Jump to content


1 Comment

नमोस्तु आचार्य श्री...😊 

शीर्षक - 

1. स्वाभाविक आलोक किसी से आहत/मन्द नहीं होता।

2. अपने उपयोग को समता में रखने का प्रयास करें। 

3. वर्तमान के ज्ञान को श्रद्धान के साथ रखने से वह वरदान सिद्ध होता है।

4. जो मिला है उसका सदुपयोग करें। 

इस प्रकार गुरु जी ने दीपक को रत्न दीप की ओर ले जाने के लिए मार्मिक उद्बोधन दिया... जो सभी के लिए कल्याणकारी सिद्ध हो, इसी भावना के साथ गुरूदेव के चरणों में बारम्बार नमोस्तु...

  • Thanks 1

Share this comment


Link to comment
Share on other sites
Guest
Write a comment

×   Pasted as rich text.   Paste as plain text instead

  Only 75 emoji are allowed.

×   Your link has been automatically embedded.   Display as a link instead

×   Your previous content has been restored.   Clear editor

×   You cannot paste images directly. Upload or insert images from URL.

Vidyasagar.Guru
Rating
  (0)
Listened
885
Downloads 9
Comments 1
×
×
  • Create New...