Jump to content
  • Sign in to follow this  

    मूकमाटी पृष्ठ 7

       (0 reviews)

     

    अनन्य आत्मीयता का

    संस्पर्शन हो रहा है

     

    और वह

    धृति-धारिणी धरती

    कुछ कहने को आकर्षित होती है,

    सम्मुख माटी का

    आकर्षण जो रहा है।

     

    लो!

    भीगे भावों से

    सम्बोधन की शुरूआत :

     

    “सत्ता शाश्वत होती है, बेटा !

    प्रति-सत्ता में होती हैं

    अनगिन सम्भावनाएँ

    उत्थान-पतन की वह,

    खसखस का दाना-सा

    बहुत छोटा होता है

    बड़ का बीज वह !

     

    समुचित क्षेत्र में उसका वपन हो

    समयोचित खाद, हवा, जल

    उसे मिलें

    अंकुरित हो, कुछ ही दिनों में

    विशाल काय धारण कर

    वट के रूप में अवतार लेता है।

     

    यही इसकी महत्ता है

    सत्ता शाश्वत होती है

    सत्ता भास्वत होती है बेटा !

     

    रहस्य में पड़ी इस गन्ध का

    अनुपानकरना होगा।

     

    A touch of unique intimacy

    Is being felt.

     

    And that

    Patience-sustaining Earth

    Tends to utter a few words,

    Due to the charm of the Soil

    Being before Her.

     

    Lo !

    With dewy feelings

    Thus begins the address :

     

    “The existence is eternal, dear Child !

    Pro-existence is filled with

    Countless possibilities

    Of rising and falling,

    That seed of the Banyan tree

    Is too tiny

    Like a poppy-grain !

     

    Should it be sowed into a proper field

    Should it be nursed

    With timely manure, air and water

    It gets sprouted within a few days,

    Having assumed a huge form

    Is incarnated as a Banyan tree.

     

    And there lies its true glory

    The existence is perpetual

    The existence is luminous, dear Child !

     

    This odour covered with mystery

    Will have to be inhaled properly


    Sign in to follow this  


    User Feedback

    Join the conversation

    You can post now and register later. If you have an account, sign in now to post with your account.

    Guest

×
×
  • Create New...