Jump to content
मेरे गुरुवर... आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज

संकल्प से होता है जीवन का कायाकल्प - मुनि श्री विमल सागर महाराज*


Sanyog Jagati
 Share

Recommended Posts

*संकल्प से होता है जीवन का कायाकल्प - मुनि श्री विमल सागर महाराज*

*स्कूली बच्चों ने लिया संकल्प*

गोटेगांव / नरसिंहपुर जिले के खमरिया ग्राम में राष्ट्रीय सन्त पूज्य गुरुवर आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के परम प्रभावक शिष्य मुनि श्री विमल सागर जी महाराज गोटेगांव से विहार कर खमरिया पहुंचे जहां मुनि श्री विमल सागर जी ने शासकीय उच्चतर माध्यमिक शाला के बच्चो व ग्रामीणों को सम्बोधित करते हुए कहा कि जैसा हम बोते हैं वैसा फल मिलता है । हमें क्या बोना है ? इसका हमें ध्यान रखना है । जो मनुष्य जीवन पाकर तप व दान न करें व ज्ञान प्राप्त न करें और धर्म न करें तो वो मनुष्य इस धरती पर भार समान है । धर्म के बगैर जीवन शून्य है । शिक्षा के साथ जीवन मे धर्म आ जाये तो बहुत बढ़िया है । अहिंसा परम् धर्म है और प्राणियों का वध करना अधर्म है । जो जो बातें हमें अपने लिए अच्छी नही लगतीं वो किसी जीवों के साथ नही करना चाहिए,यही धर्म है । किसी के प्राण लेना पाप व अधर्म है । इसलिए उन जीवों की रक्षा के भाव आप मे आ गए तो जीवन उन्नत बनेगा । भारत मे दूध है, दही है, लस्सी है और इंडिया में कोक, व्हीस्की और पेप्सी है । भारत मे गीत, संगीत, रिदम है व इंडिया में डांस है पाप है और आइटम है । सबसे अच्छी भाषा हिंदी है पर महत्व अंग्रेजी को दिया जा रहा है । भारत को देवोँ ने बसाया है और इंडिया को लालची अंग्रेजों ने बसाया है ।हमारा भारत आज भी सोने की चिड़िया है । अहिंसा ही परम धर्म है जिसके जीवन मे अहिंसा आती है उसी के जीवन की सार्थकता है । गांधी जी के तीन बंदरो के साथ साथ एक बंदर और जोड़ना चाहिए कि बुरा मत सोचो । मोबाइल पर कुछ खोटे गेम आते हैं । गेम पबजी नही बल्कि पाप जी है,उसे खेलने में खुद की प्रकृति हिंसात्मक होती जा रही है और ऐसे भावों से परिणाम खराब होते हैं जो हमें खोटी दिशा व गति में ले जाने वाली है । अपने जीवन को शांतिकारक बनाने के लिए शाकाहार करना चाहिए । शाकाहार हानि रहित है और अंडा,मांस,शराब जीवन को खराब कर देते हैं । महाराज श्री से स्कूली बच्चों ने संकल्प लिया कि अंडा,मांस,मदिरा व नशा का सेवन नही करेंगे व पबजी गेम का त्याग किया व खोटी वस्तुओं का उपयोग नही करेंगे । बड़े व गुरु जनों का सम्मान करेंगे । ॐ का स्मरण करना है जो बहुत पावरफुल है । संकल्पी हिंसा न करने का संकल्प भी बच्चों ने लिया । दोपहर में मुनि श्री का ससंघ विहार शहपुरा भिटौनी की हुआ । मुनि श्री ससंघ झांसी घाट के निजी स्कूल में विराजमान हैं । 

 

Link to comment
Share on other sites

 Share

×
×
  • Create New...