Jump to content
आचार्य श्री विद्यासागर मोबाइल एप्प डाउनलोड करें | Read more... ×

Category

आज्ञानुवर्ती संघ

अधिक जानकारी

  1. मुनिश्री निर्णयसागर जी 
  2. मुनिश्री पद्मसागर जी 

 

कुलः 2 ( 2 मुनिराज,ब्रह्मचारीगण )

  1. What's new in this club
  2. बालक कांपलेक्स सागर मध्य प्रदेश 12/01/2019 *महान होते हैं गुरु-मुनि श्री* सर्वश्रेष्ट साधक आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के आज्ञानुवर्त प्रभावक शिष्य पाठशाला प्रेरक मुनि श्री निर्णय सागरजी महराज एवम मुनि श्री पदम सागर जी महाराज के सानिध्य में संस्कारो को प्राप्त करने के लिये पुरुष और महिलाओ की पाठशाला का प्रारंभ किया गया। मुनि श्री पदम सागर जी महाराज ने आज आचार्य भक्ति का अर्थ बताते हुये आचार्य के गुणों पर प्रकाश डाला ।उन्होंने बताया कि आचार्यो में अनेक गुण होते हैं, जैसे सम्पूर्ण शास्त्रों के जानकार ,स्व और पर को जानने में कुशल,छत्तीस गुणों से सहित,बारह तप ,दश धर्म, पांच आचार्य, छह आवश्यक गुण, तीन गुप्ति ऐसे छत्तीस गुणों से सहित आचार्य की भक्ति करने और संयम को धारण करने से संसार भव सागर से पार हो सकते हैं तथा अपने अष्ट कर्मो को नाश कर सकते हैं।जन्म मरण के दुखों से भी छूट सकते हैं। आज संसार मे सच्चे गुरुओ का मिलना कठिन व दुर्लभ हैं ।वर्तमान में आगम के अनुसार चर्या पालन करने वाले गुरु बड़े पूण्य के योग्य से मिलते हैं। हमें ऐसे गुरुओ का सानिध्य पाकर अपनी आत्मा का कल्याण करना चाहिए।13/01/2019 दिन रविवार को मुनि द्वय के प्रवचन होंगे ,साथ ही पाठशाला के बच्चों द्वारा अभषेक पुजन भी होगा। उसके बाद बच्चों को मिष्टान वितरण होगा।यह भी ज्ञात हो की आज से 15 वर्ष पहले 2005 में मुनि श्री निर्णय सागर जी के सानिध्य में बालक कॉम्प्लेक्स में बच्चों की पाठशाला प्रारम्भ की गई थी,जो कि आज दिनांक तक अनवरत जारी हैं। जैनेतर लोग भी आकर धर्म लाभ ले रहे हैं। आज की धर्मसभा में बंडा, विदिशा, जैसीनगर,आदि नगरों के साथ ही सागर के विभिन्न कालोनी अंकुर कालोनी, नेहा नगर आदि जगहों के लोगो ने श्री फल भेट किया और आशीर्वाद प्राप्त किया। मुनि संघ बालक कांपलेक्स में विराजमान है।कल की आहारचर्या बालक काम्प्लेक्स में ही होगी। नीरज वैद्यराज पत्रकार 07582888100
  3. बालक कांपलेक्स सागर मध्य प्रदेश 10/01/2019 *देश धर्म की रक्षा संस्कारो से -मुनि श्री* सर्वश्रेष्ट साधक आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के आज्ञानुवर्त प्रभावक शिष्य पाठशाला प्रेरक मुनि श्री निर्णय सागरजी महराज एवम मुनि श्री पदम सागर जी महाराज के सानिध्य में संस्कारो को प्राप्त करने के लिये पुरुष और महिला की पाठशाला का प्रारंभ किया गया। मुनि श्री निर्णय सागर जी महाराज ने कहा कि किसी भी देश किस सफल संचालन के लिए तीन संसाधन की नितांत आवश्यकता होती है। अनाज सैनिक और संस्कार इनमें से कोई एक कम करना पड़े तो सैनिक के बिना भी काम चल सकता है अनाज जो संस्कार में से भी एक कम करना पड़े तो अनाज के बिना काम चल सकता हैं।जीवन मे संस्कार के बिना कोई भी कम असम्भव हैं।यह भी ज्ञात हो की आज से 15 वर्ष पहले 2005 में मुनि श्री निर्णय सागर जी के सानिध्य में बालक कॉम्प्लेक्स में बच्चों की पाठशाला प्रारम्भ की गई थी,जो कि आज दिनांक तक अनवरत जारी हैं। विगत 20-25 दिनों से बालक कॉम्लेक्स मंदिर में मुनि श्री के सानिध्य में दिनभर संस्कारों की गूंज कालोनी में बनी हुई हैं।केवल सागर नगर के ही नहीं अन्य जगहों में लोग भी आकर धर्म लाभ ले रहे हैं। परम आनंद का विषय है कि कालोनी के जैन लोग ही नही अन्य धर्मों के लोग भी इसका लाभ ले रहे हैं। आज की धर्मसभा में दलपतपुर, शाहपुर आदि नगरों के साथ ही सागर के विभिन्न कालोनी अंकुर कालोनी, नेहा नगर आदि जगहों के लोगो ने श्री फल भेट किया और आशीर्वाद प्राप्त किया। मुनि श्री के मंगल सानिध्य में बालक काम्प्लेक्स में 13 जनवरी 2019 दिन रविवार को भव्य वेदी शिलान्यास का कार्यक्रम आयोजित किया गया है। मुनि संघ बालक कांपलेक्स में विराजमान है नीरज वैद्यराज पत्रकार 07582888100
  4. मिश्री 19 निर्णय सागर जी महाराज मुनि श्री पदम सागर जी महाराज बालक कांपलेक्स सागर मध्य प्रदेश में विराजमान है आज की आहार चर्या बालक कंपलेक्स में होगी एवं रविवारी प्रवचन बालक कांप्लेक्स में ही होंगे नीरज वैद्यराज पत्रकार 07582 888 81 0 0
  5. सागर 22/12/2018 *मुख से कष्टकारी वचन नही निकाले- मुनि श्री* सागर (मध्यप्रदेश )में *सर्वश्रेष्ठ साधक आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के आज्ञानुवर्ती शिष्य* *ज्येष्ठ* *मुनि श्री योग सागर जी*, मुनि श्री पवित्र सागर जी, मुनि श्री प्रयोग सागर जी, मुनि श्री संभव सागर जी,मुनि श्री पूज्य सागर जी, मुनि श्री विमल सागर जी ,मुनि श्री अनंत सागर जी, मुनि श्री धर्म सागर जी , मुनि श्री शैल सागर जी, मुनि श्री अचल सागर जी , मुनि श्री अतुल सागर जी , मुनि श्री भाव सागर जी , मुनि श्री निस्सीम सागर जी, मुनि श्री शाश्वत सागर जी एवं आर्यिका श्री ऋजुमति माता जी ससंघ आर्यिका श्री गुण मति माताजी ससंघ आर्यिका श्री अनंत मति माताजी ससंघ, आर्यिका श्रीउपशांत मति माताजी ससंघ आर्यिका श्री अकंप मति माताजी ससंघ आर्यिका भावना मति माताजी ससंघ 14 मुनिराज एवं 49 आर्यिकाओ के सानिध्य में आचार्य श्री की पूजन हुई एवं धर्म सभा को संबोधित करते हुए मुनि श्री अनंत सागर जी ने कहा कि व्यक्ति के जीवन में संस्कारों का महत्व होता है व पद प्राप्त कर लेता है जिसके पाने के बाद कोई पद शेष नहीं रहता है एक व्यक्ति जिन्होंने चारित्र धारण करके विभिन्न सिद्धियां हासिल करली थी उनका नाम पूज्य पाद स्वामी था जब भी हम शांतिनाथ भगवान के चरणों में जाएंगे हमारी समस्या का हल हो जाएगा हमारे पास और कुछ नहीं है हमारे पास भक्ति है पूज्य पाद स्वामी जी ने कहा कि हमारी दृष्टि कब पवित्र होगी जब इन शब्दों का प्रयोग किया उनकी दृष्टि फिर से लौट आई। संस्कारों के नहीं होने पर दुर्गति हो जाती है। गुरुदेव की बुद्धि इतनी तीव्र है कि उत्तर देने में माहिर है,हमें आचार्यों की वाणी से जुड़ना होगा मुनि श्री योगसागर जी ने कहा की मैंने पहली बार अनंत सागर जी के मुख से धर्म की व्याख्या सुनी आज बहुत अच्छा लग रहा था वह अच्छी व्याख्या कर रहे थे इतना बढ़िया बोल रहे थे साहित्यिक भाषा में बोल रहे थे बैरागी कभी भी प्रदर्शन नहीं करता है उपदेश वैराग्य बढ़ाने के लिए साधन है हम लोगों को आचार्य श्री ने प्रवचन करना नहीं सिखाया हित,मित,मिष्ट, वचन बोलना चाहिए मैंने महाकवि आचार्य श्री ज्ञानसागर जी महाराज जैसी विभूति का दर्शन किया था वह णमोकार मंत्र और चत्तारि दंडक बोलते थे उनके मुख से सुनकर वह मुझे याद हो गया था। जो सुनकर के छोड़ देता है वह हरा नहीं हो पाता है जैसे बांसुरी हरी नहीं हुई सूखे पेड़ पौधे तो हरे हो गए। आचार्य श्री ज्ञानसागर जी ने राजस्थान में अध्यात्म की बांसुरी बजाई जो दक्षिण तक फैल गई। बुंदेलखंड में मुझे भी हरियाली मिल गई, यहां के लोगों को संस्कार देते हैं तो संस्कारित हो जाते हैं हम जो भी कार्य करते हैं हानि लाभ जरूर देखें हमारे मुख से ऐसे वचन नहीं निकले जिससे किसी को कष्ट हो गुरु वाणी मिली है उसका उपयोग करें। आज बालक कॉम्पलेक्स तिलि में मुनि श्री निर्णय सागर जी महाराज ओर मुनि श्री पदम सागर जी महाराज के सानिध्य में आज आचार्य श्री जी की पूजन हुई जिसमें कालोनी ओर अन्य जगहों से आये लोगो ने धर्म लाभ लिया। मुनि श्री निर्णय सागर जी ने कहा कि कल बालक कॉम्प्लेक्स में पाठ शाला की कलश स्थापना करने की बात कही।उन्होंने कहा कि पाठ शाला सिर्फ बच्चों को ही नही पुरुषों और महिलाओं को भी पढ़ना चाहिए। हमें पर कल्याण के साथ ही अपनी आत्मा का कल्याण करना चाहिए। आज की आहार चर्या भी बालक कॉम्पलेक्स में ही हुई नीरज वैद्यराज पत्रकार 07582888100
  6. पुज्य मुनिश्री निर्णयसागर जी पदम्सागर जी का मंगल विहार भाग्योदय तीर्थ सागर से हुआ | विहार दिशा जल्द ही अपडेट होगी |
  7. दिनांक - 10-12-2018 पूज्य मुनि श्री निर्णय सागर जी महाराज एवं पूज्य मुनि श्री पद्मसागर जी महाराज का मंगल विहार आज कंजिया से बसहारी की ओर हुआ। सम्भावित दिशा- सागर में विराजमान पूज्य मुनिश्री योगसागर जी महाराज के चरणों की ओर।
  8. पूज्य मुनि श्री ससंघ शडोरा में विराजमान है
  9. महाराज श्री बड़ा दिगम्बर जैन मंदिर गुना में विराजमान है
  10. ? *गुना में पाठशाला शिक्षण-प्रशिक्षण संगोष्ठी शिविर* ■ _पाठशाला प्रेरक पूज्य मुनिश्री निर्णय सागर जी महाराज, मुनिश्री पद्मसागर जी महाराज के सानिध्य एवम मार्गदर्शन में गुना नगर में राष्ट्रीय स्तर पर पाठशाला की शिक्षिका दीदियों, भैयाजियों के लिए *"शिक्षण-प्रशिक्षण-संगोष्ठी शिविर"* का बृहद आयोजन किया जा रहा है यह शिबिर आगामी माह में *4-5-6 मई* को आयोजित होगा। इसमें लगभग 300 से 400 पाठशाला शिक्षक-शिक्षिकाओ के शामिल होने की संभावना है। शिविर का आयोजन जैन समाज गुना के तत्वाधान मेंकिया जावेगा।_ _देश के विभिन्न भागों में पाठशाला संचालकों, संचालिकाओं को आमंत्रण पत्र प्रेषित किये जा रहे हैं। उनके समुचित आवास-भोजन आदि की व्यवस्था जैन समाज गुना द्वारा की जा रही है।_ ■ ? *अनिल जैन बड़कुल, ए बी जैन न्यूज़*
  11. ? *।। सविनय आमंत्रण ।।* *मान्यवर साधर्मीजन, जय जिनेन्द्र* _आप सभी को ज्ञात ही है, हमारे पुण्योदय से गुना नगर में-_ ● पूज्य मुनिश्री निर्णयसागर जी महाराज ● पूज्य मुनिश्री पद्मसागर जी महाराज श्री महावीर भवन, गुना में विराजमान हैं। _*दिनांक 22 अप्रैल दिन रविवार को दोपहर 1 बजे से पूज्य मुनिश्री पद्मसागर जी महाराज का दीक्षा दिवस बहुत ही उत्साह और भक्तिभाव से मनाया जावेगा।*_ आप सभी इस मांगलिक कार्यक्रम के अवसर पर सादर आमंत्रित हैं। कृपया पधारकर पुण्यार्जन करें । *कार्यक्रम स्थल:* श्री महावीर भवन, श्री पार्श्वनाथ दिगम्बर जैन बड़ा मन्दिर, चौधरी मोहल्ला, गुना। _(बाहर से पधारने बाले अतिथियों के आवास एवम भोजन की समुचित व्यवस्था की गई है।)_ बिनीत- *प्रवन्धकारिणी समिति, दिगम्बर जैन समाज, गुना*
  12.  
×