Jump to content
मेरे गुरुवर... आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज

चिड़िया - Bird


Vidyasagar.Guru

260 views

 Share

चिड़िया
 मैं देखता हूँ
 चिड़िया
 रोज आती है!
 और मैं जानता हूँ
 वही चिड़िया
 रोज नहीं आती !
 पर वह दूसरी है
 मैं ऐसा कैसे कहूँ!
 अच्छा हुआ
 मैंने कोई नाम नहीं दिया
 उसे चिड़िया ही
  रहने दिया!

 

Bird
I watch the bird as it comes
Each day;
I know its not the same bird
Which comes each day.
Yet how should I say
That this bird
Is a different bird!
I am glad
I did not name the bird.
Now the bird is
Just a bird.

 Share

0 Comments


Recommended Comments

There are no comments to display.

Create an account or sign in to comment

You need to be a member in order to leave a comment

Create an account

Sign up for a new account in our community. It's easy!

Register a new account

Sign in

Already have an account? Sign in here.

Sign In Now
  • बने सदस्य वेबसाइट के

    इस वेबसाइट के निशुल्क सदस्य आप गूगल, फेसबुक से लॉग इन कर बन सकते हैं 

    आचार्य श्री विद्यासागर मोबाइल एप्प डाउनलोड करें |

    डाउनलोड करने ले लिए यह लिंक खोले https://vidyasagar.guru/app/ 

×
×
  • Create New...