Jump to content
मेरे गुरुवर... आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज

Aashika jain

Members
  • Posts

    295
  • Joined

  • Last visited

  • Days Won

    17

Aashika jain last won the day on August 5

Aashika jain had the most liked content!

Personal Information

  • location
    Indore

Recent Profile Visitors

2,339 profile views

Aashika jain's Achievements

Apprentice

Apprentice (3/14)

  • First Post Rare
  • Collaborator Rare
  • Week One Done Rare
  • One Month Later Rare
  • One Year In Rare

Recent Badges

84

Reputation

  1. यह जीवन भी तभी सार्थक हो पायेगा, जब गुरु का साथ, सदैव के लिए मिल जाएगा।
  2. बंजर में भी फसलें उग आएं रेगिस्तान में फूल खिल जाएं अंधेरे में भी रास्ते निकल आए जब साथ सिर्फ गुरु का मिल जाएँ।
  3. गुरु की छत्रछाया में, कटे सारा यह जीवन, गुरु ही माता - पिता है, गुरु ही मेरे है भगवन्।।
  4. हज़ारों गम हैं इस दिल मे, पर गुरु का भक्त खुश, रहता है हर महफ़िल में।।
  5. संकट में जो हँसना सिखाये पग-पग पर परछाई सा साथ निभाये, जिसे देख आदर से सिर झुक जाये वही हमारे सच्चे गुरु कहलाये।।
  6. गुरु के रूप में आपने लिया जो अवतार है , आपके कृपा से ही तो भगवंत हुआ मेरा बेड़ा पार है..
  7. दामन फैलाएं बैठे हैं, अल्फ़ाज़ कुछ याद नहीं, मांगू तो क्या मांगू गुरुवर?... आपके सिवा और कुछ याद नहीं।।
  8. सारे दुख दर्द , हर लेंगे एक बार में, जाकर तो देखो मेरे, गुरु के दरबार में।।
  9. जन्मों जन्म तक गुरुवर, आपके ही गुण गाऊँ , आप ही की भक्ति से, अपना जीवन सहज बनाऊँ ।।
  10. गुरु बसे हैं रोम रोम में, इसलिए मेरे चेहरे पर नूर है, मेरे लिए तो मेरे गुरु ही , हीरे और वो ही कोहीनूर है।
  11. बिन मांगे मेरी हर मन्नत जहाँ पूरी होती है, गुरु के चरणों में ही तो असली जन्नत होती है।।
  12. गुरु का महत्व जीवन में सबसे ज्यादा होता है, गुरु के बिना जीवन का, कहाँ महत्व होता है!!!
  13. संतो के शिरोमणि बुद्धि के हीरामणि, आप ही हमारे सरताज हो, क्या लिखूँ मैं आपके बारे मे, आप तो भगवान के रूप में, महा मुनिराज हो।।
  14. कलम क्या बयाँ करेगी ज़ज़्बात हमारे , हमारा तो रोम रोम गुरुदेव को पुकारे।।
  15. गुरु के ही दम पर, सफर हमारा जारी है, भटक न जाएं कहीं यह , आपकी ही ज़िम्मेदारी है।।
×
×
  • Create New...