Jump to content
मेरे गुरुवर... आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज

About this blog

Entries in this blog

झूठा सच - False truth

झूठा सच  बचपन के   जाने कितने सच  बड़े होने पर  झूठे मालूम पड़ते हाँ!  क्या सचमुच  बड़े होते-होते हम  सच को  झूठ करते जाते हैं?   False truth So many truths Of our childhood Seem false when we Grow up. Do we really Turn all truths Into falsehood As we grow tall?

Vidyasagar.Guru

Vidyasagar.Guru

प्रतियोगिता - Competition

प्रतियोगिता  मैं उसी दिन  समझ गया था  जब मैंने  ईश्वर होना चाहा था,  कि अब   कोई जरूर  ईश्वर से  बड़ा होना चाहेगा!  और अब सब   ईश्वर से बड़े हो गए हैं,  कोई  ईश्वर नहीं है!   Competition The day I wished To be god, I knew that someone Now surely would want To be larger than god. Now everyone Is larger than god. No one is god.

Vidyasagar.Guru

Vidyasagar.Guru

मैंने ऐसा क्यों सोचा - Why Did I wish

मैंने ऐसा क्यों सोचा  आज   जब चिड़िया  देर तक  मुझे एकटक  देखती रही,  फिर सहमी  और सहसा उड़ गयी!  मैं दिन भर   उदास रहा,  कि मैंने  ऐसा क्यों सोचा  कि चिड़िया का  एक पिंजरा होता!   Why Did I wish Today, the bird Looked at me intently, Then suddenly Flew away in fright. I was sad when I realized That I had wished For a cage To hold the bird in.

Vidyasagar.Guru

Vidyasagar.Guru

फानूस पर चिड़िया - Bird On the Glass Chandelier

फानूस पर चिड़िया  कांच के नाजुक फानूस पर   बैठी चिड़िया  बहुत भोली  और अच्छी लगती है,  पर मन डरता है  कि कहीं फानूस   टूटकर गिर न जाए   कि कहीं चिड़िया  उड़ न जाए!   Bird On the Glass Chandelier The bird looks So innocent and elegant Sitting on the delicate Glass of the chandelier. I fear, however That the glass may break And the bird will Fly away.

Vidyasagar.Guru

Vidyasagar.Guru

चुप रह जाता हूँ - I Do Not Ask

चुप रह जाता हूँ  जब कभी  लगता है  कि तुमसे पूछूँ-  बच्चों की तरह,  कि सूरज को  रोशनी कौन देता है,  कि आकाश में  इतना नीलापन   कहाँ से आता है,  कि सागर में   इतना पानी   कौन भर जाता है,  तब यह सोचकर  कि कहीं तुम हंसकर  टाल न दो  कि मैं बड़ा हो गया हूँ  मैं चुप रहा जाता हूँ!   I Do Not Ask Sometimes I wish to ask you Like a mere child, ‘Please tell me, Who gives to the sun Its light? Who brings so much blueness To the sky? Who keeps The ocea

Vidyasagar.Guru

Vidyasagar.Guru

एक अनुभूति - A Feeling

एक अनुभूति  जितनी दूर   देखता हूँ  उतनी ही   रिक्तता पाता हूँ   जितना निकट   आता हूँ  उतना ही   भर जाता हूँ!   A Feeling There is only emptiness And more emptiness As I look farther And farther. When I come nearer, I am more and more Fulfilled.

Vidyasagar.Guru

Vidyasagar.Guru

दाता - Giver

दाता  उसने कुछ नहीं जोड़ा,  लोग बताते हैं  पहनने का एक जोड़ा भी  उसके पास  नहीं मिला,  ज़िन्दगी भर अपना सब  देता रहा,  दे-देकर  सबको जोड़ता रहा!   Giver  He did now save  anything.  People say,he did not leave  even a set of clothing.  He gave away what he had  all through his life .  By giving, he collected  every one around him.

Vidyasagar.Guru

Vidyasagar.Guru

पहला कदम - First Step 

पहला कदम  सारे द्धार  खोलकर  बाहर निकल  आया हूँ,  यह  मेरे भीतर  प्रवेश का  पहला कदम है!   First Step  I have unlocked  all the doors.  Out in the open,  this is my first step  to enter  my own inner self.

Vidyasagar.Guru

Vidyasagar.Guru

गंतव्य - Destination

गंतव्य  यात्रा पर निकला हूँ,  लोग बार-बार  पूछते हैं,कहाँ कितना चलोगे?  कहाँ तक जाना है?  मैं मुस्कुराकर  आगे बढ़ जाता हूँ,  किससे कहूँ  कि कहीं तो नहीं जाना,  मुझे इस बार  अपने तक आना है!   Destination  As I start on my journey  People ask,  How far shall you walk  This time? And where to?  I smile and move on.  How should I tell them  That this time  I walk  Towards myself only?

Vidyasagar.Guru

Vidyasagar.Guru

साधना - Practice

साधना  अभी मुझे और धीरे  कदम रखना है ,  अभी तो  चलने की  आवाज़ आती है !   Practice  I have to learn  To walk even more  Lightly,  Because, I can hear still  The sound of my own  Trudging feet.

Vidyasagar.Guru

Vidyasagar.Guru

खेल - Play

खेल  देखा,  एक वृक्ष के नीचे  टूटे गिरे  छिन्न सूखे  पत्तों पर  उछल-कूद करती  चिड़ियों का   अपने ही पैरों की  ध्वनियां सुनना  और मुग्ध हो  कुछ कहकर  फिर चुप रहकर  विस्मय से  सब ओर देखना!  लगा, जगत का खेल  यही है इतना,  अपनी ही प्रतिध्वनियों में  विस्मय विमुग्ध हो  खोये रहना!   Play  I saw  Under a tree  On dry leave, birds playing  And listening  To the music  Of their own footfall.  They seemed so happy  As they looked about;  So much

Vidyasagar.Guru

Vidyasagar.Guru

सफेद पर सफेद - White on White

सफेद पर सफेद  मैंने कई बार  उससे कहा  कि सफेद पर सफेद से  मत लिखा करे,  इस तरह लिखना  कहाँ दिखता है?  उसका कहना है कि  सवाल लिखने का है  दिखने का ख्याल  एकदम झूठा है,  और सफेद पर   काला लिखना   ठीक भी नहीं लगता,  सफेद पर तो   सफेद ही लिखा जाता है,  तब कितना भी लिखो-  कागज़  सफेद रहता आता है!   White on White  I told him many a times  To not write on white paper  With white ink.  ‘Who would read it  If you write like this?’  He said,’what matte

Vidyasagar.Guru

Vidyasagar.Guru

पीड़ा - Anguish

पीड़ा  घर का  बँटवारा हो गया  जमीन-जायदाद  सब बँट गयी,  अमराई और कुआँ भी  आधे-आधे हो गये,  अब मेरे हिस्से में मेरा  और उसके हिस्से में  उसका आकाश है!  सवाल यह नहीं है  कि किसे कम मिला  और किसके हिस्से में   ज्यादा आया है,  मेरी पीड़ा  अपने ही  बँट जाने की है!   Anguish The house got divided. The land and other property too Got divided. Even the mango grove And the well got divided. Now I have my sky On my side, And he has his sky On his side.

Vidyasagar.Guru

Vidyasagar.Guru

चिड़िया - Bird

चिड़िया  मैं देखता हूँ  चिड़िया  रोज आती है!  और मैं जानता हूँ  वही चिड़िया  रोज नहीं आती !  पर वह दूसरी है  मैं ऐसा कैसे कहूँ!  अच्छा हुआ  मैंने कोई नाम नहीं दिया  उसे चिड़िया ही   रहने दिया!   Bird I watch the bird as it comes Each day; I know its not the same bird Which comes each day. Yet how should I say That this bird Is a different bird! I am glad I did not name the bird. Now the bird is Just a bird.

Vidyasagar.Guru

Vidyasagar.Guru

 सम्बन्ध - Relationship

सम्बन्ध   नदी बहती है सदा   किनारे बन जाते हैं!  नदी बदलती है रास्ता  किनारे मुड़ जाते हैं!  नदी उफनती है कभी  किनारे डूब जाते हैं!  नदी समा जाती है सागर में  किनारे छूट जाते हैं!  संबंधों की सार्थकता   मानो जीवन के प्रवाह की   पूर्णता में है!   Relationship  The river banks are forged  When a river flows.  When river changes its course,  The river banks too are changed.  When the river overflows,  The banks drown in the flow.  When the river reaches the

Vidyasagar.Guru

Vidyasagar.Guru

शीशा देने वाला - Mirror Holder

शीशा देने वाला  जब भी मैं रोया करता   माँ कहती-  यह लो शीशा,  देखो इसमें   कैसे तो लगती है   रोनी सूरत अपनी   अनदेखे ही शीशा   मैं सोच-सोचकर  अपनी रोनी सूरत   हंसने लगता!  एक बार रोई थी माँ भी   नानी के मरने पर   फिर मरते दम तक  माँ को मैंने खुलकर हँसते   कभी नहीं देखा!  माँ के जीवन में शायद   शीशा देने वाला  अब कोई नहीं था!  सबके जीवन में ऐसे ही  खो जाता होगा  कोई शीशा देने वाला !   Mirror Holder Whenever I cried My mother held up A mirror a

Vidyasagar.Guru

Vidyasagar.Guru

प्रतिदान - Giving

प्रतिदान  चिड़िया ने  अपनी चोंच में  जितना समाया  उतना पिया  उतना ही लिया,  सागर में जल  खेतों में दाना  बहुत था!  चिड़िया ने   घोंसला बनाया इतना  जिसमें समां जाए   जीवन अपना  संसार बहुत बड़ा था !  चिड़िया ने रोज   एक गीत गया  ऐसा जो   धरती और आकाश  सब में समाया   चिड़िया ने सदा सिखाया   एक लेना  देना सवाया !   Giving  The bird took  Only as much as its beak  Could hold;  It swallowed only  As much as it could drink.  Thus the grain in the f

Vidyasagar.Guru

Vidyasagar.Guru

चित्रांकन - Painting

चित्रांकन  उसने कहा-  जीवन में   एक चित्र ऐसा बनाना  कि जिसमें सब ओर  खुला आकाश हो  कि अपनी सीमाएं  स्वयं निर्धारित करता   कोई महासागर हो,  कि अपने ही बनाये   किनारों के बीच  बहती नदी हो,  कि अपने ही हाथों  अपना सर्वस्व लुटाता  एक वृक्ष हो   और समूचे आकाश को   अपने गीतों से   भर देने वाली   कोई चिड़िया हो,  जरूर बनाना   जीवन का ऐसा चित्र,  जिसमें जीवन और जगत के बीच  सीधा सम्बन्ध हो !   Painting  He said,’Please  Paint a canvas  With borers o

Vidyasagar.Guru

Vidyasagar.Guru

आदत - Habit

आदत  चिड़िया का   आकाश में   ऊँचे उड़ना  प्रकृति का   सहज-सरल  और उन्मुक्त होना,  अब हमें प्रेरणा नहीं देता!  वृक्षों का   हवाओं में लहराना  और फल-फूलों से भरकर  कृतज्ञता से झुक जाना  अब हमें आंदोलित नहीं करता !  किसी का   सच्चा होना  भला और अच्छा होना  अब हमें चुनौती नहीं देता !  असल में   हमारी आदत नहीं रही  आदतें बदलने की !   Habit  The bird  Flying high in the sky,  And nature  Vast in its spontaneity,  No longer  Inspire us.  The tree

Vidyasagar.Guru

Vidyasagar.Guru

सुबह की तलाश - In Search of meaning

सुबह की तलाश  कई बार सोचा  कि सुबह होते ही  पक्षियों का  मधुर गान सुनूंगा !  कि सुबह होते ही  उगते सूरज  खिलते फूल   और बहती नदी का  सौंदर्य देखूंगा !  किसी वृक्ष के नीचे  शीतल शिला पर  अपने में मगन होकर बैठूंगा !  पर अपने ही   मन के मलिन अँधेरे में   अपने ही जीवन के   आर्त स्वरों में  और अपने ही बनाये बंधनों में  घिरा सिमटा में  सुबह की तलाश में हूँ !   In Search of meaning  Often I thought that  I would listen to the birds  When they sing at da

Vidyasagar.Guru

Vidyasagar.Guru

अपना घर - Home

अपना घर  चिड़िया तुम आती हो  मेरे घर  मुझे अपना घर  तब बहुत अच्छा लगता है!  तुम बना लेती हो   अपना घर  मेरे घर में  मुझे यह भी अच्छा लगता है!  मैं जानता हूँ   तुम मेरे घर   नहीं आती   अपने घर आती हो  पर अपने घर   आने के लिए  तुम्हारा मेरे घर आना  मुझे अच्छा लगता है  सचमुच   तुम्हारे घर ने  मेरे घर को   अपना घर बना दिया !   Home  Bird, when you come to my house,  Your coming  Makes me like my house.  Bird, I like you making  Your home  In m

Vidyasagar.Guru

Vidyasagar.Guru

आत्मीय स्पर्श - Soulfulness

आत्मीय स्पर्श  जीवन आकाश-सा हो  तो विस्तार असीम है  वृक्ष सा हो  तो छाया   सघन है  जीवन   सूरज-सा हो  तो रोशनी  हरदम है  जीवन में  आत्मीय स्पर्श हो  तो हर क्षण स्वर्णिम है!   Soulfulness  Life is endless  If it is like the sky.  Life is dense shade  If it is like a tree.  If it is like the sun,  Then life is light.  Each moment is ecstacy  If life has soulfulness  In it.

Vidyasagar.Guru

Vidyasagar.Guru

निर्लिप्त - Detached

निर्लिप्त  चिड़िया जानती है  तिनके जोड़ना   नीड़ बनाना  और बच्चे की   परवरिश करना  बड़े होकर  बच्चे बना लेते हैं  अपना अलग नीड़  वह सहज  स्वीकार लेती है  अकेले रहना  उसे नहीं होती  शिकायत  अपने -पराये किसी से भी  वह भूल जाती है  तमाम विपदाएँ  उसे याद रहता है सदा   गीत गाना/चहचहाना  असीम आकाश में उड़ना   और अपना चिड़िया होना !   Detached  The bird knows  How to gather twigs  For its nest.It knows  How to raise its  Younglings.  When the youngling

Vidyasagar.Guru

Vidyasagar.Guru

रीतापन - Emptiness

रीतापन  चिड़िया आयी  उसके करीब  एक चिड़िया   और आयी  चहचहायी   सारा आकाश भर गया  चिड़िया की चहचहाहट से  जीवन का रीतापन   भर नहीं पाया आदमी  परस्पर मधुर संवाद से !   Emptiness  A bird alighted;  Near it another bird  Came and sang.  The entire sky  Resounded with the birds’ singing.  It’s man only who could not fill  His life’s emptiness  With mutual mild talk.

Vidyasagar.Guru

Vidyasagar.Guru

रास्ते - Paths

रास्ते   चिड़िया!  पूरा आकाश  तुम्हारा है  हर बार  तुम अपने लिए  अपना रास्ता बनाती हो  सुदूर क्षितिज तक  आती-जाती  और चहचहाती हो  दुनिया ने   जितने रास्ते बनाये   उनमें लोग   कभी भरमाये  पर तुम्हारा   रास्ता साफ़ है  जिससे गुजरने पर  सारा आकाश  जैसा है  वैसा ही   रहता है!   Paths  Bird, the entire sky  Is yours. Each time  You fly you make  Your own path. Then you travel  From one end of the horizon  To the other singing all the while.  B

Vidyasagar.Guru

Vidyasagar.Guru

×
×
  • Create New...