Jump to content

आचार्य श्री की खजुराहो में आगवानी

 Share

आचार्य श्री की खजुराहो में आगवानी
  • 6
  • 0
  • 0

आचार्य श्री की खजुराहो में आगवानी

User Feedback

Create an account or sign in to leave a review

You need to be a member in order to leave a review

Create an account

Sign up for a new account in our community. It's easy!

Register a new account

Sign in

Already have an account? Sign in here.

Sign In Now

ARUN k jain

   1 of 1 member found this review helpful 1 / 1 member

पूज्य आचार्य श्री का खजुराहो में आगमन जैन संस्कृति के उन्नयन में मील का पत्थर है।यज़ विश्व मे खजुराहो अपनी उत्कृष्ट मूर्ति कला हेतु जाना जाता है।इनमें मंदिर की बाहरी दीवारों पर उत्कीर्ण विलास रत युगलों के बिंब बहुत femous हैं।

अब से पूज्य श्री की सतत उपस्थिति तक यह नगर तप,त्याग, सदाचार, व्रत, नियम,साधना, प्रेम,अनुशासन, सेवा,समर्पण के लिए जाना जाएगा।हवाओं में सदाचार व सेवा की सुगंध प्रवाहित रहेगी, सतत, निरंतर।

कोटिशः नमोस्तु पूज्य श्री

Link to review
  • Member Statistics

    11,827
    Total Members
    926
    Most Online
    Sushil Yadav
    Newest Member
    Sushil Yadav
    Joined
  • Gallery Statistics

    27.7k
    Images
    160
    Comments
    1k
    Albums
×
×
  • Create New...