Jump to content
मेरे गुरुवर... आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज

नवीनतम गतिविधि

This stream auto-updates

  1. Today
  2. परम पूज्य आचार्यश्री विद्यासागरजी महाराज के परम आशीर्वाद और मुनिश्री क्षमासागरजी महाराज की प्रेरणा से आयोजित 🥇 जैन युवा प्रतिभा सम्मान - 2020🥇 मैत्री समूह यंग जैन अवार्ड 2020 के लिए प्रविष्टियाँ आमंत्रित करता है । यंग जैन अवार्ड 2020 के लिए न्यूनतम योग्यता अंक: # 2020 में आयोजित परीक्षा में 10वीं में 85+% या # 12वीं विज्ञान में में 80+%, या 12वीं कला / वाणिज्य में में 75+% या # 2020 में आयोजित किसी प्रतियोगी परीक्षा में चयन # सीनियर अवार्डी - 2020 में ग्रेजुएशन / पोस्ट ग्रेजुएशन (केवल पूर्व यंग जैना अवार्डीस के लिए) (शारीरिक रूप से विकलांग उम्मीद
  3. Yesterday
  4. Last week
  5. उपलब्ध जैन-दर्शन साहित्य में प्राकृत-भाषा-निष्ठ साहित्य का बाहुल्य है। कारण यही है कि यह भाषा सरल, मधुर एवं ज्ञेय है। इसीलिए कुन्दकुन्द की लेखनी ने प्राकृत-भाषा में अनेक ग्रंथों की रचना कर डाली। उन अनेक सारभूत ग्रंथों में अध्यात्म-शान्तरस से आप्लावित ग्रंथराज 'समयसार' है। इसमें सहज-शुद्ध तल की निरूपणा, अपनी चरम सीमा पर सोल्लास 'नृत्य करती हुई. पाठक को, जो साधक एवं अध्यात्म से रुचि रखता है, बुलाती हुई सी प्रतीत होती है। यथार्थ में, कुन्दकुन्द ने अपनी अनुभूतियों को 'समयसार' इस ग्रंथ के रूप में रूपांतरित ही किया है। अमूर्त का हृदय मूर्त के माध्यम से देखना तो कठिन है ही, किन्तु दूसरों को दिखाना कठ
  6. इतिहास में प्रथमबार ४८मण्डलीय भक्तामरानुष्ठान एवं कोरोना क्षय विश्वशांति महायज्ञ (हवन) का सौभाग्य आपके द्वार पर बुन्देलखण्ड की हृदयस्थली सिद्धक्षेत्र कुण्डलपुरजी के परम अतिशयकारी बड़े बाबा श्री आदिनाथ भगवान के समक्ष सर्व ऋद्धि सिद्धि प्रदायक महास्तोत्रराज श्री भक्तामर जी का २६८८महाबीजाक्षर सम्पन्न महानुष्ठान मंगलबेला- 4 से 12 अक्टूबर 2020 भक्तामर विधान लाईव प्रसारण - पारस चैनल पर दोपहर 01.30 से 03.30 बजे तक प्रतिदिन आचार्य श्री 108 विद्यासागरजी महामुनिराज एवं समस्त संघ के स्वास्थ्यलाभार्थ एवं * सम्पूर्ण विश्व में व्याप्त कोरोना महामारी के क्षय हेतु महा
  7. Earlier
  8. A/C NAME - SHRI DIGAMBER JAIN SIDDHA KSHETRA KUNDALPUR, DAMOH (M.P.) BANK - AXIS BANK DAMOH, A/C NO - 910010000535130 I FS CODE - UTIB0000770, BANK- SBI DAMOH, A/C NO- 10708180064 IFSC CODE-SBIN0001832 PAN NO.-AAHTSO546A (80G) NO- F.NO. CIT-1/JBP/TECH/80G/09/200-08 PLZ INFORM TO MOB. NO.7771835891 & 7771834880 राशि जमा करके जानकारी देवे।
  9. Jai Jinendra Maanyavarji, Pranaam ! Kindly Upload the following MISSING Gaatha's for BODH Pahud ASAP & oblige: Gaatha Nos: 1-13, 23-26 and 27-54 Warmest Regards
  10. Jai Jinendra Maanyavarji, Pranaam ! Kindly Upload the following MISSING Gaatha's for BHAAV Pahud ASAP & oblige: Gaatha Nos: 14-25, 34-36, 61-63 and 67-70. Warmest Regards
  11. Jai Jinendra Maanyavarji, Pranaam ! Kindly Upload the following MISSING Gaatha's for Ling Pahud ASAP & oblige: Gaatha Nos: 21 & 22 Warmest Regards
  12. Jai Jinendra Maanyavarji, Kindly Upload the following MISSING Gaatha's for Moksh Pahud ASAP & oblige: Gaatha Nos: 28-31, 42, 66 and 72-75 Warmest Regards
  13. पूज्य मुनि श्री ससंघ पथरिया जिला- दमोह (म.प्र.) में चातुर्मासरत है।
  14. १५ सितम्बर गुरु जी का गमन निर्वाणा की और हुआ 10 सितंबर आचार्य संघ पहुंचा इंदौर के जीआरडी ग्रुप के भवन में सागर / संत शिरोमणि आचार्य श्री विद्यासागर महाराज का मंगल चातुर्मास इंदौर स्थित रेवती रेंज दयोदय गौशाला प्रतिभास्थली स्कूल में चल रहा था पिछले तीन-चार दिनों से ऐसी चर्चा थी गुरुदेव अगल-बगल के किसी अन्य स्थान पर पहुंचेंगे 10 सितंबर को सुबह गुरुदेव वहां से बिहार कर 2 किलोमीटर दूर जी आर डी ग्रुप रेवती गांव पहुंचे यह गार्डन नवीन जी गाजियाबाद का है यहां पर गुरुदेव चातुर्मास निष्ठावन तक रहेंगे। उल्लेखनीय है कि चातुर्मास कलश स्थापना के समय आचार्य संघों और मुनि स
  15. Jai Jinendra ! Pranaam ! Toooo Good... Excellent !!! Plzz Keep the NOBLE WORK GOING... UTTAM KSHAMA !
  16. P. P. Acharyashreeji Ko Sasangh Savinay Koti Koti Namostu ! Namostu ! Namostu ! Wud be very nice if all P. P. Acharyashriji's Pravachans after 2019 and his entire Sahitya are also uploaded... Wud also be extremely grateful if P. P. Acharyashri ji's Pravachans & Sahitya (as well as other Maharajshriji's) for Das Lakshan Parva 2020, Shibir's, Shastra Swadhyaay (Compilation), etc and previous years... (both Audio's-mp3's & pdf's) uploaded and kept for listening/viewing and download... Plz keep the noble work going... Once again INFINITE AABHAAR's
  17. सहीमें देखा जाए, तो “उत्तम क्षमा" या "मिच्छामी दुक्कडम” के MSGs को भेजने मात्रसे “क्षमापना” नहीं होती. जब तक हम अपने अंतर (चित्त)में से हर एक जीव के प्रति, जिस-किसी भी कारण से, जब कभी भी, जो भी सूक्ष्मातिसूक्ष्म भी अन-बन, क्लेश, विरोध, बैर, द्वेष आदि अशुभ भावों (भाव-कर्मों) को समझ और निश्चयपूर्वक DELETE करके, उत्तम क्षमाभावको DOWNLOAD नहीं करते, तब तक हमारा अपने जीवनमें प्रभु के NETWORK को पकड़ पाना अत्यंत मुश्किल (दुष्कर) है; और जब तक ऐसा ही चलता रहेगा, तब तक सद्गुणों-सत्-प्राप्ति एवं सद्गति के COVERAGE क्षेत्र से हमें बाहर (वंछित) ही रहेना पडेगा. जिनेन्द्र प्रभु की “जिनवाणी”नुसार हृदय के सच्च
  1. Load more activity
×
×
  • Create New...