Jump to content
मेरे गुरुवर... आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज

आचार्य श्री द्वारा रचित हाइकू (हायकू)


Albums

  1. हाइकू भेद - प्रभेद Updated

    मुनिश्री निरीहसागर जी  द्वारा आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज  द्वारा  रचित हाइकू पर भेद - प्रभेद का शोध कार्य किया जा रहा हैं - उनमे से कुछ हाइकू भेद प्रभेद चित्रों द्वारा प्रस्तुत किये जा रहे हैं 
     
    Vidyasagar.Guru
    Album created by by
    Vidyasagar.Guru Updated
    • 4
    • 0
    • 0
    • 4 images
    • 0 comments
    • 0 image comments
  2. हायकू (भावार्थ एवं चित्र) Updated


     
    *हायकू (भावार्थ एवं चित्र)*
    आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज द्वारा रचित हायकू पर श्री मनोज जैन (पंडित) (खुरई) ने मुनि श्री निरीह सागर जी महाराज के निर्देशन मे बनाये चित्र |
    प्रस्तुत हें सभी चित्र, मुनि श्री द्वारा किए गए भावार्थ के साथ
    https://vidyasagar.guru/gallery/album/828-photo-album/
    *भावार्थ एवं निर्देशन* : मुनि श्री निरीह सागर जी महाराज
    *चित्रकार* : श्री मनोज जैन (पंडित) (खुरई)
    चित्रों पर आपके विचार, ऊपर दिये गए लिंक के कमेंट मे जरूर लिखें |
    Vidyasagar.Guru
    Album created by by
    Vidyasagar.Guru Updated
    • 310
    • 0
    • 2
  3. गागर में सागर - आचार्य विद्यासागर जी द्वारा रचित हायकू (हाइकू) छन्द Updated

    https://vidyasagar.guru/haiku  
     
    गागर में सागर - आचार्य विद्यासागर जी द्वारा रचित  हायकू (हाइकू) छन्द
    hayku  haiku
     
    Vidyasagar.Guru
    Album created by by
    Vidyasagar.Guru Updated
    • 513
    • 0
    • 3
  4. बुद्धिमान् Updated

    बुद्धिमान् विषय पर संत शिरोमणि आचार्य विद्यासागर जी  के विचार
    https://vidyasagar.guru/quotes/parmarth-deshna/buddhimaan/
     
    संयम स्वर्ण महोत्सव
    Album created by by
    संयम स्वर्ण महोत्सव Updated
    • 7
    • 0
    • 0
    • 7 images
    • 0 comments
    • 0 image comments
  5. गागर में सागर - आचार्य विद्यासागर जी द्वारा हाइकु छन्द Updated

    दिगम्बर जैन आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज ने (Japanese Haiku, 俳句 ) जापानी हायकू (कविता) की रचना की हैं | हाइकू जापानी छंद की कविता है इसमें पहली पंक्ति में 5 अक्षर, दूसरी पंक्ति में 7 अक्षर, तीसरी पंक्ति में 5 अक्षर है। यह संक्षेप में सार गर्भित बहु अर्थ को प्रकट करने वाली है। महाकवी आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज ने लगभग 700 हायकू लिखे हैं, जो अप्रकाशित हैं।  कुछ हायकू इस प्रकार हैं :
    Saurabh Jain
    Album created by by
    Saurabh Jain Updated
    • 46
    • 1
    • 1
  • Member Statistics

    10,296
    Total Members
    926
    Most Online
    Nancy Baid
    Newest Member
    Nancy Baid
    Joined
  • Gallery Statistics

    23,468
    Images
    112
    Comments
    875
    Albums
×
×
  • Create New...