Jump to content
  • आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज का देश के नाम एक सन्देश


    आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज का देश के नाम एक सन्देश

    • भारत खेत खलिहानों का देश है, कत्लखानों का नहीं, ग्वालों किसानों का देश है, वधिकों का नहीं।
    • केवल क्रूरतम अपराधी को मुत्युदण्ड मिलता है। बूचड़खानों को निरपराध प्राणियों को मूत्युदण्ड देने का अधिकार क्यों मिल रहा है?
    • पश-ुधन हमारी प्राकृतिक धरोहर हैं, इसके विनाश से न तो हरियाली बचेगी, न ही, खुशहाली।
    • विदेशी मुद्रा के लिये दुधारू पशुओं का कत्ल कराके माँस-निर्यात करना और विदेशों से भारत में दूध-पाउडर और गोबर का आयात करना अर्थनीति है, अनर्थनीति है।
    • स्वतन्त्रता दिवस मनाना तभी सार्थक होगा, जब भारत के पशु-पक्षियों को भी जीने की स्वतन्त्रता मिले। क्या हमारा देश केवल मनुष्यों का देश है?
    • पशुओं का शक्तिदायक व स्वास्थ्यवर्धक दूध पीकर उन्हीं का खून करके उनका खून बेचना ‘मातृदेवो भव‘ वाक्य का घोर अपमान है, मातृ-हत्या तुल्य भीषण अपराध है 
    • देश की उन्नति माँस निर्यात करने से असंभव है क्योंकि हिंसा से कमाया गया धन, मन को त्रस्त और तन को अस्वस्थ करता है, ऐसा धन नित नये पनपने वाले रोगों के उपचार पर खर्च हो जाता है, देशोन्नति के लिये नहीं बचता।
    • भारतीय संस्कृति आंतकवाद की पोषक नहीं, अहिंसावाद की पोषक रही है इसलिये माँस-उद्योग लोकतन्त्र का नहीं, लोभतन्त्र का विभाग है। 
    • "एक ओर पर्यावरण की रक्षा के लिए वृक्षारोपण को बढ़ावा देना और दूसरी ओर कत्लखानों में जानवर कटवा कर प्रदूषण फैलाना" ये नीति नहीं, अनीति है।
    • ‘अनुपयोगी' कहकर प्राणियों का नाश देश का विनाश है, क्योंकि कोई प्राणी कभी भी अनुपयोगी नहीं होता ।
    • कत्लखानों को दुग्ध-उत्पादन केन्द्रों में परिवर्तित करने ओैर कसाइयों को ग्वालों मे रूपान्तरित करने से भारत में पुनः दूध-घी की नदियाँ बहेंगी।
    • हमारे राष्ट्रध्वज के तीन वर्ण शान्ति, प्रेम और अंहिसा के प्रतीक है, मांस-निर्यात को बंद करके तिरंगे को कलंकित होने से बचाएँ।

    स्रोत: "गौधानम राष्ट्रवर्धनम " पुस्तक का पृष्ठ 9

    जानिये और जुड़िये आचर्य श्री के मार्ग दर्शन से चल रही विभिन्न जन हित योजनायों से !

    Hindi Bhasha ka Samman Rashtra ka Samman.jpg

    India Hatao Bharat Lao Bhartiya Sanskriti bachao.jpg

     

    Edited by admin



    User Feedback

    Recommended Comments

    ग्लोबल वार्मिंग और जलवायु परिवर्तन के आसन्न संकट के कारण संयुक्त राष्ट्र संघ (UN) विश्व समुदाय को चेतावनी दे रहा है कि अगर मांसाहार नहीं त्यागा गया तो विश्व भीषण गर्मी से सभी बुरी तरह से प्रभावित होंगे.  विश्व पटल पर जियो और जीने दो का सन्देश प्रासंगिक हो रहा है. कई देश शाकाहार/वेगान की और उन्मुख हो रहे है. आस्ट्रेलिया में meatless holidays मनाये जारहे हैं. चीन में मुटापा, केंसर, मधुमेह के बढ़ने के कारण मांसाहार की ५०% कटोती करदी है, US, UK, जर्मनी, फ़्रांस आदि देशों में शाकाहारियों के संख्या बढती जा रही है, तो फिर हम क्यों मांसाहार/माँस-व्यापार को बढ़ावा दे दुनिया में प्रथम स्थान पाने की होड़ में हैं ?  विदेशों में प्राणीरक्षा के लिए वातावरण अनुकूल है. जैन दर्शन ही विश्व को सही राह दिखा सकता है. जिसे आज की भाषा में पर्यावरण संरक्षण कहा जा रहा है वह महावीर का “जियो और जीने दो”  का ही रूप है.

     

    Share this comment


    Link to comment
    Share on other sites


    Join the conversation

    You can post now and register later. If you have an account, sign in now to post with your account.

    Guest
    Add a comment...

    ×   Pasted as rich text.   Paste as plain text instead

      Only 75 emoji are allowed.

    ×   Your link has been automatically embedded.   Display as a link instead

    ×   Your previous content has been restored.   Clear editor

    ×   You cannot paste images directly. Upload or insert images from URL.


×
×
  • Create New...