Jump to content
आचार्य विद्यासागर स्वाध्याय नेटवर्क से जुड़ने के लिए +918769567080 इस नंबर पर whatsapp करे Read more... ×
Sign in to follow this  

About This Group

हथकरघा उद्योग। ---नौकर नहीं मालिक बनो यदि आपको अभी तक कोई अच्छी नौकरी नहीं मिली है अथवा आप अपनी नौकरी से निराश हैं और अपने स्वाभिमान को बनाये रखने के लिए कुछ ऐसा कार्य करना चाहते हैं जो आपके लिए और देश के लिए लाभकारी हो तो आप हथकरघा योजना से जुड़ सकते हैं।  यह योजना मध्य प्रदेश के बीना बारहा क्षेत्र में चल रही है।  इस योजना के अंतर्गत आपको 6 महीने की ट्रेनिंग द्वारा हथकरघा से कपडा निर्माण करना सिखाया जायेगा। इन 6 माह में आपको 9000 प्रति माह आय के रूप में दिया जायेगा। 6 माह बाद इस आय को आप अपना करघा लगाने के लिए उपयोग कर सकते हैं ।  आवास और भोजन की सुविधा भी वहीँ रहेगी। इस योजना से जुड़कर आप अपना कपडा निर्माण करके आगे चलकर प्रति माह 40000 से 50000 तक की आय कर सकते हैं।  देश में बढ़ती हुई बेरोजगारी, पूँजी के अभाव में व्यापार के घटते अवसरों को देखते हुए आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज की प्रेरणा एवं आशीर्वाद से युवाओं को अपने पैरों पर खड़ा करने के लिए एक योजना है । कुण्डलपुर में अक्षय तृतीया 9 मई का हथकरघा की नई शाखा का शुभारम्भ आचार्य श्री विद्या सागर जी महाराज के ससंघ सानिध्य में होने जा रहा है जिसकी चयन प्रक्रिया के अंतर्गत दिनांक 4 मई 2016 को साक्षात्कार होना है।आप अथवा आपकी जानकारी में जो भी युवा इस योजना से जुड़ना चाहते हैं कृपया इस नंबर पर संपर्क करें: 

Category

Ongoing Projects

अधिक जानकारी

 

 

IMG-20170621-WA0022.jpg

IMG-20170621-WA0023.jpg

गुरुदेव के सपनों की उड़ान हथकरघा उद्योग

सिर्फ हंगामा खड़ा करना हमारा उद्देश्य नही है,
गुरु की कोशिश रही है
कि INDIA भारत बनाने के लिये
घर घर में सिर्फ चरखा ही नही
हथकरघा भी होना चाहिये!!

विद्यागुरु के आशीष से फलीभूत होता हथकरघा उद्योग!
स्वावलंबी भारत बने,अद्वितीय हो ये देश!!

विद्यागुरु की अनुपम करुणा,हम सबको दिखती शीघ्र साकार!
भारत पुनः सोने की चिड़िया बनेगा,मन में है विस्वास!!

क्या है हथकरघा❓
हथकरघा वह अहिंसक उद्योग है जिसे उड़ान दी है जैनाचार्य गुरुवर श्री विद्यासागर जी ऋषिराज ने,और उनके उस स्वपन को साकार करने के लिये अपना तन-मन सब कुछ समर्पित करने के लिये तैयार है आदरणीय गुरुदेव के अनन्य श्रद्धालु ब्रम्हचारी जी गण!!
और वे बहने जो पृथक से माताओं-बहनों को भी प्रशिक्षित कर रही है हथकरघा उद्योग के माध्यम से!!
इस युग के उन्नायक आचार्य गुरुदेव की अनन्त करुणा ही है जिसके फ़लस्वरूव वे हम सभी के भले के लिये निरन्तर चिंतित रहते है कि कैसे भारत पुनः अपनी समृद्धता की ओर गमन करें!!
हथकरघा उद्योग (जिसमें कपड़ा हाथ से बुना जाता है) भारत के प्राचीन और समृद्ध उद्योगों में से एक है, लेकिन पावरलूम के आने से इस उद्योग को भारी नुकसान का सामना करना पड़ा जिसका सीधा असर बुनाई करके आमदनी कमाने वाले बुनकर परिवारों पर पड़ा!!उस समय इसका प्रभाव इतनी गहनता से दिखने में नही आया!!लेकिन जब गुरुदेव ने देखा कि आजकल के भारतीय युवाओं की सबसे बड़ी समस्या की वह पूर्ण शिक्षित होने के बाद आर्थिक समस्या से जूझ रहे है,इसी समस्या के उन्मूलन के पूज्य आचार्य भगवन्त ने हथकरघा से उद्योग की राह दिखाई,उनकी ही जीवन्त करुणा का प्रतिफल है आज वह हथकरघा उद्योग आसमान की बुलंदियों को प्राप्त कर रहा है!!

क्यों आवश्यक है हथकरघा की प्रेरणा❓
हथकरघा की प्रेरणा इसीलिये भी महत्वपूर्ण है क्योंकि इसकी नींव भी पूर्ण अहिंसा पर आधरित है,जहाँ आजकल न जाने अधिक कमाई के चक्कर में कितने मूक प्राणियों की हिंसा की जा रही है इसीलिये भी महत्वपूर्णता है हमारे गुरुदेव की प्रेरणा हथकरघा उद्योग की!!

??हमारे उद्देश्य एंव दायित्व??
भारत को इंडिया से बचाना अर्थात ऐसा सफलतम प्रयास जहाँ भारत का प्रत्येक व्यक्ति आत्मनिर्भर हो,वह स्वस्थ्य तन-मन-धन और वतन वाला हो जिससे वह मानसिक गुलामी से बच सके!!और दूसरों की नौकरी करने की अपेक्षा स्वयं दुसरो को रोजगार दे!!

?हम सभी के उद्देश्य की सफलता का कारण?
हम सभी आचार्य भगवन्त के अनन्य ऋणी रहेगे क्योकि हम समझते है कि इस भारत देश में आदरणीय महात्मा गांधी के बाद कोई पुनः भारत देश की संस्कृति से जुडी स्वदेशी परम्परा को जीवन्त किया है तो वे आचार्य गुरुवर विद्यासागर जी ही है जिनके एक इशारे से सभी उनकी आज्ञा में तत्पर रहते है!!
और इसमें कोई आश्चर्य नही रहेगा कि भारत देश पुनः एक सोने की चिड़िया कहलायेगा!!⁠⁠⁠⁠

  1. What's new in this club
  2. 🌼सद्भावना राखी🌼 गुरुदेव के द्वारा प्रदत्त सुंदर नाम। विश्वास है यह राखी बनानेवालों, बांधने वालों, बंधवाने वालों; सभी के मन की मलिनता को धोकर सद्भावना की स्थापना और संचार में सफल होगी। 🌹शुभकामना🌹
  3. 🌈खुशखबरी - खुशखबरी- खुशखबरी - - 🌈 🌿 आचार्य भगवन ने केंद्रीय जेल सागर में बंदियों के द्वारा रक्षाबंधन पर्व के लिए बनाई जा रही राखियों के लिए बहुत-बहुत आशीर्वाद दिया 🌿 राखी का क्या नाम रखा जाए ❓ पूछने पर गुरुदेव ने अपने मुखारविंद से बताया 💫"सदभावना राखी"💫 बहुत ही शीघ्र आगामी 15 दिनों के अंदर जेल में बंदियों द्वारा बनाई जा रही राखी एवं मंदिर का रक्षा सूत्र जो कि शुद्ध, अहिंसक, सौ प्रतिशत कॉटन के धागे से और हथकरघा से तैयार कपड़े द्वारा बनाई जाएंगी मंदिर जी के रक्षा सूत्र और रक्षा करने वाले भाइयों को वा परिवारजनों को बांधने वाली राखी भी विक्रय हेतु उपलब्ध रहेगी उपरोक्त समाचार सभी ग्रुपों में भेज दें 💢 26 अगस्त को राखी है 💢 26 जून से विक्रय हेतु राखी उपलब्ध हो जाएंगी जल्दी ही उपलब्धता का स्थान बताया जाएगा डॉ रेखा जैन DSP पूर्व
  4. Jai Jinendra everyone, Our Jain community in Northern California has ordered hathkargha sarees from this kendra for Sanyam Swarn Mahotsava (Jun 23rd, 2018). We want to support their efforts. Thank you Rekha didi, Sagar for helping us out by fulfilling our order. I will share the pictures soon. -Charu Jain
  5. आज से कोई 2 साल पहले जब आचार्य भगवन सागर आए जेल अधीक्षक महोदय के निवेदन पर केंद्रीय जेल सागर के जेल के अंदर बंदियों को दरिया और कालिन बनाते देखा तो आचार्य श्री ने बंदियों से कहा इसमें सुधार की जरूरत है उसके बाद ब्रह्मचारिणी रेखा दीदी DSP पूर्व मैं आचार्य श्री के पास जेल में बंदियों को सिखाने हेतु जानकारी दी आचार्य श्री जी बहुत खुश हुए कि सलाखों से स्वावलंबन की ओर बंदी बढ़ेंगे और इसी श्रंखला में 1 जनवरी 2018 को वंदनीय आरिका अनंत मति माताजी के मंगल सानिध्य में जेल में बंदियों को हथकरघा पर साड़ी बनाने का प्रशिक्षण डॉ रेखा दीदी DSP पूर्व डॉक्टर नीलम दीदी शिशु रोग विशेषज्ञ एवं ब्रह्मचारी डॉक्टर अमित जैन राजा एसोसिएट प्रोफेसर बीएमसी कॉलेज ने प्रशिक्षण दिया मध्य प्रदेश के जेल मंत्री श्री अंतर सिंह जी आर्य पुलिस जेल महानिदेशक श्री संजय चौधरी मैं आचार्य श्री जी को डिंडोरी जाकर बंदियों के बारे में जानकारी दी और 108 हाथ करघे लगाकर मध्य प्रदेश की 13 केंद्रीय जेलो से पांच पांच बंदी भेज कर केंद्रीय जेल सागर में प्रशिक्षण करवाने की बात कही आचार्य श्री की करुणा बंदियों के लिए जागी और 13 केंद्रीय जेलों में बंदियों के लिए 150 लीटर की बोल्तास कंपनी की वाटर कूलर दानदाताओं द्वारा दिए गए वर्तमान में केंद्रीय जेल सागर में केंद्रीय जेल जबलपुर भोपाल ग्वालियर इंदौर से पांच-पांच बंदी कर साड़ियां बनाने का प्रशिक्षण ले रहे हैं | हथकरघे की एक सराहनीय उपलब्धि - मध्यप्रदेश शासन की जेल विभाग से आचार्य भगवन के आशीर्वाद से संचालित सक्रिय सम्यग्दर्शन सहकार संघ का एक एग्रीमेंट जेल में बंदियों को हथकरघा सिखाने का हुआ प्रथम बार भारत के इतिहास में जेल विभाग ने किसी संस्था से एग्रीमेंट का कार्य किया आचार्य भगवन की करुणा बंदियों तक पहुंची और सलाखों से स्वावलंबन की ओर बंदी बढ़ें अहिंसा के लिए बंदियों ने जो हाथकरघे का काम करेंगे आजीवन व्यसनमुक्त रहने का संकल्प करके काम करेंगे कल 9 मई से जेल में हथकरघा की संख्या बढ़ाकर केंद्रीय जेल जबलपुर, भोपाल, इंदौर, ग्वालियर, बड़वानी पांच जगह से पांच-पांच बंदी केंद्रीय जेल सागर में आ गए हैं और उन्हें हथकरघा की साड़ियां बनाने का प्रशिक्षण प्रारंभ कर दिया यह सभी बंदी भाई मास्टर ट्रेनर के रूप में तैयार किए जाएंगे और अपनी अपनी जेलों में वापस जाकर वहां के बंदियों को सिखाएंगे साल दो साल में जेलों के अंदर मध्य प्रदेश में लगभग 55000 बंदी हैं जो हथकरघा कि इस मिशन में सहयोग देंगे और बंदियों के श्रम को आचार्य श्री जी पुरस्कृत करेंगे l 8 मई को पपौरा जी में जेल अधीक्षक महोदय सागर ने पहुंच कर आचार्य श्री जी की पूजन के दौरान मंच से निवेदन किया है कि आचार्य श्री जी हमारा एक एग्रीमेंट आपके साथ हो गया है हमारे बंदियों की भावना है कि आप केंद्रीय जेल सागर आए और सन 1834 से चल रही जेल में लाखों बंदी रहकर के गए हैं काफी नकारात्मक उर्जा वहां पर है उसे दूर करने के लिए आठ दिवसीय सिद्धचक्र महामंडल विधान आप की मंगल सानिध्य में केंद्रीय जेल सागर में हो उन्होंने आगे कहा आचार्य श्री जी हमारी बंदियों की भावनाओं में सुधार हो इसके लिए एक आहार चर्या हमारी जेल के अंदर हो आप की आहार चर्या को सोलह सौ कैदी देखेंगे आपके तप त्याग देख कर के बहुतो का हृदय परिवर्तन होगा उक्त उद्गार को सुनकर आचार्य श्री जी बहुत प्रसन्न हुए बहुत मनोभावों से उन्होंने जेल अधीक्षक महोदय को आशीर्वाद दिया | पिछले 4 माह से जेल में चल रहे हाथकरघा प्रशिक्षण की बहुत अच्छी उपलब्धियां रही बंदियों द्वारा बहुत अच्छी साड़ी बनाई जा रही है जैन समाज और आम जनता ने इस कार्य में अपना अपूर्व सहयोग किया अभी तक साड़ियां चेन्नई, दिल्ली, मुंबई, पुणे, मिर्जापुर, भोपाल, इंदौर, जबलपुर, फिरोजपुर हरियाणा भेजी गई हर जगह से दोबारा साड़ियों का आर्डर मिला आचार्य भगवन की भावना थी कि साड़ियां विदेश तक जाएं तो एक बड़ा ऑर्डर विदेश से भी प्राप्त हुआ है जिसे मई माह में पूरा करके देना है | बंदियों का भी गजब का पुण्य है बंदियों द्वारा बनाए गए सिंहासन पर प्रतिदिन आचार्य भगवन बैठ रहे हैं और बंदियों कि जब भी नमोस्तु बोली जाती है आचार्य श्री जी बहुत खुश होकर उन्हें आशीर्वाद देते हैं मेरा सौभाग्य है कि मेरी टीम डॉक्टर नीलम दीदी, डॉक्टर अमित राजा भैया और हमारे ट्रेनर सभी मिलकर इस कार्य में सहयोग दे रहे हैं प्रतिदिन सुबह 7:00 बजे से 11:00 बजे तक और दोपहर 1:00 बजे शाम 5:00 बजे तक कुल 8 घंटे का प्रशिक्षण हमारी टीम दे रही है और हमारे बंदी भाई बहुत उत्साह से काम कर रहे हैं समस्त मानव समाज से अपेक्षा है कि इन बंदियों के भाव सुधरे जिससे इनके भव सुधरेंगे और अहिंसा पूरे विश्व में फैलेगी किसी ने सही कहा है गुरु कृपा कछु दुर्लभ नाही | डॉ रेखा जैन DSP पूर्व मध्यप्रदेश जेल के बंदियों का हथकरघा क्षेत्र में सलाखों से स्वावलंबन की ओर बढ़ते कदम
  6. With the blessings of Achary Shri 108 Vidyasagar Ji Maharaj, we've started our first store in Bhopal. Presenting the inside view of 🔅 Shramdaan Store in Bhopal 🔅 Do visit us Habibganj Jain Mandir Campus, Bhopal Contact: +91 900 961 7692
  7. आज हबीबगंज जैन मंदिर में स्थित हथकरघा के शोरूम *श्रमदान का उदघाटन समारोह https://www.facebook.com/www.vidyasagar.guru/photos/a.484024778600589.1073741828.484016608601406/642612389408493/?type=3 सम्मानीय धर्मप्रेमी बंन्धुओ सादर👏🏽 जय जिनेन्द्र परम पूज्य आचार्य भगवन् १०८ श्री विद्यासागर जी महराज के परम आर्शीवाद से समाज मे रोजगार और शुद्ध वस्त्र की परिकल्पना का सपना साकार हो रहा है कल दिनांक 13 मई 2018 दिन रविवार को हबीबगंज जैन मंदिर में स्थित हथकरघा के शोरूम *श्रमदान का उदघाटन समारोह है जिसमें मुख्य अतिथि माननीय केंन्द्रीय मंत्री सुश्री उमा भारती जी,भोपाल के लाडले महापौर श्री आलोक शर्मा जी एवं श्रीमति सुधा मलैया जी के शुभ सानिध्य में होने जा रहा है 🙌 सुबह 8 बजे से श्री शाँतिं विधान एवं 9:30 बजे से उदघाटन का कार्यक्रम होगा यह सभी कार्यक्रम वाणी भूषण प्रतिष्ठाचार्य बाल ब्र विनय भैया जी के निर्देशन में होंगे। 🙏🏻 आप लोग सपरिवार इष्टमित्र सहित पधार कर आचार्य भगवन की परिकल्पना को साकार करें, क़ार्यक्रम पश्चात स्वल्प आहार की व्यवस्था की गई है, आपके आभारी रहेगें, निवेदन: सकल दि० जैन समाज भोपाल, 09425005740 9826430536,
  8. संयम स्वर्ण महोत्सव

    एक शुभ सूचना हाथकरघा के लिए

    विगत कई वर्षों से मध्य प्रदेश सरकार को हम आपके द्वारा मध्यप्रदेश के चिकित्सालयों में लगने वाले कॉटन बैंडेज, गाज पीस, बेडशीट,ओ. टी. ड्रेस इन सब का ठेका सरकार द्वारा लघु उद्योग निगम को दिया जा रहा था और लघु उद्योग निगम द्वारा अव्यवस्थाओं के चलते बड़े-बड़े उद्योगपतियों को हाथकरघा का कार्य देती थीl जब इंदौर हथकरघा के लिए प्राथमिक भूमिका में वंदनीय आर्यिका आदर्श मति माताजी के सानिध्य में 4500 हजार मोटर साइकिल वाहनों की रैली तिलक नगर जैन मंदिर से प्रारंभ की गई थी और गोमटगिरी तक वाहन रैली हुई उसके बाद समापन कार्यक्रम में हाथकरघा के मुद्दे को विषय बनाकर आह्वाहन किया गया सरकार यदि 89 करोड़ का कॉटन बैंडेज बुनकरों को देने लगे तो हाथकरघा का विकास हो सकता है उसके बाद भोपाल में मिम्स हॉस्पिटल के सचिव डॉ राजेश जैन के अथक प्रयासों से मध्य प्रदेश शासन के वित्त मंत्री श्री जयंत मलैया जी की असीम सहयोग से मंत्री विश्वास सारंग जी, श्री संजय पाठक मंत्री, श्रीमती अर्चना चिटनीस मंत्री इन सब से समय-समय पर मुलाकात करके ज्ञापन देकर बाद में दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में मुनि श्री 108 गुप्ती सागर जी महाराज के सानिध्य में संयम स्वर्ण महोत्सव के उपलक्ष में सरकार द्वारा कॉटन बैंडेज का कार्य सीधे तौर पर बुनकरों को मिलना चाहिए इस बात को बहुत जबरदस्त तरीके से मंच पर रखा था इसको केंद्रीय गृहमंत्री श्री राजनाथ सिंह जी ने सुना था वह उस दिन स्वास्थ्य खराब होने से अपने बंगले पर बैठकर लाइव प्रोग्राम देख रहे हैं उसका परिणाम यह रहा मध्य प्रदेश सरकार मैं अब चिकित्सालय में उपयोग होने वाले कॉटन बैंडेज, गॉज पीस और चादरों का कार्य सीधा बुनकरों को देने का की घोषणा कर दी है अब कोई भी बुनकर सीधा काम प्राप्त कर सकता है सरकार उसे धागा देगी वह निर्धारित वस्त्र बनाकर सरकार को वापस करेगा बदले में मजदूरी मिलेगी हम आप सबके सामूहिक प्रयासों से और आचार्य भगवन की करुणा भावना से यह कार्य पूर्ण हुआ हमारे हथकरघा परिवार की भैया और बहनों ने समय-समय पर जब भी नेता नगरी आचार्य श्री के दर्शन को आई सभी ने आवेदन, निवेदन, ज्ञापन देकर अपनी बात रखी इसी का नतीजा है मध्य प्रदेश सरकार ने इतना महत्वपूर्ण निर्णय किया जिन जिन भाई बहनों को अपने बुनकरों को कॉटन बैंडेज, गाज पीस बनाने का कार्य दिलाना हो वह भोपाल हस्तशिल्प विकास निगम में जानकारी ले सकते हैं गुरुवर का मिशन बहुत जल्दी पूर्ण होगा जब भारत में हथकरघा निर्मित कपड़ा ही आम जनता पहनेगीं। बोलो आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज की जय l मेरा भारत महान हैंडलूम एक्ट 1985 मैं यह प्रावधान हुआ राज्य सरकार सरकारी विभागों में लगने वाले वस्त्रों को हथकरघा निर्मित वस्त्र ही खरीदेगी सूचना - डॉ रेखा जैन DSP पूर्व
  9. Padma raj Padma raj

    श्रमदान, हथकरघा प्रकल्प का नया रूप

    श्रमदान स्वागत ।
  10. दो वर्ष पूर्व गुरुवर आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज की सूक्ष्म दृष्टि ने पूरे देश को असमानता, गरीबी से निजात पाने के लिए एक समाधान दिया, स्वालम्बन के साथ रोजगार और इससे शुरू हुयी बदलाव की एक दास्ताँ... यह प्रकल्प है हथकरघा। कुछ उच्च शिक्षित ब्रहमचारी भाईयों के एक समूह के माध्यम से प्रारंभ हुआ यह प्रकल्प म.प्र. के लोकप्रिय तीर्थ बीना बारह एवं कुण्डलपुर में मुख्य रुप से स्थित हैं। गुरुदेव ने इन पवित्र विचारों को नाम दिया है श्रमदान। प्रस्तुत है हथकरघा अपने नए और आशावान रूप मे "श्रमदान" के नाम। 7 फरवरी 2018 को भट्टारक श्री चारूकीर्ति जी ने राष्ट्रपति महोदय को श्रमदान का प्रशस्ति पत्र देकर जहाँ श्रमदान का आग़ाज किया वहीं श्री अशोक जी पाटनी के मुख्य आतिथ्य में श्रमदान के प्रथम उत्पाद प्रदर्शनी का उद्घाटन कल 17 फरवरी 2018 की प्रातः वेला में हुआ। बहुत ही जल्दी ये उत्पाद www.shramdaan.in पर उपलब्ध होंगे। कृप्या www.shramdaan.in पर अपने आप को रजिस्टर करें। आप श्रम दान से निम्न लिंक से जुड़ सकते है : http://www.shramdaan.in/ https://www.instagram.com/shramdaann/ https://twitter.com/hathkargha https://www.facebook.com/Shramdaann https://www.youtube.com/c/shramdaan चारूकीर्ति जी राट्रपति राम नाथ कोविन्द जी को श्रम दान प्रशस्ति पत्र भेट करते हुए श्रवण बेलगोला में लगी श्रम दान प्रदर्शनी के चित्र
  11. सजल गोयल

    नयी साड़ी

    *महाकवि पं० भूरामल सामाजिक सहकार न्यास* द्वारा संचालित *हथकरघा* से बनी *100% सूती, अहींसक, स्वदेशी पद्धति से निर्मित* *🌹डॉबी साड़ी🌹* मूल्य = ₹ 3200 📞 *9981128662 (सजल गोयल)* 🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁 🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁 *उड़ना भूली, चिड़िया सोने की तू, उठ उड़ जा।।* *(आ० श्री जी कृत हाइकू)*
  12. इस साड़ी की बुनकारी ₹ 450 हम देतें हैं। एक दिन में एक साड़ी यह छात्र आराम से बना लेता है। VID_20180203_162217.mp4
  13. समाज में कमजोर वर्ग को सहयोग देकर उसे अपने जैसे बनाना, यह आप लोगों का कर्तव्य है। अर्थ से कभी भी अपने जैसा नहीं बनाया जा सकता किन्तु अर्थोपार्जन का साधन देकर सत्कर्म सिखाया जा सकता है। इसके लिए यह अहिंसक कार्य हथकरघा सर्वोत्तम कार्य माना जा सकता है। *-आचार्य श्री जी*
  14. 100% सूती, अहींसक, स्वदेशी पद्धति से निर्मित साड़ियाँ, धोती-दुप्पट्टे, सर्ट, कुर्त्ता-पैजामा, कोटी, टाबल, नेपकीन, चादर, आसन, योग-मैट, पानी का छन्ना, प्रक्षाल का कपड़ा, रुमाल, नल थैली, द्रव्य थैली, विभिन्न प्रकार के सर्ट आदि के कपड़े तथा और भी अनेक उत्पाद।
  15. 🇮🇳 *69वें गढ़तंत्र दिवस पर* 🇮🇳 *🚩महाकवि पंडित भूरामल सामाजिक सहकार न्यास🚩* का 🔥 *भारत के युवाओं को सन्देश* 🔥 आजसे कई वर्ष पहले हमारा भारत सोने की चिड़िया कहलाता था हम आत्म निर्भर थे, स्वतंत्र थे,सक्षम थे, सबल थे। समय के साथ साथ हम विदेशी शक्तियों की कूटनीति के शिकार होते गये और वे हमारी कलाओं को दबाते गए और आज हम स्वतंत्र होकर भी परतंत्र है, कहीं विदेशी सभ्यता के,कहीं विदेशी तकनीक के, तो कहीं देश के राजतंत्र के। आज के युवा उच्च शिक्षा प्राप्त करने के बाबजूद भी बहुत अल्प वेतन में कार्य करने को मजबूर है, जहाँ उन्हें अपने आत्मसम्मान को भूलकर तनावपूर्ण जीवन जीना पड़ता है। *देश को ऐसी दशा में देख संत शिरोमणि आचार्य गुरुवर विद्यासागर जी महराज के द्वारा देश के युवाओं के कल्याण के लिए एक स्वप्न देखा गया जो महाकवि पण्डित भूरामल सामाजिक सहकार न्यास हथकरघा प्रशिक्षण केंद्र के रूप में एक विशाल वृक्ष का रूप ले चुका है* आज देश के उच्चतम संस्थानों से शिक्षा प्राप्त युवा इस पावन कार्य से जुड़ रहे है एवं स्वयं तथा अपने क्षेत्र के युवाओं को रोजगार प्रदान कर रहे है। हथकरघा परिवार आप सभी से निवेदन करता है कि आप भी इस अनमोल कार्य से जुड़कर देश के उत्थान में सहयोग करें। *हथकरघा के माध्यम से कपड़ा बनाने का प्रशिक्षण प्राप्त करने के लिए इच्छुक युवा सम्पर्क करें* 🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁 *सजल गोयल = 9981128662* 👉 प्रशिक्षण निःशुल्क है। 👉 जैन छात्रों हेतु आवास तथा भोजन व्यवस्था भी उपलब्ध हैै। 👉 प्रशिक्षण के प्रथम दिन से 15 दिन तक ₹ 100 प्रति दिन तदोपरान्त जितना वस्त्र बनाएंगे उस हिसाब से वेतन भी मिलेगा। 👉 6 महीने के प्रशिक्षण के बाद आप अपने घर पर हथरकघा केन्द्र प्रारम्भ कर सकतें हैं तथा अपनी महनतानुसर एक श्रेष्ठ आजीविका कर सकतें है। 🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁 *उड़ना भूली, चिड़िया सोने की तू, उठ उड़ जा।।* *(आ० श्री जी कृत हाइकू)*
  16. 🔥 *रायपुर में हथकरघा वस्त्र चल विक्रय केन्द्र* 🔥 *महाकवि पं० भूरामल सामाजिक सहकार न्यास* द्वारा संचालित 🌹 *हथकरघा वस्त्र चल विक्रय केन्द्र* 🌹 *परम पूज्य आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज* के ससंघ सान्निध्य में हो रहे *श्रीमज्जिनेन्द्र पंचकल्याणक* के शुभ अवसर पर *छत्तीसगढ़ की धर्म नगरी रायपुर में* चल विक्रय केन्द्र उपलब्ध रहेगा। *वहाँ आप प्राप्त कर सकेंगें 100% सूती, अहींसक, स्वदेशी पद्धति से निर्मित साड़ियाँ, धोती-दुप्पट्टे, सर्ट, कुर्त्ता-पैजामा, कोटी, टाबल, नेपकीन, चादर, आसन, योग-मैट, पानी का छन्ना, प्रक्षाल का कपड़ा, रुमाल, नल थैली, द्रव्य थैली, विभिन्न प्रकार के सर्ट आदि के कपड़े तथा और भी अनेक उत्पाद।* 🚩 *2 ता० से 11 ता०* 🚩 *लाभंडी,रायपुर में* *सम्पर्क सूत्र = 98931 44684 (सिप्पी भैया)* *97999 29699 (प्रणव भैया)* 🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁 *उड़ना भूली, चिड़िया सोने की तू, उठ उड़ जा।।* *(आ० श्री जी कृत हाइकू)*
  17. मित्रा कॅरियर फेयर में आयोजित की गई हथकरघा प्रशिक्षण केंद्र की प्रदर्शनी मित्रा एजुकेशन एंड कॅरियर फेयर में लगे हथकरघे के स्टॉल पर कपड़ा बनते देखते युवक- युवती। जैनाचार्य विद्यासागर जी महाराज के आशीर्वाद से देशभर में संचालित हथकरघा प्रशिक्षण केंद्र से बने कपड़ों की प्रदर्शनी रविवार को आयोजित की गई। यह प्रदर्शनी मित्रा एजुकेशन एवं कॅरियर फेयर में लगी। यहां हथकरघा में स्वरोजगार स्थापित करने के लिए आवश्यक मार्गदर्शन एवं व्याख्यान ब्रह्मचारी अमित जैन ने दिया। आईआईटी दिल्ली के छात्र और यूएस में नौकरी कर चुके अमित जैन अब देशभर में हथकरघा केंद्रों के माध्यम से स्वदेशी की अलख जगा रहे हैं। महाकवि पं. भूरामल सामाजिक सहकार न्यास से सहयोग से संचालित हथकरघा प्रशिक्षण केंद्रों से प्रशिक्षित होकर हजारों महिलाएं और बेरोजगार युवा स्वाश्रित रोजगार अपना रहे हैं। देशभर में तेजी से संचालित हो रहे हथकरघा केंद्र के माध्यम से बेरोजगार युवा रोजगार से जुड़ रहे हैं, वहीं गांवों से पलायन रुक रहा है। हथकरघा के तहत ग्रामीण क्षेत्रों में किसानों को खेती के साथ अन्य रोजगार का विकल्प देना है। हथकरधा केंद्रों में निर्मित वस्त्रों की सबसे बड़ी खासियत यह पूर्णतः अहिंसक पद्धति से निर्मित वस्त्र है, जिसमें किसी भी स्तर पर पॉलिस्टर, टेरीकॉट आदि की मिलावट नहीं है। शाम को हथकरघा पर विशेष व्याख्यान हुआ। प्रदर्शनी देखने बड़ी संख्या में लोग पहुंचे।
  18. 🇮🇳 *69वें गढ़तंत्र दिवस पर* 🇮🇳 *🚩महाकवि पंडित भूरामल सामाजिक सहकार न्यास🚩* का 🔥 *भारत के युवाओं को सन्देश* 🔥 आजसे कई वर्ष पहले हमारा भारत सोने की चिड़िया कहलाता था हम आत्म निर्भर थे, स्वतंत्र थे,सक्षम थे, सबल थे। समय के साथ साथ हम विदेशी शक्तियों की कूटनीति के शिकार होते गये और वे हमारी कलाओं को दबाते गए और आज हम स्वतंत्र होकर भी परतंत्र है, कहीं विदेशी सभ्यता के,कहीं विदेशी तकनीक के, तो कहीं देश के राजतंत्र के। आज के युवा उच्च शिक्षा प्राप्त करने के बाबजूद भी बहुत अल्प वेतन में कार्य करने को मजबूर है, जहाँ उन्हें अपने आत्मसम्मान को भूलकर तनावपूर्ण जीवन जीना पड़ता है। *देश को ऐसी दशा में देख संत शिरोमणि आचार्य गुरुवर विद्यासागर जी महराज के द्वारा देश के युवाओं के कल्याण के लिए एक स्वप्न देखा गया जो महाकवि पण्डित भूरामल सामाजिक सहकार न्यास हथकरघा प्रशिक्षण केंद्र के रूप में एक विशाल वृक्ष का रूप ले चुका है* आज देश के उच्चतम संस्थानों से शिक्षा प्राप्त युवा इस पावन कार्य से जुड़ रहे है एवं स्वयं तथा अपने क्षेत्र के युवाओं को रोजगार प्रदान कर रहे है। हथकरघा परिवार आप सभी से निवेदन करता है कि आप भी इस अनमोल कार्य से जुड़कर देश के उत्थान में सहयोग करें। *हथकरघा के माध्यम से कपड़ा बनाने का प्रशिक्षण प्राप्त करने के लिए इच्छुक युवा सम्पर्क करें* 🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁 *सजल गोयल = 9981128662* 👉 प्रशिक्षण निःशुल्क है। 👉 जैन छात्रों हेतु आवास तथा भोजन व्यवस्था भी उपलब्ध हैै। 👉 प्रशिक्षण के प्रथम दिन से 15 दिन तक ₹ 100 प्रति दिन तदोपरान्त जितना वस्त्र बनाएंगे उस हिसाब से वेतन भी मिलेगा। 👉 6 महीने के प्रशिक्षण के बाद आप अपने घर पर हथरकघा केन्द्र प्रारम्भ कर सकतें हैं तथा अपनी महनतानुसर एक श्रेष्ठ आजीविका कर सकतें है। 🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁 *उड़ना भूली, चिड़िया सोने की तू, उठ उड़ जा।।* *(आ० श्री जी कृत हाइकू)*
  19. *हथकरघा के वस्त्र अपनाए* तथा *स्वावलम्बन,अहिंसा,स्वास्थ्य की ओर* स्वयं को, अपने परिवार को, अपने समाज को तथा अपने राष्ट्र को अग्रसर करें 🙏 वस्त्र प्राप्ति हेतु सम्पर्क - 9981128662 (सजल गोयल)
  20.  
×