Jump to content

Landmarc Films

Members
  • Content Count

    77
  • Joined

  • Last visited

  • Days Won

    1
My Favorite Songs

Landmarc Films last won the day on October 24 2018

Landmarc Films had the most liked content!

Community Reputation

5 Neutral

About Landmarc Films

  • Rank
    Advanced Member

Recent Profile Visitors

The recent visitors block is disabled and is not being shown to other users.

  1. कानपुर में संयम स्वर्ण महोत्सव के अवसर पर संपन्न हुई आचार्य विद्यासागर जी पर आधारित ‘विद्योदय’ स्क्रीनिंग की कुछ झलकियाँ।
  2. चाहे नर हो या नारी, बुज़ुर्ग हो या बालक, सभी आचार्य श्री से प्रभावित व प्रेरित होते हैं। VOXPOP_ 6.mp4
  3. सच है, भगवान् महावीर के मार्ग पर चलने वाले स्वयं महावीर जैसे ही बन जाते हैं। VOXPOP_ 5.compressed.mp4
  4. सच है, भगवान् महावीर के मार्ग पर चलने वाले स्वयं महावीर जैसे ही बन जाते हैं। VOXPOP_ 4.mp4
  5. अहिंसा व प्राणि मात्र के कल्याण का संदेश देने वाले आचार्य श्री सर्वोत्कृष्ट मानवता के प्रतीक हैं। VOXPOP_ 4.mp4
  6. कलियुग में सत्युग जैसी आचार्य श्री की चर्या अद्भुत व अलौकिक है। VOXPOP_ 3.mp4
  7. कहते हैं कि आदर्श चारित्र वाले पुरुष स्वयं भगवान् बन जाते हैं। VOXPOP_ 2.mp4
  8. जबलपुर में संयम स्वर्ण महोत्सव के अवसर पर संपन्न हुई आचार्य विद्यासागर जी पर आधारित ‘विद्योदय’ स्क्रीनिंग की कुछ झलकियाँ।
  9. आचार्य श्री की स्तुति करते हुए शब्द ही कम पड़ जाते हैं। इतना ऊँचा है उनका व्यक्तित्व। VOXPOP_ 1.compressed.mp4
  10. गहरी सोच और गहरे सच को अल्प शब्दों में समझाने के लिए हाइकु के अलावा अन्य कौन सी कविता शैली है? हम मैत्री व एकता से मानव-जाति की सभी समस्याओं का हल निकाल सकते हैं, हमें यह बात सिखाने के लिए विश्व-संत आचार्य श्री को सादर प्रणाम।
  11. हैद्राबाद में संयम स्वर्ण महोत्सव के अवसर पर संपन्न हुई आचार्य विद्यासागर जी पर आधारित ‘विद्योदय’ स्क्रीनिंग की कुछ झलकियाँ।
  12. कठोर हिंसात्मक संसार के मध्य में कोमल प्रेम-मय संगीत का आनन्द अलग ही है... अनेक संभव अर्थों से युक्त आचार्य श्री के इस हाइकु का अर्थ आप क्या निकालते हैं?
  13. ग्वालियर में संयम स्वर्ण महोत्सव के अवसर पर संपन्न हुई आचार्य विद्यासागर जी पर आधारित ‘विद्योदय’ स्क्रीनिंग की कुछ झलकियाँ।
  14. तीनों पंक्तियों के अन्त में ‘काट’ दर्शाने वाली आचार्य श्री की यह हाइकु कविता क्या आपको भी अतीत को भूलने की, सकारात्मकता से आगे बढ़ने की अथवा अपने चुने हुए मार्ग पर चलते रहने की प्रेरणा देती है?
  15. भायंदर, महाराष्ट्र में आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज की संयम यात्रा पर आधारित वृत्तचित्र 'विद्योदय' का आनंद लेते हुए दर्शक गण।
×
×
  • Create New...