Jump to content

Leaderboard

  1. संयम स्वर्ण महोत्सव

    • Points

      36

    • Content Count

      20,171


  2. Aashika jain

    Aashika jain

    Members


    • Points

      23

    • Content Count

      81


  3. Vidyasagar.Guru

    Vidyasagar.Guru

    Members


    • Points

      21

    • Content Count

      7,392


  4. Palash Singhai

    Palash Singhai

    Members


    • Points

      1

    • Content Count

      2



Popular Content

Showing content with the highest reputation since 11/11/2019 in all areas

  1. 3 points
    चलो नेमावर, चलो नेमावर | संभावित मिलन : 1 दिसम्बर 2019 विहार अपडेट सोलह वर्ष के बाद इंद्र का , सिंहासन कंपाया हैं । सात कदम बढ़ाकर उसने , अपना शीश झुकाया है । नर्मदा नदी तट गुरु विराजे , नर मादा को तारे जाते । बड़े भाग्य से ही हम सबको , ऐसे गुरुवर मिल पाते । यही सोच दोनों शिष्यों ने , अपना भाव जगाया है । गुरु-शिष्य का शीघ्र मिलन हो , स्वर्णिम अवसर आया है । बावनगजा से दो शिष्यों ने , अपना कदम बढ़ाया है । सिद्ध प्रभु सम सिद्ध गुरु को , अपना लक्ष्य बनाया है । आगम प्रमाण की विराट नदियां , भावाश्रु की लहरें लेकर । झर-झर ,झर-झर बहती जाती , विद्या सागर मिलने तत्पर । 270 किलोमीटर की , मात्र गुरु से दूरी थी । छोटे छोटे कदम बढ़ाकर , इसको शिष्य ने पूरी की । सोलह वर्षों की शंकाओं , का समाधान हो जायेगा । भावनायोग से गुणायतन का , दर्शन भी हो जायेगा । गौशालाओं के रक्षक को , अब नया ग्वाला मिल जायेगा । ओजस्वी वाणी में भी अब , अटल प्रमाण आ जायेगा । हिमालय बौना और बादल- छोटा हो जायेगा । जब बालक गुरु के चरणों में , अपना शीश झुकायेगा । गुरु शिष्य का मिलन धरा पर , अब नया इतिहास बनायेगा । एकलव्य अरु द्रोण गुरु से भी , नाम ऊपर हो जायेगा । जल के कलशे भरे रहेंगे , सागर लज्जित हो जायेगा । गुरु चरण में निर्मल अश्रु- से अभिषेक हो जायेगा । अम्बर गूंजे ,धरती महके , नदियां,कलियां,फुल खिलें । जन-जन बोले ऐसा अवसर , गुरु-शिष्य मिलन का अमर रहे । संत नहीं अरिहन्त की चर्या , महंत गुरु जयवन्त रहें । छोटा छोटा बच्चा बोले , बूढ़े-बड़े नर नार कहें । मेरे गुरुवर विद्या सागर , जयवन्त रहें ,जयवन्त रहें ।
  2. 2 points

    चाँद की चांदनी और सूर्य का तेज भी होगा, खिल उठेगी नेमावर की धरा, जब गुरु शिष्य का मिलन होगा, छुट न जाए यह स्वर्णिम अवसर, हमे भी अपना कदम बढ़ाना होगा, चलो नेमावर, चलो नेमावर , कहकर सबको लाना होगा।।
  3. 1 point
  4. 1 point
  5. 1 point
    गुरु ग्रंथ का सार है, गुरु है प्रभु का नाम, गुरु अध्यात्म की ज्योति है, गुरु में ही सारे धाम।।
  6. 1 point
  7. 1 point
    जब जगत हमसे मुंह मोड़ ले, और बिगड़ने लगे हर बात, फिर भी साथ मेरे गुरु खड़े रहे, चाहे जो भी हो हालात।।
  8. 1 point
    मेरे गुरुवर ने कमज़ोर को भी , खड़ा होना सिखाया है, संघर्ष के समय साथ रहकर , सबको मजबूत बनाता है।
  9. 1 point
  10. 1 point
  11. 1 point
  12. 1 point
  13. 1 point
    दुःख की घड़ी आने पर सब बिखर सा जाता है , गुरु के हाथ थामते ही सब निखर सा जाता है।।
  14. 1 point
    गुरुदेव तो कण कण में समाये है गुरुदेव तो पूरे विश्व में छाये है कैसे और कहाँ ढूंढू उन्हें? वह तो साक्षात् अरिहंत कहलाएँ है।।
  15. 1 point
    भले बुरे की पहचान कराते है आप, सच्चे सुख की परिभाषा हैं आप, माता- पिता की मूरत है आप , इस युग में भगवान की सूरत है आप।।
  16. 1 point
    गुरू जो सिखाते है उसे सीख लो वरना वक्त की मार खाओगे, जो शिक्षा गुरूवर हमें देते है, उसे तो तुम कहीं से भी न पाओगे।
  17. 1 point
  18. 1 point
    हम चलते गए, रास्ते मिलते गये , उसी राह पर लाखों बार फिसलते गये, पर जबसे आशीर्वाद मिला है गुरु का, राह के काँटे भी फूल बनकर खिलते गये ।
  19. 1 point
    गुरु ने अहम को त्यागना बताया, हमने भी अब संतोष को है अपनाया, जबसे गुरुवर आपका सानिध्य है पाया, जीवन की पाठशाला में हर बार प्रथम आया।।
  20. 1 point
    जिंदगी की हर आरज़ू, गुरु के आशीष से ही पूरी हो, जब साथ मिले मेरे गुरु का, तो न कोई खुशी अधूरी हो.
  21. 1 point
    गुरु की चमक सूर्य -सी, ज्ञान अम्बर-सा विस्तार, गुरुवर का सान्निध्य ही, हम सबका है उपहार।
  22. 1 point
    नन्ही सी कलियों को, आपने फूलों सा महका दिया, आपके विश्वास ने गुरुवर, हमे चाँद सा चमका दिया।।
  23. 1 point
  24. 1 point
    *बेला से हुई थी दीक्षा* *_संत शिरोमणि आचार्य श्री 108 विद्यासागर जी महाराज_* से राजस्थान की माटी से एकमात्र दीक्षित शिष्य *मुनि श्री 108 संधान सागर जी महाराज* की दीक्षा गुरु पूर्णिमा को बीना बाराहा अतिशय क्षेत्र में बेला (दो उपवास) के साथ 4 वर्ष पूर्व हुई थी। तब से प्रतिवर्ष चातुर्मास स्थापना एवं निष्ठापन बेला से ही करते हैं। ऐसे तपस्वी मुनिराज के चरणों में हम सबका बारंबार नमोस्तु नमोस्तु नमोस्तु।
  25. 1 point
  26. 1 point
  27. 1 point
    1. Where child Mahavir was born ? Child Mahavir was born in Kundgram (Vaishali) Bihar. 2. On which days of lunar months the five auspicious events of Teerthankara Mahavir took place ? The auspicious event of Conception - Sixth day of light half of the lunar month Asar, Friday, 17th June, 599 B.C. The auspicious event of Birth - 13th day of light half of the lunar month Chaitra, Monday, 27th March, 598 B.C. The auspicious event of Initiation - 10th day of dark half of the lunar month Magsir, Monday, 29th Dec., 569 B.C. The auspicious event of Omniscience - 10th day of the light half of the lunar month Baisakh, Sunday, 23rd April, 557 B.C. The auspicious event of Salvation - 15th day of dark half of the lunar month Kartika, Tuesday, 15th October, 527 B.C. accordingly before Vikram Samvat 470 and before Shaka Samvat 605. [Teerthankara Mahavir Aur Unki Acharya Parampara, Part I] 3. Where from child Teerthankara Mahavir came ? Child Teerthankara Mahavir came from Pushpottar celestial space-plane of Achyuta heaven. 4. What were the names of parents & grand parents of child Mahavir ? The name of the mother of child Mahavir was Trishla, father's name was king Siddhartha, of the grand father Sarvartha and that of the grand mother was Shrimati. 5. What were the names of parents & grand parents of Trishla ? The name of the mother of Trishla was Subhadradevi, of father was King Chetaka, of grand father was King Keka and that of grand mother was Yashomati. 6. How many sons & daughters were there of King Chetaka ? There were ten sons, namely Dhandatta, Dhanbhadra, Upendra, Sudatta, Sinhadatta, Sukumbhoj, Akampan, Patangaka, Prabhanjana and Prabhas and daughters namely Trishla, Mirgavati, Suprabha, Prabhavati, Chelna, Jyestha, and Chandana. The second name of Chelna was also Vasumati. 7. What is the meaning of Chetaka ? He made many of his enemies as 'cheti' or slave, hence he began to be called by the name of Chetaka. 8. What were the names of the place of initiation, the forest of initiation and the Initia tion - tree of Prince Mahavir ? The name of place of initiation of Prince Mahavir was Kundalpur, of the forest of initiation was Shandavan and that of the initiation tree was Shal tree. 9. Due to what eficient cause the aversion from worldly enjoyments occured / caused to Prince Mahavir ? The aversion from worldly enjoyments occured to Prince Mahavir through recollection of previous birth. 10. Where Muni Mahavir took food for the first time after initiation of ascetic and in whose residence ? Muni Mahavir took food for first time after initiation of ascetic in the palace of King Kool in Koolgram. 11. What was the family succession and 'Gotra' (an exogamous sub-devision of the caste group) of Mahavir ? The family succession / pedigree of Mahavir was Nath and Gotra was Kashyapa. 12. In which palanquin he went for initiation ? He went for initiation sitting in the Chandra Prabha palanquin. 13. Where Muni Mahavir attained omniscience and under what tree ? Muni Mahavir attained omniscience in Shandvan/Manoharvan (river Rijukoola) under the Sal tree. 14. How many Muni, Aryika, Shravaka (devouts) and Shravikayen (female devouts) were there in the Samavsaran of Teerthankara Mahavir ? There were 14000 Muni, 36000 Aryikayen, 1 Lakh Shravakas and 3 Lakh Shravikayen in the Samavsaran of Teerthankara Mahavir. 15. Who were the chief Gandhara, chief Ganini and the chief Listner of Teerthankara Mahavir ? The chief Gandhar of Mahavir was Gautam, the chief Ganini was Chandna and chief Listner was King Shrenika. 16. What were the names of Yaksha and Yakshni of Teerthankara Mahavir ? The Yaksha was Guhaaka and the Yakshni was Siddhayni. 17. How many Ghandharas were there of Teerthankara Mahavir, enumerate their names ? There were eleven Ghandhara of Teerthankara Mahavir namely - Indrabhuti (Gautam), Vayubhuti, Agnihbhuti, Sudharmaswami, Mauraya, Maundra, Putra, Maitreya, Akampana, Andhvela and Prabhas. 18. Where the first Samavsaran of Teerthankara Mahavir was held ? The first Samavsaran of Teerthankara Mahavir was held at Vipulachal mountain. 19. How many days the discourse of Teerthankara Mahavir did not reveal and why? The discourse of Teerthankara Mahavir did not reveal for 66 days for want of Ghandhara. 20. When the discource of Teerthankara Mahavir was revealed ? The discourse of Teerthankara Mahavir was revealed on the 1st day of dark half of the lunar month Shravan, Saturday, 1st July, 557 B.C. 21 How many questions were asked by King Shrenika in the Samavsaran of Teerthankara Mahavir ? King Shrenika asked 60 thousand questions in the Samavsaran of Teerthankara Mahavir. 22. Before how many day's Teerthankara Mahavir left Samavsaran for performing ces sation of activities of mind, speech and body (Yoga Nirodha) ? Teerthankara Mahavir left Samavsaran before 2 days for performing cessation of activities of mind, speech & body (Yoga Nirodha). 23. In which mode of life Teerthankara Mahavir attained right-faith ? Teerthankara Mahavir attained right-faith in the mode of the lion. 24. Of how many years the discipline period of Teerthankara Mahavir is ? The disciplline period of Teerthankara Mahavir is of 21 thousand and 42 years. 25. Enumerate the births (of Mahavir) from lion to Mahavir ? Lion ,deity in Saudharma heaven, King kankojjwal, deity in Lantava heaven, King Harisen, deity in Mahashukra heaven, Priyamitra named Prince, deity in the 12th heaven, King Nanda, Indra in Achyut heaven & Teerthankara Mahavir. 26. When Teerthankaras Mahavir bounded the karmic-nature of Teerthankarahood and where ? When Teerthankara Mahavir assumed / accepted restraint in the mode (life-course) of King Nanda then he bonded the karmic-nature of Teerthankarahood in the proximity of Guru Prosthil (A saint well versed in scriptural knowledge). 27. What were the names of ascetics who exhorted religious preachings to the lion ? The names of Muni who exhorted religious instruction to the lion were Muni Amitkirti and Amitprabha. 28. After how many years of the liberation / salvation of Teerthankara parashwanath, child Mahavir was born ? Child Mahavir was born after 178 years of the liberation / salvation of Teerthankara Parashwanath. 29. How many names were there of Teerthankara Mahavir ? enumerate the names ? Veer - At the time of birth-anointment a doubt occured to the Indra that how the child shall bear the flow of so much water? The child knowing about this through his clairvoyance pressed the Meru mountain a little, then Indra came to know the immeasurable strength of the child. The Indra begged pardon and said - Precisely he is a Veer Jinendra. Vardhman - The King Siddhartha told that just when the child came in the womb of Priyakarini, from that very day the wealth and prosperity in the home, city and kingdom began to increase, hence this child should be named as Vardhman. Sanmati - Once Sanjaya and Vijaya named two Muni endowed with supernatural power to move in the sky, had some metaphysical inquisitiveness. As soon as they saw Vardhman, their inquisitiveness was solved, then the Muni named Vardhman as Sanmati. Mahavir - Vardhman was playing with his friends on a tree, then Sangamdeva wrapped himself round trunk of the tree, assuming the form of a huge snake in order to frighten them. All friends were frightened, jumped from the branch and fled away but Vardhman climbing on the snake started playing with him. Seeing so, the Sangamdeva, assuming/returning in his original form, and admiring Vardhman named him as Mahavir. Ativeer - One elephant being besotted / intoxicated was not coming under the control of any one, was creating turmoil. Knowing this Mahavir intended to go there then people asked him not to go there but Mahavir did not pay any heed to them and went there. Seeing Mahavir, the elephant bowing his head began to salute lifting his trunk. Then the populace admired the prince and named him as Ativeer.
  28. 1 point
  29. 1 point
  30. 1 point
  31. 1 point
    वक्ता / गायक / प्रस्तुतकर्ता: Mehul Jain
  32. 1 point
  33. 1 point
    पञ्च परमेष्ठी में प्रथम अरिहंत परमेष्ठी के कितने मूलगुण होते हैं एवं अरिहंत परमेष्ठी कितने प्रकार के होते हैं, इसका वर्णन इस अध्याय में है। 1. अरिहंत परमेष्ठी किसे कहते हैं ? जो सौ इन्द्रों से वंदित होते हैं, जो वीतराग, सर्वज्ञ और हितोपदेशी होते हैं। जिन्होंने चार घातिया कर्मों को नष्ट कर दिया है, जिससे उन्हें अनन्त चतुष्टय प्राप्त हुए हैं। जिनने परम औदारिक शरीर की प्रभा से सूर्य की प्रभा को भी फीका कर दिया है। जो कमल से चार अज़ुल ऊपर रहते हैं। जो 34 अतिशय तथा 8 प्रातिहार्यों से सुशोभित हैं, जो जन्म-मरण आदि 18 दोषों से रहित हो गए हैं, उन्हें अरिहंत परमेष्ठी कहते हैं। 2. अरिहंत परमेष्ठी के पर्यायवाची नाम कौन-कौन से हैं ? अरिहत, अरुहत, अर्हन्त, जिन, सकल परमात्मा और सयोगकेवली। अरिहत - 'रहस्याभावाद्वा अरिहन्ता' रहस्य के अभाव से भी अरिहन्त होते हैं। रहस्य अन्तराय कर्म को कहते हैं। अन्तराय कर्म का नाश शेष तीन घातिया कर्मो के नाश का अविनाभावी है।(ध.पु., 1/45) अरुहंत - घातिकर्म रूपी वृक्ष को जड़ से उखाड़ देने से वे अरुहंत कहे जाते हैं। अर्हन्त - ‘अतिशयपूजार्हत्वाद्वार्हन्त:” अथवा, सातिशय पूजा के योग्य होने से अर्हन्त होते हैं।(ध.पु., 1/45) जिन-जो रागादि शत्रुओं को जीतें व अज्ञानादि आवरणों को हटा लें, उस आत्मा को जिन कहते हैं। सकल परमात्मा - कल का अर्थ है शरीर, जो परम औदारिक शरीर सहित हैं, ऐसे परमात्मा को सकल परमात्मा कहते हैं। सयोग केवली- जो केवलज्ञानी हैं, किन्तु अभी योग सहित हैं, वे सयोग केवली हैं। 3. अरिहंत परमेष्ठी के कितने मूलगुण होते हैं ? अरिहंत परमेष्ठी के 46 मूलगुण होते हैं। जिनमें 34 अतिशय (10 जन्म के, 10 केवलज्ञान के एवं 14 देवकृत) 8 प्रातिहार्य एवं 4 अनन्त चतुष्टय। 4. अरिहंत परमेष्ठी के जन्म के 10 अतिशय बताइए ? अतिशय सुन्दर शरीर, अत्यन्त सुगंधित शरीर, पसीना रहित शरीर, मल-मूत्र रहित शरीर। हित-मित-प्रिय वचन, अतुल बल, सफेद खून, शरीर में 1008 लक्षण होते हैं। जिसमें शंख,गदा, चक्र आदि 108 लक्षण तथा तिल मसूरिका आदि 900 व्यञ्जन होते हैं, समचतुरस्र संस्थान, वज़ऋषभनाराचसंहनन। 5. अरिहंत परमेष्ठी के केवलज्ञान के 10 अतिशय बताइए ? भगवान् के चारों ओर सौ-सौ योजन (चार कोस का एक योजन,एक कोस में दो मील एवं 1.5 कि.मी. का एक मील) तक सुभिक्षता हो जाती है अर्थात् अकाल आदि नहीं पड़ते हैं। आकाश में गमन-कमल से चार अर्जुल ऊपर विहार (गमन) होता है। चतुर्दिग्मुख-एक मुख रहता है, किन्तु चारों दिशाओं में दिखता है। अदया का अभाव अर्थात् दया का सद्भाव रहता है, आस-पास किसी प्रकार की हिंसा नहीं होती है। उपसर्ग का अभाव - केवली भगवान् के ऊपर उपसर्ग नहीं होता, न ही उनकी सभा में उपसर्ग होता है। पहले से उपसर्ग चल रहा हो तो वह केवलज्ञान होते ही समाप्त हो जाता है। जैसे-भगवान् पार्श्वनाथ का हुआ था। कवलाहार का अभाव - केवलज्ञान होने के बाद आहार (भोजन) का अभाव हो जाता है। अर्थात् उन्हें आहार की आवश्यकता ही नहीं पड़ती है। समस्त विद्याओं का स्वामीपना। नख- केश नहीं बढ़ना। नेत्रों की पलकें नहीं झपकना। शरीर की परछाई नहीं पड़ना। 6. अरिहंत परमेष्ठी के देवकृत 14 अतिशय बताइए ? अर्धमागधी भाषा-भगवान् की अमृतमयी वाणी सब जीवों के लिए कल्याणकारी होती है तथा मागध जाति के देव उन्हें बारह सभाओं में विस्तृत करते हैं। मैत्रीभाव-प्रत्येक प्राणी में मैत्री भाव हो जाता है। जिससे शेर-हिरण, सर्प-नेवला भी बैर-भाव भूलकर एक साथ बैठ जाते हैं। दिशाओं की निर्मलता - सभी दिशाएँ धूल आदि से रहित हो जाती हैं। निर्मल आकाश - मेघादि से रहित आकाश हो जाता है। छ: ऋतुओं के फल-फूल एक साथ आ जाते हैं। एक योजन तक पृथ्वी का दर्पण की तरह निर्मल हो जाना। चलते समय भगवान् के चरणों के नीचे स्वर्ण कमल की रचना हो जाना। गगन जय घोष-आकाश में जय-जय शब्द होना। मंद सुगन्धित पवन चलना। गंधोदक वृष्टि होना। भूमि की निष्कंटकता अर्थात् कंकड़, पत्थर, कंटक रहित भूमि का होना। समस्त प्राणियों को आनंद होना। धर्म चक्र का आगे-आगे चलना। अष्ट मंगल द्रव्य का साथ-साथ रहना। जैसे-छत्र, चवर, कलश, झारी, ध्वजा, पंखा, ठोना और दर्पण। 7. अष्ट प्रातिहार्य किसे कहते हैं और कौन-कौन से होते हैं ? देवों के द्वारा रचित अशोक वृक्ष आदि को प्रातिहार्य कहते हैं। वे आठ होते हैं-1. अशोक वृक्ष, 2. तीन छत्र, 3. रत्नजड़ित सिंहासन, 4. दिव्यध्वनि, 5. दुन्दुभिवाद्य, 6. पुष्पवृष्टि, 7. भामण्डल, 8. चौंसठ चवर । (ति. प., 4/924-936) अशोक वृक्ष - समवसरण में विराजित तीर्थंकर के सिंहासन के पीछे-मस्तक के ऊपर तक फैला हुआ, रत्नमयी पुष्पों से सुशोभित, लाल-लाल पत्रों से युक्त देवरचित अशोक वृक्ष होता है। तीन छत्र - तीन लोक की प्रभुता के चिह्न, मोतियों की झालर से शोभायमान, रत्नमयी, ऊपर से नीचे की ओर विस्तार युत, तीन छत्र भगवान् के मस्तक के ऊपर स्थित रहते हैं। रत्न जड़ित सिंहासन - उत्तम रत्नों से रचित, सूर्यादिक की कान्ति को जीतने वाला, सिंह जैसी आकृति वाला सिंहासन होता है, सिंहासन में रचित एक सहस्रदल कमल होता है। भगवान् उससे चार अंगुल ऊपर अधर में विराजते हैं। दिव्यध्वनि - केवलज्ञान होने के पश्चात् प्रभु के मुख से एक विचित्र गर्जना रूप अक्षरी ओकार ध्वनि खिरती है, जिसे दिव्यध्वनि कहते हैं। यह ध्वनि तिर्यञ्च, मनुष्य एवं देवों की भाषा के रूप में परिणत होने के स्वभाव वाली, मधुर, मनोहर, गम्भीर और विशद, भगवान् की इच्छा न होते हुए भी भव्य जीवों के पुण्य से सहज खिरती है, पर गणधरदेव की अनुपस्थिति में नहीं खिरती है। देवदुन्दुभि - समुद्र के समान गम्भीर, समस्त दिशाओं में व्याप्त, तीन लोक के प्राणियों के शुभ समागम की सूचना देने वाली, तिर्थंकरो का जयघोष करने वाली देवदुन्दुभि होती है। पुष्पवृष्टि - समवसरण में आकाश से सुगन्धित जल की बूंदों से युक्त एवं सुखद मन्दार, सुन्दर, सुमेरू, पारिजात आदि उत्तम वृक्षों के सुगन्धित ऊध्र्वमुखी दिव्य पुष्पों (फूलों) की वर्षा होती रहती है। भामण्डल - तीर्थंकर के मस्तक के चारों ओर, प्रभु के शरीर को उद्योतन करने वाला अति सुन्दर, अनेक सूर्यों से भी अत्यधिक तेजस्वी और मनोहर भामण्डल होता है। इसकी तेजस्विता तीनों जगत् के द्युतिमान पदार्थों की द्युति का तिरस्कार करती है। इस भामण्डल में भव्यात्मा अपने सात भवों को देख सकता है (तीन अतीत के, तीन भविष्य के और एक वर्तमान का) (ति.प., 4/935) विशेष : वापिका के जल व भामण्डल में सात भव लिखे नहीं रहते, किन्तु तीर्थंकर की निकटता के कारण वापिका के जल व भामण्डल में इतना अतिशय हो जाता है कि उनके अवलोकन से अपने सात भवों के ज्ञान का क्षयोपशम हो जाता है। (पं. रतनचन्द्र मुख्तार, व्यक्तित्व और कृतित्व, पृ. 1214) चौंसठ चंवर - तीर्थंकर के दोनों ओर सुन्दर सुसजित देवों द्वारा चौंसठ चंवर ढोरे जाते हैं। ये चंवर उत्तम रत्नों से जड़ित स्वर्णमय दण्ड वाले, कमल नालों के सुन्दर तन्तु जैसे-स्वच्छ, उज्वल और सुन्दर आकार वाले होते हैं। 8. अनन्तचतुष्टय कौन-कौन से होते हैं ? अनन्त ज्ञान, अनन्त दर्शन, अनन्त सुख और अनन्त वीर्य। 9. अतिशय किसे कहते हैं ? चमत्कारिक, अद्भुत तथा आकर्षक विशेष कार्यों को अतिशय कहते हैं। अथवा सर्वसाधारण में न पाई जाने वाली विशेषता को अतिशय कहते हैं। 10. केवली कितने प्रकार के होते हैं ? केवली 7 प्रकार के होते हैं तीर्थंकर केवली - 2, 3 एवं 5 कल्याणक वाले केवली। सामान्य केवली - कल्याणकों से रहित केवली । अन्तकृत केवली - जो मुनि उपसर्ग होने पर केवलज्ञान प्राप्त करके लघु अन्तर्मुहूर्त काल में निर्वाण को प्राप्त होते हैं। उपसर्ग केवली - जिन्हें उपसर्ग सहकर केवलज्ञान प्राप्त हुआ हो। जैसे-मुनि देशभूषणजी और मुनि कुलभूषणजी को हुआ था। मूक केवली - केवलज्ञान होने पर भी वाणी नहीं खिरती। अनुबद्ध केवली - एक को मोक्ष होने पर उसी दिन दूसरे को केवलज्ञान उत्पन्न होना। जैसे-गौतम स्वामी, सुधर्माचार्य और जम्बूस्वामी। ये तीन अनुबद्ध केवली हुए। समुद्धात केवली - केवली भगवान् की आयु अन्तर्मुहूर्त एवं शेष कर्मों की स्थिति अधिक रहती है, अत: वे आयु कर्म के बराबर शेष कर्मों की स्थिति करने के लिए समुद्धात करते हैं।
  34. 1 point
    महिलाओं में सर्वोच्च पद आर्यिका का होता है, इनकी चर्या किस प्रकार की होती है। इसका वर्णन इस अध्याय में है। 1. आर्यिका किसे कहते हैं एवं इनकी चर्या किस प्रकार होती है ? स्त्री पर्याय की अपेक्षा उत्कृष्ट संयमधारी स्त्रियाँ आर्यिका कहलाती हैं। ये मुनियों के समान दिगम्बरत्व को धारण नहीं कर सकती हैं, अत: एक 16 हाथ की सफेद साड़ी पहनती हैं तथा बैठ कर ही कर पात्र में आहार करती हैं। शेष चर्या मुनियों के समान है। आर्यिकाओं के लिए वृक्षमूल, आतापन योग, अभ्रावकाश आदि विशेष योग निषिद्ध हैं। आर्यिकाओं को उपचार से महाव्रती कहा गया है। ये पञ्चम गुणस्थानवर्ती होती हैं। इनका पद एलक और क्षुल्लक से श्रेष्ठ है। श्रावक इन्हें वंदामि कहकर नमस्कार करते हैं। आर्यिकाएँ भी परस्पर में समाचार वंदामि कहकर करती हैं। इनकी वसतिका श्रावकों से, न अति दूर न अति पास रहती है। वसतिका में ये आर्यिकाएँ दो-तीन अथवा तीस - चालीस पर्यन्त भी एक साथ रहती हैं। मुनियों की वंदना एवं आहार आदि क्रियाओं में गणिनी या प्रमुख आर्यिका के साथ या उनसे पूछकर कुछ आर्यिकाओं के साथ जाती हैं। 2. आर्यिका पद के अयोग्य कौन-कौन से कार्य आर्यिकाएँ नहीं करती हैं ? आर्यिका पद के अयोग्य रोना, नहलाना, खिलाना, भोजन बनाना, सिलाई - कढ़ाई करना, स्वेटर बुनना आदि गृहस्थों के योग्य कार्यों को आर्यिकाएँ नहीं करती हैं। 3. आर्यिकाएँ कौन-कौन से कार्य करती हैं ? स्वाध्याय करने में, पाठ याद करने में और अनुप्रेक्षा के चिन्तन में तथा तप में और संयम में नित्य ही उद्यत रहती हुई ज्ञानाभ्यास में तत्पर रहती हैं। 4. आर्यिकाएँ एवं महिलाएं कितनी दूर से आचार्य, उपाध्याय एवं साधुपरमेष्ठी को नमस्कार करती है ? आचार्य परमेष्ठी को पाँच हाथ दूर से, उपाध्याय परमेष्ठी को छ: हाथ दूर से एवं साधु परमेष्ठी को सात हाथ दूर से नमस्कार करती हैं।
  35. 1 point
    जैन श्रावक प्रतिदिन देवदर्शन करने मन्दिर जाता है। अत: मन्दिर जाने की विधि का वर्णन इस अध्याय में है। 1. मन्दिर जाने की विधि क्या है ? देवदर्शन हेतु प्रात:काल स्नानादि कार्यों से निवृत्त होकर शुद्ध धुले हुए स्वच्छ वस्त्र (धोती-दुपट्टा अथवा कुर्ता-पायजामा) पहनकर तथा हाथ में धुली हुई स्वच्छ अष्ट द्रव्य लेकर मन में प्रभुदर्शन की तीव्र भावना से युक्त, नंगे पैर नीचे देखकर जीवों को बचाते हुए घर से निकलकर मन्दिर की ओर जाना चाहिए। रास्ते में अन्य किसी कार्य का विकल्प नहीं करना चाहिए । दूर से ही मन्दिर जी का शिखर दिखने पर सिर झुकाकर जिन मन्दिर को नमस्कार करना चाहिए, फिर मन्दिर के द्वार पर पहुँचकर शुद्ध छने जल से दोनों पैर धोना चाहिए । मन्दिर के दरवाजे में प्रवेश करते ही हैं जय जय जय, निस्सही निस्सही निस्सही, नमोऽस्तु नमोऽस्तु नमोऽस्तु बोलना चाहिए, फिर मन्दिर जी में लगे घंटे को बजाना चाहिए। इसके पश्चात् भगवान के सामने जाते ही हाथ जोड़कर सिर झुकावें, एवं बैठकर गवासन से तीन बार नमस्कार कर तथा खड़े होकर णमोकार मंत्र पढ़कर कोई स्तुति, स्तोत्र पाठ पढ़कर भगवान् की मूर्ति को एकटक होकर देखकर भावना से निर्लिप्त हैं, वैसे ही मैं भी संसार से निर्लिप्त रहूँ, साथ में लाए पुञ्ज बंधी मुट्ठी से अंगूठा भीतर करके अरिहंत, सिद्ध, आचार्य, उपाध्याय और साधु, ऐसे पाँच पदों को बोलते हुए बीच में, ऊपर, दाहिने, नीचे, बाएँ तरफ ऐसे पाँच पुञ्ज चढ़ावें। फिर जमीन पर गवासन से बैठकर, जुड़े हुए हाथों को तथा मस्तक को जमीन से लगावें तीन बार नमस्कार कर तत्पश्चात् हाथ जोड़कर खड़े हो जावें और मधुर स्वर में स्पष्ट उच्चारण के साथ स्तुति आदि पढ़ते हुए अपनी बाई ओर से चलकर वेदी की तीन परिक्रमा करें। तदनन्तर स्तोत्र पूरा होने पर बैठकर गवासन से तीन बार नमस्कार करें। परिक्रमा देते समय ख्याल रखें कोई नमस्कार कर रहा हो तो उसके आगे से न निकलकर, पीछे की ओर से निकलें। दर्शन करने इस तरह खड़े हों तथा इस तरह पाठ करें जिससे अन्य किसी को बाधा न हो। दर्शन कर लेने के बाद अपने दाहिने हाथ की मध्यमा और अनामिका अर्जुलियों को गंधोदक के पास रखे शुद्ध जल से शुद्ध कर लेने पर अर्जुलियों से गंधोदक लेकर उत्तमाङ्ग पर लगाएं फिर गंधोदक वाली अर्जुलियों को पास में रखे जल में धो लेवें। गंधोदक लेते समय निम्न पंक्तियाँ बोलें - निर्मलं निर्मलीकरण, पवित्र पाप नाशनम्। जिन गंधोदकं वंदे, अष्टकर्म विनाशनम्॥ इसके पश्चात् नौ बार णमोकार मंत्र पढ़ते हुए कायोत्सर्ग करें। फिर जिनवाणी के समक्ष ‘प्रथमं करण चरण द्रव्यं नम:।' ऐसा बोलते हुए चार पुञ्ज चढ़ावें। तथा गुरु के समक्ष ‘सम्यक् दर्शन-सम्यक् ज्ञान-सम्यक् चारित्रेभ्यो नम:', ऐसा बोलकर तीन पुञ्ज चढ़ावें। तदुपरान्त शास्त्र स्वाध्याय करें एवं मंत्र जाप करें, फिर भगवान् को पीठ न पड़े ऐसे विनय पूर्वक अस्सहि, अस्सहि, अस्सहि बोलते हुए मन्दिर से बाहर निकलें। 2. देवदर्शन किसे कहते हैं ? देव का अर्थ वीतरागी 18 दोषों से रहित देव और दर्शन का सामान्य अर्थ होता है देखना, किन्तु यहाँ पूज्यता के साथ देखने का नाम दर्शन है। अत: पूज्य दृष्टि से देव को देखने का नाम देवदर्शन है। 3. मन्दिर जी आने से पहले स्नान क्यों आवश्यक है ? गृहस्थ जीवन में पञ्च पाप होते रहते हैं, जिससे शरीर अशुद्ध हो जाता है। अत: शरीर की शुद्धि के लिए स्नान आवश्यक है। 4. मन्दिर जी में प्रवेश करते समय पैर धोना क्यों आवश्यक है ? पैरों का सम्बन्ध सीधा मस्तिष्क से होता है, आँखों में दर्द, पेट में दर्द, अधिक थकावट से विश्राम पाने के लिए पैर के तलवे दबाये जाते हैं। जिन्हें रात्रि में स्वप्न आते हैं, उन्हें पैर धोकर सोना चाहिए। श्रावक जब मुनि महाराज की वैयावृत्ति करना चाहता है, तब अनेक मुनि महाराज कहते हैं कि तुम्हें घी, तेल लगाना हो तो मात्र पैर के तलवे में लगा दो वह मस्तिष्क तक आ जाता है। इन सब बातों से सिद्ध होता है कि पैरों का सम्बन्ध मस्तिष्क से है। यदि पैरों में अशुद्धि रहेगी तब मन में भी अशुद्धि रहेगी। अत: मन्दिर जी प्रवेश से पूर्व पैर धोना आवश्यक है। 5. मन्दिर जी में प्रवेश करते समय निस्सहि-निस्सहि-निस्सहि क्यों बोलना चाहिए ? प्रथम कारण तो यह है कि मैं दर्शन करने आ रहा हूँ, अत: वहाँ कोई श्रावक या अदृश्य देव, दर्शन कर रहे हैं, वे मुझे दर्शन करने के लिए स्थान दें। दूसरा कारण यह है कि मैं शरीर पर वस्त्रों के अलावा शेष परिग्रह का निस्सहि अर्थात् निषिद्ध करके या ममत्व छोड़ करके पवित्र स्थान में प्रवेश कर रहा हूँ। तीसरा कारण यह है कि इस जिनालय को नमस्कार हो। 6. मन्दिर जी में घंटा क्यों बजाते हैं ? मन्दिर जी में घंटा बजाने के प्रमुख कारण इस प्रकार हैं - घंटा समवसरण में बजने वाली देव बुंदुभि का प्रतीक है। जैसे ही घंटा बजाते हैं और घंटे के नीचे खड़े हो जाते हैं जिससे उसकी ध्वनि तरंगें एकत्रित हो जाती हैं, जिससे मन में शांति मिलती है एवं मन में अपने आप सात्विक विचार आने लगते हैं। घंटा पिरामिड के आकार का होता है। आज मन को शांत करने के लिए पिरामिड का बहुत प्रयोग किया जा रहा है। अभिषेक करते समय घंटा बजाते हैं जो आस-पास के लोगों को जगाने का कार्य भी करता है कि अभिषेक प्रारम्भ हो गया है। मुझे मन्दिर जी जाना है। अत: घंटा समय का सूचक है। 7. मन्दिर जी में चावल ही क्यों चढ़ाते हैं ? चावल ऊगता नहीं है, धान (छिलका सहित चावल) ऊगता है। अत: आगे हम भी न ऊगे अर्थात् हमारा भी जन्म न हो इसलिए चावल चढ़ाते हैं। 8. प्रदक्षिणा किसकी दी जाती है एवं कितनी दी जाती है ? वीतरागी देव, तीर्थक्षेत्र, सिद्धक्षेत्र, अतिशय क्षेत्र एवं निग्रंथ गुरु की तीन-तीन प्रदक्षिणा दी जाती हैं। 9. प्रदक्षिणा क्यों देते हैं ? वेदी में विराजमान भगवान समवसरण का प्रतीक है। समवसरण में भगवान के मुख चार दिशाओं में अलग-अलग दिखते हैं। अत: चार दिशाओं में भगवान के दर्शन के उद्देश्य से प्रदक्षिणा (परिक्रमा) देते हैं। तीन रत्नत्रय का प्रतीक है, अत: रत्नत्रय की प्राप्ति हो, इसलिए तीन प्रदक्षिणा देते हैं। 10. प्रदक्षिणा बाई (Left) ओर से क्यों लगाते हैं ? हमारे जो आराध्य हैं, पूज्य हैं, बड़े हैं, उन्हें सम्मान की दृष्टि से अपने दाहिने (Right) हाथ की ओर रखा जाता है। इसलिए प्रदक्षिणा बाई ओर से लगाते हैं। 11. मन्दिर जी से वापस आते समय अस्सहि-अस्सहि-अस्सहि क्यों बोलते हैं ? अस्सहि का अर्थ है कि अब मैं दर्शन करके वापस जा रहा हूँ देव आदि जिनने दर्शन करने के लिए स्थान दिया था वे अब अपना स्थान ग्रहण कर लें। 12. भगवान के दर्शन करते समय किन-किन भावनाओं को भाना चाहिए ? भगवान के दर्शन करते समय निम्न भावनाओं को भाना चाहिए मैं भी आप जैसा बनूँ। मेरे पाप कर्म शीघ्र नष्ट हों। मुझे मोक्ष सुख की प्राप्ति हो। संसार के सारे जीव सुखी रहें। संसार के सभी जीव धम्र्यध्यान करें। सारे नरक खाली हो जाएँ, सारे अस्पताल बंद हो जाएँ अर्थात् कोई बीमार ही न पड़े। सारे जेल बंद हो जाएँ अर्थात् कोई ऐसा कार्य न करे जिससे जेल जाना पड़े। ओम् नम: सबसे क्षमा, सबको क्षमा, सभी आत्मा परमात्मा बनें। 13.भगवान के दर्शन करते समय किस प्रकार के भावों का त्याग करना चाहिए ? भगवान के दर्शन करते समय निम्न प्रकार के भावों का त्याग करना चाहिए धन-वैभव, पद आदि की प्राप्ति के भावों का त्याग करना चाहिए। स्त्री, पुत्र, आदि की प्राप्ति के भावों का त्याग करना चाहिए। उसका मरण हो जाए, वह चुनाव में हार जाए, उसकी दुकान नष्ट हो जाए, उसकी नौकरी छूट जाए,वह परीक्षा में फेल हो जाए आदि बुरे भावों का त्याग करना चाहिए। 14. पाषाण या धातु की मूर्ति में पूज्यता कैसे आती है ? पञ्चम काल में भरत और ऐरावत क्षेत्रों में अरिहंत परमेष्ठी नहीं होते हैं। उन अरिहंतों के गुणों की स्थापना पञ्चकल्याणक प्रतिष्ठा महोत्सव में आचार्य अथवा उपाध्याय, साधु परमेष्ठी सूरि मंत्र देकर करते हैं। अत: इससे मूर्ति में पूज्यता आ जाती है। जैसे-178 से.मी. लंबे, 73 से.मी.चौड़े कागज का मूल्य अधिकतम 50 पैसा होगा उसी कागज में गर्वनर (GOVERNOR) के हस्ताक्षर (SIGN) होने से उसका मूल्य 1000 रुपए हो जाता है वैसे ही कम मूल्य की धातु या पाषाण की मूर्ति, सूरि मंत्र पाते ही अमूल्य हो जाती है, अर्थात् पूज्य हो जाती है। 15. मन्दिर जी में कौन-कौन से कार्य नहीं करना चाहिए ? मन्दिर जी में निम्न कार्य नहीं करना चाहिए - देव-शास्त्र-गुरु से ऊँचे स्थान पर नहीं बैठना चाहिए। कोई श्रावक दर्शन कर रहा हो तो उसके सामने से नहीं निकलना चाहिए। पूजन, भजन, मंत्र इतनी जोर से नहीं पढ़ना चाहिए कि दूसरा जो पूजन, भजन, मंत्र कर रहा है वह अपना पाठ ही भूल जाए। नाक, कान, आँख आदि का मैल नहीं निकालना चाहिए। शौच आदि को पहनकर गए हुए वस्त्र पहनकर नहीं जाना चाहिए। अशुद्ध पदार्थ लिपिस्टिक, नेलपालिश, क्रीम, सेन्ट आदि लगाकर नहीं जाना चाहिए। क्रोध, अहंकार नहीं करना चाहिए। किसी को गाली नहीं देना चाहिए। सगाई, विवाह, खाने, पीने आदि की चर्चा नहीं करना चाहिए। दुकान, आफिस, राजनीति आदि की चर्चा नहीं करना चाहिए। जूठे मुख नहीं जाना चाहिए। चमड़े तथा रेशम की वस्तुएँ पहनकर नहीं जाना चाहिए। काले, नीले, लाल, भड़कीले वस्त्र पहनकर नहीं जाना चाहिए। मोबाइल का प्रयोग नहीं करना चाहिए। 16. दर्शन करने से कौन-कौन से लाभ होते हैं ? दर्शन करने से निम्न लाभ होते हैं - सम्यक् दर्शन की प्राप्ति होती है, यदि सम्यक् दर्शन है तो वह और दृढ़ होता है। अनेक उपवासों का फल मिलता है। असंख्यात गुणी कर्मों की निर्जरा होती है। पुण्य का आस्रव होता है। मन के अशुभ भाव नष्ट हो जाते हैं। प्रात:काल दर्शन-पूजन करने से दिन अच्छी तरह व्यतीत होता है। 17. देवदर्शन करने से कितने उपवास का फल मिलता है ? देवदर्शन करने का फल निम्न प्रकार है जिन प्रतिमा के दर्शन का विचार करने से 2 उपवास का दर्शन करने की तैयारी की इच्छा से 3 उपवास का जाने की तैयारी करने से 4 उपवास का घर से जाने लगता उसे 5 उपवास का जो कुछ दूर पहुँच जाता है उसे 12 उपवास का जो बीच में पहुँच जाता है उस 15 उपवास का जो मन्दिर के दर्शन करता है उसे 1 माह के उपवास का जो मन्दिर के अाँगन में प्रवेश करता है उसे 6 माह के उपवासका जो द्वार में प्रवेश करता है उसे 1 वर्ष के उपवासका जो प्रदक्षिणा देता है उसे 1oo वर्ष के उपवास का जो जिनेन्द्र देव के मुख का दर्शन करता है उसे 1000 वर्ष के उपवास का और जो स्वभाव से अर्थात् निष्कामभाव से स्तुति करता है उसे अनन्त उपवास का फल मिलता है।
  36. 1 point
    मिलिट्रीवाले अनुशासन का पालन न करें तो वे देश की रक्षा नहीं कर सकते, उसी प्रकार मुनि आगम की आज्ञा का पालन न करे तो वे अपने व्रतों कि रक्षा नही कर सकते | अत : दोनों में क्या-क्या समानताएँ हैं इसका वर्णन इस अध्याय में है। जिस प्रकार मुनि अपनी प्रत्येक क्रियाओं में सजग रहते हैं, उसी प्रकार मिलिट्री वाले भी अपनी क्रियाओं में सजग रहते हैं, दोनों की कुछ क्रियाओं में समानता है। उनके कुछ बिन्दु निम्नलिखित हैं-1. भोजन 2. अभ्यास 3. गुप्त मंत्रणा 4. कहाँ जाना है 5. जनसम्पर्क से दूर 6. शत्रुओं से रक्षा 7. ड्यूटी 8.रोड 9. स्थान परिवर्तन 10. आदेश का पालन 11. बगावत नहीं करते हैं 12. मरण से नहीं डरते हैं 13. सिर कटा सकते हैं पर सिर झुका सकते नहीं 14. क्रियाओं में कठोरता 15.यथालब्ध भोजन 16.अलाभ 17. विवित्त शय्यासन तप 18. कायक्लेश तप 19. एकल विहारी का निषेध 20. जीते जी मरण। भोजन - मिलिट्री में भोजन सीमित दिया जाता है उसी प्रकार मुनि भी सीमित भोजन करते हैं, क्योंकि अधिक भोजन से प्रमाद आता है। मिलिट्री वाले जहाँ कहीं भी भोजन नहीं करते हैं, उन्हें तो PURE QUALITY का माल सरकार से मिलता है। उसी प्रकार मुनि भी उत्तम श्रावक के घर में जाकर PURE (प्रासुक, शुद्ध एवं भक्ष्य)भोजन करते हैं। अभ्यास - जिस प्रकार मिलिट्री में हमेशा अभ्यास किया जाता है, जिससे युद्ध के समय जीत हो जाए एवं वाहनों का भी प्रयोग करते रहते हैं, जिससे वे जाम न हो जाएँ, उसी प्रकार मुनि भी परीषह उपसर्ग को सहन करते रहते हैं। परीषह उपसर्ग नहीं आते तो 12 तपों को तपते रहते हैं, जिससे समाधि के समय जीत हो जाए अर्थात् समाधि अच्छी तरह से हो जाए, क्योंकि मुनि मार्ग मंदिर है तो समाधि मंदिर पर कलश है। कलश बिना मंदिर अधूरा है, तो समाधि के बिना तपस्या अधूरी है। गुप्त मंत्रणा - जो मिलिट्री वालों की गुप्त बातें हैं, वे किसी को नहीं बताते हैं। उसी प्रकार श्रावक कहते हैं कि महाराज ‘आचार्य श्री' ने आपसे क्या कहा है ? यह मुनि नहीं बताते हैं, नहीं तो अनेक बार बड़ी परेशानी हो जाती है। मान लीजिए ‘आचार्यश्री' ने कहा तीन स्थान में से एक स्थान पर वर्षायोग करना है, कहाँ करना, यह महाराज आप को नहीं बताएगे, स्वम निर्णय करेगे | कहाँ जाना है - मिलिट्री की ट्रेन कहाँ जाती है, वह कहते हैं, पता नहीं है, उसी प्रकार महाराज आप कहाँ जा रहे हैं, बताया नहीं जाता है, और अनेक बार तो रास्ता बीच में से भी CHANGE हो जाता है। जनसम्पर्क से दूर - मिलिट्री वालों को जनसम्पर्क से दूर रखा जाता है, जनसम्पर्क करेंगे तो वह अपने कर्तव्य का सही पालन नहीं कर सकते। उसी प्रकार प्रवचनसार ग्रन्थ में आचार्य कुन्दकुन्द स्वामी ने मुनियों के लिए जनसम्पर्क नहीं करने को कहा है। शत्रुओं से रक्षा - जिस प्रकार सैनिक देश की सीमा में रहते हुए देश की रक्षा, शत्रुओं से करते हैं। उसी प्रकार मुनि भी शत्रुओं से आत्मा (देश) की रक्षा करते हैं। शत्रुओं से आशय क्रोध, मान, माया, लोभ और कर्म आदि से है। ड्यूटी - DUTY के समय यदि सैनिक ड्यूटी पर नहीं रहता तो उसे दण्ड दिया जाता है, दण्ड से आशय शारीरिक दण्ड से है। उसी प्रकार मुनि की ड्यूटी है कि समय पर प्रतिक्रमण, सामायिक, वंदना आदि आवश्यक करना ही है, नहीं तो प्रायश्चित रूपी दण्ड दिया जाता है। मुनि को भी आर्थिक नहीं शारीरिक दण्ड दिया जाता है। जैसे-अनशन, अवमौदर्य, रस परित्याग, कायोत्सर्ग आदि । रोड - मिलिट्री की अलग से रोड रहती है, उसी प्रकार मुनि भी प्राय: देखते हैं कि महाराज मार्ग (कच्चा रास्ता) मिल जाए, जंगलों के रास्ते में MILE STONE नहीं होते हैं, उसी प्रकार मिलिट्री रोड में भी MILESTONE नहीं होते है | स्थान परिवर्तन - जिस प्रकार मुनि एक स्थान पर अधिक दिन तक नहीं रहते हैं, उसी प्रकार मिलिट्री वालों के लिए समय का विभाजन है, 3 वर्ष तक गर्म क्षेत्र में रहते हैं, 3 वर्ष तक शीत क्षेत्र में रहते हैं, 3 वर्ष तक शांति वाले क्षेत्र में रहते हैं एवं 3 वर्ष युद्ध के लिए जाते हैं। आदेश का पालन - COMMANDER का आदेश पाते ही उसे वह कार्य करना होता है, चाहे कुछ भी हो, इसी प्रकार मुनि भी COMMANDER (गुरु) के आदेश से चलते हैं, कहीं-कहीं तो महीनों बैठे रहेंगे और कभी-कभी तो एक दिन में ही 40-40 किलोमीटर गमन करते हैं। बगावत नहीं करते हैं - सैनिक कभी बगावत नहीं करते हैं, उसी प्रकार मुनि भी बगावत नहीं करते हैं, अर्थात् वह आगम और गुरु को अपने सामने रखते हैं। मरण से नहीं डरते - सैनिक मरण से नहीं डरते बल्कि मरण होने पर राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया जाता है, उसी प्रकार मुनि भी मरण से नहीं डरते वह भी हमेशा समाधि के लिए तैयार रहते हैं एवं समाधिमरण होने पर अर्थी नहीं बनाते बल्कि राजकीय सम्मान (विमान में बिठाकर) के साथ अंतिम संस्कार किया जाता है। सिर कटा सकते पर सिर झुका सकते नहीं - सैनिक शत्रु के सामने झुक नहीं सकते भले ही सिर चला जाए, उसी प्रकार मुनि भी कर्म रूपी शत्रु के सामने झुक नहीं सकते भले ही प्राण चले जाएं। क्रियाओं में कठोरता - सैनिक सामान्य कार्य भी सुविधापूर्वक नहीं करते हैं। एक बार सेना का वाहन फर्नीचर को लेने दुकान पर गया, फर्नीचर में पेच कसना बाकी था, दुकान पर मिस्तरी नहीं था, COMMANDER ने सैनिक से कहा पेच कसी, उसे औजार दिए गए, सैनिक ने लकड़ी में छिद्र किए बिना पेच कसना प्रारम्भ कर दिया, COMMANDER से पूछा कि सैनिक ऐसा क्यों कर रहा है, COMMANDER ने कहा कि युद्ध के समय तो इस्पात में पेच कसना पड़ता है, छिद्र किए बिना, ये तो लकड़ी है और मैंने आदेश में छिद्र करने को नहीं कहा है। इसी प्रकार मुनि भी अपनी क्रियाओं का कठोरता से पालन करते हैं, एक शिष्य को सामायिक करते समय बहुत प्रमाद आता था, गुरु ने कहा खड़े हो जाओ, वह मुनि 24 घंटे तक खड़े रहे क्योंकि गुरु ने बैठने के लिए नहीं कहा था। मुनि केशलोंच करते समय कंडे की राख का प्रयोग करते हैं, एक बार मुनि को केशलोंच करना था,राख उपलब्ध नहीं थी, अत: महाराज ने राख के बिना ही केशलोंच कर लिए ऐसी अनेक क्रियाओं को कठोरता के साथ करते हैं। यथालब्ध भोजन - जिस प्रकार मुनि यथालब्ध भोजन करते हैं। यथालब्ध से आशय जैसा श्रावक देता है वैसा ही लेते जाते हैं। वैसे ही सैनिकों को युद्ध के समय ऊपर विमान आदि से जो भोजन दिया जाता है, वही भोजन करते हैं। अलाभ - मुनियों को कई बार विधि न मिलने से, जंगलों में भटक जाने से अलाभ (आहार का न मिलना) हो जाते हैं। उसी प्रकार सैनिकों को युद्ध के समय अनेक बार भोजन न मिलने पर अलाभ हो जाते हैं। विवित्तशय्यासन तप - जिस प्रकार मुनि निद्रा को जीतने के लिए एकान्त स्थान में शयन करते हैं, आसन लगाते हैं, उसी प्रकार सैनिक भी कंकरीली भूमि, कंटक भूमि, ऊँची-नीची भूमि पर अल्प निद्रा लेते हैं। कायक्लेश तप - जिस प्रकार मुनि, वर्षा ऋतु में वृक्ष के नीचे, ग्रीष्म ऋतु में धूप में बैठकर, शीत ऋतु में नदी तट पर ध्यान लगाते हैं, उसी प्रकार सैनिक भी हमेशा शीत, उष्ण एवं वर्षा की बाधा को सहते रहते हैं। एकल विहारी का निषेध - जिस प्रकार मुनियों के लिए एकल विहारी का निषेध किया है। उसी प्रकार मिलिट्री वालों के लिए भी एकल विहारी का निषेध किया है। उन्हें स्वयं का सामान लेने भी बाजार जाना है, तब भी दो सैनिक जायेंगे। क्योंकि एक तो सुरक्षा, दूसरा वह किसी को गुप्त बात न बता दे। जीते जी मरण - जिस प्रकार मुनि समाधि लेते अर्थात् जीते जी अपने मरण को देखते हैं, उसी प्रकार सैनिक को भी रिटायर्ड से पूर्व अन्तिम संस्कार का भी पैसा दे दिया जाता है। इस प्रकार वह भी जीते जी अपने मरण को देखता है।
  37. 1 point
  38. 1 point
    वक्ता / गायक / प्रस्तुतकर्ता: NandKumar
  39. 1 point
    वक्ता / गायक / प्रस्तुतकर्ता: NandKumar
  40. 1 point
    वक्ता / गायक / प्रस्तुतकर्ता: NandKumar
  41. 1 point
  42. 1 point
  43. 1 point
  44. 1 point
  45. 1 point
  46. 1 point
  47. 1 point
  48. 1 point
  49. 1 point
  50. 1 point
×
×
  • Create New...