Jump to content
मेरे गुरुवर... आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज
  • मूकमाटी पृष्ठ 52

       (0 reviews)

     

    फिर भी

    कभी-कभी वह नाव

    घबराती है।

    और वह घबराहट

    न ही जल से है।

    न ही जल के गहराव से,

    परन्तु

    जल की तरल सत्ता के विभाव से है।

    जो

    जल की गहराई को छोड़ कर

    जल की लहराई में आ कर

    तैरता हुआ-सा...!

    अध-डूबा

    हिम का खण्ड है।

    मान का मापदण्ड...।

     

    वह

    सरलता का अवरोधक है।

    गरलता का उद्बोधक है।

    इतना ही नहीं।

    तरलता का अति शोषक है।

    और

    सघनता का परिपोषक!

     

    न तैरना जानता है।

    और

    न ही तैरना चाहता है।

    खेद की बात है, कि

    तरण और तारक को

    डुबोना चाहता है वह।

    जल पर रहना चाहता है।

    पर,

     

    Nevertheless

    That boat, now and then,

    Gets confused,

    And that confusion

    Is caused neither by water

    Nor by the depth of water,

    But

    It is due to the bad sense of liquid sway of water,

    Which

    Having set aside the depth of water,

    And, on being caught into the rolling waves,

    Remaining afloat...!

    Half-sunk,

    Is a lump of Snow-

    A measuring-rod of pride....

     

    It is a sharp deterrent to candidness

    An awakener of poisoning,

     

    Not only this much,

    A hard exploiter of humidity

    And

    A cherisher of density !

     

    Neither does it know swimming

    And

    Nor does it wish to swim,

    It's a matter of grief, that

    It is desirous of drowning

    The boat as well as the saviour.

    It wishes to float upon the surface

    But,


     Share


    User Feedback

    Create an account or sign in to leave a review

    You need to be a member in order to leave a review

    Create an account

    Sign up for a new account in our community. It's easy!

    Register a new account

    Sign in

    Already have an account? Sign in here.

    Sign In Now

    There are no reviews to display.


×
×
  • Create New...