Jump to content

सन्मति जैन

Members
  • Content Count

    5
  • Joined

  • Last visited

My Favorite Songs

Community Reputation

1 Neutral

About सन्मति जैन

  • Rank
    Newbie

Personal Information

  • location
    Itarsi

Recent Profile Visitors

The recent visitors block is disabled and is not being shown to other users.

  1. यह पत्र एक भक्त ने अपने देवता को बड़े ही भाव से लिखा है आशा है यह पत्र उस देवता तक पहुंच जाए।। ●●▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬●● प्रेष्य *आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज* मु•पो• सागर (मध्यप्रदेश) भारत 🙏🙏🙏🙏 प्रेषक *डॉ • विद्या जैन* इटारसी विश्व🌎 के अनूठे आश्चर्यहो आप, यह क्या कर रहे हो, प्रकृति🌋 की रोद्रता को यूं कुचल🦶🏻 रहे हो आप। यह मत भूलो मेरे देवता, की आप विश्व🌎की धरोहर हो, पुरातत्व की तरह हमारा अधिकार बना रहने दो, धरा के देवता।। ●●▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬●●
  2. फिर उठी मेरी कलम🖊 लिख डाली इस युग की रामायण जिसमें वितरागी श्री राम:- *आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज* एवम् शबरी :- *गणनी प्रमुख ज्ञान मती माताजी* के रूप में ।। ✒ *डॉ विद्या जैन* 🖊 शबरी श्री राम से मिलने आई, श्रद्धा के बेर🍈 झोली भर लाई, चंदना ने भर👁 नेत्र👁 वीर को देखा, दिया था आहार खिची 📏स्मरती रेखा, न जाने कब होंगे 🙏दर्श🙏 दुबारा, स्मरती पटल का खुला है ⛩द्वारा⛩, 🦵🦵बिहार🦵🦵 करने का मन नहीं होता, 👣चरणों 👣में बैठें यही शांति का श्रोता, सरिताए सिंधु में ही मिलती हैं, 🌅प्रातः काल 🌄की 🌷कलियां🌷 खिलती है, 🌍प्रथ्वी🌎 के दो छोर मिलन की बेला🕰, युग इतिहास लिखेगा अद्भुत था यह 🎡मेला🎢।। कवित्री:- **डॉ विद्या जैन* *इटारसी** *निवेदन* :- इस कविता को बीना काट झाट कर इतने आगे बढ़ाए ताकि एक भक्त कि भक्ति इस कविता के रूप में गुरु तक पहुंच जाए।। 🙏🙏🙏🙏
  3. गुरुजी ने कल जो लीला दिखलाई उसे देखकर मेरा मन प्रफुल्लित हो उठा और उठी कलम✒ लिख डाली कुछ पंक्तियां।। *डॉ ० विद्या मैडम🖊 (इटारसी)* आज पुनः रामायण दुहराई, बिन मांगे नाव🛶 शरण में आई, चौदह 💰करोड़💵 का लालच छोडा , हुआ अहिंसक 🐄मन को मोड़ा, राम ने अहिल्या 🛶उपल की कीनी, तुमने 🙏नाव अहिंसक किनी।। दोहा:- देवगढ़ में चरण👣 पखारे आपके फिर बैठाया 🛶नाव, नदी 🚤नाव संयोग है आए मुंगावली गांव।। लेखिका:- डॉ ० *विद्या जैन* (रेट. प्रोफेसर) इटारसी(म. प्र) *निवेदन* :- 🙏यह कविता *मुंगावली जैन समाज* के लिए है एवम् अगर आप चाहे तो यह बात गुरुजी तक पहुंचाए।। यह कविता में संशोधन करके गुरु के प्रति मेरी भावना को ठेस न पहुचाएं।।
×
×
  • Create New...