Jump to content
मेरे गुरुवर... आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज
  • 🌷🌷🌷जीवन 🌷🌷🌷

       (0 reviews)

    🌷🌷🌷जीवन 🌷🌷🌷

     

    सुख-दुख, दुख-सुख, साथ चलेगे

    जीवन नित भरमायेगा,

    दो पल का भी नहीं ठिकाना,

    कौन सदा जी जायेगा...

     

    थोड़ा हँसले, थोड़ा रोले,

    संग न कुछ भी जाएगा,

    माटी का तन, नश्वर जीवन,

    माटी में मिल जाएगा...

     

    अगले पल का नहीं ठिकाना,

    कौन कूच कर जाएगा,

    आना-जाना लगा रहेगा,

    नित नूतन तन पायेगा...

     

    धरम शरण है, धर्म मार्ग है,

    शाँति यहीं बस पायेगा,

    धन-वैभव सब पड़ा रहेगा,

    तन माटी बन जायेगा।।

     

    सादर

    🙏🙏🙏

    अभिषेक जैन 'अबोध'


    User Feedback

    Create an account or sign in to leave a review

    You need to be a member in order to leave a review

    Create an account

    Sign up for a new account in our community. It's easy!

    Register a new account

    Sign in

    Already have an account? Sign in here.

    Sign In Now

    There are no reviews to display.


×
×
  • Create New...