Jump to content
आचार्य श्री विद्यासागर मोबाइल एप्प डाउनलोड करें | Read more... ×

subodh patni

Members
  • Content Count

    33
  • Joined

  • Last visited

My Favorite Songs

Community Reputation

12 Good

1 Follower

About subodh patni

  • Rank
    Advanced Member

Personal Information

  • location
    'ABHINANDAN' 3 Gh Vaishali nagar AJMER ( RAJASTHAN )

Recent Profile Visitors

The recent visitors block is disabled and is not being shown to other users.

  1. subodh  patni

    गुरुवर का सहारा सदा चाहिए

    जीवन उसी का सफल है जिसे गुरु का सहारा मिले आशीष मिले
  2. अधिकांश प्रश्नों के उत्तर आपके द्वारा बताए गए माध्यम से ज्ञात हो गए लेकिन फिर भी कुछ प्रश्न समझ नहीं आए आपका प्रयास बहुत ही सराहनीय है जय जिनेंद्र
  3. I just completed this quiz. My Score 40/100 My Time 33 seconds  
  4. नमोस्तु गुरुवर आचार्य श्री के चरणों में शत शत नमन
  5. I just completed this quiz. My Score 80/100 My Time 48 seconds  
  6. I just completed this quiz. My Score 80/100 My Time 227 seconds  
  7. I just completed this quiz. My Score 40/100 My Time 134 seconds  
  8. subodh  patni

    अर्हम् योग एवं ध्यान प्रतियोगिता

    I just completed this quiz. My Score 75/100 My Time 291 seconds  
  9. ऐसे जुड़ो कि हम बेजोड़ हो जाएं बचपन में हमने सभी ने एक लघु कथा सुनी थी उसमें एक गरीब किसान के 5:00 पुत्र थे उसने अपने अंतिम समय में पांचों को बुलाकर एक एक लकड़ी लाने को कहा और फिर एक एक को तोड़ने के लिए कहा तो वह लकड़ियां आसानी से टूट गई किसान ने फिर पांचों पुत्रों को एक एक लकड़ी लाने को कहा और बड़े पुत्र को इन लकड़ियों को रस्सी से बांधने को कहा फिर पांचों पुत्रों को बारी बारी से तोड़ने के लिए कहा अब वह लकड़ियां तोड़ना संभव नहीं था यही संदेश आचार्य श्री इस हाइकु के माध्यम से शायद देना चाहते हैं जय जिनेंद्र
  10. प्रतियोगिता में भाग लेकर बहुत अच्छा लगा ज्ञान का वर्धन हुआ मैंने 80 अंक प्राप्त किए धन्यवाद जय जिनेंद्र
  11. I just completed this quiz. My Score 80/100 My Time 52 seconds  
    पंचम काल में साक्षात समवशरण दर्शन शायद अरिहंत परमेष्ठी का समवशरण भी ऐसा ही होता होगा ऐसा प्रतीत होता है गुरुवर के चरणों में सादर परिवार सहित बारंबार नमोस्तु
×