Jump to content

ARUN k jain

Members
  • Content Count

    26
  • Joined

  • Last visited

My Favorite Songs

Community Reputation

2 Neutral

About ARUN k jain

  • Rank
    Member

Personal Information

  • location
    Faridabad, Hariyana

Recent Profile Visitors

The recent visitors block is disabled and is not being shown to other users.

  1. भाई राजेश जी अद्भुत शब्द संयोजन, पूज्य श्री की अद्भुत अनुपम साधना को आपके शब्द मनोहारी ढंग से व्यक्त करते हैं.
  2. आचार्य श्री अभी ललितपुर में प्रतिभा स्थली का निर्माण प्रारंभ करके शीत ऋतु की वाचना का लाभ भी ललितपुर को प्रदान करेंगे
  3. पूज्य श्री ने सही निर्णय लिया, परम पूज्य मुनि श्री समय सागर जी महाराज लंबी अवधि से इस दायित्व का निर्वाह कर रहे हैं
  4. पूज्य श्री ललितपुर का सौभाग्य सूर्य उदित हो गया है. कण कण आपकी पद रज से अपना ललाट शोभायमान करने को आकुल है. आत्रो स्वामिन आत्रो.
  5. आज जब पूज्य श्री 73वें वर्ष में प्रवेश कर रहे हैं, सम्पूर्ण सृष्टि आनंद से आप्लावित है। पूरे 50 से भी अधिक वर्षो से यह देश लाभान्वित हो रहा है उस महान संत से जो चर्या की दृष्टि से हिमालय से भी ऊंचा है, करुणा की दृष्टि से माँ से अधिक दयालु है, ज्ञान जिनके स्वर में नहीं चर्या व आचरण से निरझिर्रित होता है, विपुल संपदा मात्र नयनों की मनोहर मुस्कान से जो जन जन को देते हैं, ऐसे गुरुदेव जयवंत हो।
  6. इस स्तुत्य कार्य को गुरु सामीप्य प्रदान कर जहाँ इन स्वर्णिम अध्याय वाले वंशजो को पूज्य श्री का मंगल आशीष मिला, वही हम जेनो का परिचय महान क्रांतिकारियों के वंशजो सेे हुुुआ। कार्यक्रम के सर्जक बधाई के पात्र हैं।
  7. निश्चित रूप से यह पहल इन प्रतिभाओं को सम्पूर्ण देश से परिचय कराएंगी व पूज्य श्री का आशीष इन्हें प्रेरणा देगा। जय जय गुरुदेव
  8. भारत का हृदय है, मध्य प्रदेश,खजुराहो ही है दिल इसका। अध्यात्म के शिखर देव, हर दिल में इनका बिंब बना। दिल से करुणा की धार सदा,निर्बल,निर्धन को बहती है। लाखों दिल को तृप्ति देती, वाणी जो पवन खिरती है। है शिखर देव,हे हॄदय देव, भारत के ह्रदय विराजे हैं। अर्ध शदी हुई आज पूर्ण, सबके मन आप विराजे हैं। पल पल क्षण क्षण दो आलम्बन, तेरे पथ पर बढ़ते जाएं। न कभी अलग हो आशीष से, संग तेरे भवदधि तर जाएं ,
    पूज्य आचार्य श्री का खजुराहो में आगमन जैन संस्कृति के उन्नयन में मील का पत्थर है।यज़ विश्व मे खजुराहो अपनी उत्कृष्ट मूर्ति कला हेतु जाना जाता है।इनमें मंदिर की बाहरी दीवारों पर उत्कीर्ण विलास रत युगलों के बिंब बहुत femous हैं। अब से पूज्य श्री की सतत उपस्थिति तक यह नगर तप,त्याग, सदाचार, व्रत, नियम,साधना, प्रेम,अनुशासन, सेवा,समर्पण के लिए जाना जाएगा।हवाओं में सदाचार व सेवा की सुगंध प्रवाहित रहेगी, सतत, निरंतर। कोटिशः नमोस्तु पूज्य श्री
  9. कैसे अद्भुत गुरु हैं,हैं अनुरागी शिष्य। त्याग तपस्या श्रेष्ठ है,सृष्टि के सब मित्र। इनके चरणों में रहे, मेरा नित स्थान, पथ पर इनके चल सकूँ, कर अपना कल्याण। श्रीमती उषा, डॉ अकांक्षा, श्रमिती रिया जैन भोपाल, टेरान्तो, फरीदाबाद
  10. जिनकी छाया मेरा जीवन, उन गुरुवर को शत शत वंदन। जिनको थामे चला में पग पग, उनपथदर्शक को शत वदन। नमोस्तु पूज्य श्री। आज बंदा जी में पूज्य अभय सागर जी की भवंजली।
  11. गुरु की महिमा, गुरु ही जाने और न जाने कोई। 30जून को कहाँ विराजे, कहाँ महोत्सव होइ। भव्य पपौरा, टीकमगढ़ या ललित नगर सुख होगा। स्वर्ण जयंती भव्य आयोजन किस भूमि पर होगा। धन्य भाग बुन्देली भू का स्वर्णिम कण कण होगा। स्वर्ण जयंतीभव्य आयोजन बुन्देली भू पर होगा।,, नमोस्तु पूज्य आचार्य श्री ससंघ
×
×
  • Create New...