Jump to content
आचार्य श्री विद्यासागर मोबाइल एप्प डाउनलोड करें | Read more... ×
Sign in to follow this  
Saurabh Jain

नमोस्तू गुरुदेव ।

Recommended Posts

vs1.jpg
बालक विद्याधर का जन्म सन 1946 में शरद पूर्णिमा के दिन माँ श्रीमती की कुक्षी से हुआ ... बचपन से ही धर्म मार्ग पर सदैव बढ़ते हुए इन्होंने आचार्य श्री ज्ञानसागर जी
महाराज से दीक्षा पाई एवं आज हम सभी के समक्ष आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के रूप में विराजमान हैं.. 290 से अधिक मुनि एवं आर्यिकाओं को गुरुदेव द्वारा दीक्षा दी गई है .. 
दिगंबर सरोवर के राजहंस आचार्य भगवान् का वर्तमान में चातुर्मास रामटेक नागपुर सानंद चलरहा है..|

 

आचार्य भगवंत के चरणों मे शरद पूर्णिमा के पावन अवसर पर  शत शत नमन |

vs2.jpg

  • Like 1

Share this post


Link to post
Share on other sites

रास्ता उनका, सहारा उनका, मैं चल रहा हूंँ.. दीपक उनका, रौशनी उनकी, मैं जल रहा हूँ.. प्राण उनके, हर श्वास उनकी, मैं जी रही हूँ।??☺नमोस्तु.. 

 

  • Thanks 1

Share this post


Link to post
Share on other sites
1 hour ago, Saurabh Jain said:

vs1.jpg
बालक विद्याधर का जन्म सन 1946 में शरद पूर्णिमा के दिन माँ श्रीमती की कुक्षी से हुआ ... बचपन से ही धर्म मार्ग पर सदैव बढ़ते हुए इन्होंने आचार्य श्री ज्ञानसागर जी
महाराज से दीक्षा पाई एवं आज हम सभी के समक्ष आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के रूप में विराजमान हैं.. 290 से अधिक मुनि एवं आर्यिकाओं को गुरुदेव द्वारा दीक्षा दी गई है .. 
दिगंबर सरोवर के राजहंस आचार्य भगवान् का वर्तमान में चातुर्मास रामटेक नागपुर सानंद चलरहा है..|

 

आचार्य भगवंत के चरणों मे शरद पूर्णिमा के पावन अवसर पर  शत शत नमन |

vs2.jpg

रास्ता उनका, सहारा उनका, मैं चल रहा हूंँ.. दीपक उनका, रौशनी उनकी, मैं जल रहा हूँ.. प्राण उनके, हर श्वास उनकी, मैं जी रही हूँ।??☺नमोस्तु..

Share this post


Link to post
Share on other sites
2 hours ago, CA Sakshi Jain said:

रास्ता उनका, सहारा उनका, मैं चल रहा हूंँ.. दीपक उनका, रौशनी उनकी, मैं जल रहा हूँ.. प्राण उनके, हर श्वास उनकी, मैं जी रही हूँ।??☺नमोस्तु.. 

 

नमोस्तु गुरुवर , नमोस्तु गुरूवर , नमोस्तु गुरुवर

Share this post


Link to post
Share on other sites
5 hours ago, Saurabh Jain said:

vs1.jpg
बालक विद्याधर का जन्म सन 1946 में शरद पूर्णिमा के दिन माँ श्रीमती की कुक्षी से हुआ ... बचपन से ही धर्म मार्ग पर सदैव बढ़ते हुए इन्होंने आचार्य श्री ज्ञानसागर जी
महाराज से दीक्षा पाई एवं आज हम सभी के समक्ष आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के रूप में विराजमान हैं.. 290 से अधिक मुनि एवं आर्यिकाओं को गुरुदेव द्वारा दीक्षा दी गई है .. 
दिगंबर सरोवर के राजहंस आचार्य भगवान् का वर्तमान में चातुर्मास रामटेक नागपुर सानंद चलरहा है..|

 

आचार्य भगवंत के चरणों मे शरद पूर्णिमा के पावन अवसर पर  शत शत नमन |

vs2.jpg

नमोस्तु गुरुवर ..

vs1.jpg.23e44a9a6856f3fccfbb84349c437386.jpg

Share this post


Link to post
Share on other sites

रास्ता उनका, सहारा उनका, मैं चल रहा हूंँ.. दीपक उनका, रौशनी उनकी, मैं जल रहा हूँ.. प्राण उनके, हर श्वास उनकी, मैं जी रही हूँ।??☺नमोस्तु.. 

_20171005_084123.jpg

  • Like 1

Share this post


Link to post
Share on other sites
19 hours ago, Saurabh Jain said:

vs1.jpg
बालक विद्याधर का जन्म सन 1946 में शरद पूर्णिमा के दिन माँ श्रीमती की कुक्षी से हुआ ... बचपन से ही धर्म मार्ग पर सदैव बढ़ते हुए इन्होंने आचार्य श्री ज्ञानसागर जी
महाराज से दीक्षा पाई एवं आज हम सभी के समक्ष आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के रूप में विराजमान हैं.. 290 से अधिक मुनि एवं आर्यिकाओं को गुरुदेव द्वारा दीक्षा दी गई है .. 
दिगंबर सरोवर के राजहंस आचार्य भगवान् का वर्तमान में चातुर्मास रामटेक नागपुर सानंद चलरहा है..|

 

आचार्य भगवंत के चरणों मे शरद पूर्णिमा के पावन अवसर पर  शत शत नमन |

vs2.jpg

Namostu gurudev

Share this post


Link to post
Share on other sites
चेहरे  पर वो बच्चों-सी  हसीं :),
वो झुकी हुई नजर 9_9,
वो झुकी हुई गर्दन  जिनकी,
वो प्रवचन का अनोखा तरीका,
वो उनकी निराली चर्या,
बस क्या कहने हमारे कविवर विद्याधर गुरुवर का तो,
जितना भी कहूँ कम है,
जो सिर्फ पढ़ा और सुना था,
देख भी लिया,
ऐसे चलते फिरते तीर्थंकर के चरणों में बार बार,
नमोस्तु _/\_
image.jpeg.e6a6b7a582b1f19bf400924162505a8f.jpeg
 

Share this post


Link to post
Share on other sites

v

4 hours ago, Monika said:
चेहरे  पर वो बच्चों-सी  हसीं :),
वो झुकी हुई नजर 9_9,
वो झुकी हुई गर्दन  जिनकी,
वो प्रवचन का अनोखा तरीका,
वो उनकी निराली चर्या,
बस क्या कहने हमारे कविवर विद्याधर गुरुवर का तो,
जितना भी कहूँ कम है,
जो सिर्फ पढ़ा और सुना था,
देख भी लिया,
ऐसे चलते फिरते तीर्थंकर के चरणों में बार बार,
नमोस्तु _/\_
image.jpeg.e6a6b7a582b1f19bf400924162505a8f.jpeg
 

नमोस्तु तुभ्यं , नमोस्तु तुभ्यं , विद्या के सागर नमोस्तु तुभ्यं । हे वीतरागी नमोस्तु तुभ्यं , हे ध्यान मूर्ति नमोस्तु तुभ्यं , आगम प्रणेता नमोस्तु तुभ्यं , परम तपस्वी नमोस्तु तुभ्यं । जीत लिया परीषहों को जिसने, ऐसे जितेन्द्रिय नमोस्तु तुभ्यं !

 

 

  • Like 1

Share this post


Link to post
Share on other sites
1 hour ago, कमलनयनी जैन said:

v

नमोस्तु तुभ्यं , नमोस्तु तुभ्यं , विद्या के सागर नमोस्तु तुभ्यं । हे वीतरागी नमोस्तु तुभ्यं , हे ध्यान मूर्ति नमोस्तु तुभ्यं , आगम प्रणेता नमोस्तु तुभ्यं , परम तपस्वी नमोस्तु तुभ्यं । जीत लिया परीषहों को जिसने, ऐसे जितेन्द्रिय नमोस्तु तुभ्यं !

 

 

Sant Shiromani Acharya Guruvar Shri Vidya Sagar Ji Maharaj ke charno me sat sat vandan, naman & Namostu Namostu Namostu

Anil Jain Ghaziabad

Share this post


Link to post
Share on other sites

Create an account or sign in to comment

You need to be a member in order to leave a comment

Create an account

Sign up for a new account in our community. It's easy!

Register a new account

Sign in

Already have an account? Sign in here.

Sign In Now
Sign in to follow this  

×