Jump to content
मेरे गुरुवर... आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज

subodh patni

Members
  • Posts

    33
  • Joined

  • Last visited

1 Follower

Personal Information

  • location
    'ABHINANDAN' 3 Gh Vaishali nagar AJMER ( RAJASTHAN )

Recent Profile Visitors

The recent visitors block is disabled and is not being shown to other users.

subodh patni's Achievements

Newbie

Newbie (1/14)

12

Reputation

  1. जीवन उसी का सफल है जिसे गुरु का सहारा मिले आशीष मिले
  2. ऐसे जुड़ो कि हम बेजोड़ हो जाएं बचपन में हमने सभी ने एक लघु कथा सुनी थी उसमें एक गरीब किसान के 5:00 पुत्र थे उसने अपने अंतिम समय में पांचों को बुलाकर एक एक लकड़ी लाने को कहा और फिर एक एक को तोड़ने के लिए कहा तो वह लकड़ियां आसानी से टूट गई किसान ने फिर पांचों पुत्रों को एक एक लकड़ी लाने को कहा और बड़े पुत्र को इन लकड़ियों को रस्सी से बांधने को कहा फिर पांचों पुत्रों को बारी बारी से तोड़ने के लिए कहा अब वह लकड़ियां तोड़ना संभव नहीं था यही संदेश आचार्य श्री इस हाइकु के माध्यम से शायद देना चाहते हैं जय जिनेंद्र
  3. प्रतियोगिता में भाग लेकर बहुत अच्छा लगा ज्ञान का वर्धन हुआ मैंने 80 अंक प्राप्त किए धन्यवाद जय जिनेंद्र
    पंचम काल में साक्षात समवशरण दर्शन शायद अरिहंत परमेष्ठी का समवशरण भी ऐसा ही होता होगा ऐसा प्रतीत होता है गुरुवर के चरणों में सादर परिवार सहित बारंबार नमोस्तु
  4. जय जिनेंद्र सभी साधर्मिक बंधुओं को 1008 श्री महावीर स्वामी के जन्म कल्याणक महोत्सव की हार्दिक शुभकामना
  5. अति उत्तम संग्रह करने योग्य कोटेशन है संकलनकर्ता को बहुत-बहुत साधुवाद
  6. गुरुवर के चरणों में बारंबार नमोस्तु
×
×
  • Create New...