Jump to content
मेरे गुरुवर... आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज
  • मूकमाटी पृष्ठ 306

       (0 reviews)

     

    कुछ भी नहीं है।

    मूलभूत पदार्थ ही

    मूल्यवान होता है।

    धन कोई मूलभूत वस्तु है ही नहीं

    धन का जीवन पराश्रित है।

    पर के लिए है, काल्पनिक!

     

    हाँ! हाँ!!

    धन से अन्य वस्तुओं का

    मूल्य आँका जा सकता है

    वह भी आवश्यकतानुसार

    कभी अधिक कभी हीन

    और कभी औपचारिक,

    और यह सब

    धनिकों पर आधारित है।

    धनिक और निर्धन-

    ये दोनों

    वस्तु के सही-सही मूल्य को

    स्वप्न में भी नहीं आँक सकते,

    कारण,

    धन-हीन दीन-हीन होता है प्रायः

    और

    धनिक वह

    विषयान्ध, मदाधीन!!

     

    उपहार के रूप में भी

    राशि स्वीकृत नहीं हुई तब,

    सेवक ने शिल्पी की सादर

    धन के बदले में धन्यवाद दिया

    और

    चल दिया घर, कुम्भ ले सानन्द!

     

    Is nothing at all.

    Only the basic object

    Is valuable indeed.

    Money is really none of the fundamental things

    The life of the money begs dependence -

    An imaginary existence, it is meant for the others !

     

    Yes! yes !!

    The prices of the other things

    May be evaluated by the money

    That too, according to the need,

    At times more, at times less,

    And at times in a formal way -

    And all this

    Depends upon the rich.

    The rich and the poor -

    Both of these

    Can’t evaluate even in a dream

    The exact price of a thing,

    Because,

    A poor man is generally pitiable and inferior,

    And,

    The wealthy person –

    Blind with sensuality, a slave to wantonness !!”

     

    The amount then wasn't granted

    Even as a gift,

    The attendant, with due respect,

    Extended thanks to Artisan in place of money

    And

    Started on his way home joyfully, with the pitcher !



    User Feedback

    Join the conversation

    You can post now and register later. If you have an account, sign in now to post with your account.

    Guest

×
×
  • Create New...