Jump to content
मेरे गुरुवर... आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज

Chirag Jain (Neemuch)

Members
  • Posts

    11
  • Joined

  • Last visited

Personal Information

  • location
    L-210, (Near Pankaj Provision), Indira Nagar, Neemuch

Recent Profile Visitors

The recent visitors block is disabled and is not being shown to other users.

Chirag Jain (Neemuch)'s Achievements

Newbie

Newbie (1/14)

0

Reputation

  1. इस सूत्र में ( सूत्र १६ , अध्याय १ ) में एक सुधार कर दीजिए। यह धुवाणां नहीं, ध्रुवाणां आएगा ।
  2. बहुत ही बढ़िया प्रयास है , घर बैठे स्वाध्याय करवाने का।
  3. आचार्य श्री आदमी को संबोधित करते हुए कहते हैं कि ऊधम करना अर्थात व्यर्थ में ही उद्दंडता का प्रदर्शन करना हेय (छोड़ने योग्य) है| इसकी बजाय हम पुरुषार्थ करे और दमी मी (मेहनती) बने |
×
×
  • Create New...