Jump to content
मेरे गुरुवर... आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज


Lyric: चलो हम वृक्ष लगायें, सभी मिल वृक्ष बचायें वृक्षारोपण महोत्सव विशेष
हरियाली विनयांजलि

संकट में सबके प्राण,करो हरियाली का निर्माण
चलो हम वृक्ष लगायें, सभी मिल वृक्ष बचायें
ज्ञानी संतों का है आव्हान,हमारी संस्कृति की पहचान
चलो हम वृक्ष लगायें, सभी मिल वृक्ष बचायें

प्राण वायु को शुद्ध बनाने, हरियाली है सर्वोत्तम
ज़हर हवाओं में जो फैला, दूर हटाने में सक्षम
विश्व खतरों से है अंजान,
हरित क्रांति का हो सम्मान... चलो हम....(1)

फल भी देते,फूल भी देते, रोग शोक का नाश करें
गिनत अनगिनत जीव जंतु इन वृक्षों में ही निवास करें
बने कितने ही सिद्ध महान
तरू की छाया में कर ध्यान....चलो हम....(2)

पर्यावरण संतुलित होगा, तभी बचेगा जन जीवन
पानी आने और रुक जाने, वृक्ष बना है संजीवन
वृक्ष है कुदरत का वरदान,
वृक्ष है ज्ञान वृक्ष विज्ञान....चलो हम.... (3)

हरा भरा इस धरा को करने, आओ हम संकल्प करें
जियो और जीने दो सबको, इसी मंत्र का कल्प करें
वृक्ष से जीव जगत कल्याण,
स्व पर हित आओ करें श्रमदान...चलो हम.(4)

संकट मे सबके प्राण, करो हरियाली का निर्माण
चलो हम वृक्ष लगाऐं,सभी मिल वृक्ष बचाऐं
ज्ञानी संतों का है आव्हान, हमारी संस्कृति की पहचान
चलो हम वृक्ष लगायें, सभी मिल वृक्ष बचायें
चलो हम वृक्ष लगायें, सभी मिल वृक्ष बचायें
चलो हम वृक्ष लगायें, सभी मिल वृक्ष बचायें

1 Comment

Vidyasagar.Guru
Rating
  (0)
Listened
853
Downloads 5
Comments 1
×
×
  • Create New...