Jump to content
मेरे गुरुवर... आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज

चित्रांकन - Painting


Vidyasagar.Guru

360 views

 Share

चित्रांकन
 उसने कहा-
 जीवन में 
 एक चित्र ऐसा बनाना
 कि जिसमें सब ओर
 खुला आकाश हो
 कि अपनी सीमाएं
 स्वयं निर्धारित करता 
 कोई महासागर हो,
 कि अपने ही बनाये 
 किनारों के बीच
 बहती नदी हो,
 कि अपने ही हाथों
 अपना सर्वस्व लुटाता
 एक वृक्ष हो 
 और समूचे आकाश को 
 अपने गीतों से 
 भर देने वाली 
 कोई चिड़िया हो,
 जरूर बनाना 
 जीवन का ऐसा चित्र,
 जिसमें जीवन और जगत के बीच
 सीधा सम्बन्ध हो !

 

Painting
 He said,’Please
 Paint a canvas
 With borers of the sky;
 A sea endless
 In its own making;
 A tree that gives away
 With both hands
 Its tree-life;also
 A bird filling the sky
 With its own swet singing.
 Please do make
 A painting of life
 Linking the universe
 Of life’s heartbeat.

 Share

0 Comments


Recommended Comments

There are no comments to display.

Create an account or sign in to comment

You need to be a member in order to leave a comment

Create an account

Sign up for a new account in our community. It's easy!

Register a new account

Sign in

Already have an account? Sign in here.

Sign In Now
  • बने सदस्य वेबसाइट के

    इस वेबसाइट के निशुल्क सदस्य आप गूगल, फेसबुक से लॉग इन कर बन सकते हैं 

    आचार्य श्री विद्यासागर मोबाइल एप्प डाउनलोड करें |

    डाउनलोड करने ले लिए यह लिंक खोले https://vidyasagar.guru/app/ 

×
×
  • Create New...