Jump to content
आचार्य विद्यासागर स्वाध्याय नेटवर्क से जुड़ने के लिए +918769567080 इस नंबर पर whatsapp करे Read more... ×
Sign in to follow this  

About This Group

अहिंसा प्रधान भारत देश में हिंसा का तांडव बढ़ ही रहा है | २०१२-१३ में भारत से १८.९ लाख टन मांस का निकास हुआ था , जो २००९ की अपेक्षा तीन गुना था | हमें यह कैसे मान्य हो सकता है कि जिस धरती को भगवान महावीर ने अपने अहिंसा के उपदेश से सिंची हो, वही धरती आज गौमाता और अन्य निरीह पशु के खून से रंगी जा रही हो ! कम से कम हमारा देश तो मांस के गिनौने व्यापार से निवृत्त हो जाए, यह हम सभी अवश्य चाहेंगे | मांस निर्यात के विरोध में आप भी अपनी सहमती दर्ज कराकर कमसे कम १०० और लोगो तक यह बात पहुचायें और उनकी भी सहमति एक पत्र पर लेकर दयोदय महासंघ के कार्यालय पहूँचायें | यदि १ करोड़ हस्ताक्षर से एक वर्ष में १ करोड़ गाय बचती हैं तो प्रत्येक फॉर्म भरने वाले को आजीवन १ वर्ष में १ गाय बचाने का (१ गौ दान ) का फल मिलेगा |

Category

Ongoing Projects

अधिक जानकारी

हमारे संकल्प 

  • अपंग, बूढ़ी, परित्यक्त, बीमार, असहाय एवं वध हेतु प्रयोजित गायों को प्राप्त कर उनकी सेवा।
  • गौ संवर्धन, संरक्षण एवं सेवा।
  • गौ उपयोगिता का प्रमाणित पुष्टीकरण, उसके गोबर, मूत्र एवं दूध की आर्थिक उपादेयता स्थापित करना।
  • गौ संवर्धन से पर्यावरण संतुलन का प्रामाणिक पुष्टीकरण।
  • गायों को स्वस्थ बनाकर गरीब किसानों में आबंटन।
  • गायों की देशी प्रजातियों का विकास।
  • वृद्धों एवं तिरस्कृत वृद्ध, बीमार महानुभावों की चिकित्सा एवं सेवा।
  • वृद्धों के अनुभवों का काम लेने की व्यवस्था एवं समाज में देशो गौवंशो की उपयोग्यता स्थापित करना |
  • मांस   निर्यात    एवं  बूचरखानों का  जन जाग्रति  से विरोध एवं विधियक कारवाही करना एवं  जल संरक्षण, पर्यावरण संरक्षण के प्रति कार्य करना |
  • युवाओ को गौवंशो, हमारी संस्कृति ,जैविक उत्पाद , जैविक खेती से जोड़ना | जैविक , गौमूत्र उत्पाद , गोबर गैस गोबर उत्पाद और अगरबती ,गैसोलीन ,साबुन के निर्माण को प्रोत्साहित करना |

मुख्य सेवाएं

  • आश्रय स्थल - बेसहारा, बूढ़े, अपंग, चोटग्रस्त, रोगग्रस्त, कसाईयो से गौवंशो का गौशाला में संरक्षण एवं संवर्द्धन करना | आश्रय स्थल में भूसा भंडार ,दवाई एवं पानी का समुचित प्रबंध होता है |
  • आर्थिक एवं कानूनी सहायता - आर्थिक एवं कानूनी सहायता प्राप्त क्र कसाईयों से मुक्त कराकर, पसुओ को गौशालाओ में आश्रय देना एवं उनकी सेवा को पूरी करना |
  • दयोदय अहिंसा रत्न -  गौवंश के संरक्षण एवं संवर्द्धन में उत्कृष्ट कार्य करने वाले व्यक्ति /संस्था को ” दयोदय अहिंसा रत्न ” की उपाधि से विभूषित किया जाता है | जिस से समाज में गौ संरक्षण के प्रति जनता आगे बड़े |


 

  1. What's new in this club
  2. कृषि यहाँ का राष्ट्रीय धंधा है, कृषि से ही भारत में जीवन की सत्ता है | कृषि से गोरक्षा और गोरक्षासे, कृषि का संवर्धन स्वयंम सिद्ध है | इसलिए गोधनं राष्ट्रवर्धनम है | हिंसा का जो विधान करे वहे सविधान किसे प्यारा ? हिंसा पर प्रतिबन्ध लगाना है अधिकार हमारा |
  3. अनुच्छेद - ५१ ए भारतीय नागरिकों के मूल कर्तव्य छ) प्राकृतिक पर्यावरण की, जिनसे अन्तर्गत वन, झील, नदी और वन्य जीव हैं, रक्षा करें और उसका संवर्धन करें तथा प्राणीमात्र के प्रति दया भाव रखें। झ) सार्वजनिक सम्पति को सुरक्षित रखें और हिंसा से दूर रहें। अनुच्छेद - ४८ कृषि और पशुपालन का संगठन राज्य कृषि और पशुपालन को आधुनिक और वैज्ञानिक प्राणालियों से संगठित करने का प्रयास करेगा और विशिष्ट तथा गायों और बछडो तथा अन्य दुधारू और वाहक पशुओं की नस्लों के परिरक्षण और | सुधार के परिक्षण और सुधार के लिए और उनके वध का प्रतिषेध करने के लिए कदम उठायेगा।
  4. अमरीका के कॅलिफोर्निया नगर में एक गोशाला बनाई गई है, जिसमें ८० हजार बूढ़ी और अपंग गायें हैं। इसमें ८०० टन गोबर और इतना ही गोमूत्र प्रतिदिन प्राप्त होता है। इस गोबर और गोमूत्र से चलने वाले बिजली घरों में जो बिजली उत्पन्न होती है उसे बीस हजार परिवार काम में लेते हैं। १८० टन गोबर की राख भी प्रतिदिन प्राप्त होती है जो उर्वरक के नाते काम आती है। हिसाब लगाने पर सामने आया कि इस गोशाला के निर्माण में खर्च प्रत्येक एक डालर के एवंज मे गोशाला को पाँच डालर हर साल प्राप्त हो रहे हैं। पेट्रोल तथा डीजल की जो बचत हो रही है वह इसके अतिरित है।
  5. kailas jain

    नारे 

    अति सुंदर नारे आचार्य श्री को नमोस्तू गो माता को वनंदन ।।
  6. बहुत सुंदर योजना है । भारत किसान प्रधान देश है।शांतीधरा को मेरी ओर से शुभेच्छा।।
  7. जीवदया के मसीहा आचार्य १०८ श्री विद्यासागर जी महाराज के आशीर्वाद से स्थापित एवं संचालित दयोदय महासंघ की गौशालाओं हेतु आप दानराशि सीधे बैंक खाते में भी जमा कर सकते हैं, जमा उपरांत सूचना दें, फोन या ईमेल कर अवगत कराएँ ताकि आपको पक्की रसीद भेजी जा सके -
  8. संयम स्वर्ण महोत्सव

    आप बनें निर्माता

    गौशाला निर्माण में सहयोग प्रदान कर परम संरक्षक १,००,०००/- संरक्षक ५१,०००/- आजीवन सदस्य१ १,०००/- प्रति कमरा निर्माण हेतु ५१,०००/- प्रति ३० फीट गुणित १२० फीट शेड निर्माण हेतु ४,२५,०००/- प्रति ६० फीट गुणित १२० फीट चारा गोदाम हेतु ११,००,०००/- चिकित्सालय निर्माण हेतु १०,००,०००/- चिकित्सालय उपकरण हेतु ७,५०,०००/- वृद्धाश्रम निर्माण हेतु प्रति कमरा ५१,०००/- जल व्यवस्था हेतु प्रति टंकी (५००० लि.) २१,०००/- जल वितरण व्यवस्था प्रति शेड ५०,००१/- प्रति नलकूप हेतु ७५,०००/-
  9. संयम स्वर्ण महोत्सव

    आप बनें गोपालक

    प्रति गाय गोद लेने हेतु खर्च ११०१/- गाय त्रैमासिक व्यय १५०१/- गाय अर्द्धवार्षिक व्यय २५०१/- गाय वार्षिक व्यय ५००१/- प्रति १२१ पशुओं पर प्रतिदिन व्यय २००१/- अनुरोध – मूक पशु के त्रैमासिक, अर्द्धवार्षिक अथवा आयु पर्यंत ‘दयोदय’ पालक बनकर पुण्य लाभ पाएं।
  10. प्रतिदिन कुल भोजन व्यय २००१/-अनुमानित प्रतिदिन कुल औषधि व्यय १००१/-अनुमानित प्रतिमास कुल भोजन व्यय ६०,००१/-अनुमानित प्रतिमास कुल औषधि व्यय ३०,०००/-अनुमानित प्रति वृद्ध मासिक भोजन व्यय ७५१/-अनुमानित प्रति वृद्ध मासिक औषधि व्यय ३५१/-अनुमानित प्रति वृद्ध त्रैमासिक भोजन व्यय २५०१/-अनुमानित प्रति वृद्ध त्रैमासिक औषधि व्यय १२५१/-अनुमानित प्रति वृद्ध वार्षिक भोजन व्यय १०,००१/-अनुमानित प्रति वृद्ध वार्षिक औषधि व्यय ५००१/-अनुमानित हमें आपके सहयोग की सदैव प्रतीक्षा है। हमारे द्वारा संपादित कार्यों का निरीक्षण करें, यह विनम्र आग्रह है, अतएव अवश्य पधारें यह मनुहार है।
  11. संयम स्वर्ण महोत्सव

    नारे 

    जिसने गाय से नाता जोडा, रोग ने उससे नाता तोडा। जिसके घर दूध और गाय, उसके घर कभी रोग न आय। गौ उत्पादों का करे प्रयोग, धन बचे मिट जाएँ रोग। जैसा पिये दूध, वैसा होय पूत। गों सेवा को समझकर, जो घर में रखे गाय। गोबर, गौ-मूत्र, घी से वो खूब करेगा आय। खूब करेगा आय, लक्ष्मी खूब आयेगी। सुख समृद्धि मान, प्रतिष्ठा संग लायेगी। गौ सेवा को समझकर, जो फेरे गौ पे हाथ। बिन डॉक्टर की दवा के, रोग छोड दे साथ। रोग छोड दे साथ, जीने का मजा आयेगा। मानव जीवन सफल, भक्ति मुक्ति पायेगा।
  12. सन १९६० तक देश से मांस नियति नही होता था। १९६१ से मांस निर्यात १ करोड रुपयों का हुआ है। एवम् देश में नशाबंदी भी १९६१ से समाप्त की गई है। कर्नाटक राज्य मद्यपान संयम बोर्ड के अध्यक्ष सचानंद हेगडे ने कहा है, की राज्य में शराब से सरकार को वर्ष में १०,००० करोड की आय होती है, वह परोक्षरुप से २२,००० करोड रुपये का नुकसान होता है। २५ लाख लोग मौत के मुँह में जाते है। सडक हादसे और बलात्कार जैसी वारदाते शराब पिए व्यक्तियों द्वारा की जाती है। उन्होंने कहा है की, इसके दुष्परिणाम के बारे में जनजागृती करने के लिए बोर्ड की ओर से राज्य भर में कार्यक्रम चलाए जा रहे है। (राज्यस्थान पत्रिका २४-५-२०१२) देश आजाद हुआ तभी सिर्फ ३०० कत्लखाने थे, वर्तमान में यह संख्या ३६,००० से ज्यादा है। उसमें भी आधुनिक और यांत्रिक कत्लखाने है। इस उद्योग को कृषि उद्योग का दर्जा दिया गया है। इस कारण से केंद्र सरकार और राज्य सरकार अनुदान देती है, और इनकम टेक्स में भी छूट देती है। ज्यादा तर यांत्रिक कत्लखाने, पोल्ट्रीफार्म राजनेता और उनके प्रतिनिधी ही चला रहे है। अरबो रुपये अनुदान के रुप में सरकार ने दिया वह किसी खेत में भी उत्पन्न नहीं होता है। पशु का कत्ल करने के उद्योग को कृषी उत्पादन का दर्जा खत्म करने के लिए सरकार से मांग करनी चाहिए और सरकारद्वारा अनुदान बंद कराना चाहिए और आयकर में छूट देना भी बंद करना चाहिए। भारतीय पशुकल्याण बोर्ड चेन्नई के माध्यम से प्रस्तुत एक हजार जनसंख्या के पीछे सन १९५१ में दूध देनेवाले ४३० पशु थे। सन २००१ में सिर्फ ११० पशु थे। उसके बाद पशुगणना आंकड उपलब्ध नही है। शायद कुछ महिने पहिले वर्तमान पत्र में पढ़ा था की, पशुगणना अभी होनेवाली है। मगर जानकारोंसे मालूम हुआ है की वर्तमान में सिर्फ ४० पशु ही दूध देनेवाले है। इसका मतलब अवैध रुप से भारी संख्या में दूध देनेवाले पशुओं की कत्ल हो रहीं है। इसके अलावा केंद्रीय सांख्यिकी विभाग पशुधन से प्राप्त होनेवाली दुध उत्पादन सन २००७-०८ का प्रतिव्यति प्रतिदिन का रु. ३.७५ (१/४ लीटर) है। दूध, दही, घी, छाछ वगैरे के लिए यह उत्पादन बहुतही कम है। इस कारण से भारी मात्रा में दूध में स्वास्थ्यघातक पदार्थ डिटर्जेंट पावडर और पशुओं की चरबी का मिलावट हो रहा है, यह भी भारत सरकार की रिपोर्ट है। याने अप्रत्यक्ष रुपसे जनता को मांसाहार खिलाया जा रहा है वह अन्य खाद्यपदार्थ में भी मांसाहार का उपयोग भारी मात्रा में होता है। कानूनी ग्रीन मार्क लगा रहता है, मगर वे सिर्फ नंबर लिखते है, वो कोड नंबर मांसाहार का होता है। देश की शाकाहारी जनता को अप्रत्यक्ष रुप में मांसाहार का सेवन करना पडता है। देश में ५० वर्ष में शुद्ध शाकाहारी जनता में मांसाहार और शराब का सेवन करनेवालोंकी संख्या भारी मात्रा में बढ़ गई है। जैसे आहार होता है वैसी बुद्धी होती है। इसके लिए हमारे देश के भ्रष्ट नेता ही जिम्मेदारी है। उनके मांस, मदिरा आहार से भारी मात्रा में महिलाओं का शोषण होता है, परिवार में कलह-क्लेश और तलाक जैसी घटना मांसाहार और शराब से ही हो रहीं है। अंडा शाकाहार है ऐसा झूटा प्रचार करके अंडा खाने की आदत लगाई गई है।
  13. मै ७ रोगों का भोग बना हुआ था १) साइनस २) अस्थमा ३) हाई ब्लड प्रेसर ४) अनिद्रा ५) डायबिटीस (मधुमेह), ६) कभी कभी हृदय कि धडकन थोडी देर के लिए अनियमित हो जाना ७) उदरी (बालों का झड जाना) इन सातों रोगों की हमेशा २१ गोलिया खानी पडती थी। कायम दवाई लेने पर भी एक भी रोग मिटता नहीं था। बीमारी, दवाईयाँ और खर्चसे मैं परेशान हो गया था और थकान महसूस होती थी। मैं ऐलोपेथिक दवाई से तंग आ गया था। अंत: एक वैद्यकी सलाह से नये प्रयोग के रूप में हमेशा सुबह के चाय में देशी गाय का घी दो चम्मच डालकर पीना शुरू कर दिया। मानो चमत्कार हो गया। केवल दो महीनों में इस प्रयोग से मेरें सातों रोग मिट गये। गत चार साल से जिंदगीभर लेने का मेरा दृढ़ संकल्प है। गाय का दही : गाय के दही में पाचन शक्ति में वृद्धि करनेवाला और पेटमें अंतडियों के जन्तुओंको मार डालने वाले असंख्य उपयोगी बेक्टेरिया रहते हैं। अन्तः हमेशा सुबह मे दही निरोगी रखनेवाला एवं अमृत समान पोषक है। मक्खन : हमेशा सुबह मे २५ ते ५० ग्राम गाय के गरम घी या मक्खन में १० ग्राम गुड एवं २ ग्राम सौंठ डालकर पीनेसे पुराना अजीर्ण, वायु आदि मिट । जाते हैं और शरीर में धातुबल की वृद्धि होती है। कडक पेट सर्वथा नरम पड जाता है। मक्खन से बालक की ऊंचाई, आंखोका तेज, शक्ति एवं बुद्धि का विकास होता है। छाछ : पेट खाली होने पर गाय की ताजा छाछ पीने से संग्रहनी आफरा- । हैजा-बवासीर-मरोड आदि मिट जाते हैं और कमजोर बने हुए जठर (होजरी) अंतडी आदिकों पुनः सशक्त बनाता है।
  14. संयम स्वर्ण महोत्सव

    देशी गाय

    आयुर्वेद के ग्रंथ, विज्ञान और मानव समाज द्वारा किये गये अभ्यासों के आधार पर गायका दूध वात-पित्त आदिको दूर करनेवाला है। और गाय के दूध-घी पाचन प्रक्रिया में सरल, माता के गर्भ से लेकर जीवनभर सबके लिए अमृत समान पोषक है, शक्ति, आरोग्य एवं जीवनदाता है। शरीर में कोलेस्ट्रोल के समतोलन का निर्माता है। इस दूध से मेद में वृद्धि नही होता। यह हृदय को बल देनेवाला है। गाय को खूब पसीना आता है जिससे गाय के दूध मे अशुद्धि हानिकारक तत्व नही रहते। गाय के दूध-घी में रोग प्रतिकारक शक्ति, बुद्धि शक्ति, ओजस एवं तेजस्विता में वृद्धि करनेवाला सुवर्णक्षार रहता है। अत: गाय के दूध-घी से तन्दुरस्त मनुष्य को कफ नहीं होता है। गाय के दूध-घी में आँखों के तेज की वृद्धि करनेवाला या अंधापन को दूर करनेवाला केरोटिन एवं विटामिन-ए अधिक मात्रा में होता है। गोमूत्र पृथ्वी पर की श्रेष्ठ संजीवनी (औषध) है। अनेक रोगों में एक दवाई अर्थात्-गोमूत्र है। गाय के दूध, घी, छाछ, गोमूत्र एवं गोबर में १०० से भी ज्यादा गुण रहते है। और १५० से भी बढ़कर रोगों को मिटाते है। गाय की छाछ अंतडी की शक्ति को बढ़ाकर संग्रहणी के रोग को मिटाकर अमृत समान सिद्ध होती है तथा अत्यंत स्वादिष्ट होती है। गाय का दूध-घी शरीर के भीतर होनेवाले रोग जैसे की हृदय-रोग, डायबिटीस, अशक्ति, वृद्धत्व, श्वास, वात, ऑखों की निर्बलता, जातीय निर्बलता, मानसिक रोगों को मिटानेवाले है। पानी, घास आदिकी कमी, अकाल आदि का सामना करने की कुदरती शक्ति गाय में ज्यादा है। बहुत कम या सूखा खोराक खाने पर भी दूध देती है। गीर, शाहिवाल, थरपाकर, राठी, कांकरेज, ऑगोल गाय बीयात का २००० से ६००० लीटर दूध देती है। भारतीय देशी गाय आखिर तक दोनों समय दूध देती है। प्रेमपूर्ण स्वभाव की वजह से अपने बच्चे को देखने पर या अपने पालक के हाथका स्पर्श होते ही उसके थन दूध से भर जाते है। इसी कारण गायको दोहने के लिए पूरे देश में कोई दवाई, इन्जेक्शन आदि का उपयोग नहीं करना पडता। १० मिनट में गोदोहन की क्रिया हो जाती है। औसत दूध नहीं देने के दिवस ६० से लेकर ९० है। दो दिन के भूखें पेट होने पर भी सब देशी गाय प्रेम से खडी रह कर दूध देती है। कृषि के लिए बैल देती है। देशी गाय अपने पालक को अनन्य प्रेम, मैत्री, करूणा एवं प्रसन्नता देती है। अपने पालक की सब आज्ञाओंका पालन करती है। गायों की दूध देने की नैसर्गिक प्रवृति या प्रक्रिया बारहों महीना जारी रहती है। देशी गाय के दूध में औसन् ४.५ % से लेकर ५ % प्रतिशत घी होता है। गाय का घी सुपाच्य एवं जीवनदाता है। सोचो समझो भारत मां के मुंह में आज मुस्कान नहीं, पशु मांस निर्यात करें यह अपना हिन्दुस्तान नहीं। आचार्य विद्यासागरजी
  15. मुझे ढाई साल से हृदय के स्नायुओंकी पीडा सतत रहा करती थी। मैं ठीक से सो भी नहीं सकता था। अत: अहमदाबादकी अस्पताल में इको टेस्ट द्वारा जाँच करने से पता चला की हृदय की मुख्य तीन नालियाँ ७० प्रतिशत बंध थी तथा कोलेस्टोरल की मात्रा भी अधिक थी। उसके बाद मनसुखभाई सुवागीया की सलाह से मैंने हमेशा सुबह में देशी गाय के दूध की एक कप चाय में एक चम्मच देशी गाय का घी डालकर पीना शुरू कर दिया। नौ महिनें मे बिना किसी दवाई हृदय का दर्द बंद हो गया। उसके उपरांत उसी अस्पताल में जाँच करवाई तो डॉ. वी. पी. पटेलने बताया कि अभी हृदय की तीन नांप्लिया खुल गई है। और सामान्य बन गई है और कोलेस्टोरल का प्रमाण भी सामान्य है। मूल हृदयरोग से मुक्ति मिल गयी है इस बातका प्रमाण तब मिला जब १-११-२००८ के दिन जलक्रांति ट्रस्ट द्वारा आयोजित पाँचवी जल एवं गोरक्षा के लिये गिरनार परिक्रमा में किसी भी तकलीफ बिना १० घंटे में तीन ऊँचे पर्वतो को पार कर मैंने २७ किलोमीटर की परिक्रमा संपन्न की। देशी गाय के घी से ब्लडप्रेशर (बी.पी.) वाले अन्य तीन रोगीयों ने भी हमारे साथ आसानी से इस परिक्रमा को साकार किया। इस से सिद्ध होता है कि देशी गाय के दूध-घी से किसी भी प्रकार के हृदयरोग को मिटाकर नई जीवन-शक्ति प्रदान की जा सकती है। देश के लिए, गाय के दूध-घी के गुणों का एवं परिणामोका अभ्यास करनेकी एवं इनको सामान्य जन तक पहुँचाने की कडी आवश्यकता है। - अतुलभाई डी. पटेल - BAPS साळंगपुर, मो -०९४२९०६५१३४
  16. मेरी ऑख में रत आ जानेकी तकलीफ हो गयी। मैने ऑखो के नामांकित डॉ. गद्रे (राजकोट) एवं नागपाल (अहमदाबाद) की दवाई लगातार तीन साल तक ली। तथापि चिकित्सा एवं दवाईयों लेने पर भी वह तकलीफ बढ़ती ही गई। और मुझे दोनों आँखो में अंधापन संपूर्णतया आ गया | एक वैद्य की सलाह से नाक में हमेशा तीन-तीन बूंद देशी गाय का घी डालना शुरू कर दिया। दो महीनों में आँख कि रोशनी वापस आ गई। आज मैं अखबार पढ़ सकता हूँ। गाय के घी ने मुझे नवजीवन प्रदान कर चमत्कार का सर्जन किया है। - जीवन ठुमर राजकोट, मो -०९९२५१८४६५४
  17. गाय पर प्रेम से हाथ फेरने से दो महिने में उच्च रक्त चाप बिल्कुल ठीक हो जाता है। गाय भी अधिक दूध देने लगती है २५,७४० मनुष्य एक गाय के जीवन भर के दूध से एक बार तृप्त हो सकते है। रासायनिक खाद, किटनाशकों का जहर भोजन के माध्यम से हमारे शरीर में पहुँच जाता है, वह घी से नष्ट होकर शरीर से निकल जाता है गोबर से लीपा हुआ घर गर्मी में ठंडा और ठंड में गर्म रहता है। रेडियो सक्रिय किरणों का दुष्प्रभाव भी नही पडता है। एक रूपये की चीज १० रूपये में बेचने वाले टी.व्ही. पर अपना विज्ञापन दे सकते है। गोपालक नहीं। फिर तो ३० रूपये लागत का दूध ३०० रूपये, १००० रूपये का घी १०,००० रूपये किलो बिकेगा। संस्कृत में गाय को गों कहा जाता है। हिन्दी में प्रेम से गौ, गऊ, गैया, गौमाता भी कहा जाता है। बछडे के साथ गाय को धेनु कहते है और सभी कामनाएँ पूरी होने से कामधेनु कहते है। बछडे को संस्कृत में वत्स कहा जाता है। वत्स से ही बना है वात्सल्य अथति मौं का प्रेम। गाय का दूध बुद्धिवर्धक और सात्विक बात समझने के लिए बल देने वाला होता है।
  18. आज विभिन्न विदेशी कम्पनियों को बिजली बनाने के लिये देश में बुलाया जा रहा है। रासायनिक खाद के आयात और सब्सिडी में अरबों खरबों रूपये खर्च हो रहे है। परन्तु इन सब के स्वदेशी स्त्रोंत पशु और पशु उत्पाद की पूर्ण उपेक्षा की जा रही है, जो सतत् विकास के लिए नुकसानदायक है। कैलिफोर्निया में ९० हजार बुढीं अपंग और बाँझ गायों के गोबर से चलने वाली पावर जनरेटिंग इकाई से १५ मेगावाट विद्युत के अतिरित १६० टन राख खाद एवं ६०० गैलन गौमुत्र कीटनाशक के रूप में प्राप्त हो रहा है। ४५ मिलियन डालर से स्थापित इस परियोजना से प्रति वर्ष २ मिलियन के खर्च पर १० मिलियन डॉलर की प्राप्ति हो रही है। भारत में ‘नाडेप' पद्धति के अनुसार एक गोवंश के वार्षिक गोबर से बनाई गई खाद का मुल्य ३० हजार रूपये से भी अधिक होता है एवं गुणवत्ता भी कहीं अधिक होती है। बायोगैस संयंत्रो द्वारा गावों की विद्युत आपूर्ति गायों से ही हो सकती है।
  19. १. गाय का गर्मागर्म दूध-घी-हल्दी मासपेशियों के दर्द एवं हड़ी की चोट में फायदेमंद होता है। २. चाँदी के प्याले में गाय का दूध जमाकर उसका ताजा दही माँ को खिलाने से संतान विकलाँग और मंदबुद्धी नहीं होगी। ३. आयुर्वेद में घी को आयु कहा गया है। मस्तिष्क १८-२० प्रतिशत चिकनाई से बना है इसकी मात्रा कम हो जाने पर वह कमजोर हो जाता है। इसकी पूर्ति के लिये गाय के घी से सस्ती दूसरी कोई चीज नही है। ४. विश्व प्रसिद्ध गी विज्ञान विशेषज्ञ डॉ. गौरीशंकर जी महेश्वरी कहते थे. ‘गर्म दूध में दो चम्मच गाय का घी डालकर फेंटकर पीने से पाचन शक्ति अच्छी रहती है, पेट साफ रहता है, एसिडिटी, गैस, जोडों के दर्द आदि से छुटकारा मिलता है लेकिन आजकल तो दूध में जो चिकनाई होती है उसे भी निकाल लिया जाता है। ऐसा दूध वात रोगों को बढ़ाता है।” ५, ४०-५० ग्राम गाय का घी खाने से दवाईयाँ नही लेनी पडती, रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। ६, ४ बुंद गाय के घी से ९० से अधिक रोगों का उपचार विशेषज्ञ बताते है। ७. हमेशा गाय की घी खाना चाहिये क्योंकि दो-दो बूंद गाय का गुनगुना घी नाक में डालने से सब रोगों में अदभूत लाभ होता है। ध्यान रहे यह घी दही मथकर बनाया हुआ होना चाहिये। ८. गाय का घी नाक में डालने से आज्ञा चक्र को शक्ति मिलती है। इससे योग में जल्दी प्रगति होती है। (घी का तापमान शरीर के तापमान से कुछ अधिक होता है, इसे साँस के साथ खींचे नही) ९. गाय के घी से सिरदर्द, कान दर्द, ऑखो के रोग, सायनस,एलजीं, थकान, बाल झड़ना, तनाव, स्मरण शक्ति आदि रोगों में भी लाभ होता है। १०. प्राणायम करने वाले यदि दूध नही पीयेंगे तो प्राणायाम की गर्मी से उनका शरीर जलने लगेगा। "जीना है तो रोजाना पी, देशी गाय का दूध घी। खाओं दही, तो सब काम सही। लस्सी के गुण अस्सी।" ११. गाय के दूध को नाडी की दुर्बलता नष्ट करने के लिए सर्वश्रेष्ठ कहा गया है। वह वायु, पित्त एवं खून की खराबी में भी गुणकारी है। १२. दुग्ध कल्प से क्षय (टीबी) और कैंसर भी जड से ठीक हो सकते है | १३. गाय के दूध को पीने से थायराईड नहीं होता है। क्योंकि गाय के दूध में थायरॉईड ग्लाण्ड का अंश भी मिलता है, जिससे शरीर में स्फूर्ति तेजी से उत्पन्न होती है। १४. अरब के चिकित्सकों ने दूध के जलियांस को पीने के लिए कहा है। १५. रूस और जर्मनी के चिकित्सकों ने सन १८६७ में औषध के रूप में दूध पीने के लिए लिखा है। १६. अमेरिका के डॉ सी कटेल ने सैंकडो लोगों को दूध से निरोगी बनाया| १७. गाय जब दिनभर धूप में घास चरती है, घूमती फिरती है, तब उसकी मुलायम चमडी के द्वारा बलवान प्राण तत्वों और सूर्य की पराकासनी किरणों को आकृष्ट करके रोगों को नष्ट करने की शती प्राप्त करती है। १८. रॉक फेलर जब मेदे की व्याधि से पीडित हुये तो उन्होने यह घोषणा कि, मैं उस व्यक्ति को १० लाख डॉलर इनाम दूँगा जो मुझे रोग मुक्त कर देगा। अंत मे वह गौ-दुग्ध से ठीक हो गये। १९. गौ दुग्ध निर्बल को सबल तथा रोगी को निरोगी बनाने में सबसे उत्तम है। (मिरकल ऑफ मिल्क, लेखक वर्नर फैक्फैड) २०. गौ दूध सोन्दर का मूल है | COW MILK IS ROOT OF BEAUTY.
  20. जिस प्लॉट पर भवन निर्माण करना हो, वहां पर यदि बछडे वाली गाय को लाकर बांधा जाए तो वहा संभावित वास्तुदोषों का निवारण स्वत: हो जाता है। कार्य निर्विघ्न पूरा होता है और समापन तक आर्थिक बाधाएं नहीं आती। 'समरांगण सूत्रधार' जैसा प्रसिद्ध बृहद् वास्तु ग्रंथ गौरूप में पृथ्वी-ब्रह्मादि के समागम-संवाद से ही आरंभ होता है। वास्तुग्रंथ 'मयमतम् में कहा कि भवन निर्माण का शुभारंभ करने से पूर्व उस भूमि पर ऐसी गाय को लाकर बांधना चाहिए जो सवत्सा या बछडे वाली हो। नवजात बछडे को जब गाय दुलारकर चाटती है तो उसके फेनसे वहां होने वाले समस्त दोषों का निवारण हो जाता है। वही मान्यता वास्तुप्रदीप, अपराजितपृच्छा आदि में भी आई है। महाभारत के अनुशासन पर्व में कहा गया है कि गाय जहाँ बैठकर निर्भयता पूर्वक सांस लेती हैं, उस स्थान के सारे पाप नष्ट हो जाते है।
  21. गाय के घी को आयुवेद में महाऔषधि (दिव्य औषधि) भी कहा जाता है। बाजार में मिलने वाले गाय के घी की विश्वसनीयता नहीं है। देशी गाय जो कूडा-कचरा नहीं खाती है और खेती या जंगल को घास चरने जाती है। उसके दूध को गर्म कर मिट्टी के पात्र में दही जमाया जाता है। उस दही को पुराने तरीके से मिट्टी के बिलौने में लकडी की अशु से बिलौया जाता हो। उससे प्राप्त कच्चे मक्खन को गर्म करने के बाद प्राप्त घी को ही गाय का घी कहा जा सकता है। रात्रि को सोते समय गाय के घी की दो बूंद नाक में डाल कर उसे श्वांस के साथ अपने आप मष्तिक में जाने दें। ऐसा करने पर किसी भी प्रकार का सिरदर्द नही होगा और बुद्धि तेज होती है। शरीर में किसी भी प्रकार की बीमारी नहीं आती है। इस प्रकार के प्रयोग से लकवे और कोमे वाले मरीज तक ठीक हुए है। श्यामा गाय के घी से अनेक दुखी व्यक्तियों को रोगमुक्त होते हुए देखा है। इसे गठिया कुष्ठरोग, जले तथा कटे घाव के दाग, चेहरे की झाँई, नेत्रविकार, जलन, मुँह का फटना आदि पर आश्चर्यजनक लाभ होता है। इसी प्रकार जोडों में दर्द, चोट, सूजन फोडे-फुसी आदि अनेक बिमारियों से पीडित अनेक लोगों का घी से उपचार किया गया, जिसमें आश्चर्यजनक सफलता प्राप्त हुई। एक व्यक्ति की ऑपरेशन के दौरान नाक में नली पडने के कारण आवाज चली गई थी। प्रयास करने के बावजुद १५-२० दिन बाद भी वे कुछ बोल नहीं पा रहे थे। मजबूर होकर वे अपनी बातें कागज पर लिख देते थे,किसी व्यति ने देशी गाय के घी से गले पर मालिस करने की सलाह दी। तीन-चार दिन गले में उत्त घी की मालिश करते ही उनकी आवाज खुलने लगी और ९-१० दिन में वे पहले जैसे बोलने लगे। इस प्रकार गाय के घी से उपचार के हजारों उदाहरणश है।
  22. भारतीय संस्कृति में गाय का स्थान माता के समान ऊँचा है। इसका वैज्ञानिक आधार भी है। कुछ वर्षोंपूर्व कुछ शोधकर्ताओं ने बताया था कि गोवध अनेकों बार भूकम्प का कारण बनता है। अब कुछ परिक्षणों से पता लगा है कि गाय पृथ्वी के चुम्बकीय क्षेत्र को अनुभव कर सकती है। इसलिए भोजन या विश्राम के समय गाय का शरीर हमेशा उत्तर-दक्षिण दिशा में रहता है। २६ अगस्त के दैनिक 'जनसत्ता' में प्रकाशित एक समाचार के अनुसार नार्थ केरालिना विश्व विद्यालय (अमरीका) के जीव विज्ञानी कैनेथ, लोहमेन ने लगभग आठ हजार गायों पर अनुसंधान के बाद उत्त निष्कर्ष निकाला। प्रयोगों में पाया गया कि कम्पास की सुई की तरह गाय का शरीर भी भोजन-विश्राम के समय ठीक उत्तर-दक्षिण में रहता है। यह भी जानकारी मिली कि गायें पठारों की दिशा में मुँह करके बैठती हैं तथा उष्मा लेने के लिए अपना शरीर सूर्य की ओर रखती है। गौमाता एवं उसकी संतान के रंभाने की आवाज से मनुष्य के अनेक मानसिक रोग स्वयं दूर हो जाते हैं। "देखो शंकर तेरा नन्दी, कत्लखानों में काटा जाता है, राजनीति के अन्धों द्वारा, देश मिटाया जाता है, मंगल पाण्डेय के इतिहास को दुहराया जाता है, और गो माता का खून बहाया जाता है।”
  23. कोई व्यक्ति यदि प्रतिदिन गाय और तुलसी को परिक्रमा करें तो उसके शरीर में ऊर्जा बढ़ जाती है। कुछ लोगों को यह पोंगा पंथ लग सकती है किन्तु वैज्ञानिक यंत्रों द्वारा यह सिद्ध हो चुका है। ‘आभा मण्डल' नापने के यंत्र ‘युनिवर्सल स्केनर' के उत्त परीक्षणों से सिद्ध हुआ है कि गाय, तुलसी, पीपल, सफेद आक के पूजन की परम्परा का एक ठोस वैज्ञानिक आधार है। इनसे ऊर्जा प्रवाहित होती है। देवी देवताओं के चित्रों में हम उनके सिर के पीछे एक चमकीला गोल घेरा देखते है। यह घेरा ही आभामण्डल कहलाता है। इसी प्रकार प्रत्येक मनुष्य का भी आभामंडल होता है। प्रसिद्ध परमाणु वैज्ञानिक डॉ. मानीममूर्ति द्वारा आभामण्डल को नापने के यंत्र 'युनिवर्सल स्केनर' से यह पता चलता है कि किसी व्यक्ति के आभामण्डल का दायरा कितना है। आभा मण्डल का दायरा जितना अधिक होगा, व्यक्ति उतना ही अधिक कार्यक्षम, मानसिक रूप से क्षमतावान व स्वस्थ होगा। इस मापक यंत्र के परीक्षणों से यह भी स्पष्ट हुआ हैं कि कोई व्यति तुलसी के पौधे या गाय की नौ बार परिक्रमा कर लें तो उसके आभा-मण्डल का दायरा बढ़ जाता है। देशी गाय की नौ परिक्रमा करने के बाद जब एक व्यक्ति के आभामंडल को मापा गया तो आश्चर्यजनक रूप से आभा मण्डल के प्रभाव क्षेत्र में बढ़ोतरी पायी गई। जो व्यक्ति अपने लिए रोता है वह स्वाथीं कहलाता है लेकिन जो दूसरों के लिए रोता है वह धर्मात्मा कहलाता है। आचार्य विद्यासागरजी
  24. वेदों, उपनिषदों, महाभारत, भागवत, चरक-सहिंता, आर्यभिषक्र अष्टांगहृदय, भावप्रकाश निघंटू, दीन-ए-इलाही, आईना-ए-अकबरी, कुरान शरीफ जैसे अनगिनत ग्रन्थों तथा विज्ञान और साहित्य में गाय के दूध की महिमा गायी गई है। 'यक्ष ने धर्मराज से प्रश्न किया था कि पृथ्वी पर अमृत कौन-सा है?' धर्मराज ने प्रत्युतर दिया था कि 'दूध'। तथापि यही दूध हमें कितना दुर्लभ हो गया है, यह तो देखो। धृत न भ्रूयते कणें, दधि स्वप्ने न दृश्यते। दुग्धस्य तहिंका वार्ता, तक्रे शक्रस्य दुर्लभम्। अर्थात् घी सुनने भी नहीं आता, दही सपने में भी दिखाई नहीं देता, तो फिर दूध की तो बात ही कैसी? और छाछ तो इन्द्र को भी दुर्लभ हो गई है। दूध जैसा पौष्टिक और अत्यन्त गुण वाला ऐसा अन्य कोई पदार्थ नहीं है। दूध जो मृत्युलोक का अमृत है। सभी दूधों में अपनी माँ का दूध श्रेष्ठ है और माँ का दूध कम पडा। वहाँ से गाय का दूध श्रेष्ठ सिद्ध हुआ है। गाय के दूध के गुण - गाय का दूध धरती पर सर्वोत्तम आहार है। गोदुग्ध मृत्युलोक का अमृत है। मनुष्यों के लिए शक्तिवर्धक, गोदुग्ध जैसा अमृत पदार्थ त्रिभुवन में भी अजन्मा है। गोदूध अत्यन्त स्वादिष्ट, स्निग्ध, कोमल, मधुर, शीतल,वाला, ओज प्रदान करने वाला, देहकांति बढाने वाला, सर्वरोग नाशक अमृत के समान है। आधुनिक मतानुसार गोदुग्ध में विटामिन 'ए' पाया जाता है जो कि अन्य दूध में नहीं। विटामिन 'ए' रोग-प्रतिरोधक है, आँख का तेज बढ़ाता है और बुद्धि को सतर्क रखता है। गोदुग्ध शीतल होने से ऋतुओं के कारण शरीर में बढ़ने वाली गर्मी नियंत्रण में रहती है, वरन् गंभीर रोगों के होने की प्रबल संभावना रहती है। गोदुग्ध जीर्णज्वर, मानसिक रोग, शोथ, मूछ, भ्रम, संग्रहणी, गर्भस्त्राव में हमेशा उपयोगी है। वात-पित्तनाशक है, दमा, कफ, श्वास, खाँसी, प्यास, भूख मिटाने वाला है। गोलारोग, उन्माद, उदर रोगनाशक है। गोदुग्ध मूत्ररोग तथा मदिरा के सेवन से होने वाले मदात्य रोग के लिए लाभकारी है। गोदुग्ध जीवनोपयोगी पदार्थ अत्यन्त श्रेष्ठ रसायन है तथा रसों का आश्रय स्थान है जो कि बहुत पौष्टिक है। ऐलोपैथी चिकित्सानुसार गोदुग्ध में केरोटीन नामक पीला पदार्थ होता है जो आँखों की दृष्टि के तेज को बढ़ाता है। गोदुग्ध के प्रतिदिन सेवन से सभी प्रकार के रोगों से मुक्ति मिलती है। गोदुग्ध अग्रिउद्दीपक है, भोजन को पचाने वाला है, स्कन्ध मजबूत करता है। बच्चों की माँसपेशियों और हड़ियों के जोड मजबुत बनाता है। गोदुग्ध क्षय रोगनाशक है। शारीरिक, बौद्धिक श्रम की थकावट से ताजा गोदुग्ध का सेवन राहत दिलाता है। गोदुग्ध के प्रतिदिन सेवन करने वाले व्यक्ति को बुढापा नहीं सताता है। वृद्धावस्था में होने वाली तकलीफों से मुक्ति मिल जाती है। भोजन के वक्त या पूर्व छाती में दर्द या दाह होती है तो भोजन पश्चात गोदुग्ध के सेवन से दाह/दर्द शांत हो जाता है। वे व्यक्ति जो अत्यंत तीखा, खट्टा, कडवा, खारा, दाहजनक, रुखा, गर्मी करने वाले और विपरीत गुणों वाले पदार्थ खाते हों, उनको सायंकाल भोजनोंपरांत गोदुग्ध का सेवन अवश्य करना चाहिए, जिससे हानिकारक भोजन से होने वाली विकृतियों का दुष्प्रभाव समाप्त हो जाए। गोदुग्ध से तुरन्त वीर्य उत्पन्न होता है जबकि अनाज से वीर्य पैदा होने में अनुमानता एक माह का समय लगता है। माँस, अण्डे एवं अन्य तामसी पदार्थों के सेवन से वीर्य का नाश होता है जबकि गोदुग्ध से वृद्धि होती है। लंबी बीमारी से त्रस्त व्यक्ति को नवजीवन मिलता है। गोदुग्ध शरीर में उत्पन्न होने वाले जहर का नाश करता है। एलोपैथी दवाईयों, रासायनिक खाद, कीटनाशक दवाईयों आदि से वायु, जल एवं अन्न के द्वारा शरीर में उत्पन्न होनें वाले जहर को समाप्त करने की क्षमता केवल गोदुग्ध में ही है। आयुर्वेद में गाय के ताजे निकाले दूध को अति उत्तम कहा गया है। गाय के ताजे दूध को ब्रह्ममुहूर्त में प्रात: ४ से ६ बजे के बीच प्रतिदिन नाक के द्वारा पीने से रात्रि अंधकार में भी देख सकते है। गाय के दूध से बनने वाले व्यंजन जैसे-पेढ़े, बफी, मिठाईयाँ इत्यादि पौष्टिक, स्वादिष्ट, बलवर्धक, वीर्यवर्धक एवं शरीर का तेज बढ़ाने वाले होते हैं। गोदुग्ध से बने व्यंजन लंबे समय तक खराब नहीं होते हैं जबकि भैंस एवं अन्य पशुओं के दूध से बनने वाले व्यंजन जल्दी खराब हो जाते है। गोदुग्ध से बने हुए घी को उसी गाय के दूध में मिलाकर पिया जाए तो उससे अधिक पौष्टिकता किसी और से नहीं मिल सकती। नमकीन एवं खड़े पदाथों के साथ दूध का सेवन करने से रतविकार पैदा होता है जो कि विभिन्न प्रकार के चर्मरोग का जन्मदाता है। मीठे पदार्थ, आचार, सब्जियाँ, मदिरा, मूंग, गुड, कन्दमूल, और कैरी एवं अंगूर के अलावा किसी भी फल कें साथ दूध का सेवन नहीं करना चाहिए। गाय को शतावरी खिलाकर, उस गोदुग्ध को क्षय रोग से पीडित व्यक्ति को पिलाने से रोग समाप्त हो जाता है। गोदुग्ध के सेवन से उदर साफ रहता है जबकि भैंस के दूध से कब्ज होती है। गोदुग्ध की तुलना में भैस का दूध पचने में भारी होता है। और चर्बी को बढ़ाने वाला और बुद्धि को मंद करने वाला होता है। बिना गरम किया हुआ दूध ४८ मिनट तक एवं गरम किया हुआ दूध आठ घण्टे तक पीने लायक होता है। बिना गरम किया दूध लंबे समय तक रखने से, क्यों न वह फ्रीज में रखा हुआ हो, उसके गुण समाप्त हो जाते हैं। दूध के रंग में अंतर, स्वाद में बदलाव या दुर्गध आने पर इस प्रकार के दूध का सेवन नुकसानदायक होता है। दूध की पाचकता पाचक तत्वों को बरकरार रखने के लिये एक उबाल तक ही गरम करना चाहिए। गोदुग्ध का पावडर बनाने पर उसके तत्वों का नाश होता है। शुक्ल पक्ष और कृष्ण पक्ष में चंद्रकला में होने वाले परिवर्तन से दूध के गुणों में भी परिवर्तन होता है। गाय का घी शरीर में सभी प्रकार के जहर को नाश करने वाला, घाव को भरने वाला, ताकतवर, हृदय के लिए लाभकारी होता है। ताजा घी अधिक सुगंधित एवं स्वादिष्ट होता है। गोदुग्ध कैन्सर के विषाणुओं को नष्ट करने वाला है। गाय के दूध, घी से चर्बी बढ़ने की बात कहकर, अंग्रेजों द्वारा गोहत्या का यह षडयंत्र रचा हैं। गोदुग्ध सेवन हृदय रोग, कैन्सर, क्षय रोग इत्यादि बीमारियों से निजात दिलाने में सर्वोत्तम सहायक है। आयुर्वेद चिकित्सा में जहाँ कही भी दूध एवं घी के प्रयोग का उल्लेख किया गया है, वह सिर्फ देशी गाय के दूध के संदर्भ में है। गाय के दूध की तुलना में भैंस का दूध अधिक गाढ़ा होता है जिसके पाचन में कठिनाई होती है। भैंस के दूध से आलस्य, प्रमाद, चर्बी आदि की वृद्धि होती है। जर्सी, हॉलिस्टीन, फ़िजियन एवं संकर (विदेशी गाय) गायों के दूध का सेवन हानिकारक है क्योंकि ये नस्लें रोग प्रतिरोधक नहीं होती है। बाजार एवं डेरी से मिलने वाला दूध हानिकारक है। गाय का दूध पीले रंग का है जो कि सोने जैसे गुण परिलक्षित करता है जबकि भैंस का दूध सफेद है जो कि चाँदी के गुणों को दर्शता है। कुरान शरीफ में स्पष्ट उल्लेखित है कि 'गाय का दूध सेवन करो, गाय तुम्हारे लिए खुदा की नियामत है।” हजरत इमाम आजम अम्बुहनीस के द्वारा संग्रहित वचनामृत संग्रह क्रमांक ४८४८ में उल्लेख किया है कि वृद्धावस्था और मौत के अलावा अलाह ने ऐसी कोई बीमारी, औषधि के साथ धरती पर नहीं उतारी है। तुम गाय के दूध का सेवन करने की आदत डालो, गाय अपने दूध में सभी प्रकार की वनस्पतियों का समावेश/संग्रह रखती है। इसी पुस्तक में पैगम्बर साहब का एक और फरमान है कि गोदुग्ध का सेवन प्रतिदिन करो क्योंकि वह औषधि/दवा है। उसका घी रोगों का नाशक है। गाय के माँस से बचो क्योंकि वह मॉस बीमारी का कारण है। शताब्दियों से कथाओं और उपन्यास में वर्णित यौवन के उदगम की खोज मनुष्य कर रहा है पर उस आदर्श यौवन का निकटतम सान्निध्य रखने वाला पदार्थ अब तक मिल रहा है वह है गोदुग्ध। प्राचीन भारत में दूध बेचना और पूत बेचना, दोनों समान माने गये हैं। पूर्व में गाय एवं गाय का दूध बेचना पाप माना जाता था, आज भी भारतवर्ष में कई स्थानों पर गाय एवं गाय का दूध बेचा नहीं बल्कि वह (गाय एवं गाय का दूध) दान स्वरूप दिया जाता है। मेडिकल साइन्स एवं मेडिकल कॉउन्सिल ऑफ इंडिया के सूत्रों का मानना है कि अहीर, भरवाड, रेबारी और यादव जातियों में कभी भी ऑखों की बीमारी या मोतियाबिन्द इत्यादि की शिकायत नहीं मिलती है, क्योंकि ये चारों जातियाँ ग्वाला जाति हैं। इन चारों जातियों के किसी भी व्यक्ति को चश्मा लगना नहीं के बराबर है। वे कई प्रकार के पशुओं का पालन करते है। परन्तु स्वयं दुग्धाहार ही लेते है। जंगलो में गाय चराते एवं भटकते हुए भी पूर्ण रूपेण स्वस्थ रहते हैं, यह गोदुग्ध एवं घी की विशेषता बताने वाला सबसे बडा उदाहरण है। बादशाह अकबर द्वारा स्थापित दीन-ए-इलाही में भी गोदुग्ध को अमृत एवं गाय को अमृता कहा गया है। विश्व प्रसिद्ध व्यायाम विशेषज्ञ मेक फर्डने ने ताकत, समृद्धि एवं स्वस्थता के लिये गोदुग्ध को ही सर्वश्रेष्ठ आहार माना है। मेजिक ऑफ मिल्क नामक अपनी पुस्तक में उन्होंने उल्लेखित किया है कि ताकतवर एवं निरोगी रहने के लिए स्वयं के शरीर के भार से आधे वजन के बराबर दूध पीना चाहिए। दूध के सेवन से उनका शरीर नब्बे वर्ष की उम्र में भी एक युवा के बराबर ताकतवर एवं निरोगी रहा। दूध मानव जाति को मिली एक अमूल्य अनुपम भेंट है। सर्वोत्तम आहार होने के बावजूद गरीबी, अज्ञानता, मिलावट, भ्रष्टाचार आदि कारणों से दूध का जितना प्रयोग करना चाहिए, उतना नहीं कर पाते हैं। एक समय था जब भारत मे दूध की नदियाँ बहती थीं और आज करोडों व्यति ऐसे हैं, जिन्हें गोदुग्ध के दर्शन भी नहीं हो पाते। गोदुग्ध, घी, दही के सेवन से पूर्व में व्यक्ति बुद्धिमान, निरोगी एवं शक्तिमान होते थे, इन सब के अभाव में आज समग्र भारत देश की जनता कुपोषण एवं नाना प्रकार के रोगों से ग्रसित है। आँखों के दर्द होने पर गोदुग्ध की पट्टी रखने से दर्द समाप्त हो जाता है। गोदुग्ध एक कटोरे में लेकर पूरे शरीर पर मॉलिश कर नहाने से अनेक रोगों से मुक्ति मिलती है एवं चमडी गोरी, चमकीली व तेजस्वी बनती है। चाका, गुलाम और कलू हलवान की त्रिपुटी, किनकरसिंह और लीम्बू सिंह, गामा और गम्मू, अहमद बक्श और इमाम बक्श आदि यह सब कुश्ती के पारेगतों ने सन १९४० से भारत की कीर्ति को विश्व में फैलाया। ये पहलवान विश्व में अपराजित थे। ये लोग प्रतिदिन गोदुग्ध व घी का सेवन कर शक्ति प्राप्त करते थे। वैद्य बलदेव प्रसाद पनारा के अनुसार प्रथम विश्व युद्ध के बाद पेरिस में खुराक संबंधी संशोधन के लिए बहुत बडा सम्मेलन हुआ जिसमें ऐसा निर्णय घोषित किया गया कि यदि पर्यात मात्रा में गोदुग्ध मिल जाए तो मानवीय समाज के लिए अन्य किसी भी पौष्टिक द्रव्य (पदार्थ) की आवश्यकता नही रह जाती है क्योंकि वह सम्पूर्ण आहार है। वर्तमान वैज्ञानिक मतानुसार गोदुग्ध में आठ प्रकार के प्रोटीन, इकोस प्रकार के एमीनो एसिड, ग्यारह प्रकार के चर्बीयुत एसिड, छः प्रकार के विटामिन, पचीस प्रकार के खनिज तत्व, आठ प्रकार के किण्वन, दो प्रकार की शर्करा, चार प्रकार के फॉस्फोरस यौगिक और उन्नीस प्रकार के नाईट्रोजन होते है। विटामिन-ए-१, करोटिन डी-ई, टोकोकेराल विटामिन बी-१, बी-२ल राईबोफ्लेविन बी-३, बी-४ तथा विटामिन सी है। खनिजों में कैल्शियम, फॉस्फोरस, लोह, ताँबा, आयोडीन, मैग्रीज, क्लोरीन, सिलिकॉन मिले हुए हैं। एमिनो एसिड में लाइसिन, ट्रिप्टोफेन और हिकीटाईन प्रमुख हैं। दूध जो कार्बोहाईड्रेट हैं उनमे लैक्टोस प्रमुख है जो पाचन तन्त्र को व्यवस्थित रखता है। लेक्टेज इत्यादि एन्जाइम, विटामिन 'ए', 'बी', 'सी’, ‘डी’, ‘ई’ और लेक्ट्रोकोम, क्रियेटीन, यूरिया, क्लोरीन फॉस्फेट, केसिनो मिश्रण इत्यादि मिलकर १०० से भी ज्यादा विशेष पदार्थ हैं। गाय के दूध की थुली (दलिया) खाने से प्रसूता स्त्री को कोई भी रोग नहीं होता है। महाभारत में राजा युधिष्ठिर ने गोदुग्ध को अमृत तुल्य माना है। यक्ष ने जब युधिष्ठिर से पूछा कि पृथ्वी पर अमृत क्या है? धर्मराज ने उत्तर दिया -गोदुग्ध ही पृथ्वीपर एकमात्र अमृत है। ‘अभक्ष्य अनन्तकाल काय विचार' नामक ग्रंथ में तन्दुरूस्ती की दृष्टि से आहार के चार भेद बताये हैं, सर्वोत्तम आहार - गोदुग्ध, मध्यम आहार - अन्न, भैस का कठोर दुग्ध, फल, तेल, घी इत्यादि, अधम आहार – कन्दमूल और अधमाधम आहार-माँस मदिरा इत्यादि है। अलग-अलग प्रकार के नस्लों की गायों के दूध मे अलगअलग प्रकार गुण होते हैं। 'गायो विश्वस्यमातर:/- गाय को विश्व की माता का दर्जा दिया गया है। गोदुग्ध को उतना ही लाभदायी और पाचक माना गया है जितना कि माँ का दूध। बालक के जन्म के पूर्व गर्भावस्था में माता यदि गोदुग्ध का सेवन करे तो हृष्ट-पुष्ट एवं मन मस्तिष्क से परिपूर्ण शक्तिशाली बालक को जन्म देती है। दूध तो है गाय का और दूध, दूध नहीं।पूत तो है गाय का और पूत, पूत नहीं। फल तो है कपास का और फल, फल नहीं।राजा तो है मेघराजा और राजा, राजा नहीं। यज्ञ में गाय के घी का उपयोग करने से वायुमण्डल के कीटाणुओं का नाश होता है और शुद्ध वायुमण्डलीय वातावरण का निर्माण होता है। साथ ही हानिकारक आण्विक किरणों का प्रभाव नष्ट होता है। घी को रोगप्रतिरोधक माना गया है। बीमार पर इसका प्रयोग बीमारी का नाशक है। गोदुग्ध, दही, घी एवं गोबर, मूत्र को पंचगव्य कहा गया है। पंचगव्य के प्रयोग से मानसिक रोग इत्यादि रोगों से मुक्ति मिलती है। इसका नियमित प्रयोग करने से कोई भी बीमारी नहीं होती है। वर्तमान वैज्ञानिकों ने गोदुग्ध को मानव शरीर का संपूर्ण भोजन माना है। विज्ञान के अनुसार गोदुग्ध में मनुष्य के शरीर की समस्त आवश्यकताओं की पूर्ति करने की क्षमता है। उसमे ४.९% शर्करा, ३.७% घी व ११% नाना प्रकार के एसिड है। ३.६% प्रोटीन है जिसमें ल्युसन, ग्लूकेटिक एसिड, टिरोसीन, अमोनिया, फॉस्फोरस आदि २१ पदार्थ सम्मिलित है। ७.५% पौटेशियम, सोडियम इत्यादि ऐसे १७ रसायन हैं। गोदुग्ध से मानव शरीर में कायाकल्प कर उसके सभी अंगों को पुष्ट बनाकर अन्य अनेक रोगों को नष्ट किया जाता है, कायाकल्प से नया जीवन मिलता है। यूरोप के कई हिस्सों में सैनिकों को पौष्टिक आहार के लिए गोदुग्ध, घी और अन्य सामग्री रोजाना दी जाती है। घर में गाय के घी का दीपक जलाने से वातावरण की अशुद्धि दूर होकर वायुमण्डल शुद्ध एवं पवित्र बनता है। गोदुग्ध में दैवी तत्वों का वास है। गाय के दूध में अधिक से अधिक तेज तत्व है। प्रकृति सात्विक बनती है। व्यक्ति के प्राकृतिक विकार एवं विकृति दूर होती है। असामान्य और विलक्षण बुद्धि आती है। गाय की पाचन शक्ति श्रेष्ठ है। अगर कोई जहरीला पदार्थ खा लेती है तो उसे आसानी से पचा लेती है, फिर भी उसके दूध में जहर का कोई असर नहीं होता है। डॉ. पिपल्स ने गोदुग्ध पर किए गए परिक्षणों में यह भी पाया कि यदि गायें कोई विषैला पदार्थ खा जाती है तो भी उसका प्रभाव उसके दूध में नहीं आता। इसके शरीर में सामान्य विषों को पचा जाने की अदभुत क्षमता है। अन्य दुग्ध के जानवरों के साथ ऐसा नही है। न्यूयार्क की विज्ञान एकेडमी की एक बैठक में अन्य वैज्ञानिकों ने भी डॉ. पिपल्स के इस कथन की पुष्टि की। आधुनिक युग की माताएँ अपने बालकों को बिस्किट, चाकलेट, बबलगम, आईस्क्रीम, शीत पेय आदि खिला-पिलाकर उनके अमूल्य जीवन के साथ खिलवाड कर रही हैं। इसके बजाय वह गोदुग्ध से बने व्यंजन खिलायें तो बालक का शारीरिक, मानसिक विकास उत्तम होगा। गौदुग्ध स्फूर्तिं, तृप्ति, दीप्ति और प्रीति, सात्विकता, सौम्यता, मधुरता, प्रज्ञा और आयुष्य बढ़ाने वाला है। वह पूर्ण रूपेण सर्वमान्य, सर्वप्रिय, अमृततुल्य दुग्धाहार है। गाय का ताजा दूध तृषा, दाह, थकान, मिटाने वाला और निर्बलता में विशेष उपयोग है। गोदुग्ध बुखार, सर्दी, मरोड, चर्मरोग, कफ, कृमि, प्रमाद, निद्रा आदि में तो हितकारी है ही, साथ ही वात रोग, पित्त रोग में भी सहायक है। भारतीय संस्कृति ग्राम संस्कृति है, गो संस्कृति है। गोपालन, गोसंवर्धन, गोरक्षण, गोपूजन और गोदान भारतीयता की पहचान है। कृषि की खोज ने जैसे मानवता को ज्यादा उन्नत किया है वैसे ही गोदुग्ध ने अहिंसा के विकास में अत्यंत महत्वपूर्ण योगदान दिया है। काली गाय का दूध त्रिदोष शामक और सर्वोत्तम है। शाम को जंगल से चरकर आई गाय का दूध सुबह के दूध से हल्का होता है। सद्बुद्धि प्रदान करने वाला गोदुग्ध तुरन्त शक्ति देने वाले द्रव्यों में भी सर्वश्रष्ठ माना गया है। गोदुग्ध में पी.एच. अम्ल (घनता) और चिकनाहट कम है जो स्वास्थ के लिए लाभदायक है। गोदुग्ध में २१ एमिनो एसिड है जिसमें से ८ स्वास्थ्य की दृष्टि से बहुत ही उपयोगी है। गोदुग्ध में २१ सात्विक तत्वों व पाचक तत्वों की प्रचुरता है। गोदुग्ध में विद्यमान सेरिब्रोसाईडस दिमाग एवं बुद्धि के विकास में सहायक है। केवल गो दुग्ध में ही स्ट्रोनटाईन तत्व है, जो आण्विक विकारों का प्रतिरोधक है। केवल गोदुग्ध मे ही रासायनिक अवशेष नहीं के बराबर है जिससे इसके सेवन से कोई विपरीत, हानिकारक असर नहीं होता है। फॉरमेल विश्वविद्यालय के पशुविज्ञान विशेषज्ञ प्रो. रोनाल्ड गोरायटे ने बताया कि गाय के दुध से रक्त कोशिकाँए रोग निरोधक, प्रोटीन (एम.डी.जी.आई) के कारण नाडी तन्त्र कैन्सर से ग्रस्त होने से बचता है। केन्द्रीय आयुर्वेद अनुसन्धान परिषद के सहायक निदेशक प्रेमकिशोर ने बतलाया कि गोदुग्ध, छाछ आदि से अल्सर, कैन्सर आदि रोगों का इलाज किया जा सकता है। गोदुग्ध से कोलेस्ट्रोल की वृद्धि नहीं होती है, बल्कि हृदय एवं रत के प्रवाह में आने वाली बाधाओं को दूर करता हैं। गाय का गरमा गरम दूध पीने से कफ एवं गरम करने के पश्चात ठण्डा करके पिने से पित्त का नाश होता है। गाय के दूध में उससे आधी मात्रा में पानी मिलाकर वह पानी उड जाए तब तक तपाकर पीने से कच्चे दूध से पचने में ज्यादा हल्का होता है। जो गाय रात को घर पर बँधती है, उसका दूध सुबह अधिक ठण्डा और पचने में भारी होता है, परन्तु जो गाय रात को भी जंगलो में चरने जाती है उसका दूध पचने में हलका व सहायक होता है। धर्मग्रंथो के अनुसार गोदुग्ध, घी, दही, शकर और वर्षा के शुद्ध जल से पंचामृत बनाया जाता है। भगवान की प्रतिमा का प्रक्षालन भी इसी पंचामृत के द्वारा किया जाता है। गाय का दूध अपना सर्वोत्तम दुग्धाहार है। गोदुग्ध से वजन बढ़ता है। गाय का तुरन्त निकाला हुआ ताजा दूध, जितना पचे उतना ही प्रतिदिन पीना चाहिए। दुध के साथ दही, प्याज, लहसुन, उडद, गुड, मूली इत्यादि नहीं खाना चाहिए। साथ ही कोई फल, मॉस, एवं खटाई भी नहीं खाना चाहिए। भारतीय चिकित्सा परिषद ने न्युनतम २७५ ग्राम दूध की सिफारिश की है। इसमे कम दूध मिलने पर कुपोषण होता है और अनेक रोग होते है। मानरीगुटिका और मुसलीपाक खाने के बाद गोदुग्ध के सेवन से धातु कमजोरी, नपुंसकता आदि विकार दूर होते है। इसके नियमित सेवन से अपूर्व ताकत एवं वीर्य की वृद्धि होती है। अन्य धातु विकार नष्ट करने में उपयोगी है। अमेरिका के कृषि विभाग द्वारा प्रकाशित पुस्तक (गोमाता एक आश्चर्यजनक रसायनशाला है) समस्त दुग्धधारी जीवों में गोमाता ही एक ऐसी जीव है, जिसकी आंत १८० फुट लंबी होती है। इसकी विशेषता यह है कि जो चारा ग्रहण करती है उससे जो दुध मे कैरोटीन नामक पदार्थ बनता है, वह भैंस के दूध से दस गुना अधिक होता है। भारतीय औषधि विज्ञान परिषद के अनुसार गाय के दूध में विटामिन ‘ए’ १०० आई.यू (इन्टरनेशनल युनिट) भैंस के दूध में विटामिन 'ए' १४० आई.यू, दूध गरम करने या तपाने के बाद (मावा बनाने तक) मावे में विटामिन ‘ए’ ४०० आई.यू भैस के दूध के मावे में विटामिन कुछ भी नहीं, इसलिये पेडा, गाय के दूध से ही बनाया जाना चाहिए। गाय के घी में विटामिन "ए" 99oo आई.यू भैस के घी में विटामिन "ए” 900 आई.यू होती है। (नैडेप काका) जलोदर के रोगी को पानी पीना सख्त मना है वह सिर्फ गाय का दूध पीकर रहे तो रोग में सुधार होता है। गाय की रीढ़ में 'सूर्यकेतु' नामक नाडी होती है जो सूर्य के प्रकाश में जाग्रत होती है, इसलिए गाय सूर्य के प्रकाश में रहना पसंद करती हैं, भैंस छाया में रहती है। सूर्यकेतु नाडी के जागृत होने से स्वर्ण के रंग का वह एक पदार्थ छोडती है। इसी कारण गाय के दूध का रंग पीला होता है और घी ‘स्वर्ण' के रंग का होता है जो सर्वरोगनाशक और विष विनाशक होता है। अमेरिकन पत्र 'फिजीकल कल्चर' के संपादक और प्रसिद्ध दुग्धाहार चिकित्सक बनार मेफेडर का कथन है कि इस जगत में गाय के दूध से बने मक्खन के समान सर्वगुणसम्पन्न पौष्टिक खाद्य पदार्थ कोई दुसरा नहीं है। किशमिश और मनुका के पाँच-पाँच दाने गोदुग्ध में ओटकर रोगी को सुबह-सुबह पिला दें। मलेरिया पुराना हो तो १० ग्राम सौंठ चुर्ण भी डाल दें, मलेरिया भाग जाएगा एवं यदि ४०० ग्राम दूध को उबाला जावे और ऑकडे (आंक) पौधे की अंगूठे जितनी मोठी हिलाने योग्य हरी लकडी से दूध को हिलाया जाता रहे तो कुछ समय में दूध फट जाएगा। उस फटे दुध को इतने समय तक हिलावे कि पानी का संपूर्ण अंश समाप्त हो जावे और खोवा (मावा) तैयार हो जावे, तब उसमें शकर उचित मात्रा में मिलाकर खाने योग्य ठंडा कर रोगी को बुखार उतर जाने पर खिलाएँ। मलेरिया से हमेशा के लिए छुटकारा मिल जावेगा। गाय का संदर्भ भारतीय नस्ल से है जिसको कंधा और गलकंबल है) भारतीय नस्ल की गाय के एक सेंटीमिटर स्केअर में रोमकूप (रोमग्रंथि) १६०० होती है, जबकि विदेशी गाय में ६०० है। धुप में देशी गाय रह सकती है, विदेशी गाय नहीं। देशी गाय में दूध के रोग प्रतिरोधक क्षमता अधिक होती है। अर्थात् उपार्जित धन का एक उचित भाग दान किए बिना केवल अपने लिए उपभोग पाप का भोग है। इस पाप से मुक्ति के लिए गाय की सेवा (गोपालन, गोसरंक्षण, गोसवंर्धन) सर्वोत्कृष्ट सहज सर्वसुलभ साधन है। गाय का दूध स्वादिष्ट, रुचिकर, स्निग्ध, शक्तिप्रद, अति पथ्य, कांतिकारक, बुद्धी प्रज्ञा, मेधा, कफ, तुष्टि, पुष्टि, वीर्य और शुक्र की वृद्धि करने वाला, वयस्थापक, रसायन, गुरू, पुसत्वप्रद, मीठा और वात, मूत्रकच्छ, गुल्म, अर्श, प्रवाहिका, पांडू, शूल, उदर अम्लपित्त, क्षयरोग, अतिश्रम, विषमाग्नि, गर्भपात, योनिरोग, नेत्ररोग और वातरोग का नाश करता है। काली गाय का दूध तो खास करके वात का नाश करता है; लाल और चितकबरी की गाय का दूध खासतौर से वातनाशक है। पीली गाय का दूध वातपित्त का नाश करता है। श्वेत गाय का दूध विशेष करके कफप्रद है। शिशु बछडे की माता का दूध तीनों दोष (वात, पित, कफ) का नाशकर्ता है; खली और सनी खानेवाली गाय का दूध कफप्रद है ओर कडबा घास आदि खाने वाली गाय का दूध सभी रोगों पर लाभप्रद है। जवान गाय का दूध मधुर, रसायन और त्रिदोषनाशक है। दिव्य शक्ति वाला बचा पाना आसान है - गोमाता की कृपा से। गर्भ धारण करने वाली महिला को चाँदी की कटोरी में देशी गाय के दूध का दही जमाकर खिलाएँ। १ माह तक दिव्य शक्ति वाला बालक जन्म लेगा। साँच कहूँजग मारन धावे, झूटा जगपतियाय। गली-गली गोरस बिके, मदिरा बैठ बिकायां। जननी जनकर दूध पिलाती, केवल सालछमाही भर गोमाता पय सुधा पिलाती, रक्षा करती जीवन भर माता रुद्राणां दुहिता वसूनांस्वसादित्यानां अमृतस्य नाभिः । - ऋग्वेद १०१/१५ अर्थात् - गाय रूद्रों की माता, वसुओं की पुत्री और आदित्यों की भगिनी है और इसकी नाभि में अमृत है। सर्वेदेवाः स्थिता देहे सर्वदेवमयी हिगौः। -विष्ण धर्मोत्तर गाय के शरीर में सभी देवताओं का निवास है, अत: गाय सर्वदेवमयी है। यज्ञ शिष्टासिन सन्तोमुच्चन्ते सर्वं किल्विशैः। भुञ्जन्ते ते त्वद्यं पापा ये पञ्चयन्ति आत्मकारणात। गोदुग्ध - आयुर्वेद में वर्णित श्रीराष्टक (आठ प्रकार के दुध) में गोदुग्ध सर्वप्रथम और सर्वश्रेष्ठ है। अष्ट दुग्ध इस प्रकार है - गव्यं महिषमानंच कारभं स्त्रैणमाविकम्। ऐभ मैकशफं चेति क्षीरमष्टीवर्धमतम्। — योग रत्नाकर दुग्धगुणा: /४ केवलदुग्ध शब्द का जहाँ भी उल्लेख आया हो वहाँ गोदुग्ध ही मानना चाहिए ऐसा भिशम्बर मानते हैं। "गोक्षीरं मधुरं शीतं गुरू स्निग्धं रसायनम्। बृहणं स्तन्य कृद्वह्यं जीवनं वातपित्तनुत।" - योग रत्नाकर–दुग्धगुणा:/३ ‘ठहर गया विद्यासागर नर्मदा के तीर स्वयं नर्मदा बोल उठी ये इस युग के महावीर दूध की नदियां लोप हो गई धरा खून से लाल-लाल, कृष्ण कन्हैया की गैया भी, हो गई आज यहां हलाल, पशु मांस खाने वाला क्या, इंसानों को खायेगा?' आचार्य विद्यासागरजी
  25. आंगनमें कुलीन शुद्ध देशी गाय। उत्तम नंदी से गोसंवर्धन। गाय के दूध-घी-छाछ आधारित आहार। गाय के गोबर, गोमूत्र, बैल आधारित कृषि। जल सम्पन्न गाँव। गो माता का वर्णसंकरण न करें। आवारा एवं मिश्र वर्णसंकरण जाति के सांढो से मुक्त गाँव। गाय के दूध-घी की शुद्धता, सही गोधर्म हर एक गाँव में गोरक्षा केन्द्र। गोचर रक्षा। गाय आधारित उद्योग। नई पीढ़ी को गोवंश, गोपालन, गोसंवर्धन शिक्षा। अकाल मे उत्तम देशी गोवंश की रक्षा करे। गोपालन का स्वावलम्बन। इन १४ सिद्धांतों से ही हम भारत के देशी गोवंश की आबादी और पुन:स्थापन कर सकेंगे। एक शोध में यह पाया कि जहरीला पदार्थ खाने पर गाय के दूध में कोई फर्क नहीं पडता हैं क्योंकि गाय का मांस उस जहरीले पदार्थ को सोख लेता हैं जबकि भैंस कोई जहरीली वस्तु खा जाए तो उसे भैंस का मांस सोख नहीं पाता है इसलिए दूध में उसका असर रह जाता हैं।
  26.  
×