Jump to content

About This Group

संयम के सुमेरू, वीतरग के पर्याय और मानव कल्याण के सारथी गुरूवर्य के उपकारों से उऋण होना असंभव है। किंतु उनके उपकारों को अमरता तो निश्चित ही प्रदान की जा सकती है। हम-आप, सभी शासन,प्रशासन, निर्वाचित प्रतिनधिनियों (सांसदो/विधायको/पार्षदों) सहृदय समाज जनों की मदद व सहभागिता से अपने ग्राम, नगर के सार्वजनिक स्थलों, चौराहों, यात्री प्रतीक्षालयों, बस स्टैंड, रेल्वे स्टेशन, विद्यालयो या तथा पब्लिक पार्क में संयम कीर्ति स्तंभ की स्थापना करके गुरूवर्य के अवदान एंव व्यक्तित्व के प्रति अपनी भावपूर्ण आदरंाजलि व्यक्त कर सकतें है। ध्यान रहे इस कीर्ति स्तंभ को सयंम स्वर्ण महोत्सव समिति द्वारा एक ही डिजाइन, एक ही आकार और एक ही रंग संयोजन में सजाया गया है। आपको सिर्फ संकल्प करना है। एवं इसकी सूचना महोत्सव समिति को देना है।ं

Category

Activities

अधिक जानकारी

 

  1. What's new in this club
  2. कीर्ति स्तंभ का लोकार्पण मुनि श्री अभय सागर जी के सानिध्य में श्री शुभाष चन्द्र जैन जी के द्वारा समापन हुआ
  3. *महाराष्ट्र में औरंगाबाद शहर में पहला संयम किर्ती स्थंभ 28 जुन 2018 को एक वर्ष पुर्ण हुए ..* *यह कार्य प पू 108 श्री अक्षय सागर महाराजजी तथा प पू 108 श्री नेमिसागर महाराजजी के परम सानिध्य व आशिर्वाद से हुआ है ।*
  4. ?३० जून २०१८, शनिवार? ⛳आचार्यश्री विद्यासागर जी महाराज के ५० वे दीक्षा संयम स्वर्ण महोत्सव के उपलक्ष्य में समस्त पाटनी परिवार (आर के मार्बल्स) द्वारा ⛳फव्वारा सर्किल स्थित बड़े धड़े की नसियां, जिला अजमेर, राजस्थान में⛳ ?६५ फीट ऊँचे कीर्तिस्तम्भ का निर्माण कराया गया है? ?इस कीर्तिस्तम्भ का लोकार्पण ⛳मुनिश्री सुधासागर जी महाराज ⛳मुनिश्री महासागर जी महाराज ⛳मुनिश्री निष्कम्पसागर जी महाराज ⛳क्षुल्लकश्री गंभीरसागर जी महाराज ⛳क्षुल्लकश्री धैर्यसागर जी महाराज के पावन सानिध्य में श्री कंवरीलाल जी पाटनी, श्री अशोक जी पाटनी, श्री सुरेश जी पाटनी, श्री विमल जी पाटनी, एवं समस्त पाटनी परिवार और अन्य गणमान्य श्रावकों द्वारा ३० जून २०१८, शनिवार को किया जाएगा ?कीर्तिस्तम्भ की विशेषता? ⛳यह कीर्तिस्तम्भ आचार्यश्री विद्यासागर जी महाराज की दीक्षाभूमि पर स्थित है ⛳इस कीर्तिस्तम्भ पर आचार्यश्री विद्यासागर जी महाराज के जन्म से लेकर बाल्यकाल, किशोरावस्था, दीक्षा एवं संयम जीवन के अनेक जीवन वृतांत पत्थर में उत्कीर्ण किए गए हैं ⛳इस कीर्तिस्तम्भ पर आचार्यश्री विद्यासागर जी महाराज द्वारा शिष्यों को दी गई दीक्षा के दृश्यों को भी पत्थर में तराशा गया है ⛳इस कीर्तिस्तम्भ पर आचार्यश्री विद्यासागर जी महाराज का पूर्ण जीवन परिचय भी तराशकर लिखा गया है ⛳यह कीर्तिस्तम्भ मुनिश्री सुधासागर जी महाराज की प्रेरणा और आशीर्वाद से बनाया गया है ⛳इस कीर्तिस्तम्भ पर अद्वितीय नक्काशी और शिल्पकला का सृजन किया गया है ⛳यह कीर्तिस्तम्भ भारत का सबसे ऊँचा कीर्तिस्तम्भ है ⛳ इस कीर्तिस्तम्भ की नींव (फ़ाइल फाउंडेशन) जमीन के नीचे ४५ फीट तक है ⛳यह कीर्तिस्तम्भ बयाना भरतपुर के बंसी पहाड़पुर के पत्थर (पिंक स्टोन) से बनाया गया है ⛳इस कीर्तिस्तम्भ के निर्माण में एक वर्ष का समय लगा ?आप सभी श्रावक इस कीर्तिस्तम्भ के लोकार्पण के कार्यक्रम में सहभागी होकर पुण्यार्जन करें? ???हम समस्त पाटनी परिवार के इस पुण्य कार्य की अनुमोदना करते हैं एवं समस्त पाटनी परिवार को ?जिनशासन संघ? की ओर से शुभकामनाएं और बधाई ???
  5. आचार्यश्री विद्यासागर जी महाराज के 'संयम स्वर्ण महोत्सव' के मौके पर अजमेर स्थित दीक्षास्थली के मुहाने पर ६५ फीट ऊंचे कीर्तिस्तंभ ने पूरा आकार ले लिया है। ?मार्बल व्यवसायी श्री अशोक जी पाटनी के अर्थ सहयोग से तैयार इस 'दीक्षायतन' पर ३० जून को मुनि सुधासागर महाराज के पहुंचने की संभावना है।करीब एक करोड़ की लागत से तैयार इस कीर्तिस्तंभ पर आचार्य श्री के दीक्षा पूर्व के चित्रों को उकेरा गया है। ?यह कीर्तिस्तंभ, पिच्छी व कमंडल राजस्थान के बयाना समीपस्थ पहाड़ी के लाल पत्थर से तैयार कराया गया है, जिस पर अब सामान्य कामों के अलावा पॉलिश का काम बाकी है। यह दीक्षायतन अजमेर के महावीर सर्किल स्थित पार्श्वनाथ कॉलोनी के शुरू मे स्थापित किया गया है।
  6. 02/05/2018 *संयम कीर्ति स्तंभ का शिलान्यास हुआ* गोटेगाँव जिला नरसिंहपुर( मध्य प्रदेश) आचार्य श्री 108 विद्यासागर जी महाराज के 50 वे मुनि दीक्षा दिवस *''संयम स्वर्ण महोत्सव'*' पर श्री देव पार्श्वनाथ दिगंबर जैन मंदिर शास्त्री वार्ड गोटेगांव में मुनि श्री 108विमल सागर जी महाराज मुनि श्री 108 अनंत सागर जी महाराज मुनि श्री 108 धर्म सागर जी महाराज मुनि श्री 108अचल सागर जी महाराज मुनि श्री 108अतुल सागर जी महाराज मुनि श्री 108भाव सागर जी महाराज ससंघ के सानिध्य में मार्बल का लगभग 27 फीट का संयम कीर्ति स्तंभ बनेगा । ऐसे पूरे देश में लगभग 1100 बन रहे हैं । 2 मई 2018 दिन बुधवार को प्रातः काल शिलान्यास हुआ। इस कार्यक्रम में निर्देशन ब्रह्मचारी मनोज भैया जबलपुर का रहा, यह पूरे भारत का अनोखा कीर्ति स्तंभ होगा इस में स्वर्ण अक्षरों में एवं रत्नों से कारीगरी होगी। इस कीर्ति स्तंभ के पुण्यार्जक सिंघई अनिल कुमारअनुपम साड़ी केंद्र सिंघई पंकज कुमार अनुपम मॉल वाले हैं। ज्ञात हो कि मुनि संघ के सानिध्य में प्रेरणा एवं मार्गदर्शन में विभिन्न जगह संयम कीर्ति स्तंभ बन रहे है। *मूकमाटी रचियता आचार्य श्री १०८ विद्यासागर जी महाराज* के आज्ञानुवर्ती शिष्य *मुनि श्री विमल सागर जी* *मुनि श्री अनंत सागर जी* *मुनि श्री धर्म सागर जी* *मुनि श्रीअचल सागर जी* *मुनि श्री अतुल सागर जी* *मुनि श्री भाव सागर जी* महाराज के सानिध्य, प्रेरणा एवं मार्गदर्शन में निर्मित हुए कीर्ति स्तम्भ *कम्पलीट*:- पिंडरई,लखनादौन,केवलारीराजनांदगांव ,जगदलपुर, सिवनी,चौरई, छिंदवाड़ा मंडला और घंसौर। *इन्कम्प्लीट*:- नागपुर सिलवानी,गौरझामर, बिलहरा,(मार्बल आ चुका) *प्रस्तावित*:- गोटेगाँव, नरसिंहपुर ,तेंदूखेड़ा (पाटन) तारादेही,बरेली(बाड़ी), पनागर। *योजना*:- खितौला,रहली,झलोन, शहपुरा(भिटौनी) आप भी इन नगरों की तरह अपने नगर में संयम कीर्ति स्तंभ अवश्य बनवाएं। इस अवसर पर ब्रमचारी मनोज भैया जी जबलपुर ने कहा कि सहारनपुर में श्रावकों को ने कहा कि आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज सहारनपुर नहीं आ रहे हैं लेकिन संयम कीर्ति स्तंभ रहेगा तो हम मानेंगे कि आचार्य श्री ही विराजमान हैं। सहारनपुर में तीन कीर्ति स्तंभ बन रहे हैं इस अवसर पर मुनि श्री विमल सागर जी ने कहा कि जिसका पुण्य रहता है उसके पास धन रहता है आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज ने स्वयं संयम धारण किया और जीवो को संयम के मार्ग पर लगाया गुरुदेव ने 50 वर्ष संयम में निकाले हैं यह 50 हजार वर्ष हो गए है । गोटेगांव की कीर्ति भी पूरी दुनिया में संयम कीर्ति स्तंभ के माध्यम से फैल जाए ।आचार्य श्री ने कहा था कि बुंदेलखंड के लोग भले ही धन का दान कम करें लेकिन चेतन रत्नों का दान करते रहते हैं जो मुनि आर्यिका एलक क्षुल्लक ब्रह्मचारी ब्रह्मचारिणी व्रती बन जाते हैं । आचार्य श्री के निमित्त से अनेक लोगों की परेशानियां दूर हो गई। *प्रेषक*:- इंजीअभिषेक जैन गोटेगाँव 9993609541
  7. आचार्य श्री 108 विद्यासागर जी महाराज के 50 वे मुनि दीक्षा दिवस ''संयम स्वर्ण महोत्सव'' पर श्री देव पार्श्वनाथ दिगंबर जैन मंदिर शास्त्री वार्ड गोटेगांव में मुनि श्री विमल सागर जी महाराज ससंघ के सानिध्य में मार्बल का लगभग 25 फीट का संयम कीर्ति स्तंभ बनेगा। ऐसे पूरे देश में लगभग 1100 बन रहे हैं। 2 मई 2018 दिन बुधवार को प्रातः 8:00 बजे शिलान्यास होगा। इस कार्यक्रम में निर्देशन ब्रह्मचारी मनोज भैया जबलपुर का रहेगा, यह पूरे भारत का अनोखा कीर्ति स्तंभ होगा इस में स्वर्ण अक्षरों में एवं रत्नों से कारीगरी होगी।
  8. प्रातः स्मरणीय विश्वन्दनीय जगत पूज्य परम पूज्य संत शिरोमणि श्री मद देव आचार्य श्री 108 गुरुवर विद्यासागर जी महामुनिराज जी के दीक्षा के पचास वर्ष पूर्ण होने पर एव आचार्य श्री जी के पचासवें संयम स्वर्ण दीक्षा महामहोत्सव वर्ष के उपलक्ष्य में जैनाचार्य श्री 108 विद्यासागर जी महामुनिराज जी के संयम कीर्ति स्तंभ का भव्य लोकार्पण आज प्रातः वासुपूज्य जिनालय मंदिर जी विद्यासागर नगर चौधरन कॉलोनी गुना (म.प्र.) में आचार्य श्री जी के परम प्रिय और आज्ञानुवर्ती शिष्य मुनि द्वय मुनि श्री 108 निर्णय सागर जी मुनिराज जी और मुनि श्री 108 पदम सागर जी मुनिराज जी ससंघ के मंगल सान्निध्य में हुआ।लोकार्पण के पूर्व मुनि श्री जी ने धर्म सभा को संबोधित किया और मुनि श्री जी ने गौ माता के लिए गौशाला की व्यवस्था के विषय पर एव उनके लिए चारे की व्यवस्था हो सकें इसके लिए भी अपने विचार व्यक्त किए , स्वच्छता के लिए भी कहा और पॉलीथिन का उपयोग ना करें इस विषय पर अपने विचार व्यक्त किए और इसके बाद मुख्य अतिथि माननीय श्री राजेश जी जैन आई.ए.एस. पूर्व गुना कलेक्टर ने भी पूज्य द्वय मुनि श्री जी के चरणों में श्रीफल अर्पित किया और मुनि श्री जी से आशीर्वाद प्राप्त किया और अपने विचार व्यक्त किए इसके बाद विशिष्ट अतिथि श्री राजेन्द्र सिंह जी सलूजा नगर पालिका परिषद अध्यक्ष गुना (म.प्र.) ने भी द्वय मुनि श्री जी के श्री चरणों में श्रीफल अर्पित किया इसके उपरांत अपने विचार व्यक्त किए और इस कार्यक्रम में गुना नगर पालिका परिषद के सभी सम्मानीय सदस्यों ने भी अपनी उपस्थिति दर्ज कराई। तथा माताओं और बहनों ने सुंदर रंगोली भी बनाई एव इस कार्यक्रम को सफल बनाने में सकल दिगम्बर जैन समाज गुना की अहम भूमिका रही। और सकल दिगम्बर जैन समाज के सभी पदाधिकारियों ने भी अपनी ओर से उपस्थित लोगों का साधुवाद किया।
  9. घाटोल गनोडा लिंक रोड बना आचार्य विद्यासागर चौराहा लोकार्पण - घाटोल में आचार्य विद्यासागर कीर्ति स्तंभ का लोकार्पण, सांसद ने अहिंसा मंदिर में भवन और प्रधान ने पक्की सड़क बनवाने की घोषणा की
  10. हिंगोली मे प.पू. संतशिरोमणी आचार्यश्री विद्यासागरजी महाराज के परम शिष्य मुनिश्री अक्षयसागरजी महाराज, मुनिश्री नेमीसागरजी महाराज और क्षुल्लक समताभुषण महाराज इनके पावन सान्निध्य मे संयम स्वर्ण किर्ती स्तंभ का लोकार्पण अत्यंत उत्साह के साथ हजारो लोगों की उपस्थिती मे शांती के साथ सानंद संपन्न हुआ । यह कार्य संपन्न कराने मे हिगोली के युवा कार्यकर्ताओं ने अहम भूमिका निभाई है संघर्षमय स्थिती मे भी शांती और संयम का परीचय देते हुए जो कार्य हिंगोली के कार्यकर्ताओं ने अत्याधिक परिश्रम के साथ पूरा किया है उसके लिए इन सब को धन्यवाद। कंदी परिवार शिरडशहापूरवालों ने इस स्तंभ निर्माण कार्य मे जो बहुत बडा सहयोग दिया उसके लिए इस परिवार के धन्यवाद। सभी अन्य दान दाताओं को भी धन्यवाद। सभी लोगों को निवेदन है की इस विषय पर सभी चर्चाएं बंद करे। जिन जिन लोगोंने इस निर्माण कार्य मे तन मन धन के साथ सहयोग दिया है उन सभी को बहुत बहुत धन्यवाद।
  11. ☝संयम कीर्ति स्तम्भ का लोकार्पण श्रवणबेलगोला 27 जनवरी 2018 दिन शनिवार दोपहर 3 बजे आचार्य श्री 108 वध॓मान सागर जी महाराज ससंघ एवं अनेको आचार्यो मुनिराजो आयिका माताजी एवं कर्मयोगी जगतगुरू चारूकीति स्वामी जी के सान्निध्य में आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के दीक्षा के 50 वर्ष पूर्ण होने पर बाहुबली भगवान के ठीक सामने एवं चंदगिरी द्वार पर बना नक्काशी सहित बना कीर्तिस्तम्भ जिसमें चारूकीति स्वामी सहित राष्ट्रपति pm नरेंद्र मोदी जी श्रीफल भेंट करते हुए दिखाई दे रहे हैं। ज्ञात हो इस क्षेत्र पर आचार्य देशभूषण सागर जी महाराज से विद्याधर ने ब्रहचय॔ व्रत लिया था।कीर्ति स्तम्भ को जैन समाज के दानवीर भामाशाह अशोक पाटनी जी सुशीला पाटनी जी परिवार के द्वारा बनाया गया हैं । आचायॆ श्री जी के संयम महोत्सव के पावन अवसर पर भगवान बाहुबली का पहला कलश करेंगे अशोक जी पाटनी आर के मारबल परिवार आचार्य वध॔मान सागर जी महाराज ,चारूकीति स्वामी जी, आचाय॔ चंदसागर जी महाराज एवं क्षु: ध्यानसागर जी महाराज के द्वारा आचार्य श्रीविद्या सागर जी की प्रशंसा की। कवि अजय अहिंसा कटनी एवं कवि चंदसेन जैन ने गुरूगुणगान कर सफल संचालन किया।कार्यकम में विनोद जी बिलासपुर , प्रभात जी मुम्बई , पंकज पारस जी, राजा भाई सूरत उपस्थित रहे।??
  12. संयम स्वर्ण महोत्सव - श्रवणबेलगोला के इतिहास में कल का दिन स्वर्णिम अक्षरों में लिखा गया । जब हम सबके आराध्य धरती के देवता आचार्य भगवन के संयम के ५० वर्ष पूर्ण होने पर कीर्ति स्तम्भ का लोकार्पणअनेकानेक संयमी दिगम्बर साधुजनों की गरिमामयी उपस्थिति में हुआ कार्यक्रम के दौरान कर बार आँखे नाम हुई जब साधुओं ने हमारे आचार्यश्री का महिमामंडन अपने अपने शब्दों में किया । आचार्य वर्धमान सागर जी ने आचार्य श्री का जयकारा लगवाया तो अश्रुपूरीत नयन कह उठे पंथवाद नाम की कोई वस्तु होती है क्या क्षु. ध्यानसागर जी की गुरुभक्ति पर कई बार सवाल उठे परंतु कल हमने जो अनुभव किया वह अतुलनीय है । मंच पर विराजमान हर साधु गुरुजी के लिए नत मस्तक था । आचार्य श्री से ब्रह्मचर्य व्रत लेने वाले आचार्यश्री चंद्रप्रभ सागर जी की नम आँखें इस बात का जीवंत प्रमाण थी कि वो आज भी गुरुवर के इतने क़रीब हैं । मेरे भगवन आचार्य श्री विद्या सागरजी के चरणों में त्रय बार नमोस्तु यथाप्राप्त अग्रेषित
  13. श्री क्षेत्र श्रवण बेलगोला में गोम्मटेश्वर भगवान श्री श्री श्री बाहुबली स्वामी महामस्काभिषेक महोत्सव - २०१८ के शुभ अवसर पर दिनांक : २७-०१-२०१८, शनिवार, दोपहर ३.०० बजे महातपस्वी संतशिरोमणि प. पू. आचार्यश्री श्री १०८ विद्यासागर महाराज के ५० वा संयम दीक्षा स्वर्ण महोत्सव के शुभ संदर्भ में चंद्रगिरि पर्वत के तलहटि पर धर्मचत्र श्री विहार उघानवन में स्वर्णिम सयंम वर्ष समिती की और से नवनिर्मित कीर्ति स्तंभ का उद्धाटन समारोह
  14.  
×
×
  • Create New...