Jump to content

Vidyasagar.Guru

Members
  • Content Count

    6,156
  • Joined

  • Last visited

  • Days Won

    119

 Content Type 

Profiles

Forums

Gallery

Downloads

आलेख - Articles

आचार्य श्री विद्यासागर दिगंबर जैन पाठशाला

विचार सूत्र

प्रवचन -आचार्य विद्यासागर जी

भावांजलि - आचार्य विद्यासागर जी

गुरु प्रसंग

मूकमाटी -The Silent Earth

हिन्दी काव्य

आचार्यश्री विद्यासागर पत्राचार पाठ्यक्रम

विशेष पुस्तकें

संयम कीर्ति स्तम्भ

संयम स्वर्ण महोत्सव प्रतियोगिता

ग्रन्थ पद्यानुवाद

विद्या वाणी संकलन - आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के प्रवचन

Blogs

Calendar

Videos

ऑडियो

Quizzes

Everything posted by Vidyasagar.Guru

  1. दशम प्रतिमाधारी ब्र. आनन्दकुमार जी की हुई मुनिदीक्षा के साथ समाधि सल्लेखना #नेमावर संत शिरोमणि दिगंबराचार्य श्री विद्यासागर जी महामुनिराज ससंघ आदिकुमार आदि मुनिराजो की निर्वाण भूमि सिद्धोदय सिद्धक्षेत्र रेवातट नेमावर में चातुर्मासरत है नेमावर में आचार्यश्री के आशीर्वाद से ज्ञानसागर व्रती आश्रम में विगत कई वर्षो से आत्मार्थी मुमुक्षु भाई घर-परिवार से दूर आत्मकल्याण हेतु निवास करते है उन्हीं में से बुलंदशहर,उप्र निवासी श्रमणोपासक 10 प्रतिमाधारी ब्र. आनन्दकुमार जी भी साधनारत थे। आचार्य प्रवर के दिशा निर्देशन में ब्र. आनन्दकुमार जी की सल्लेखना गत 1 माह से चल रही थी कल मध्याह्न में आचार्य महाराज ने सल्लेखनारत श्रमणोपासक आनन्दकुमार जी को चारो प्रकार के आहारो का त्याग दिलवाया व रात्रि में 1-1:30 बजे के बीच व्रती आश्रम में समाधिमरण है गया आचार्य श्री 108 विद्यासागर जी महाराज के आशीर्वाद एवं कृपा अनुरूप ब्रा. भैया श्री .....…............................ बुलंदशहर के निवासी जो कि कई वर्षों से गुरु जी के पास ही रहा कर अपना जीवन कल्याण कर रहे थे एवम लगभग 1 महीने से गुरु जी की क्षत्र छाया में ही गुरु आशीर्वाद से एक उपवास एक जल एक उपवास एक जल एवं तेला किया था, साथ ही उनकी संल्लेखना चल रही थी, कल दोपहर में ब्रा भैया जी की आचार्य श्री से भेंट हुई उसमे आचार्य श्री ने ब्रा. भैया जी से पूछा क्या आप दीक्षा लेने को तैयार हो दीक्षा दी दे आपको तो ब्रा. भहैया जी ने हा कहा और गुरु जी ने उन्हें ऐलक दीक्षा दी गई एवं 4 से 5 बजे के लगभग उन्हें मुनि दीक्षा दी गई । मुनि दीक्षा होने के उपरांत गुरु जी के पास ही उन्होंने होने चारो प्रकार के आहार का त्याग कर दिया और लगभग 7:30 बजे वो मुनिराज को आचार्य भगवन के कक्ष से नेमावर स्थित ब्रह्मचारी भैया जी के आश्रम में ले आए और लगभग 1 से 1:30 बझे के आसपास नव मुनिराज की समाधि हो गई । जय जिनेंद्र ॐ शांति
  2. *करोड़ों की लागत से नेमावर में निर्मित पंच बालयति मंदिर का पंचकल्याणक महोत्सव फरवरी में* भारत की शिक्षा नीति में बदलाव की आवश्यकता : आचार्य विद्यासागर जी महाराज ~~~~~~~~~~~~~~~ इंदौर:-प्रसिद्ध जैन आचार्य विद्यासागर जी महाराज के आशीर्वाद से सिद्धोदय सिद्ध क्षेत्र नेमावर में निर्माणाधीन पंच बालयति सहस्त्रकूट जिनालय, त्रिकाल चौबीसी जिनालय और संत सदन का निर्माण पूर्ण होकर भव्य पंच कल्याणक महोत्सव फरवरी 2020 में आयोजित किया जाएगा_। _यह जानकारी सिद्धोदय सिद्ध क्षेत्र, नेमावर तीर्थ क्षेत्र निर्माण समिति के प्रमुख संजय जैन ‘मैक्स’, मंत्री कमल अग्रवाल, संरक्षक अशोक डोसी और प्रचार प्रमुख प्रदीप गोयल ने स्टेट प्रेस क्लब म.प्र. के प्रतिनिधिमंडल को दी। उन्होंने बताया कि, आचार्य श्री की प्रेरणा से नेमावर में इस तीर्थ का निर्माण वर्ष 1997 से चल रहा है जो अब अंतिम दौर में है। करोड़ों रूपयों की लागत से निर्मित हो रहे इस तीर्थ के निर्माण में लोहा और सीमेन्ट की बजाये लाल-पीले पाषण का उपयोग किया जा रहा है। विश्व के श्रेष्ठ आर्किटेक्स वीरेन्द्र त्रिवेदी (अक्षरधाम मंदिर के आर्किटेक्ट) इस कार्य में अपनी सेवाएं दे रहे है।_ _उन्होंने बताया कि मुख्य मंदिर का शिखर 131 फीट ऊंचा रहेगा जबकि गुरू मंडल में 11 फीट ऊंचा शिखर बनाया जा रहा है। सहस्त्रकूट जिनालय में 1008 मूर्तिया विराजित होगी। संपूर्ण परिसर के इर्द-गिर्द 2400 फीट लंबाई का परिक्रमा पथ भी बनाया जा रहा है।_ *_मीडिया से बातचीत_*........ _आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज ने कहा कि मैकाले की शिक्षा पद्धति में सुधार की जरूरत है। हमें अपनी संस्कृति को केन्द्र में रखते हुए नई शिक्षा नीति तैयार करना होगी, जिसमें भारतीय भाषाओं का भी समावेश हो। _स्टेट प्रेस क्लब, म.प्र. के प्रतिनिधि मंडल के साथ आयोजित संवाद कार्यक्रम में आचार्य श्री ने कहा कि अनुसरण के लिये हमें इस बात का भी अध्ययन करना होगा कि अंग्रेजी और उर्दू भाषा के बगैर किस तरह की शिक्षा पद्धति दुनिया के कई देशों में सफल तरीके से चल रही हैं।_ _आचार्य श्री ने देश की राजनीति के गिरते स्तर पर कहा कि जब देश में कोई राजा ही नहीं बचा तो नीति कहां से बचेगी। उन्होंने तमाम राजनैतिक दलों से अपेक्षा की कि वे राष्ट्रहित में अपनी नीतियां और कार्यक्रम धर्मनिष्ठ बनाएं। _उन्होंने जानकारी दी कि स्वरोजगार के लिये अनेक स्थानों पर हथकरघा योजनाएं चलाई जा रही है। देश की लगभग 15 जेलों में कैदियों के लिये भी यह योजना चल रही है, जिसके अंतर्गत प्योर काटन धागा और कपड़े बनाए जा रहे है। इस कार्य से होने वाली आमदनी से कैदियों एवं उनके परिवार का जीवन बदल रहा है। इस कढ़ी में शीघ्र ही दिल्ली की तिहाड़ जेल में हथकरघा यूनिट आरंभ की जा रही है, जिसका शुभारंभ केन्द्रीय गृह मंत्री एवं गृह मंत्री, दिल्ली शासन के करकमलों से होगा। _आचार्य श्री ने देश से विलुप्त हो रही आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति को संरक्षित करने की जरूरत पर बल देते हुए बताया कि जबलपुर में पूर्ण आयुर्वेदिक अस्पताल स्थापित किया जा रहा है, जिसमें भारत के श्रेष्ठ आयुर्वेदाचार्य और वैद्य नई पीढ़ी को अपनी सेवाएं देंगे। अस्पताल के लिये पाषाण का भवन तैयार हो रहा है।आचार्य श्री ने बताया कि, इंदौर, जबलपुर, रामटेक, पपोरा जी और डोंगरगढ़ में प्रतिभास्थली का संचालन किया जा रहा है, जहां 350 प्रतिभाशाली ब्रह्मचारिणी दीदियों द्वारा कन्याओं को गुरूकुल पद्धति पर आधारित संस्कार युक्त शिक्षा दी जा रही है।_ *स्टेट प्रेस क्लब के अभियान को दिया आशीर्वाद*........ ------ _इस अवसर पर आचार्य विद्यासागर जी महाराज ने स्टेट प्रेस क्लब म.प्र. के वृक्षारोपण, पौधा वितरण और जल संरक्षण कार्यक्रम के लिए शुभकामनाएं दी।_ _आचार्य श्री की पावन उपस्थिति में वरिष्ठ पत्रकार रवीन्द्र जैन भोपाल, हरदा नगर पालिका अध्यक्ष सुरेन्द्र जैन, नेमावर तीर्थ के कार्याध्यक्ष संजय जैन ‘मेक्स’, महामंत्री कमल अग्रवाल, संरक्षक अशोक डोसी, प्रचार प्रमुख प्रदीप गोयल, ब्रह्मचारी सुनील भैय्या ने जल संरक्षण पर आधारित पोस्टर सीरिज का लोकार्पण भी किया।_ _प्रारंभ में स्टेट प्रेस क्लब की ओर से प्रवीण खारीवाल, अभिषेक बड़जात्या, मनोज सिंह राजपूत, सुशील शर्मा, आकाश चौकसे, अजय भट्ट, राकेश द्विवेदी, आलोक बाजपेयी, महेन्द्र जैन, नंदकिशोर अग्रवाल, मीना राणा शाह ने आचार्य श्री को श्रीफल भेंट कर आशीर्वाद प्राप्त किया। आयोजकों ने मीडियाकर्मियों को आचार्य श्री के विभिन्न प्रकल्पों पर केन्द्रित साहित्य भी भेंट किया।_ _इस मौके पर स्थानीय मीडियाकर्मियों के साथ वृक्षारोपण भी किया गया। कार्यक्रम में बड़ी संख्या में स्टेट प्रेस क्लब मेंबर्स और मीडियाकर्मी मौजूद थे।_ *_🚂L🚋A🚋D🚋D🚋U🚋_*
  3. वैराग्य प्रसंग - खजुराहो में अभी अभी संत शिरोमणि आचार्य गुरुवर श्री विद्यासागर जी महाराज की परम प्रभावक शिष्या वंदनीय आर्यिका सुधारमति जी की समाधी वंदनीय आर्यिका अनंतमति जी ससंघ के सानिध्य में हुई....सभी अनुमोदना कर समाधिष्ट आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना करे... पूज्य आचार्यश्री विद्यासागर जी महाराज की शिष्या- वन्दनीय अनन्त मति माताजी की संगस्थ आर्यिका श्री सुधार मति माताजी का आकस्मिक समाधिमरण खजुराहो मप्र में अभी अभी 18 अगस्त को (लगभग 6 बजे शाम) हो गया है।
×
×
  • Create New...