each time
 You fly you make
 Your own path. Then you travel
 From one end of the horizon
 To the other singing all the while.
 But the world gets lost,
 Or is ruined,
 Or loses itself
 Travelling the paths
 It made for itself.
 Your path, Bird, however,
 Is always defined.
 In using it
 You leave the sky pristine.

Vidyasagar.Guru

Vidyasagar.Guru

 

बंटवारा - Division

बंटवारा 
 आकाश सबका
 दीवारें हमारी अपनी 
 नदी सबकी
 गागर हमारी अपनी
 धरती सबकी
 आँगन हमारा अपना
 विराट सबका
 सीमाएं हमारी अपनी   Division
 The sky belongs
 To everyone,but
 Walls? They are our own.
 The river is for all.
 But vessels
 Are our own.
 The earth is for everyone.
 But courtyards
 Are our own.
 This limitless world
 Is for all. But boundries
 Are our own.

Vidyasagar.Guru

Vidyasagar.Guru

 

भाई तुम महान हो - Man you are Great

भाई तुम महान हो
 मैंने आकाश से कहा-
 तुम बहुत ऊँचे हो
 आकाश ने 
 मुस्कुराकर कहा-
 तुम मुझसे भी ज्यादा ऊँचे हो
 मैंने सागर से कहा-
 तुम खूब गहरे हो
 सागर ने लहराकर कहा-
 तुम मुझसे भी अधिक गहरे हो
 मैंने सूरज से कहा-
 सूरज दादा!
 तुम बहुत तेजस्वी हो
 सूरज ने हसंकर कहा -
 तुम मुझसे भी कई गुने तेजस्वी हो 
 मैंने आदमी से कहा-
 भाई तुम महान ही
 आदमी झट से बोला-
 तुम ठीक कहते हो!   Man you are Great
 I said to the sky,
 ‘You are so high!’
 The sky smiled
 And said,’you are higher than me.’
 I said to the sea,
 ‘You are so deep.’
 The sea swelled up and said,
 ‘You are deeper than me.’
 I said to the Sun,
 ‘Dear Sun’
 You are so bright.’
 The Sun laughed and said,
 ‘You are many times
 Brighter than me.’
 I said to man,
 ‘Man, you are great.’
 Man said without 
 Hesitation,
 ‘You are so right.’

Vidyasagar.Guru

Vidyasagar.Guru

 

निसर्ग - Offering

निसर्ग
 सूरज ने कहा-
 अपने द्वार खोलो
 मेरी रोशनी
 तुम्हारी होगी
 वृक्षों ने कहा-
 मेरे करीब बैठो
 मेरी छाया 
 तुम्हारी होगी
 नदियों ने कहा -
 मेरे किनारे आकर
 हाथ बढ़ाओ 
 मेरी बहती धारा 
 तुम्हारी होगी 
 मैंने ऐसा ही किया
 अब रोशनी मेरी है 
 छाया भी मेरी है
 मेरे जीवन की धारा 
 निर्बाध बहती है   Offering
 The Sun said,
 ‘Open your door.
 My light is yours.’
 The trees said,
 ‘Sit near us.
 Our shade is yours.’
 The river said,
 ‘Come close and
 Touch me. My flowing
 Water is yours.’
 I did what they bid
 Me to do.
 Now the light is mine.
 The shade is mine.
 The river of my life
 Flows on smoothly.

Vidyasagar.Guru

Vidyasagar.Guru

 

उड़ान - Flight

उड़ान 
 नदी के ऊपर
 उड़ती चिड़िया ने
 आवाज़ दी
 नदी ने मुस्कुराकर कहा -
 बोलो चिड़िया
 चिड़िया ने 
 और ऊँची उड़ान ली
 पहाड़ के ऊपर 
 उड़ती चिड़िया ने
 आवाज़ दी 
 पहाड़ ने धीरे से कहा-
 बोलो चिड़िया
 चिड़िया ने
 और ऊँचे उड़ते-उड़ते पुकारा
 पर आवाज़ खो गयी
 चिड़िया लौट आयी है
 वह कहती है
 कि अपनी आवाज़ 
 अपने तक आती रहे 
 इतना ही 
 ऊँचे उड़ना   Flight
 The bird called the river
 As it flew above it.
 The river smiled
 And said,’Speak, Bird.’
 The bird flew higher.
 Flying above the cliff
 The bird called.
 The cliff said softly,
 ‘Speak, Bird.’
 The bird
 Flew higher and higher.
 Its voice got lost.
 The bird has returned now
 To say,
 Fly only as high 
 As the reach of
 Your own call.’

Vidyasagar.Guru

Vidyasagar.Guru

 

मुखौटे - Masks

मुखौटे
 अपने बच्चों को डराने धमकाने
 हमने कुछ डरावने चेहरे
 अपने लिए
 बनवाए थे
 बच्चे कुछ दिन
 डरते रहे 
 फिर असलियत जानकर 
 हँसते रहे
 अब बच्चे 
 बड़े हो गए हैं
 हमारे चेहरे लगाकर
 हमें ही डरा रहे हैं!   Masks
 To scare our children 
 We made some scary
 Masks.
 The children were frightened
 For a while.
 When they got wise about the masks,
 They smiled.
 The children are 
 No longer small.
 They frighten us now
 Wearing our masks.

Vidyasagar.Guru

Vidyasagar.Guru

 

भगवान - GOD

भगवान
 भगवन कितना बड़ा है
 मैंने
 एक बच्चे से पूछा
 उसने दोनों हाथ फैलाये 
 और जैसे
 मुझे समझाया
 कि इतना बड़ा
 तब सचमुच
 मुझे भी लगा 
 कि जितना जिसके 
 जीवन में समा जाए 
 भगवान उतना ही बड़ा!   GOD
 I asked a child,
 ‘How big is God?’
 The child smiled
 And stretched both
 His arms wide.
 The child wanted me to learn
 The vastness of God,
 And then I knew
 That God is only as big
 As your own life’s grasp.

Vidyasagar.Guru

Vidyasagar.Guru

 

घोंसला - Nest

घोंसला
 मैंने चिड़िया को
 घोंसला बनाते देखा है
 मैंने उसे
 दाना चुगते 
 और झट से
 आकाश में 
 उड़ते देखा है
 मैं चाहता हूँ
 कि चिड़िया 
 मुझे भी
 यह सब सिखाए
 कि किस तरह 
 जमीन से 
 जुड़े रहकर 
 आकाश में उड़ा जा सकता है, 
 कि किस तरह
 असीम आकाश में 
 उड़ने का अहसास 
 एक घोंसले में 
 रहकर भी
 जीवित रखा जा सकता है!   Nest
 I have watched the bird
 Make its nest.
 I have watched the bird 
 Gather grain and then
  fly away far in the sky.
 I wish the bird would teach me
 How to remain
 Connected to the earth
 While in flight, and
 How to keep alive
 A sense of the sky,
 While in the nest.

Vidyasagar.Guru

Vidyasagar.Guru

 

विश्वास - Faith

विश्वास
 मैंने पूछा
 चिड़िया से
 कि आकाश
 असीम है
 क्या तुम्हें अपने
 खो जाने का 
 भय नहीं लगता ?
 चिड़िया कहती है
 कि वह
 अपने घर 
 लौटना जानती है!   Faith
 I asked the bird,
 ‘The sky is vast,
 Are you not afraid
 Of getting lost?’
 The bird said,
 ‘I Know how to return
 To my own perch.’

Vidyasagar.Guru

Vidyasagar.Guru

 

बारिश - Rain

बारिश
 चिड़िया 
 भीग जाती है 
 जब बारिश आती हैं
 नदी
 भर जाती है
 जब बारिश आती है
 धरती 
 गीली हो जाती है
पर बहुत मुश्किल हैं
 इस तरह 
 आदमी का
 भीगना और
 भर पाना 
 आदमी के पास 
 बचने का 
 उपाय है न!     Rain
 The bird gets drenched
 When it rains’
 The river overflows.
 The earth is soaked
 When it rains
 But for man
 When it rains,
 It is hard
 To get drenched,
 Hard to overflow.
 Man knows
 How to escape.

Vidyasagar.Guru

Vidyasagar.Guru

 

अकिंचन - The One With Nothing

अकिंचन
 देने के लिए
 मेरे पास 
 क्या है
 सिवाय इस अहसास के
 कि कोई
 खाली हाथ
 लौट न जा   The One With Nothing
What do I have
To give?
Except this
That no one may
Go without
Something.

Vidyasagar.Guru

Vidyasagar.Guru

×