Jump to content

Recommended Posts

*🏳‍🌈 स्वागत...वन्दन...अभिनंदन 🏳‍🌈*
🏵🎊🏵🎊🏵🎊🏵🎊🏵
*🥀पधारिये🥀
              *🥀पधारिये🥀
                         *🥀पधारिये🥀*
🏵🎊🏵🎊🏵🎊🏵🎊🏵
        *🙏 धर्मनगरी आष्टा में 🙏*
🎊🎷🥁🥀🎊🎺🥀🎷🎊
*🎊⚱चातुर्मास कलश स्थापना 🎊*
*🎊  19 जुलाई 2019, शुक्रवार  🎊*
*🎊  समय :- प्रातः 8:00 बजे 🎊*
*🎊   दिव्योदय अतिशय क्षेत्र  किला मंदिर आष्टा     🎊*
🎊🎷🥁🥀🎊🎺🥀🎷🎊
                    परम् पूज्य  आचार्यश्री 108 विद्यासागर जी मुनिराज की आज्ञानुवर्ती सुशिष्या *आर्यिका श्री 105 अपूर्वमती माताजी,आर्यिका श्री 105 अनुत्तरमति माताजी, आर्यिका श्री 105 अगाधमति माताजी ससंघ* के भव्य चातुर्मास का सौभाग्य असीम पुण्ययोग से धर्मनगरी आष्टा के *दिव्योदय अतिशय क्षेत्र किला मंदिर जी* को प्राप्त हुआ है।
       *पूज्य गुरुमाँ अपूर्वमती माताजी ससंघ* का *चातुर्मास मंगल कलश स्थापना समारोह* दिनाँक *19 जुलाई 2019, शुक्रवार प्रातः 8:00 बजे से* पूरे भक्तिभाव के साथ *आदरणीय ब्रम्हचारी भैया प्रदीप जी सुयश के कुशल निर्देशन में *दिव्योदय अतिशय क्षेत्र किला मंदिर जी आष्टा* में आयोजित किया जाएगा...

आप सभी साधर्मी बन्धु समारोह में सपरिवार सादर आमंत्रित हैं, कृपया पधारें और धर्मप्रभावना में सहभागी बनकर अपने पुण्य में वृद्धि करें।

*कार्यक्रम पश्चात बाहर से आये हुए धर्मानुरागीयो के लिए वात्सल्य स्नेहभोज की व्यवस्था की गई है*
               
          🙏  निवेदक  🙏
*श्री दिगम्बर जैन पंचायत समिति*
*श्री दिगम्बर जैन मुनि सेवा समिति आष्टा*
🏳‍🌈🏳‍🌈🏳‍🌈🏳‍🌈🏳‍🌈🏳‍🌈🏳‍🌈🏳‍🌈

Share this post


Link to post
Share on other sites

*जैनम जयतु शासनम*
              *वन्दे विधा सागरम*
🏳‍🌈🏳‍🌈🏳‍🌈🏳‍🌈🏳‍🌈🏳‍🌈🏳‍🌈🏳‍🌈🏳‍🌈🏳‍🌈🏳‍🌈
*आष्टा नगर के पुण्योदय से नगर को निरन्तर आचार्य भगवन श्री विद्या सागर जी महाराज का हमेशा आषीर्वाद मिलता रहा हे और निरन्तर मिल रहा है इसी कड़ी में पूज्य आर्यका 105 अपूर्व मती माता जी ससंघ का चातुर्मास कलश स्थापना बड़े ही धूम धाम के साथ सम्पन्न हुवा नगर को मिलने वाले चातुर्मास से पूरे समाज में उत्साह का माहौल बना हुवा है धर्म की गंगा पुरे चातुर्मास बहेगी कार्यक्रम की सुरुवात पाठशाला द्वारा मंगलाचरण कर सुभारम्भ कीया आचार्य श्री के चित्र अनावरण व् दीप प्रज्वलन बाहर से पाधरे समाज के अतिथि व् माता जी के ग्रहस्थ परिवार द्वारा कीया गया कार्यक्रम को सुचारू रूप आदरणीय ब्रह्मचारी प्रदीप जी सुयश अशोक नगर ने संचालित कर चार चांद लगा दिये पुज्य माता जी भवना स्वरूप इस वर्ष आचार्य श्री के 52 वे दिक्षा महोत्सव के 52 रजत कलश की स्थापना व् 52 स्वर्ण पॉलिश कलश की स्थापना की गई  जो की समीती द्वारा निर्धारित राशी पर कीये गए*
🎉🎉🎉🎉🎉🎉🎉🎉🎉🎉🎉
*इस अवसर पर नगर के मण्डल महिला मंडल सभी मंच द्वारा आचार्य भगवन की पूजन की व् सभी मण्डल ने क्रम से आचार्य श्री को अर्घ समर्पण नाचते झुमतै हुवे उतसाह भक्ती के साथ कीये*
🎊🎊🎊🎊🎊🎊🎊🎊🎊🎊🎊
*पंचायत समीती द्वार बहार से पधारे सभी अतिथियों का शाल श्री फल व् मोतियों की माला से स्वागत सत्कार कीया*
🎊🎊🎊🎊🎊🎊🎊🎊🎊🎊🎊
सकल जैन समाज आष्टा
🏳‍🌈🏳‍🌈🏳‍🌈🏳‍🌈🏳‍🌈🏳‍🌈🏳‍🌈🏳‍🌈🏳‍🌈🏳‍🌈🏳‍🌈

IMG-20190719-WA0076.jpg

IMG-20190719-WA0067.jpg

IMG-20190719-WA0045.jpg

IMG-20190719-WA0047.jpg

IMG-20190719-WA0066.jpg

IMG-20190719-WA0063.jpg

Share this post


Link to post
Share on other sites

🏳‍🌈🏳‍🌈🏳‍🌈🏳‍🌈🏳‍🌈🏳‍🌈🏳‍🌈🏳‍🌈🏳‍🌈🏳‍🌈
          *दिव्योदय तीर्थधाम अपडेट आष्टा*

          *📄सप्तदिवसीय व्याख्यान माला📜*

*धर्मानुरागी बंधुओ सादर जय जिनेन्द्र,*
             *जैसा की आप सभी को विदित हे की आष्टा की पावन पुण्यधरा दिव्योदय तीर्थधाम किला मन्दिर जी आष्टा में आचार्य भगवन संत शिरोमणि 108 श्री विद्यासागर जी महामुनिराज की परमधर्म प्रभाविका आज्ञानुवर्ती सुशिष्या परम पूज्य प्रशम मूर्ति आर्यिका रत्न श्री अपुर्वमती माताजी ससंघ चातुर्मास हेतु विराजमान हे ! इसी श्रंखला में दिनाँक 25 जुलाई 2019 दिन गुरुवार से दिनाँक 31 जुलाई 2019 दिन बुधवार तक आयोजित होने वाले  "सप्तदिवसीय व्याख्यान माला" में पूज्य आर्यिका माँ के  मुखारबिंद से सात दिनों तक अलग-अलग विषयों पर विशेष मंगल प्रवचन होगे ! आप सभी  बन्धु /भगिनी इष्टमित्रो सहित सपरिवार पधार कर असीम पुण्य का संचय करे !*
*नोट-: समय का विशेष ध्यान रखे ठीक प्रात: 9:00 बजे से 10:00 बजे तक*

*निवेदक -:*
*समस्त चातुर्मास धर्म प्रभावना साथी,मुनिसंघ सेवा समिति आष्टा*


*✍🏻🏻🏻🏻🏻🏻🏻🏻🏻🏻*
*सकल दिगम्बर जैन समाज आष्टा*

Share this post


Link to post
Share on other sites

*भव्य श्री १००८ यागमण्डल विधान पूजन महोत्सव*☘☘☘☘☘☘☘☘☘
*साधर्मी बन्धुओ माताओ बहनो बडे हीे हर्ष  का विषय है की हम सभी के आराध्य प्रथम तीर्थंकर श्री १००८ आदिनाथ भगवान (नदिया वाले बाबा)🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩 को उच्चासन विराजमान करने हेतु भव्य* *यागमण्डल विधान पूजन का संगीतमय 🎤🎤🎤🎤🎤🎤🎤आयोजन विराजित संघ पूज्य आर्यिका १०५ अपूर्वमती माता जी के ससंघ सानिध्य एव ब्र.लल्लन भैया जबलपुर के कुशल निर्देशन में किला मन्दिर में सम्पन्न होने जा रहा  है*🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩
*उक्त आयोजन में सपरिवार सहभागिता देकर पूण्य अर्जन कर धर्म* *प्रभावना बढ़ाये, कार्यक्रम*दिनांक* *४/८/१९ दिन रविवार* *प्रातः ६:३० बजे से *शांतिधारा ,नित्यनियम पूजन ,एवं यागमण्डल विधान पूजन -आर्यिका संघ प्रवचन- प्रतिमा- उच्चासन विराजमान*🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏
*निवेदक- श्री दिगम्बर जैन पंचायत समिति आष्टा,🚩🚩🚩श्री दिग. जैन मुनि सेवा समिति आष्टा*

Share this post


Link to post
Share on other sites

*_भव्य १००८ श्री पार्श्वनाथ भगवान मोक्ष-कल्याणक एवं महा-मस्तकाभिषेक महोत्सव_*
_*श्री  पार्श्वनाथ दिग.जैन मंदिर दिव्योदय तीर्थ_किला आष्टा*
🌺🥀🌺🥀🌺🥀🌺🥀
_*मान्यवर*_ 
   _*साधर्मी बन्धुजन*_*जय जिनेन्द्र*
 _*अत्यंत ही सौभाग्य का अवसर है कि,*_
_*बुधवार दिनांक ०७अगस्त २०१९ श्रावण सुदी सप्तमी के दिन उपसर्ग विजेता १००८ श्री पार्श्वनाथ भगवान का मोक्ष कल्याणक पर्व महोत्सव*_
   _*श्री पार्श्वनाथ दिग.जैन मंदिर दिव्योदय तीर्थ किला आष्टा मप्र में*विराजित पूज्य आर्यिका १०५ अपूर्व मति माता जी ससंघ*के पावन सानिध्य में भव्य रूप से   मनाया जा रहा है!*_
*~~~~~~~~~~~~~~~~~~~*
            🌺 _कार्यक्रम_ 🌺
*~~~~~~~~~~~~~~~~~~~*
*_प्रातः ७ बजे १०८ रजत कलशों से श्री पार्श्वनाथ भगवान का महामस्तकाभिषेक_*
°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°
*_७:३० बजे पूज्य आर्यिका १०५  अपूर्व मति माता जी  के मुखारविन्द से बृहद शांतिधारा_*
°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°
*_८:०० बजे भगवान पार्श्वनाथ पूजन एवं निर्वाण लाडू समर्पण_*
°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°
*_८:३० बजे से आर्यिका संघ के अमृत वचन_*
🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀
_*अतःआप समस्त साधर्मी बन्धुजनों से विनम्र आग्रह है कि,आयोजन में पधारकर पुण्यार्जन करें!*_
_*सौभाग्य आपको बुला रहा है!......*_
🙏🏽🙏🏽🙏🏽🙏🏽🙏🏽🙏🏽🙏🏽🙏🏽
_*आयोजक*_
_*श्री दिग. जैन पंचायत समिति*दिव्योदय तीर्थ आष्टा मप्र*
_*निवेदक*_
_*श्री दिगम्बर जैन मुनि सेवा समिति आष्टा*_

FB_IMG_1557420241134.jpg

FB_IMG_1563611624089.jpg

FB_IMG_1563611629098.jpg

Share this post


Link to post
Share on other sites

*द्वितीय समाधि दिवस मंगल      उद्बोधन संगोष्ठी*🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩,
*पूज्य गुरुदेव समाधिस्थ मुनि श्री १०८ स्वभाव सागर जी मुनि महाराज*
*साधर्मी बन्धुओ, सादर जय जिनेन्द्र *सरल स्वभावी मुनि श्री १०८स्वभाव सागर जी महाराज* (आष्टा चातुर्मास २०१४) के *द्वितीय समाधि दिवस पर विराजित पूज्य*  *आर्यिका १०५ अपूर्व मति माता जी ससंघ के सानिध्य में पूज्य* *मुनि श्री चित्र अनावरण एवं दीप प्रज्वलन तथा मंगल उदबोधन संगोष्ठी  का आयोजन* *दिनांक १९-८-१९ सोमवार प्रातः ठीक ८:३०बजे दिव्योदय तीर्थ किला मन्दिर आष्टा पर रखा गया है* 
*पधार कर धर्म लाभ अर्जित करे*
*निवेदक--दिगम्बर जैन पंचायत समिति  आष्टा*
*दिगम्बर जैन मुनि सेवा समिति* आष्टा 🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩

Share this post


Link to post
Share on other sites

*द्वितीय समाधि दिवस मंगल      उद्बोधन संगोष्ठी*🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩,
*पूज्य गुरुदेव समाधिस्थ मुनि श्री १०८ स्वभाव सागर जी मुनि महाराज*
*साधर्मी बन्धुओ, सादर जय जिनेन्द्र *सरल स्वभावी मुनि श्री १०८स्वभाव सागर जी महाराज* (आष्टा चातुर्मास २०१४) के *द्वितीय समाधि दिवस पर विराजित पूज्य*  *आर्यिका १०५ अपूर्व मति माता जी ससंघ के सानिध्य में पूज्य* *मुनि श्री चित्र अनावरण एवं दीप प्रज्वलन तथा मंगल उदबोधन संगोष्ठी  का आयोजन* *दिनांक १९-८-१९ सोमवार प्रातः ठीक ८:३०बजे दिव्योदय तीर्थ किला मन्दिर आष्टा पर रखा गया है* 
*पधार कर धर्म लाभ अर्जित करे*
*निवेदक--दिगम्बर जैन पंचायत समिति  आष्टा*
*दिगम्बर जैन मुनि सेवा समिति* आष्टा 🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩

IMG-20170812-WA0109.jpg

Share this post


Link to post
Share on other sites

#दिव्योदय_जैन_तीर्थ_किला_आष्टा_पर_लगी_हथकरघा_के_वस्त्रों_की_शोरूम 

 आष्टा ||
 संत शिरोमणि आचार्य गुरुदेव श्री १०८ विद्यासागर जी महाराज कि प्रेरणा एवं आशीर्वाद से संचालित संस्था श्रमदान शुद्ध हस्तनिर्मित १००%कॉटन वस्त्र जिसका उद्देश्य केवल व्यापार ही नहीं बल्कि प्रत्येक बेरोजगार व्यक्ति को स्वावलंबी एवं उच्च स्तर का जीवन प्रदान करना एवं शहरों से गांव की ओर पलायन कर रहे हैं युवाओं को अपने गांव में ही रोजगार प्रदान कर उन्हें भारत की संस्कृति से जोड़ना है|

श्रमदान जिसकी संपूर्ण भारतवर्ष में कुंडलपुर खजुराहो भोपाल बिना बारहा जी आदि शहरों में सैकड़ों शाखाएं संचालित हो रही है कुंडलपुर से पधारे ब्रह्मचारी दीपक भैया जी ने बताया कि परम पूज्य आचार्य गुरुदेव श्री विद्यासागर जी महाराज की प्रेरणा से महाकवि पंडित भुरामल सामाजिक सहकार न्यास कुंडलपुर द्वारा संचालित संस्था श्रमदान का गठन किया गया है जिसके माध्यम से हम हर घर हस्तनिर्मित 100% शुद्ध काटन के वस्त्र  पहुंचाने का प्रयास कर रहे हैं यह संस्था जन सेवार्थ चलाई जा रही है जिसका मूल उद्देश्य बिना किसी स्वार्थ के प्रत्येक व्यक्ति तक भारत की मूल संस्कृति से परिचय करवाना है हमारी संस्था द्वारा निर्मित वस्त्र 100% अहिंसक सूती एवं सामुदायिक हस्तशिल्प होते हैं|

बाजार में उपलब्ध कॉटन के अन्य कंपनियों के वस्त्रों में हिंसक पदार्थ मटन टैलो का बहुतायत में उपयोग किया जाता है जोकि शुद्ध नहीं होते हमारे वस्त्रों में मटन टेलो का उपयोग नहीं किया जाता इसलिए ऐसे वस्त्रों को पहनकर उपयोग कर  हम भारत की प्राचीन संस्कृति को आम व्यक्ति तक पहुंचा सकते हैं  दिव्योदय तीर्थ पर लगी श्रमदान की हमारी दुकान पर कॉटन के कुर्ते पजामे जैकेट, धोती दुपट्टा महिलाओं के लिए साड़ियां ,तोलिए, गमछे बेडशीट ,आदि कई तरह की रेंज हम बहुत कम लागत में उपलब्ध करा रहे हैं |

दिव्योदय तीर्थ किला पर विराजित 
पूज्य आर्यिका १०५ अपूर्व मति माता जी ने सभी श्रावक श्राविकाओं से श्रमदान के हस्तनिर्मित वस्त्रो को उपयोग करने का  एवं आचार्य श्री के विचारो को घर घर तक पहुचाने का आव्हान अपने आशीष वचनों में किया |
आप भी आइये आपका स्वागत हैं स्वदेशी को बढ़ावा दीजिये ,स्वदेशी अपनाइए

Share this post


Link to post
Share on other sites

×
×
  • Create New...