Jump to content
आचार्य श्री विद्यासागर मोबाइल एप्प डाउनलोड करें | Read more... ×

Category

आज्ञानुवर्ती संघ
  1. What's new in this club
  2. बांदरी 13-1-2019 मंत्र की महिमा अपरम्पार है- मुनिश्री बांदरी जिला सागर( मध्यप्रदेश) में सर्वश्रेष्ठ साधक आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के शिष्य मुनि श्री विमल सागर जी मुनि श्री अनंत सागर जी मुनि धर्मसागर जी मुनि श्री अचल सागर जी मुनि श्री भाव सागर जी ससंघ एवं आर्यिका श्री अनंत मति माताजी ससंघ एवं आर्यिका श्री भावना मति माता जी आदि 22 आर्यिकाओं के सानिध्य मे आचार्य श्री की पूजन हुई । आर्यिका श्री सदय मति माताजी ने अपने उद्बोधन में अपने गुरु का गुणगान किया और उन्होंने बताया कि आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज की चर्या हमेशा उत्कृष्ट रही है। मुनि श्री भावसागर जी ने कहा कि भक्ति में जो भी अर्पण किया जाता है बह श्रेष्ठ होता है। मंदिर के कलश भी अच्छे होना चाहिए । भगवान के अभिषेक और शांति धारा के बाद 64 चमर डुलाना चाहिए । खाली हाथ क्रिया नहीं करना चाहिए पंचकल्याणक में केवल ज्ञान कल्याणक के दिन प्राण प्रतिष्ठा मंत्र के द्वारा प्राण प्रतिष्ठा की जाती है । यह गुप्त रूप से की जाती है क्योंकि सूरि शब्द यह दिगंबर आचार्य ,साधु का है। यही सप्तम गुणस्थान से बारहवें गुणस्थान तक की विधि है। सुरि मंत्र गुप्त रूप से दिया जाता है। यह गुरु मंत्र है , जो गुप्त रूप से कहा जाता है बह मंत्र कहलाता है। यहां सुरि मंत्र प्रदान करते समय साधु के भावों की विशुद्धि स्थिरता एवं श्रद्धा भक्ति प्रतिमा को ऊर्जावान और पूज्य बनाती है। प्रतिमा में कितनी भी क्रियाएं की जावे , किंतु सूरि मंत्र के बिना बे सभी क्रियाएं कार्यकारी नहीं हो पाती है। सूरि मंत्र प्रदान करने वाला साधु निर्ग्रंथ होना चाहिए सूरि मंत्र की तरह है ।आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराजकी तप साधना निर्दोष ब्रह्मचर्य की साधना 50 वर्ष से अधिक की है इसी कारण से पूरे देश के लोग चाहते हैं आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के द्वारा सूरि मंत्र प्रतिमाओं में प्रदान किया जाए।
  3. *अनूठा पंचकल्याणक महोत्सव*20 से 26 जनवरी 2019 *स्थान* श्री 1008 पार्श्वनाथ दिगंबर जैन मंदिर बांदरी जिला सागर (मध्य प्रदेश) *कार्यक्रम स्थल* पुलिस थाना ग्राउंड बांदरी *संभावित सानिध्य* * बाल ब्रह्मचारी संघनायक आचार्य श्री 108 विद्यासागर जी महाराज ससंघ * *मार्गदर्शन* मुनि श्री 108 विमल सागर जी मुनि श्री 108 अनंत सागर जी मुनि श्री 108 धर्म सागर जी मुनि श्री 108 अचल सागर जी मुनि श्री 108 भाव सागर जी महाराज ससंघ एवं आर्यिका श्री 105 अनंत मति माताजी ससंघ आर्यिका श्री 105 भावना मति माताजी सहित 22 आर्यिका *मांगलिक महोत्सव कार्यक्रम* 20 जनवरी 2019-रविवार घट यात्रा ,ध्वजारोहण 21 जनवरी 2019 सोमवारगर्भ कल्याणक पूर्वरूप 22 जनवरी 2019 मंगलवार गर्भ कल्याणक उत्तररूप। 23 जनवरी 2019बुधवार जन्मकल्याणक। 24 जनवरी 2019 गुरुवार तप/दीक्षा कल्याणक 25 जनवरी2019 शुक्रवार ज्ञान कल्याणक 26 जनवरी2018 शनिवार मोक्ष कल्याणक/गजरथ फेरी *प्रतिष्ठाचार्य* प्रतिष्ठा सम्राट प्रतिष्ठा रत्न बाल ब्रह्मचारी विनय भैया जी बंडा *आयोजक* सकल दिगंबर जैन समाज बांदरी जिला सागर (मध्य प्रदेश)कार्यक्रम का प्रसारण जिनवाणी चैनल पर होगा नीरज वैद्यराज पत्रकार 07582888100
  4. *अनूठा पंचकल्याणक महोत्सव* 20 से 26 जनवरी 2019 *स्थान* श्री 1008 पार्श्वनाथ दिगंबर जैन मंदिर बांदरी जिला सागर (मध्य प्रदेश) *कार्यक्रम स्थल* पुलिस थाना ग्राउंड बांदरी *संभावित सानिध्य* बाल ब्रह्मचारी संघनायक आचार्य श्री 108 विद्यासागर जी महाराज ससंघ *मार्गदर्शन* मुनि श्री 108 विमल सागर जी मुनि श्री 108 अनंत सागर जी मुनि श्री 108 धर्म सागर जी मुनि श्री 108 अचल सागर जी मुनि श्री 108 भाव सागर जी महाराज ससंघ एवं आर्यिका श्री 105 अनंत मति माताजी ससंघ आर्यिका श्री 105 भावना मति माताजी सहित 22 आर्यिका *मांगलिक महोत्सव कार्यक्रम* 20 जनवरी 2019-रविवार घट यात्रा ,ध्वजारोहण 21 जनवरी 2019 सोमवारगर्भ कल्याणक पूर्वरूप। 22 जनवरी 2019 मंगलवार गर्भ कल्याणक उत्तररूप। 23 जनवरी 2019बुधवार जन्मकल्याणक। 24 जनवरी 2019 गुरुवार तप/दीक्षा कल्याणक। 25 जनवरी2019 शुक्रवार ज्ञान कल्याणक 26 जनवरी2018 शनिवार मोक्ष कल्याणक/गजरथ फेरी *प्रतिष्ठाचार्य* प्रतिष्ठा सम्राट प्रतिष्ठा रत्न बाल ब्रह्मचारी विनय भैया जी बंडा *आयोजक* सकल दिगंबर जैन समाज बांदरी जिला सागर (मध्य प्रदेश)कार्यक्रम का प्रसारण जिनवाणी चैनल पर होगा नीरज वैद्यराज पत्रकार 07582888100
  5. बांदरी 11-1-2019 *धार्मिक कार्यों में सहयोग करें* *मुनिश्री* बांदरी जिला सागर( मध्यप्रदेश) मे सर्व श्रेष्ठ साधक आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के शिष्य *मुनि श्री विमल सागर जी मुनि श्री अनंत सागर जी मुनि धर्मसागर जी मुनि श्री अचल सागर जी मुनि श्री भाव सागर जी ससंघ एवम आर्यिका श्री अनंत मति माताजी ससंघ एवं आर्यिका श्री भावना मति माता जी आदि 22 आर्यिकाओं के सानिध्य मे आचार्य श्री की पूजन हुई । आर्यिका श्री संवेग मति माताजी ने अपने उद्बोधन में अपने गुरु का गुणगान किया और उन्होंने बताया कि आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज की चर्या हमेशा उत्कृष्ट रही है मुनि श्री भावसागर जी ने कहा कि यहां पर पंचकल्याणक होने वाले हैं आप लोगों को तन मन धन से जुट जाना है । यह किसी एक व्यक्ति का कार्य नहीं है पूरी समाज को मिलकर यह कार्य करना है आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज का भी आगमन होगा, हमें पूर्ण विश्वास है ।मंदिर में छत्र, चमर ,भामंडल एवं मंदिर के पूजन के पात्र अच्छी धातु के होना चाहिए। मंदिर के कार्यों में सभी को सहयोग करना चाहिए। यह पंचकल्याणक ऐतिहासिक होगा।जो धार्मिक कार्यों में विघ्न डालता है उसको बहुत सारी परेशानियां होती हैं। 10 जनवरी को खुरई में आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के दर्शनार्थ पंचकल्याणक के सभी पात्र पहुंचे आचार्य श्री ने प्रसन्नता पूर्वक आशीर्वाद दिया और बांदरी बालों की सराहना की । नीरज वैद्यराज पत्रकार 07582888100
  6. बांदरी 9-1-2019 *पंचकल्याणक के पात्रों का चयन हुआ* बांदरी जिला सागर( मध्यप्रदेश) मे सर्व श्रेष्ठ साधक आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के शिष्य *मुनि श्री विमल सागर जी मुनि श्री अनंत सागर जी मुनि धर्मसागर जी मुनि श्री अचल सागर जी मुनि श्री भाव सागर जी ससंघ एवम आर्यिका श्री अनंत मति माताजी ससंघ के सानिध्य मे आचार्य श्री की पूजन हुई आर्यिका श्री निर्मल मति माताजी ने अपने उद्बोधन में अपने गुरु का गुणगान किया एवं एवं मुनि श्री अचल सागर जी महाराज ने संस्कारों के बारे में विशेष रूप से बताया और दोपहर में पात्रों का चयन श्री पारसनाथ दिगंबर जैन मंदिर बांदरी में संपन्न हुआ संगीत की प्रस्तुति नीलेश जैन बांदरी ने😊 दी भगवान के माता पिता बनने का सौभाग्य श्रीमती ममता जैन ऋषभ जैन बांदरी सौधर्में इंद्र सुदीप जैन बांदरी कुबेर अशोक जैन अध्यक्ष पंचकल्याणक एवं जैन समाज महायज्ञ नायक डॉ. सनत जैन राजा श्रेयांस निर्मल चंद चौधरी राजा सोम अनिल चौधरी बाहुबली अनिल जैन आकाश जैन को प्राप्त हुआ ध्वजारोहण करने अशोक जैन दीप कमल मेडिकल को प्राप्त हुआ यह कार्यक्रम पुलिस थाना ग्राउंड बांदरी में होगा मुनि श्री विमल सागर जी ने कहा कि बांदरी के पारस नाथजी के दर्शन किए ह्रदय गदगद हो गया!अब विशाल प्रतिमा विराजमान होगी जब तक कीर्ति फैलेगी जब तक यह मंदिर रहेगा कीर्ति समाप्त नहीं होती है यहां आप लोगों ने कीर्तिमान बनाया है सारे पात्र महत्वपूर्ण होते हैं अवसर दवे पाव आते हैं और पंख लगा कर उड़ जाते हैं विश्व कल्याण की भावना को लेकर यह पञ्च कल्याणक होना है बांदरी से 108 गांव जुड़े हैं | इस कार्यक्रम में महेश बिलहरा मुकेश जैन ढाना देवेंद्र जैना स्टील अनिल नैंनधरा राजेश रोडलाइंस सागर से आए लोगों ने सहभागिता दी 20 से 26 जनवरी 2019 तक बांदरी में ऐतिहासिक पंचकल्याणक महोत्सव होने जा रहा है यह पंच कल्याणक पुलिस थाना ग्राउंड में आयोजित होगा यह कार्यक्रम प्रतिष्ठाचार्य ब्रहमचारी विनय भैया बंडा के निर्देशन में होगा।** नीरज वैद्यराज पत्रकार * 07582888190
  7. बांदरी 9-1-2019 *पंचकल्याणक के पात्रों का चयन हुआ* बांदरी जिला सागर( मध्यप्रदेश) मे सर्व श्रेष्ठ साधक आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के शिष्य *मुनि श्री विमल सागर जी मुनि श्री अनंत सागर जी मुनि धर्मसागर जी मुनि श्री अचल सागर जी मुनि श्री भाव सागर जी ससंघ एवम आर्यिका श्री अनंत मति माताजी ससंघ के सानिध्य मे आचार्य श्री की पूजन हुई आर्यिका श्री निर्मल मति माताजी ने अपने उद्बोधन में अपने गुरु का गुणगान किया एवं एवं मुनि श्री अचल सागर जी महाराज ने संस्कारों के बारे में विशेष रूप से बताया और दोपहर में पात्रों का चयन श्री पारसनाथ दिगंबर जैन मंदिर बांदरी में संपन्न हुआ संगीत की प्रस्तुति नीलेश जैन बांदरी ने😊 दी भगवान के माता पिता बनने का सौभाग्य श्रीमती ममता जैन ऋषभ जैन बांदरी सौधर्में इंद्र सुदीप जैन बांदरी कुबेर अशोक जैन अध्यक्ष पंचकल्याणक एवं जैन समाज महायज्ञ नायक डॉ. सनत जैन राजा श्रेयांस निर्मल चंद चौधरी राजा सोम अनिल चौधरी बाहुबली अनिल जैन आकाश जैन को प्राप्त हुआ ध्वजारोहण करने अशोक जैन दीप कमल मेडिकल को प्राप्त हुआ यह कार्यक्रम पुलिस थाना ग्राउंड बांदरी में होगा मुनि श्री विमल सागर जी ने कहा कि बांदरी के पारस नाथजी के दर्शन किए ह्रदय गदगद हो गया!अब विशाल प्रतिमा विराजमान होगी जब तक कीर्ति फैलेगी जब तक यह मंदिर रहेगा कीर्ति समाप्त नहीं होती है यहां आप लोगों ने कीर्तिमान बनाया है सारे पात्र महत्वपूर्ण होते हैं अवसर दवे पाव आते हैं और पंख लगा कर उड़ जाते हैं विश्व कल्याण की भावना को लेकर यह पञ्च कल्याणक होना है बांदरी से 108 गांव जुड़े हैं | इस कार्यक्रम में महेश बिलहरा मुकेश जैन ढाना देवेंद्र जैना स्टील अनिल नैंनधरा राजेश रोडलाइंस सागर से आए लोगों ने सहभागिता दी 20 से 26 जनवरी 2019 तक बांदरी में ऐतिहासिक पंचकल्याणक महोत्सव होने जा रहा है यह पंच कल्याणक पुलिस थाना ग्राउंड में आयोजित होगा यह कार्यक्रम प्रतिष्ठाचार्य ब्रहमचारी विनय भैया बंडा के निर्देशन में होगा।** नीरज वैद्यराज पत्रकार * 07582888190
  8. बांदरी 11-1-2019 *धार्मिक कार्यों में सहयोग करें*- *मुनिश्री* बांदरी जिला सागर( मध्यप्रदेश) मे सर्व श्रेष्ठ साधक आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के शिष्य *मुनि श्री विमल सागर जी महाराज( ससंघ) एवम आर्यिका श्री अनंत मति माताजी ( ससंघ)22 आर्यिकाओं के सानिध्य मे आचार्य श्री की पूजन हुई । आर्यिका श्री संवेग मति माताजी ने अपने उद्बोधन में अपने गुरु का गुणगान किया और उन्होंने बताया कि आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज की चर्या हमेशा उत्कृष्ट रही है मुनि श्री भावसागर जी ने कहा कि यहां पर पंचकल्याणक होने वाले हैं आप लोगों को तन मन धन से जुट जाना है । यह किसी एक व्यक्ति का कार्य नहीं है पूरी समाज को मिलकर यह कार्य करना है आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज का भी आगमन होगा, हमें पूर्ण विश्वास है ।मंदिर में छत्र, चमर ,भामंडल एवं मंदिर के पूजन के पात्र अच्छी धातु के होना चाहिए। मंदिर के कार्यों में सभी को सहयोग करना चाहिए। यह पंचकल्याणक ऐतिहासिक होगा।जो धार्मिक कार्यों में विघ्न डालता है उसको बहुत सारी परेशानियां होती हैं। 10 जनवरी को खुरई में आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के दर्शनार्थ पंचकल्याणक के सभी पात्र पहुंचे आचार्य श्री ने प्रसन्नता पूर्वक आशीर्वाद दिया और बांदरी बालों की सराहना की ।
  9. बांदरी 9-1-2019 *पंचकल्याणक के पात्रों का चयन हुआ* बांदरी जिला सागर( मध्यप्रदेश) मे सर्व श्रेष्ठ साधक आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के शिष्य मुनि श्री विमल सागर जी महाराज (ससंघ ) एवम आर्यिका श्री अनंत मति माताजी (ससंघ) के सानिध्य मे आचार्य श्री की पूजन हुई आर्यिका श्री निर्मल मति माताजी ने अपने उद्बोधन में अपने गुरु का गुणगान किया एवं मुनि श्री अचल सागर जी महाराज ने संस्कारों के बारे में विशेष रूप से बताया और दोपहर में पात्रों का चयन श्री पारसनाथ दिगंबर जैन मंदिर बांदरी में संपन्न हुआ संगीत की प्रस्तुति नीलेश जैन बांदरी ने दी भगवान के *माता पिता* बनने का सौभाग्य श्रीमती ममता जैन ऋषभ जैन बांदरी बालों को प्राप्त हुआ *सौधर्में इंद्र* :-सुदीप जैन बांदरी *कुबेर* :- अशोक जैन (अध्यक्ष पंचकल्याणक एवं जैन समाज) *महायज्ञ नायक* डॉ. सनत जैन *राजा श्रेयांस* निर्मल चंद चौधरी *राजा सोम* अनिल चौधरी *बाहुबली* अनिल जैन आकाश जैन को प्राप्त हुआ *ध्वजारोहण* अशोक जैन दीप कमल मेडिकल को प्राप्त हुआ यह कार्यक्रम पुलिस थाना ग्राउंड बांदरी में होगा मुनि श्री विमल सागर जी ने कहा कि बांदरी के पारसनाथ जी के दर्शन किए ह्रदय गदगद हो गया!अब विशाल प्रतिमा विराजमान होगी सारे पात्र महत्वपूर्ण होते हैं अवसर दवे पाव आते हैं और पंख लगा कर उड़ जाते हैं विश्व कल्याण की भावना को लेकर यह पञ्च कल्याणक होना है बांदरी से 108 गांव जुड़े हैं | 20 से 26 जनवरी 2019 तक बांदरी में ऐतिहासिक पंचकल्याणक महोत्सव होने जा रहा है यह पंच कल्याणक पुलिस थाना ग्राउंड में आयोजित होगा यह कार्यक्रम प्रतिष्ठाचार्य ब्रहमचारी विनय भैया बंडा के निर्देशन में होगा।
  10. बांदरी मध्य*अनूठा पंचकल्याणक महोत्सव* 20 से 26 जनवरी 2019 *स्थान* श्री 1008 पार्श्वनाथ दिगंबर जैन मंदिर बांदरी जिला सागर (मध्य प्रदेश) *कार्यक्रम स्थल* पुलिस थाना ग्राउंड बांदरी *संभावित सानिध्य* बाल ब्रह्मचारी संघनायक आचार्य श्री 108 विद्यासागर जी महाराज ससंघ *मार्गदर्शन* मुनि श्री 108 विमल सागर जी महाराज ससंघ आर्यिका श्री 105 अनंत मति माताजी ससंघ *प्रतिष्ठाचार्य* प्रतिष्ठा सम्राट प्रतिष्ठा रत्न बाल ब्रह्मचारी विनय भैया जी बंडा *आयोजक* सकल दिगंबर जैन समाज बांदरी जिला सागर (मध्य प्रदेश) *संपर्क सूत्र* 6260835420, 7489460454,8982109769
  11. बांदरी* *4-1-2019* *चिकित्सा के लिए अध्यात्म है* बांदरी जिला सागर( मध्यप्रदेश) मे *सर्व श्रेष्ठ साधक आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज* के शिष्य *मुनि श्री विमल सागर जी मुनि श्री अनंत सागर जी मुनि श्री धर्म सागर जी मुनि श्री अचल सागर जी मुनि श्री भाव सागर जी ससंघ एवम आर्यिका श्री अनंत मति माताजी ससंघ के सानिध्य मे आचार्य श्री की पूजन हुई और 20 से 26 जनवरी 2019 तक बांदरी में ऐतिहासिक पंचकल्याणक महोत्सव संपन्न होने जा रहा है जिसमें मुनि श्री विमल सागर जी महाराज ससंघ एवं आर्यिका श्री अनंत मति माताजी ससंघ 22 माताजी का सानिध्य प्राप्त होगा एवं आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के सानिध्य के लिए प्रयास जारी है धर्म सभा को संबोधित करते हुए आर्यिका श्री अनंत मति माताजी ने कहा कि पंचकल्याणक होने वाला है मुनि श्री विमल सागर जी मे आचार्य श्री जी की ऊर्जा प्रत्येक आत्म प्रदेश में समाहित है पंच बालयति मुनि राजो में वही ऊर्जा सांचारित हो रही है महान महोत्सव संपन्न होना है तैयारियां चल रही है। अपनी भक्ति और श्रद्धा को बढ़ा रहे हैं। हमारा जीवन धन्य हो जाए। गुरुदेव के चरण हमारे नगर में पड़े ऐसी भक्ति हम बढ़ाएं। ऐसी विशुद्धि और भक्ति बढ़ाते जा रहे हैं कि गुरुदेव के दर्शन अति शीघ्र हों। गुरुदेव के चरणों मे हमारी भक्ति पहुंच जाए।आचार्य श्री का समवसरण आ जाए।आचार्य श्री चाहे गर्मी हो ठंड हो या बरसात हो एक समान रहते है। हम गुरुदेव के छोटे से सेवक हैं । मुनि श्री विमल सागर जी ने कहा कि आचार्य भगवन की हमारे ऊपर महती कृपा हुई है । मन की चिकित्सा के लिए अध्यात्म ग्रंथों की रचना हुई। कुछ लोग जीवन से ज्यादा धन को महत्व देते हैं। जिसको जो मिला है उससे संतुष्टि नहीं होती है। पड़ोसी का मकान वैभव देखकर आपको ज्यादा तकलीफ होती है। एक दृश्टान्त देते हुए बताया कि व्यक्ति की इच्छाएं ज्यादा रहती है लेकिन मिलता नहीं है। लोभ कषाय ऐसी बैठी रहती है कि व्यक्ति जानता है कि सब कुछ छोड़ना है लेकिन फिर भी जोड़ता रहता है। धन की तीन गति होती हैं दान भोग और नाश जो अपने साथ पुण्य रूपी धन ले जाये वही सही माना जाता है। प्रतिष्ठाचार्य ब्रहमचारी विनय भैया बंडा के निर्देशन मे पंच कल्याणक समिति का गठन किया गया। जिसमें अध्यक्ष अशोक जैन को बनाया गया और भी पदाधिकारियों को पद दिए गए। चौबीसी त्रिमूर्ति श्री आदिनाथ जी श्री भरत जी बाहुबली जी आदि प्रतिमाओं को विराजमान करने की स्वीकृति बहुत से लोगो ने दी मध्य प्रदेश के ग्रामोद्योग कैबिनेट मंत्री श्री हर्ष यादव जी ने मुनि श्री के दर्शन किये और उन्होंने कहा की मुनि श्री के आशीर्वाद से मुझे जीत हासिल हुई हैं। पहली बार विधायक बने तो मुनि श्री का चातुर्मास देवरी मे था और इस बार गौरझामर मैं चातुर्मास था मुनि श्री के आशीर्वाद से ही ये जीत हाशिल हुई है पंचकल्याणक महोत्सव में एवं गौशाला में सहयोग करेंगे यह उन्होंने कहा *प्रेषक* नीरज वैद्यराज पत्रकार 07582888100
  12. भाग्योदय तीर्थ सागर 1 जनवरी 2019 *सर्वश्रेष्ठ साधक आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के आज्ञानुवर्ती शिष्य* *ज्येष्ठ* *मुनि श्री योग सागर जी*, मुनि श्री संभव सागर जी,मुनि श्री पूज्य सागर जी, मुनि श्री शैल सागर जी, मुनि श्री अतुल सागर जी , मुनि श्री निस्सीम सागर जी, मुनि श्री शाश्वत सागर जी महाराज का बिहार भाग्योदय तीर्थ सागर से दमोह की ओर हुआ *आज का रात्रि विश्राम* चनाटोरिया में होगा। ................ *आर्यिका* श्री अकंप मति माताजी आर्यिका श्री उपशांत मति माताजी का बिहार *भाग्योदय* तीर्थ से हुआ *रात्रि विश्राम* गोपालगंज *आगामी प्रवास* सुर्खी, गौरझामर, देवरी। ......................... *मुनि श्री विमल सागर जी,* मुनि श्री अनंत सागर जी, मुनि श्री धर्म सागर जी, मुनि श्री अचल सागर जी, मुनि श्री भाव सागर जी महाराज अभी भाग्योदय तीर्थ सागर में विराजमान है कल प्रातः काल मुनि श्री ससंघ का कल प्रातः काल बिहार होने की *संभावना* है। आहार चर्या 14 किलोमीटर दूर होगी। *मंगल प्रवेश* कल दिनांक 2 जनवरी 2019 को बांदरी में होगा ( *संभावित* ) बांदरी में 20से 26 जनवरी 2019 को *पंचकल्याणक महोत्सव* होना है मुनि श्री के सानिध्य में (संभावित) .............. *मुनि श्री पवित्र सागर जी* मुनि श्री प्रयोग सागर जी महाराज भाग्योदय तीर्थ सागर में विराजमान है। ............. *प्रेषक* -: नीरज वैद्यराज पत्रकार 07582236392 97582888100
  13. सागर 26/12/2018 *पाजीटिव एनर्जी हो जाती है* - मुनि श्री* सागर (मध्यप्रदेश )में *सर्वश्रेष्ठ साधक आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के आज्ञानुवर्ती शिष्य* *ज्येष्ठ* *मुनि श्री योग सागर जी*, मुनि श्री पवित्र सागर जी, मुनि श्री प्रयोग सागर जी, मुनि श्री संभव सागर जी,मुनि श्री पूज्य सागर जी, मुनि श्री विमल सागर जी ,मुनि श्री अनंत सागर जी, मुनि श्री धर्म सागर जी , मुनि श्री शैल सागर जी, मुनि श्री अचल सागर जी , मुनि श्री अतुल सागर जी , मुनि श्री भाव सागर जी , मुनि श्री निस्सीम सागर जी, मुनि श्री शाश्वत सागर जी एवं आर्यिका श्री ऋजुमति माता जी ससंघ आर्यिका श्री गुण मति माताजी ससंघ आर्यिका श्री अनंत मति माताजी ससंघ, आर्यिका श्रीउपशांत मति माताजी ससंघ आर्यिका श्री अकंप मति माताजी ससंघ आर्यिका भावना मति माताजी ससंघ 14 मुनिराज एवं 49 आर्यिकाओ के सानिध्य में आचार्य श्री की पूजन हुई एवं धर्म सभा को संबोधित करते हुए मुनि श्री संभव सागर जी ने कहा कि साधर्मी यदि विपत्ति मे है तो हम उसका संकट दूर करे । जो प्रतिदिन अभिषेक पूजन आदि करता है और वह डिग रहा है तो उसकी मदद करें । आर्थिक या स्वास्थ संबंधी संकट भी आता है तो हम एक दूसरे की परेशानियों में सहयोग करेंगे तो वह संभल सकता है । कई लोग मिलकर बड़े से बड़े वजन को उठा लेते हैं ऐसे ही मिलकर मदद करें । द्रव्य पूजन के साथ भाव पूजा भी होना चाहिए । आजीविका के साधन नहीं है किसी के पास उसमें भी मदद करना यह भी महत्वपूर्ण है। हम सुख और दुख दोनों में साथ रहे । मंदिर के बाहर भी हम कैसे धर्म करें यह आचार्यश्री विद्यासागर जी ने बताया था । आचार्य श्री को किसानों की चिंता भी रहती है। प्राणी मात्र का कल्याण कैसे हो उनको चिंता रहती है । आचार्य श्री ने शांति धारा दुग्ध योजना के लिए प्रेरणा दी जिससे लोगों को शुद्ध दूध घी आदि मिलें किसानों को गाय दान देकर उनको आजीविका मिले और हथकरघा योजना के लिए प्रेरणा मार्ग दर्शन दिया । जिससे बेरोजगारी दूर हो और अहिंसक वस्त्र मिले हैं । सरकार आर्थिक विभागों पर ध्यान तो देती है लेकिन जेल पर ध्यान नहीं देती हैं । लेकिन आचार्य श्री विद्यासागर जी जेल पर ध्यान दे रहे हैं यह महत्वपूर्ण है हथकरघा इको फ्रेंडली है फैमिली फ्रेंडली है यूजर फ्रेंडली है हथकरघा में उपयोग अच्छा लगता है प्रार्थना करते समय कैदी इतनी एकाग्रता में लीन थे। मैंने खुद जाकर देखा हे। उनकी नेगेटिव एनर्जी पॉजिटिव में बदल जाती है । प्राचीन काल में पुरुषों की 72 कलाएं होती थी। आज जॉब में कॉलर तो साफ सुथरी रहती है लेकिन मेहनत नहीं होती है । आज जो भी हथकरघा के अलावा बाजार में वस्त्र आ रहे हैं उसमें *मटनटेलो* नाम का चर्बी युक्त पदार्थ है जो अहिंसक नहीं है । आचार्य श्री विद्यासागर जी ने बचपन मे तीसरी कक्षा में स्कूल में रूई और कतली के माध्यम से टोपी बनाई थी । एक व्यक्ति जिसका 20 लाख का पैकेज था उसने विदेशी नौकरी छोड़ दी आचार्य श्री के प्रवचन सुनकर उसने हथकरघा शुरू किया है। *प्रेषक* नीरज वैद्यराज पत्रकार 07582888100
  14. सागर 22/12/2018 *मुख से कष्टकारी वचन नही निकाले- मुनि श्री* सागर (मध्यप्रदेश )में *सर्वश्रेष्ठ साधक आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के आज्ञानुवर्ती शिष्य* *ज्येष्ठ* *मुनि श्री योग सागर जी*, मुनि श्री पवित्र सागर जी, मुनि श्री प्रयोग सागर जी, मुनि श्री संभव सागर जी,मुनि श्री पूज्य सागर जी, मुनि श्री विमल सागर जी ,मुनि श्री अनंत सागर जी, मुनि श्री धर्म सागर जी , मुनि श्री शैल सागर जी, मुनि श्री अचल सागर जी , मुनि श्री अतुल सागर जी , मुनि श्री भाव सागर जी , मुनि श्री निस्सीम सागर जी, मुनि श्री शाश्वत सागर जी एवं आर्यिका श्री ऋजुमति माता जी ससंघ आर्यिका श्री गुण मति माताजी ससंघ आर्यिका श्री अनंत मति माताजी ससंघ, आर्यिका श्रीउपशांत मति माताजी ससंघ आर्यिका श्री अकंप मति माताजी ससंघ आर्यिका भावना मति माताजी ससंघ 14 मुनिराज एवं 49 आर्यिकाओ के सानिध्य में आचार्य श्री की पूजन हुई एवं धर्म सभा को संबोधित करते हुए मुनि श्री अनंत सागर जी ने कहा कि व्यक्ति के जीवन में संस्कारों का महत्व होता है व पद प्राप्त कर लेता है जिसके पाने के बाद कोई पद शेष नहीं रहता है एक व्यक्ति जिन्होंने चारित्र धारण करके विभिन्न सिद्धियां हासिल करली थी उनका नाम पूज्य पाद स्वामी था जब भी हम शांतिनाथ भगवान के चरणों में जाएंगे हमारी समस्या का हल हो जाएगा हमारे पास और कुछ नहीं है हमारे पास भक्ति है पूज्य पाद स्वामी जी ने कहा कि हमारी दृष्टि कब पवित्र होगी जब इन शब्दों का प्रयोग किया उनकी दृष्टि फिर से लौट आई। संस्कारों के नहीं होने पर दुर्गति हो जाती है। गुरुदेव की बुद्धि इतनी तीव्र है कि उत्तर देने में माहिर है,हमें आचार्यों की वाणी से जुड़ना होगा मुनि श्री योगसागर जी ने कहा की मैंने पहली बार अनंत सागर जी के मुख से धर्म की व्याख्या सुनी आज बहुत अच्छा लग रहा था वह अच्छी व्याख्या कर रहे थे इतना बढ़िया बोल रहे थे साहित्यिक भाषा में बोल रहे थे बैरागी कभी भी प्रदर्शन नहीं करता है उपदेश वैराग्य बढ़ाने के लिए साधन है हम लोगों को आचार्य श्री ने प्रवचन करना नहीं सिखाया हित,मित,मिष्ट, वचन बोलना चाहिए मैंने महाकवि आचार्य श्री ज्ञानसागर जी महाराज जैसी विभूति का दर्शन किया था वह णमोकार मंत्र और चत्तारि दंडक बोलते थे उनके मुख से सुनकर वह मुझे याद हो गया था। जो सुनकर के छोड़ देता है वह हरा नहीं हो पाता है जैसे बांसुरी हरी नहीं हुई सूखे पेड़ पौधे तो हरे हो गए। आचार्य श्री ज्ञानसागर जी ने राजस्थान में अध्यात्म की बांसुरी बजाई जो दक्षिण तक फैल गई। बुंदेलखंड में मुझे भी हरियाली मिल गई, यहां के लोगों को संस्कार देते हैं तो संस्कारित हो जाते हैं हम जो भी कार्य करते हैं हानि लाभ जरूर देखें हमारे मुख से ऐसे वचन नहीं निकले जिससे किसी को कष्ट हो गुरु वाणी मिली है उसका उपयोग करें। आज बालक कॉम्पलेक्स तिलि में मुनि श्री निर्णय सागर जी महाराज ओर मुनि श्री पदम सागर जी महाराज के सानिध्य में आज आचार्य श्री जी की पूजन हुई जिसमें कालोनी ओर अन्य जगहों से आये लोगो ने धर्म लाभ लिया। मुनि श्री निर्णय सागर जी ने कहा कि कल बालक कॉम्प्लेक्स में पाठ शाला की कलश स्थापना करने की बात कही।उन्होंने कहा कि पाठ शाला सिर्फ बच्चों को ही नही पुरुषों और महिलाओं को भी पढ़ना चाहिए। हमें पर कल्याण के साथ ही अपनी आत्मा का कल्याण करना चाहिए। आज की आहार चर्या भी बालक कॉम्पलेक्स में ही हुई नीरज वैद्यराज पत्रकार 07582888100
  15. सागर* *14-12-2018* *गजरथ फेरी हुई* *भाग्योदय तीर्थ सागर (मध्यप्रदेश) में * *सर्वश्रेष्ठ साधक आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के आज्ञानुवर्ती शिष्य* ज्येष्ठ * मुनि श्री योग सागर जी, * मुनि श्री पवित्र सागर जी, मुनि श्री निर्णय सागर जी , मुनि श्री अभय सागर जी मुनि श्री प्रयोग सागर जी, मुनि श्री प्रभात सागर जी, मुनि श्री संभव सागर जी,मुनि श्री पदम सागर जी मुनि श्री पूज्य सागर जी, मुनि श्री विमल सागर जी , मुनि श्री अनंत सागर जी, मुनि श्री धर्म सागर जी , मुनि श्री शैल सागर जी, मुनि श्री अचल सागर जी , मुनि श्री अतुल सागर जी , मुनि श्री भाव सागर जी , मुनि श्री निस्सीम सागर जी, मुनि श्री निरीह सागर जी , मुनि श्री शाश्वत सागर जी एवंआर्यिका श्री ऋजुमति माता जी ससंघ आर्यिका श्री उप शांत मति माताजी आर्यिका श्री अनंत मति माताजी और आर्यिका श्री गुण मति माताजी आर्यिका श्री अकंप मति माताजी आर्यिका भावना मति माताजी ससंघ भाग्योदय तीर्थ सागर में 19 मुनि राजो एवं 49 आर्यिकाओ के सानिध्य में पंचकल्याणक का समापन एवं गजरथ परिक्रमा। *पंचकल्याणक महोत्सव में मोक्ष कल्याणक के अवसर पर* मुनि श्री योग सागर जी ने कहा की आज मोक्ष हुआ भगवान को आज आजादी की प्राप्ती हुई । स्वतंत्रता का अर्थ है स्व ,तंत्र स्व की जहाँ मुख्यता हैं । अभी हम परतंत्र हैं, हम सभी भावना भाये की हमे भी निर्वाण की प्राप्ति हो।आज मुनि श्री प्रयोग सागर जी महाराज के केशलोंच हुए। 15 दिसंबर को प्रातः 7:00 बजे मुनि श्री ससंघ वर्णी कॉलोनी पहुँचेगे वहां नई वेदिका की प्रतिष्ठा होगी आहार चर्या भी वर्णी कॉलोनी में होगी दोपहर में रामपुरा में महामस्तकाभिषेक होगा काकागंज में प्रतिमाएं विराजमान होंगी शाम को मुनि श्री ससंघ दीनदयाल नगर पहुंचेंगे 16 दिसंबर को दीनदयाल नगर में वेदी पर प्रतिमाएं विराजमान होंगी मंदिर जी का कलशारोहण भी होगा मुनि श्री निर्णय सागर जी और मुनि श्री पदम सागर जी भी भाग्योदय पंचकल्याणक में शामिल हुये । आज 14 दिसंबर को प्रातः काल भगवान का मोक्ष कल्याणक होगा दोपहर में एक बजे विशाल गजरथ फेरी होगी जिसमें भारत के अनेक नगरों महानगरों से श्रद्धालु पधारें गजरथ परिक्रमा में मुनि संघ एवं आर्यिका संघ, ब्रह्मचारी भैया, ब्रह्मचारणी दीदी, सौधर्मेंद्र, कुबेर, महायज्ञ नायक, भगवान के माता पिता, एवं प्रमुख पात्र, हजारों इंद्र इंद्राणी, गजरथ, दिव्य घोष, एरावत हाथ आचार्य श्री विद्यासागर दिव्य घोष गौरझामर, बाहुबली कालोनी महिला मंडल दिव्य घोष, रमपुरा दिव्य घोष सागर, अंकुर कालोनी दिव्य घोष, गजरथ में हजारों लोगों ने उपस्थित होकर धर्म लाभ लिया। *प्रेषक* नीरज वैद्यराज पत्रकार 07582888100
  16. सागर* *13-12-2018* *प्रभु की आहार चर्या सम्पन्न हुई* *भाग्योदय तीर्थ सागर (मध्यप्रदेश) में * *सर्वश्रेष्ठ साधक आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के आज्ञानुवर्ती शिष्य* ज्येष्ठ * मुनि श्री योग सागर जी, * मुनि श्री पवित्र सागर जी, मुनि श्री अभय सागर जी, मुनि श्री प्रयोग सागर जी, मुनि श्री प्रभात सागर जी, मुनि श्री संभव सागर जी, मुनि श्री पूज्य सागर जी, मुनि श्री विमल सागर जी , मुनि श्री अनंत सागर जी, मुनि श्री धर्म सागर जी , मुनि श्री शैल सागर जी, मुनि श्री अचल सागर जी , मुनि श्री अतुल सागर जी , मुनि श्री भाव सागर जी , मुनि श्री निस्सीम सागर जी, मुनि श्री निरीह सागर जी , मुनि श्री शाश्वत सागर जी एवंआर्यिका श्री ऋजुमति माता जी ससंघ आर्यिका श्री उप शांत मति माताजी आर्यिका श्री अनंत मति माताजी और आर्यिका श्री गुण मति माताजी आर्यिका श्री अकंप मति माताजी आर्यिका भावना मति माताजी ससंघ भाग्योदय तीर्थ सागर में विराजमान है *पंचकल्याणक महोत्सव में ज्ञान कल्याणक के अवसर पर* मुनि श्री योग सागर जी ने कहा की मैं 1980 से सागर आ रहा हूं मुझे मुनि दीक्षा सागर में ही मिली इसलिए मैं सागर का ही हूं साधु आहार पेट की भूख के लिए करते हैं आज मुनि श्री अतुल सागर जी महाराज के केशलोंच हुए। मुनि श्री योग सागर जी महाराज की पिछी का का परिवर्तन हुआ पुरानी पिच्छिका भगवान के माता पिता बनने वाले श्री राकेश जैन पिडरुआ वाले नाभिराय और श्रीमती नमीता जैन मरूदेवी को प्राप्त हुई । 15 दिसंबर को प्रातः 7:00 बजे मुनि संघ वर्णी कॉलोनी पहुंचेगा वहां नई वेदिका की प्रतिष्ठा होगी आहार चर्या भी वर्णी कॉलोनी में होगी दोपहर में रामपुरा में महामस्तकाभिषेक होगा काकागंज में प्रतिमाएं विराजमान होंगी शाम को मुनि संघ दीनदयाल नगर पहुंचेंगे 16 दिसंबर को दीनदयाल नगर में वेदी पर प्रतिमाएं विराजमान होंगी मंदिर जी का कलशारोहण भी होगा मुनि श्री निर्णय सागर जी और मुनि श्री पदम सागर जी भी भाग्योदय पंचकल्याणक में शामिल होंगे । 14 दिसंबर को प्रातः काल भगवान का मोक्ष कल्याणक होगा दोपहर में एक बजे विशाल गजरथ तेरी होगी जिसमें भारत के अनेक नगरों महानगरों से श्रद्धालु पधार रहे हैं। नीरज वैद्यराज पत्रकार 07582888100
  17. *_🦋_* *_13-12-18, गुरूवार_* _*🥀सागर में सागर ही सागर🥀*_ _*☀पुज्य श्रेष्ठ मुनि योगसागर जी ससंघ (68 पिच्छी) के मंगल सानिध्य में होने वाले आगामी कार्यक्रम...*_ *_■ 15 दिसंबर , वर्णी कॉलौनी,सागर में श्री वेदी प्रतिष्ठा महोत्सव..सुबह 06 बजे से 10 बजे तक_* *_■ 15 दिसंबर, रमपुरा ,सागर में पूज्य वासुपूज्य भगवान का महामस्काभिषेक दोप• 1 बजे से..!!_* *_■ 16 दिसंबर, दीनदयाल नगर, सागर में श्री जिनबिम्ब प्रतिष्ठा महोत्सव एंव मूलनायक श्री शांतिनाथ भगवान का महामस्तकाभिषेक..!!_* _★निर्देशन- प्रतिष्ठाचार्य सम्राट, वाणी भूषण बा•ब्र विनय भैया जी_ *_💫नीरज वैद्यराज पत्रकार* *_07582888100_*,
  18. सागर* *13-12-2018* *प्रभु की आहार चर्या सम्पन्न हुई* *भाग्योदय तीर्थ सागर (मध्यप्रदेश) में * *सर्वश्रेष्ठ साधक आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के आज्ञानुवर्ती शिष्य* ज्येष्ठ * मुनि श्री योग सागर जी, * मुनि श्री पवित्र सागर जी, मुनि श्री अभय सागर जी, मुनि श्री प्रयोग सागर जी, मुनि श्री प्रभात सागर जी, मुनि श्री संभव सागर जी, मुनि श्री पूज्य सागर जी, मुनि श्री विमल सागर जी , मुनि श्री अनंत सागर जी, मुनि श्री धर्म सागर जी , मुनि श्री शैल सागर जी, मुनि श्री अचल सागर जी , मुनि श्री अतुल सागर जी , मुनि श्री भाव सागर जी , मुनि श्री निस्सीम सागर जी, मुनि श्री निरीह सागर जी , मुनि श्री शाश्वत सागर जी एवंआर्यिका श्री ऋजुमति माता जी ससंघ आर्यिका श्री उप शांत मति माताजी आर्यिका श्री अनंत मति माताजी और आर्यिका श्री गुण मति माताजी आर्यिका श्री अकंप मति माताजी आर्यिका भावना मति माताजी ससंघ भाग्योदय तीर्थ सागर में विराजमान है *पंचकल्याणक महोत्सव में ज्ञान कल्याणक के अवसर पर* मुनि श्री योग सागर जी ने कहा की मैं 1980 से सागर आ रहा हूं मुझे मुनि दीक्षा सागर में ही मिली इसलिए मैं सागर का ही हूं साधु आहार पेट की भूख के लिए करते हैं आज मुनि श्री अतुल सागर जी महाराज के केशलोंच हुए। मुनि श्री योग सागर जी महाराज की पिछी का का परिवर्तन हुआ पुरानी पिच्छिका भगवान के माता पिता बनने वाले श्री राकेश जैन पिडरुआ वाले नाभिराय और श्रीमती नमीता जैन मरूदेवी को प्राप्त हुई । 15 दिसंबर को प्रातः 7:00 बजे मुनि संघ वर्णी कॉलोनी पहुंचेगा वहां नई वेदिका की प्रतिष्ठा होगी आहार चर्या भी वर्णी कॉलोनी में होगी दोपहर में रामपुरा में महामस्तकाभिषेक होगा काकागंज में प्रतिमाएं विराजमान होंगी शाम को मुनि संघ दीनदयाल नगर पहुंचेंगे 16 दिसंबर को दीनदयाल नगर में वेदी पर प्रतिमाएं विराजमान होंगी मंदिर जी का कलसा रोहण भी होगा मुनि श्री निर्णय सागर जी और मुनि श्री पदम सागर जी भी भाग्योदय पंचकल्याणक में शामिल होंगे । 14 दिसंबर को प्रातः काल भगवान का मोक्ष कल्याणक होगा दोपहर में एक बजे विशाल गजरथ तेरी होगी जिसमें भारत के अनेक नगरों महानगरों से श्रद्धालु पधार रहे हैं। नीरज वैद्यराज पत्रकार 07582888100
  19. सागर* *12-12-2018* * आदि कुमार ने छोडा राज पाट* *भाग्योदय तीर्थ सागर (मध्यप्रदेश) में * *सर्वश्रेष्ठ साधक आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के आज्ञानुवर्ती शिष्य* ज्येष्ठ * मुनि श्री योग सागर जी, * मुनि श्री पवित्र सागर जी, मुनि श्री अभय सागर जी, मुनि श्री प्रयोग सागर जी, मुनि श्री प्रभात सागर जी, मुनि श्री संभव सागर जी, मुनि श्री पूज्य सागर जी, मुनि श्री विमल सागर जी , मुनि श्री अनंत सागर जी, मुनि श्री धर्म सागर जी , मुनि श्री शैल सागर जी, मुनि श्री अचल सागर जी , मुनि श्री अतुल सागर जी , मुनि श्री भाव सागर जी , मुनि श्री निस्सीम सागर जी, मुनि श्री निरीह सागर जी , मुनि श्री शाश्वत सागर जी एवंआर्यिका श्री ऋजुमति माता जी ससंघ आर्यिका श्री उप शांत मति माताजी आर्यिका श्री अनंत मति माताजी और आर्यिका श्री गुण मति माताजी आर्यिका श्री अकंप मति माताजी आर्यिका भावना मति माताजी ससंघ भाग्योदय तीर्थ सागर में विराजमान है *पंचकल्याणक महोत्सव में तप कल्याणक के अवसर पर* दोपहर में बालक आदि कुमार ने नीलांजना नृत्य देख कर वैराग्य धारण किया। कल्याण के दिन था इस बहनों ने आचार्य विद्यासागर महाराज के आशीर्वाद से मुनि श्री योग सागर महाराज जी के सामने आजीवन ब्रहमचर्य व्रत लिया सभी बहनों की इच्छा आर्यका माताजी बनने की है। प्रतिष्ठाचर्या विनय भैया ने मुनि श्री योग सागर महाराज जी के साथ दिक्षा विधि कराई। पालकी उठाने के लिए मनुष्यों को पहले चुना गया क्योंकि वह संयम धारण कर सकते हैं इंद्र नहीं कर सकते।मुनि श्री योग सागर जी महाराज नेनी दीक्षा के पूर्व बालक चोट की आदि कुमार के वस्त्रों को शरीर से अलग किया ओर सभी वस्त्र सौधर्म इंद्र को सौपे। नव दीक्षित मुनि आदिकुमार को पिच्छीका सभी आर्यिका संघ ने दी और सभी ब्राह्मी सुंदरी ओर मरु देवी ने कमण्डल भेंट किया। 13 दिसंबर को केवल ज्ञान कल्याणक के दिन प्रातः आहार चर्या भगवान की होगी और दोपहर में प्रतिमाओं की प्राण प्रतिष्ठा होगी । दोपहर में मुनि श्री के प्रवचन रात्रि सांस्कृतिक कार्यक्रम होंगे 14 दिसंबर को प्रातः काल भगवान का मोक्ष कल्याणक होगा दोपहर में एक बजे विशाल गजरथ तेरी होगी जिसमें भारत के अनेक नगरों महानगरों से श्रद्धालु आएंगे * नीरज वैद्यराज पत्रकार * 07582888100
  20. संपर्क सूत्र नीरज वेदराज पत्रकार 075 82 888100
  21. सागर* *12-12-2018* * तप की महिमा अपरंपार है* *भाग्योदय तीर्थ सागर (मध्यप्रदेश) में * *सर्वश्रेष्ठ साधक आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के आज्ञानुवर्ती शिष्य* ज्येष्ठ * मुनि श्री योग सागर जी, * मुनि श्री पवित्र सागर जी, मुनि श्री अभय सागर जी, मुनि श्री प्रयोग सागर जी, मुनि श्री प्रभात सागर जी, मुनि श्री संभव सागर जी, मुनि श्री पूज्य सागर जी, मुनि श्री विमल सागर जी , मुनि श्री अनंत सागर जी, मुनि श्री धर्म सागर जी , मुनि श्री शैल सागर जी, मुनि श्री अचल सागर जी , मुनि श्री अतुल सागर जी , मुनि श्री भाव सागर जी , मुनि श्री निस्सीम सागर जी, मुनि श्री निरीह सागर जी , मुनि श्री शाश्वत सागर जी एवंआर्यिका श्री ऋजुमति माता जी ससंघ आर्यिका श्री उप शांत मति माताजी आर्यिका श्री अनंत मति माताजी और आर्यिका श्री गुण मति माताजी आर्यिका श्री अकंप मति माताजी आर्यिका भावना मति माताजी ससंघ भाग्योदय तीर्थ सागर में विराजमान है *पंचकल्याणक महोत्सव में तप कल्याणक के अवसर पर* प्रात:काल मुनि श्री पूज्य सागर जी महाराज ने कहा कि दान देने के बाद हर्ष होना चाहिए। इन क्रियाओं से अति मात्रा में पुण्य इकट्ठा हो रहा है जैसे सीजन मैं पैसा कमाते हैं से ही पंचकल्याणक में पुण्य को इकट्ठा किया जाता है । प्री वेडिंग महिला संगीत एक गलत परंपरा है इसमें सुधार होने चाहिए। पहले लड़की विवाह वाले नगर में नहीं जाती थी आचार्य श्री कहते हैं ढाई दिन गृहस्थों के होते हैं ढाई दिन मुनि राजो के होते हैं । जिसने इस देश को देवालय बनाया उसका नाम धर्म है ,चेतन प्रतिष्ठा का नाम धर्म है देह में स्थित जो आत्मा है, उसे मूर्ति बनाओ । आचार्य श्री विद्यासागर जी रत्ना तरह रूप देते हैं आप उनके कुछ त्याग करके प्राप्त कर सकते हैं। ठंडी एवं गर्मी में दिगंबर साधु के पास एक ही ड्रेस होता है । जिनको निंदा और प्रशंसा एक समान है मुनि लाखों वर्षों तक जीयू या मृत्यु आज ही हो जाए इसको मानने वाला होता है। मैं 20 चातुर्मास होने के बाद इतनी सारी प्रतिमाओं की प्रतिष्ठा एक साथ प्रथम बार ही देख रहे हैं। आचार्य भगवान को प्रत्येक व्यक्ति ने अपने ह्रदय में छुपा रखा है । आप दूध तो चाहते हो लेकिन गाय रखना नहीं चाहते। पशुओं का पालन करने के लिए गाय का पालन करना चाहिए जिसके साथ अन्य सामग्री की प्राप्ति होती है । संस्कारित व्यक्ति को ही दीक्षा दी जाती है। हिंसक ही वस्त्र पहनेंगे तो कैसे अहिंसा पलगी अहिंसक वस्त्र पहने और संस्कारित रहे । ब्रह्मचर्य व्रत सबसे कठिन व्रत है संयम में रहकर ही इस व्रत का पालन करना चाहिए। आदिनाथ के पंच कल्याणक होते हैं ।अधिकांश सूर्य मंत्र एकांत में दिया जाता है । मुख्य आंतरिक क्रियाएं प्रमुख पात्रो के माध्यम से होती है । मंत्र जन्मदिन के दिन धारण करें मुनि श्री प्रभात सागर जी महाराज ने कहा कि छोटे से कार्य से ही बढ़ जाता है पुण्य, पुण्यशाली जीवो का पुण्य तीव्र होता है ।पुण्य ही सब कुछ करता है ,पूजन करते समय परिणामो में संघ किलिस्ता नहीं आना चाहिए ।पहले श्रावकचार पढ़ना चाहिए ।फिर अध्यात्म ग्रंथ पढ़ना चाहिए गुरु से पढ़ना चाहिए शुरुआत में आचार्य का कार्य बहुजन होता है *नीरज वैद्यराज पत्रकार * 07582888100
  22. *सागर* *10-12-2018* *भक्ति अच्छे भाव से करना चाहिए :- * सागर (मध्यप्रदेश) में *सर्वश्रेष्ठ साधक आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के आज्ञानुवर्ती शिष्य* ज्येष्ठ मुनि श्री योग सागर जी, मुनि श्री पवित्र सागर जी, मुनि श्री अभय सागर जी, मुनि श्री प्रयोग सागर जी, मुनि श्री प्रभात सागर जी, मुनि श्री संभव सागर जी, मुनि श्री पूज्य सागर जी, मुनि श्री विमल सागर जी , मुनि श्री अनंत सागर जी, मुनि श्री धर्म सागर जी , मुनि श्री शैल सागर जी, मुनि श्री अचल सागर जी , मुनि श्री अतुल सागर जी , मुनि श्री भाव सागर जी , मुनि श्री निस्सीम सागर जी, मुनि श्री निरीह सागर जी , मुनि श्री शाश्वत सागर जी एवं आर्यिका श्री ऋजुमति माता जी ससंघ आर्यिका श्री उप शांत मति माताजी आर्यिका श्री अनंत मति माताजी और आर्यिका श्री गुण मति माताजी आर्यिका
  23. *सागर* *10-12-2018* *भक्ति अच्छे भाव से करना चाहिए :- * सागर (मध्यप्रदेश) में *सर्वश्रेष्ठ साधक आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के आज्ञानुवर्ती शिष्य* ज्येष्ठ मुनि श्री योग सागर जी, मुनि श्री पवित्र सागर जी, मुनि श्री अभय सागर जी, मुनि श्री प्रयोग सागर जी, मुनि श्री प्रभात सागर जी, मुनि श्री संभव सागर जी, मुनि श्री पूज्य सागर जी, मुनि श्री विमल सागर जी , मुनि श्री अनंत सागर जी, मुनि श्री धर्म सागर जी , मुनि श्री शैल सागर जी, मुनि श्री अचल सागर जी , मुनि श्री अतुल सागर जी , मुनि श्री भाव सागर जी , मुनि श्री निस्सीम सागर जी, मुनि श्री निरीह सागर जी , मुनि श्री शाश्वत सागर जी एवं आर्यिका श्री ऋजुमति माता जी ससंघ आर्यिका श्री उप शांत मति माताजी आर्यिका श्री अनंत मति माताजी और आर्यिका श्री गुण मति माताजी आर्यिका
  24. *सागर* *10-12-2018* *भक्ति अच्छे भाव से करना चाहिए :- मुनिश्री* सागर (मध्यप्रदेश) में *सर्वश्रेष्ठ साधक आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के आज्ञानुवर्ती शिष्य* ज्येष्ठ मुनि श्री योग सागर जी, मुनि श्री पवित्र सागर जी, मुनि श्री अभय सागर जी, मुनि श्री प्रयोग सागर जी, मुनि श्री प्रभात सागर जी, मुनि श्री संभव सागर जी, मुनि श्री पूज्य सागर जी, मुनि श्री विमल सागर जी , मुनि श्री अनंत सागर जी, मुनि श्री धर्म सागर जी , मुनि श्री शैल सागर जी, मुनि श्री अचल सागर जी , मुनि श्री अतुल सागर जी , मुनि श्री भाव सागर जी , मुनि श्री निस्सीम सागर जी, मुनि श्री निरीह सागर जी , मुनि श्री शाश्वत सागर जी एवं आर्यिका श्री ऋजुमति माता जी ससंघ आर्यिका श्री उप शांत मति माताजी आर्यिका श्री अनंत मति माताजी और आर्यिका श्री गुण मति माताजी आर्यिका श्री भावना मति माताजी ससंघ भाग्योदय तीर्थ सागर में विराजमान है पंचकल्याणक महोत्सव में गर्भ कल्याणक के दूसरे दिन के अवसर पर प्रात:काल आर्यिका श्री गुण मति माताजी ने प्रवचन दिए एवं गुरु की महिमा का वर्णन किया ओर कहा कि भारतीय संस्कृति आध्यत्म की रही हैं मुनि श्री योग सागर जी महाराज ने कहा कि हमे भक्ति अच्छे भाव से करना चाहिये मंदिर में फार्मिल्टी नही करना चाहिए इस अवसर पर भारत के विभिन्न नगरों से लोग आ रहे हैं प्रात:काल अभिषेक शांतिधारा विधान एवं शाम को आरती एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम चल रहे हैं। मुनि श्री अभय सागर जी महाराज के केश लोंच भी हुये *प्रेषक*। नीरज वैद्यराज पत्रकार सागर 07582888100
  25.  
×