Jump to content
आचार्य श्री विद्यासागर मोबाइल एप्प डाउनलोड करें | Read more... ×

सागर समाचार

Members
  • Content Count

    39
  • Joined

  • Last visited

My Favorite Songs

Community Reputation

0 Neutral

About सागर समाचार

  • Rank
    Advanced Member

Recent Profile Visitors

The recent visitors block is disabled and is not being shown to other users.

  1. बालक कांपलेक्स सागर मध्य प्रदेश 12/01/2019 *महान होते हैं गुरु-मुनि श्री* सर्वश्रेष्ट साधक आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के आज्ञानुवर्त प्रभावक शिष्य पाठशाला प्रेरक मुनि श्री निर्णय सागरजी महराज एवम मुनि श्री पदम सागर जी महाराज के सानिध्य में संस्कारो को प्राप्त करने के लिये पुरुष और महिलाओ की पाठशाला का प्रारंभ किया गया। मुनि श्री पदम सागर जी महाराज ने आज आचार्य भक्ति का अर्थ बताते हुये आचार्य के गुणों पर प्रकाश डाला ।उन्होंने बताया कि आचार्यो में अनेक गुण होते हैं, जैसे सम्पूर्ण शास्त्रों के जानकार ,स्व और पर को जानने में कुशल,छत्तीस गुणों से सहित,बारह तप ,दश धर्म, पांच आचार्य, छह आवश्यक गुण, तीन गुप्ति ऐसे छत्तीस गुणों से सहित आचार्य की भक्ति करने और संयम को धारण करने से संसार भव सागर से पार हो सकते हैं तथा अपने अष्ट कर्मो को नाश कर सकते हैं।जन्म मरण के दुखों से भी छूट सकते हैं। आज संसार मे सच्चे गुरुओ का मिलना कठिन व दुर्लभ हैं ।वर्तमान में आगम के अनुसार चर्या पालन करने वाले गुरु बड़े पूण्य के योग्य से मिलते हैं। हमें ऐसे गुरुओ का सानिध्य पाकर अपनी आत्मा का कल्याण करना चाहिए।13/01/2019 दिन रविवार को मुनि द्वय के प्रवचन होंगे ,साथ ही पाठशाला के बच्चों द्वारा अभषेक पुजन भी होगा। उसके बाद बच्चों को मिष्टान वितरण होगा।यह भी ज्ञात हो की आज से 15 वर्ष पहले 2005 में मुनि श्री निर्णय सागर जी के सानिध्य में बालक कॉम्प्लेक्स में बच्चों की पाठशाला प्रारम्भ की गई थी,जो कि आज दिनांक तक अनवरत जारी हैं। जैनेतर लोग भी आकर धर्म लाभ ले रहे हैं। आज की धर्मसभा में बंडा, विदिशा, जैसीनगर,आदि नगरों के साथ ही सागर के विभिन्न कालोनी अंकुर कालोनी, नेहा नगर आदि जगहों के लोगो ने श्री फल भेट किया और आशीर्वाद प्राप्त किया। मुनि संघ बालक कांपलेक्स में विराजमान है।कल की आहारचर्या बालक काम्प्लेक्स में ही होगी। नीरज वैद्यराज पत्रकार 07582888100
  2. *अनूठा पंचकल्याणक महोत्सव*20 से 26 जनवरी 2019 *स्थान* श्री 1008 पार्श्वनाथ दिगंबर जैन मंदिर बांदरी जिला सागर (मध्य प्रदेश) *कार्यक्रम स्थल* पुलिस थाना ग्राउंड बांदरी *संभावित सानिध्य* * बाल ब्रह्मचारी संघनायक आचार्य श्री 108 विद्यासागर जी महाराज ससंघ * *मार्गदर्शन* मुनि श्री 108 विमल सागर जी मुनि श्री 108 अनंत सागर जी मुनि श्री 108 धर्म सागर जी मुनि श्री 108 अचल सागर जी मुनि श्री 108 भाव सागर जी महाराज ससंघ एवं आर्यिका श्री 105 अनंत मति माताजी ससंघ आर्यिका श्री 105 भावना मति माताजी सहित 22 आर्यिका *मांगलिक महोत्सव कार्यक्रम* 20 जनवरी 2019-रविवार घट यात्रा ,ध्वजारोहण 21 जनवरी 2019 सोमवारगर्भ कल्याणक पूर्वरूप 22 जनवरी 2019 मंगलवार गर्भ कल्याणक उत्तररूप। 23 जनवरी 2019बुधवार जन्मकल्याणक। 24 जनवरी 2019 गुरुवार तप/दीक्षा कल्याणक 25 जनवरी2019 शुक्रवार ज्ञान कल्याणक 26 जनवरी2018 शनिवार मोक्ष कल्याणक/गजरथ फेरी *प्रतिष्ठाचार्य* प्रतिष्ठा सम्राट प्रतिष्ठा रत्न बाल ब्रह्मचारी विनय भैया जी बंडा *आयोजक* सकल दिगंबर जैन समाज बांदरी जिला सागर (मध्य प्रदेश)कार्यक्रम का प्रसारण जिनवाणी चैनल पर होगा नीरज वैद्यराज पत्रकार 07582888100
  3. *अनूठा पंचकल्याणक महोत्सव* 20 से 26 जनवरी 2019 *स्थान* श्री 1008 पार्श्वनाथ दिगंबर जैन मंदिर बांदरी जिला सागर (मध्य प्रदेश) *कार्यक्रम स्थल* पुलिस थाना ग्राउंड बांदरी *संभावित सानिध्य* बाल ब्रह्मचारी संघनायक आचार्य श्री 108 विद्यासागर जी महाराज ससंघ *मार्गदर्शन* मुनि श्री 108 विमल सागर जी मुनि श्री 108 अनंत सागर जी मुनि श्री 108 धर्म सागर जी मुनि श्री 108 अचल सागर जी मुनि श्री 108 भाव सागर जी महाराज ससंघ एवं आर्यिका श्री 105 अनंत मति माताजी ससंघ आर्यिका श्री 105 भावना मति माताजी सहित 22 आर्यिका *मांगलिक महोत्सव कार्यक्रम* 20 जनवरी 2019-रविवार घट यात्रा ,ध्वजारोहण 21 जनवरी 2019 सोमवारगर्भ कल्याणक पूर्वरूप। 22 जनवरी 2019 मंगलवार गर्भ कल्याणक उत्तररूप। 23 जनवरी 2019बुधवार जन्मकल्याणक। 24 जनवरी 2019 गुरुवार तप/दीक्षा कल्याणक। 25 जनवरी2019 शुक्रवार ज्ञान कल्याणक 26 जनवरी2018 शनिवार मोक्ष कल्याणक/गजरथ फेरी *प्रतिष्ठाचार्य* प्रतिष्ठा सम्राट प्रतिष्ठा रत्न बाल ब्रह्मचारी विनय भैया जी बंडा *आयोजक* सकल दिगंबर जैन समाज बांदरी जिला सागर (मध्य प्रदेश)कार्यक्रम का प्रसारण जिनवाणी चैनल पर होगा नीरज वैद्यराज पत्रकार 07582888100
  4. बांदरी 11-1-2019 *धार्मिक कार्यों में सहयोग करें* *मुनिश्री* बांदरी जिला सागर( मध्यप्रदेश) मे सर्व श्रेष्ठ साधक आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के शिष्य *मुनि श्री विमल सागर जी मुनि श्री अनंत सागर जी मुनि धर्मसागर जी मुनि श्री अचल सागर जी मुनि श्री भाव सागर जी ससंघ एवम आर्यिका श्री अनंत मति माताजी ससंघ एवं आर्यिका श्री भावना मति माता जी आदि 22 आर्यिकाओं के सानिध्य मे आचार्य श्री की पूजन हुई । आर्यिका श्री संवेग मति माताजी ने अपने उद्बोधन में अपने गुरु का गुणगान किया और उन्होंने बताया कि आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज की चर्या हमेशा उत्कृष्ट रही है मुनि श्री भावसागर जी ने कहा कि यहां पर पंचकल्याणक होने वाले हैं आप लोगों को तन मन धन से जुट जाना है । यह किसी एक व्यक्ति का कार्य नहीं है पूरी समाज को मिलकर यह कार्य करना है आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज का भी आगमन होगा, हमें पूर्ण विश्वास है ।मंदिर में छत्र, चमर ,भामंडल एवं मंदिर के पूजन के पात्र अच्छी धातु के होना चाहिए। मंदिर के कार्यों में सभी को सहयोग करना चाहिए। यह पंचकल्याणक ऐतिहासिक होगा।जो धार्मिक कार्यों में विघ्न डालता है उसको बहुत सारी परेशानियां होती हैं। 10 जनवरी को खुरई में आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के दर्शनार्थ पंचकल्याणक के सभी पात्र पहुंचे आचार्य श्री ने प्रसन्नता पूर्वक आशीर्वाद दिया और बांदरी बालों की सराहना की । नीरज वैद्यराज पत्रकार 07582888100
  5. बांदरी 9-1-2019 *पंचकल्याणक के पात्रों का चयन हुआ* बांदरी जिला सागर( मध्यप्रदेश) मे सर्व श्रेष्ठ साधक आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के शिष्य *मुनि श्री विमल सागर जी मुनि श्री अनंत सागर जी मुनि धर्मसागर जी मुनि श्री अचल सागर जी मुनि श्री भाव सागर जी ससंघ एवम आर्यिका श्री अनंत मति माताजी ससंघ के सानिध्य मे आचार्य श्री की पूजन हुई आर्यिका श्री निर्मल मति माताजी ने अपने उद्बोधन में अपने गुरु का गुणगान किया एवं एवं मुनि श्री अचल सागर जी महाराज ने संस्कारों के बारे में विशेष रूप से बताया और दोपहर में पात्रों का चयन श्री पारसनाथ दिगंबर जैन मंदिर बांदरी में संपन्न हुआ संगीत की प्रस्तुति नीलेश जैन बांदरी ने😊 दी भगवान के माता पिता बनने का सौभाग्य श्रीमती ममता जैन ऋषभ जैन बांदरी सौधर्में इंद्र सुदीप जैन बांदरी कुबेर अशोक जैन अध्यक्ष पंचकल्याणक एवं जैन समाज महायज्ञ नायक डॉ. सनत जैन राजा श्रेयांस निर्मल चंद चौधरी राजा सोम अनिल चौधरी बाहुबली अनिल जैन आकाश जैन को प्राप्त हुआ ध्वजारोहण करने अशोक जैन दीप कमल मेडिकल को प्राप्त हुआ यह कार्यक्रम पुलिस थाना ग्राउंड बांदरी में होगा मुनि श्री विमल सागर जी ने कहा कि बांदरी के पारस नाथजी के दर्शन किए ह्रदय गदगद हो गया!अब विशाल प्रतिमा विराजमान होगी जब तक कीर्ति फैलेगी जब तक यह मंदिर रहेगा कीर्ति समाप्त नहीं होती है यहां आप लोगों ने कीर्तिमान बनाया है सारे पात्र महत्वपूर्ण होते हैं अवसर दवे पाव आते हैं और पंख लगा कर उड़ जाते हैं विश्व कल्याण की भावना को लेकर यह पञ्च कल्याणक होना है बांदरी से 108 गांव जुड़े हैं | इस कार्यक्रम में महेश बिलहरा मुकेश जैन ढाना देवेंद्र जैना स्टील अनिल नैंनधरा राजेश रोडलाइंस सागर से आए लोगों ने सहभागिता दी 20 से 26 जनवरी 2019 तक बांदरी में ऐतिहासिक पंचकल्याणक महोत्सव होने जा रहा है यह पंच कल्याणक पुलिस थाना ग्राउंड में आयोजित होगा यह कार्यक्रम प्रतिष्ठाचार्य ब्रहमचारी विनय भैया बंडा के निर्देशन में होगा।** नीरज वैद्यराज पत्रकार * 07582888190
  6. बांदरी 9-1-2019 *पंचकल्याणक के पात्रों का चयन हुआ* बांदरी जिला सागर( मध्यप्रदेश) मे सर्व श्रेष्ठ साधक आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के शिष्य *मुनि श्री विमल सागर जी मुनि श्री अनंत सागर जी मुनि धर्मसागर जी मुनि श्री अचल सागर जी मुनि श्री भाव सागर जी ससंघ एवम आर्यिका श्री अनंत मति माताजी ससंघ के सानिध्य मे आचार्य श्री की पूजन हुई आर्यिका श्री निर्मल मति माताजी ने अपने उद्बोधन में अपने गुरु का गुणगान किया एवं एवं मुनि श्री अचल सागर जी महाराज ने संस्कारों के बारे में विशेष रूप से बताया और दोपहर में पात्रों का चयन श्री पारसनाथ दिगंबर जैन मंदिर बांदरी में संपन्न हुआ संगीत की प्रस्तुति नीलेश जैन बांदरी ने😊 दी भगवान के माता पिता बनने का सौभाग्य श्रीमती ममता जैन ऋषभ जैन बांदरी सौधर्में इंद्र सुदीप जैन बांदरी कुबेर अशोक जैन अध्यक्ष पंचकल्याणक एवं जैन समाज महायज्ञ नायक डॉ. सनत जैन राजा श्रेयांस निर्मल चंद चौधरी राजा सोम अनिल चौधरी बाहुबली अनिल जैन आकाश जैन को प्राप्त हुआ ध्वजारोहण करने अशोक जैन दीप कमल मेडिकल को प्राप्त हुआ यह कार्यक्रम पुलिस थाना ग्राउंड बांदरी में होगा मुनि श्री विमल सागर जी ने कहा कि बांदरी के पारस नाथजी के दर्शन किए ह्रदय गदगद हो गया!अब विशाल प्रतिमा विराजमान होगी जब तक कीर्ति फैलेगी जब तक यह मंदिर रहेगा कीर्ति समाप्त नहीं होती है यहां आप लोगों ने कीर्तिमान बनाया है सारे पात्र महत्वपूर्ण होते हैं अवसर दवे पाव आते हैं और पंख लगा कर उड़ जाते हैं विश्व कल्याण की भावना को लेकर यह पञ्च कल्याणक होना है बांदरी से 108 गांव जुड़े हैं | इस कार्यक्रम में महेश बिलहरा मुकेश जैन ढाना देवेंद्र जैना स्टील अनिल नैंनधरा राजेश रोडलाइंस सागर से आए लोगों ने सहभागिता दी 20 से 26 जनवरी 2019 तक बांदरी में ऐतिहासिक पंचकल्याणक महोत्सव होने जा रहा है यह पंच कल्याणक पुलिस थाना ग्राउंड में आयोजित होगा यह कार्यक्रम प्रतिष्ठाचार्य ब्रहमचारी विनय भैया बंडा के निर्देशन में होगा।** नीरज वैद्यराज पत्रकार * 07582888190
  7. बालक कांपलेक्स सागर मध्य प्रदेश 10/01/2019 *देश धर्म की रक्षा संस्कारो से -मुनि श्री* सर्वश्रेष्ट साधक आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के आज्ञानुवर्त प्रभावक शिष्य पाठशाला प्रेरक मुनि श्री निर्णय सागरजी महराज एवम मुनि श्री पदम सागर जी महाराज के सानिध्य में संस्कारो को प्राप्त करने के लिये पुरुष और महिला की पाठशाला का प्रारंभ किया गया। मुनि श्री निर्णय सागर जी महाराज ने कहा कि किसी भी देश किस सफल संचालन के लिए तीन संसाधन की नितांत आवश्यकता होती है। अनाज सैनिक और संस्कार इनमें से कोई एक कम करना पड़े तो सैनिक के बिना भी काम चल सकता है अनाज जो संस्कार में से भी एक कम करना पड़े तो अनाज के बिना काम चल सकता हैं।जीवन मे संस्कार के बिना कोई भी कम असम्भव हैं।यह भी ज्ञात हो की आज से 15 वर्ष पहले 2005 में मुनि श्री निर्णय सागर जी के सानिध्य में बालक कॉम्प्लेक्स में बच्चों की पाठशाला प्रारम्भ की गई थी,जो कि आज दिनांक तक अनवरत जारी हैं। विगत 20-25 दिनों से बालक कॉम्लेक्स मंदिर में मुनि श्री के सानिध्य में दिनभर संस्कारों की गूंज कालोनी में बनी हुई हैं।केवल सागर नगर के ही नहीं अन्य जगहों में लोग भी आकर धर्म लाभ ले रहे हैं। परम आनंद का विषय है कि कालोनी के जैन लोग ही नही अन्य धर्मों के लोग भी इसका लाभ ले रहे हैं। आज की धर्मसभा में दलपतपुर, शाहपुर आदि नगरों के साथ ही सागर के विभिन्न कालोनी अंकुर कालोनी, नेहा नगर आदि जगहों के लोगो ने श्री फल भेट किया और आशीर्वाद प्राप्त किया। मुनि श्री के मंगल सानिध्य में बालक काम्प्लेक्स में 13 जनवरी 2019 दिन रविवार को भव्य वेदी शिलान्यास का कार्यक्रम आयोजित किया गया है। मुनि संघ बालक कांपलेक्स में विराजमान है नीरज वैद्यराज पत्रकार 07582888100
  8. 🆎 *ए बी जैन न्यूज़ ■ मंगल विहार* ♾♾♾♾♾♾♾♾♾♾ *पूज्य मुनिश्री प्रमाणसागर जी महाराज* *पूज्य मुनिश्री विराटसागर जी महाराज* का हुआ मंगल विहार। मनावर से बाबनगज़ा बड़वानी की ओर। (दूरी 48 किमी) ♾♾♾♾♾♾♾♾♾♾ ■ * नीरज वैद्यराज पत्रकार 075828888100 *
  9. मिश्री 19 निर्णय सागर जी महाराज मुनि श्री पदम सागर जी महाराज बालक कांपलेक्स सागर मध्य प्रदेश में विराजमान है आज की आहार चर्या बालक कंपलेक्स में होगी एवं रविवारी प्रवचन बालक कांप्लेक्स में ही होंगे नीरज वैद्यराज पत्रकार 07582 888 81 0 0
  10. बाहुबली कॉलोनी में विराजमान है मुनि श्री 108 पवित्र सागर जी महाराज एवं मुनि श्री 108 प्रयोग सागर जी महाराज नीरज वैद्यराज पत्रकार 07582888100
  11. पथरिया 04/01/2019 *दया-अहिंसा, परोपकार को जन्म देती है, योगियों की योग्यता का मापदंड ही दया -मुनि श्री* सर्वश्रेष्ट साधक आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के आज्ञानुवर्ती शिष्य* *ज्येष्ठ* *मुनि श्री योग सागर जी*मुनि श्री संभव सागर जी,मुनि श्री पूज्य सागर जी,मुनि शैल सागर जी ,मुनि श्री अनंत सागर जी,मुनि श्री निस्सीम सागर जी,मुनि श्री शाश्वत सागर जी महाराज जी महाराज ससंघ मुनिश्री योगसागर जी महाराज ने शुक्रवार की सुबह मंगल प्रवचन दिए। उन्होंने कहा कि विद्याधर की शुद्ध दया ही अहिंसा महाव्रत में परिणत हुई। जिस प्रकार दूध में घी तैरता है वैसे ही भव्य पुरुष के हृदय में दया स्वाभाविक रूप से तैरती हुई नजर आती है। दया, अहिंसा, परोपकार को जन्म देती है। योगियों की योग्यता का मापदंड दया है। उन्हाेंने कहा बचपन की दया ने विद्याधर को दया का सागर विद्यासागर बना दिया। बचपन में एक बार विद्याधर ने घर के एक कोने में चूहे का एक बड़ा बिल देखा, उसमें नवजात चूहे का बच्चा तड़प रहा था। उसके शरीर पर लाल चीटियां काट रहीं थीं। देखते ही विद्याधर ने शिशु चूहे को अपने हाथों में उठा लिया और एक-एक करके चीटियों को फूंक से उड़ा दिया। वह शिशु चूहा बच गया। उसी समय मां ने देखा और पूछा-क्या कर रहे हो। विद्याधर ने बताया तब मां बोली यह तिर्यंच गति दुख की गति है, इस प्रकार से तिर्यंच जीव संसार में सदा दुःख उठाते हैं। दुखी जीवों पर दया करना अच्छी बात है, किंतु शिक्षा भी लेना चाहिए ऐसी गति में जाने से बचना चाहिए। विद्याधर ने मां को कहा मैं सदा दुखी जीवों को बचाऊंगा और ऐसे कोई कार्य नहीं करूंगा जिससे तिर्यंच गति में जाना पड़े। और शिशु चूहे को ऊंचे स्थान पर रख दिया जिससे अन्य जीव उसे पीड़ा न पहुंचा पाए। उन्होंेने कहा इस प्रकार आज आपके दिव्य शिष्य की प्रेरणा से सैकड़ों गौशालाएं संचालित हो गई हैं। जहां पर कल्त खानों से गौवंश को बचाया गया है। बचपन की दया आज दया का सागर बन गई है। ऐसे अहिंसा के पुजारी गुरूदेव को उन्होंने प्रणाम किया। प्रवचनों के बाद मुनिश्री की पथरिया नगर में आहारचर्या हुइ। इसके बाद दोपहर में दमोह की ओर बिहार हुआ।05/01/2019 को मुनि श्री का मगंल प्रवेश दमोह में होगी नीरज वैद्यराज पत्रकार 07582888109
  12. दया-अहिंसा, परोपकार को जन्म देती है, योगियों की योग्यता का मापदंड ही दया योग सागर जी महाराज पथरिया मुनिश्री योगसागर जी महाराज ने शुक्रवार की सुबह मंगल प्रवचन दिए। उन्होंने कहा कि विद्याधर की शुद्ध दया ही अहिंसा महाव्रत में परिणत हुई। जिस प्रकार दूध में घी तैरता है वैसे ही भव्य पुरुष के हृदय में दया स्वाभाविक रूप से तैरती हुई नजर आती है। दया, अहिंसा, परोपकार को जन्म देती है। योगियों की योग्यता का मापदंड दया है। उन्हाेंने कहा बचपन की दया ने विद्याधर को दया का सागर विद्यासागर बना दिया। बचपन में एक बार विद्याधर ने घर के एक कोने में चूहे का एक बड़ा बिल देखा, उसमें नवजात चूहे का बच्चा तड़प रहा था। उसके शरीर पर लाल चीटियां काट रहीं थीं। देखते ही विद्याधर ने शिशु चूहे को अपने हाथों में उठा लिया और एक-एक करके चीटियों को फूंक से उड़ा दिया। वह शिशु चूहा बच गया। उसी समय मां ने देखा और पूछा-क्या कर रहे हो। विद्याधर ने बताया तब मां बोली यह तिर्यंच गति दुख की गति है, इस प्रकार से तिर्यंच जीव संसार में सदा दुःख उठाते हैं। दुखी जीवों पर दया करना अच्छी बात है, किंतु शिक्षा भी लेना चाहिए ऐसी गति में जाने से बचना चाहिए। विद्याधर ने मां को कहा मैं सदा दुखी जीवों को बचाऊंगा और ऐसे कोई कार्य नहीं करूंगा जिससे तिर्यंच गति में जाना पड़े। और शिशु चूहे को ऊंचे स्थान पर रख दिया जिससे अन्य जीव उसे पीड़ा न पहुंचा पाए। उन्होंेने कहा इस प्रकार आज आपके दिव्य शिष्य की प्रेरणा से सैकड़ों गौशालाएं संचालित हो गई हैं। जहां पर कल्त खानों से गौवंश को बचाया गया है। बचपन की दया आज दया का सागर बन गई है। ऐसे अहिंसा के पुजारी गुरूदेव को उन्होंने प्रणाम किया। प्रवचनों के बाद मुनिश्री की पथरिया नगर में आहारचर्या हुइ। इसके बाद दोपहर में दमोह की ओर बिहार हुआ। संकलन अभिषेक जैन लुहाडीया रामगंजमंडी
  13. बांदरी* *4-1-2019* *चिकित्सा के लिए अध्यात्म है* बांदरी जिला सागर( मध्यप्रदेश) मे *सर्व श्रेष्ठ साधक आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज* के शिष्य *मुनि श्री विमल सागर जी मुनि श्री अनंत सागर जी मुनि श्री धर्म सागर जी मुनि श्री अचल सागर जी मुनि श्री भाव सागर जी ससंघ एवम आर्यिका श्री अनंत मति माताजी ससंघ के सानिध्य मे आचार्य श्री की पूजन हुई और 20 से 26 जनवरी 2019 तक बांदरी में ऐतिहासिक पंचकल्याणक महोत्सव संपन्न होने जा रहा है जिसमें मुनि श्री विमल सागर जी महाराज ससंघ एवं आर्यिका श्री अनंत मति माताजी ससंघ 22 माताजी का सानिध्य प्राप्त होगा एवं आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के सानिध्य के लिए प्रयास जारी है धर्म सभा को संबोधित करते हुए आर्यिका श्री अनंत मति माताजी ने कहा कि पंचकल्याणक होने वाला है मुनि श्री विमल सागर जी मे आचार्य श्री जी की ऊर्जा प्रत्येक आत्म प्रदेश में समाहित है पंच बालयति मुनि राजो में वही ऊर्जा सांचारित हो रही है महान महोत्सव संपन्न होना है तैयारियां चल रही है। अपनी भक्ति और श्रद्धा को बढ़ा रहे हैं। हमारा जीवन धन्य हो जाए। गुरुदेव के चरण हमारे नगर में पड़े ऐसी भक्ति हम बढ़ाएं। ऐसी विशुद्धि और भक्ति बढ़ाते जा रहे हैं कि गुरुदेव के दर्शन अति शीघ्र हों। गुरुदेव के चरणों मे हमारी भक्ति पहुंच जाए।आचार्य श्री का समवसरण आ जाए।आचार्य श्री चाहे गर्मी हो ठंड हो या बरसात हो एक समान रहते है। हम गुरुदेव के छोटे से सेवक हैं । मुनि श्री विमल सागर जी ने कहा कि आचार्य भगवन की हमारे ऊपर महती कृपा हुई है । मन की चिकित्सा के लिए अध्यात्म ग्रंथों की रचना हुई। कुछ लोग जीवन से ज्यादा धन को महत्व देते हैं। जिसको जो मिला है उससे संतुष्टि नहीं होती है। पड़ोसी का मकान वैभव देखकर आपको ज्यादा तकलीफ होती है। एक दृश्टान्त देते हुए बताया कि व्यक्ति की इच्छाएं ज्यादा रहती है लेकिन मिलता नहीं है। लोभ कषाय ऐसी बैठी रहती है कि व्यक्ति जानता है कि सब कुछ छोड़ना है लेकिन फिर भी जोड़ता रहता है। धन की तीन गति होती हैं दान भोग और नाश जो अपने साथ पुण्य रूपी धन ले जाये वही सही माना जाता है। प्रतिष्ठाचार्य ब्रहमचारी विनय भैया बंडा के निर्देशन मे पंच कल्याणक समिति का गठन किया गया। जिसमें अध्यक्ष अशोक जैन को बनाया गया और भी पदाधिकारियों को पद दिए गए। चौबीसी त्रिमूर्ति श्री आदिनाथ जी श्री भरत जी बाहुबली जी आदि प्रतिमाओं को विराजमान करने की स्वीकृति बहुत से लोगो ने दी मध्य प्रदेश के ग्रामोद्योग कैबिनेट मंत्री श्री हर्ष यादव जी ने मुनि श्री के दर्शन किये और उन्होंने कहा की मुनि श्री के आशीर्वाद से मुझे जीत हासिल हुई हैं। पहली बार विधायक बने तो मुनि श्री का चातुर्मास देवरी मे था और इस बार गौरझामर मैं चातुर्मास था मुनि श्री के आशीर्वाद से ही ये जीत हाशिल हुई है पंचकल्याणक महोत्सव में एवं गौशाला में सहयोग करेंगे यह उन्होंने कहा *प्रेषक* नीरज वैद्यराज पत्रकार 07582888100
  14. भाग्योदय तीर्थ सागर 1 जनवरी 2019 *सर्वश्रेष्ठ साधक आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के आज्ञानुवर्ती शिष्य* *ज्येष्ठ* *मुनि श्री योग सागर जी*, मुनि श्री संभव सागर जी,मुनि श्री पूज्य सागर जी, मुनि श्री शैल सागर जी, मुनि श्री अतुल सागर जी , मुनि श्री निस्सीम सागर जी, मुनि श्री शाश्वत सागर जी महाराज का बिहार भाग्योदय तीर्थ सागर से दमोह की ओर हुआ *आज का रात्रि विश्राम* चनाटोरिया में होगा। ................ *आर्यिका* श्री अकंप मति माताजी आर्यिका श्री उपशांत मति माताजी का बिहार *भाग्योदय* तीर्थ से हुआ *रात्रि विश्राम* गोपालगंज *आगामी प्रवास* सुर्खी, गौरझामर, देवरी। ......................... *मुनि श्री विमल सागर जी,* मुनि श्री अनंत सागर जी, मुनि श्री धर्म सागर जी, मुनि श्री अचल सागर जी, मुनि श्री भाव सागर जी महाराज अभी भाग्योदय तीर्थ सागर में विराजमान है कल प्रातः काल मुनि श्री ससंघ का कल प्रातः काल बिहार होने की *संभावना* है। आहार चर्या 14 किलोमीटर दूर होगी। *मंगल प्रवेश* कल दिनांक 2 जनवरी 2019 को बांदरी में होगा ( *संभावित* ) बांदरी में 20से 26 जनवरी 2019 को *पंचकल्याणक महोत्सव* होना है मुनि श्री के सानिध्य में (संभावित) .............. *मुनि श्री पवित्र सागर जी* मुनि श्री प्रयोग सागर जी महाराज भाग्योदय तीर्थ सागर में विराजमान है। ............. *प्रेषक* -: नीरज वैद्यराज पत्रकार 07582236392 97582888100
  15. सागर 28/12/2018 *नेगेटिव विचारों से रोग बढ़ता है - मुनि श्री* सागर (मध्यप्रदेश )में र *सर्वश्रेष्ठ साधक आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के आज्ञानुवर्ती शिष्य* *ज्येष्ठ* *मुनि श्री योग सागर जी*, मुनि श्री पवित्र सागर जी, मुनि श्री प्रयोग सागर जी, मुनि श्री संभव सागर जी,मुनि श्री पूज्य सागर जी, मुनि श्री विमल सागर जी ,मुनि श्री अनंत सागर जी, मुनि श्री धर्म सागर जी , मुनि श्री शैल सागर जी, मुनि श्री अचल सागर जी , मुनि श्री अतुल सागर जी , मुनि श्री भाव सागर जी , मुनि श्री निस्सीम सागर जी, मुनि श्री शाश्वत सागर जी एवं आर्यिका श्री ऋजुमति माता जी ससंघ आर्यिका श्री गुण मति माताजी ससंघ आर्यिका श्री अनंत मति माताजी ससंघ, आर्यिका श्रीउपशांत मति माताजी ससंघ आर्यिका श्री अकंप मति माताजी ससंघ आर्यिका भावना मति माताजी ससंघ 14 मुनिराज एवं 49 आर्यिकाओ के सानिध्य में आचार्य श्री की पूजन हुई एवं धर्म सभा को संबोधित करते हुए मुनि श्री शैल सागर जी ने कहा कि मोह रूपी मल्ल को जिन्होंने मार दिया है । ऐसे प्रभु के चरणों में नमस्कार करते हैं । चरणों का उपयोग किए बिना शिखर का स्पर्शन संभव नहीं है । धर्म आस्था का विषय है । एक बार भोजन करते हैं मुनिराज गर्मी ठंड सहन करते हैं धर्म के ऊपर आस्था है तभी तो यह तप करते है । व्यक्ति यदि सोच ले कि मुझे कोई रोग नहीं है तो डॉक्टरों को भी मानना पड़ेगा । नेगेटिव विचारों से भी रोग बढ़ता है और गलत प्रभाव पड़ता है । एक कैंसर का रोगी था डॉक्टर ने मना कर दिया लेकिन वह 15 वर्ष जिया उसने कहा मैंने मन को बस में कर लिया था । आज भगवान की भक्ति के लिए ही समय नहीं मिलता है । मुनि श्री योग सागर जी ने कहा कि आस्था के अभाव में आत्मा का कल्याण नहीं धर्म के लक्षणों को समझेंगे तभी सही मार्ग पर चल सकेगे । हमारा तुम्हारा जहां होता है वहां राग देश होते हैं । भगवान का नाम हमेशा लेते रहना चाहिए चाहे सुख हो या दुख । जिस सुख के बाद दुख प्राप्त ना हो ऐसा सुख प्राप्त करें । जैसे अमेरिका नहीं देखा है लेकिन आस्था तो है। हर किसी की बातों में नहीं आना चाहिए । अच्छे कार्य करने वालों की प्रशंसा करें धर्म के क्षेत्र में कंपटीशन नहीं करें। कृत कारित अनुमोदना करना चाहिए । भोजन से पूर्व भावना भाये सभी के भोजन अच्छे से हो । नीरज वैद्यराज पत्रकार 07582236392 07582888100
×