Jump to content
मेरे गुरुवर... आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज

श्रमणेश आचार्यश्री के चरण कहां थमेंगे चातुर्मास में....???


यूं तो जब जब आचार्यश्री के पावन चरण चलायमान होते है अधिकांश तीर्थो, समाजों, गुरुभक्तों की धड़कनें बढ़ जाती है
अमरकंटक में जन्मी मेकल कन्या कही जाने वाली नर्मदा रेवा नदी की अविरल धारा और गुरुचरणों की दिशायें सदा एक सी रही है।
फिर चाहे अमरकंटक हो जबलपुर या नर्मदा का नाभिकेंद्र  नेमावर ही क्यों न हो
वही आचार्यश्रेष्ठ के सानिध्य में बहुत कुछ पाने वाले सागर का भी अपना गौरवशाली इतिहास है

 

p1.jpg.50dbcac2ca741ba8def88ad422bd6d2c.jpg

 

 


 सन 1980 के पूर्वतक तक हम जैसे साधारण श्रावकों की छोड़ो बड़े बड़े पण्डित विद्वान भी ग्रँथराज षट खण्डागम के ग्रन्थ धवलाजी के मात्र दर्शन कर अतृप्त रहते थे
लेकिन जब 1980 में अक्षय तृतीया से प्रारंभ होकर श्रुत पंचमी तक सागर के मोराजी में षट खण्डागम धवला जी की वाचना में देश के  मूर्धन्य विद्वान पण्डित जन अपने को पुण्यशाली मान उपस्थित रहते थे  जन समुदाय के समक्ष जब जैनागम के इन ग्रन्थों का वाचन होता तब सभी आत्मविभोर हो कर झूम उठते
इन युवाचार्य की निर्दोष, त्याग, तपस्या, साधना देख सागर एवम आस पास के युवा युवतियां ऐसे रीझे कि सब कुछ छोड़ इनके संग हो लिए
और दर्जनों मुनिराज अर्धशतक आर्यिका माताएं आचार्यश्री के संघ में सुशोभित है

 

pic.jpg.531d4822359111668112c32d5a720679.jpg

 

संत शिरोमणि आचार्य गुरुदेव श्री विद्यासागर महाराज का बिहार इन दिनों रेहटी, सलकनपुर के पास चल रहा है रविवार को सागर के सैकड़ों श्रद्धालुओं ने गुरुदेव के दर्शन किए और श्रीफल समर्पित किया।

 


भाग्योदय और ऐतिहासिक सर्वतोभद्र जिनालय सागर के लिये आचार्यश्री के अतिशयकारी,आशीर्वाद की अनमोल भेंट है
जहां एक ओर पिछले 22 वर्षों से चातुर्मास की आस लगाए प्यासा सागर चातक वत शरदपूर्णिमा के चंदा के सानिध्य पाने लालायित है
आचार्यश्री के चरणों की आहट से  इनदिनों सागर के गुरु भक्तों के गुरुचरणों के  सानिध्य के भावों के ज्वार का उफान चरम पर है।
लेकिन नर्मदा तट पर अवस्थित तिलवारा जबलपुर के नए नवेले पूर्णायु को लगता है कि पूर्णायु इतिहास के पन्नो पर हजारों वर्ष तक चिरायु बने रहने के लिये आचार्यश्री के चातुर्मास छत्रछाया जरूर मिलेगी
वैसे इन अनियत विहारी श्रमणेश्वर के चलायमान चरणों की थाप का कोई आंकलन नही कर सकता
बड़े बाबा के नेटवर्क से सीधे जुड़े इन छोटे बाबा के चरण किस ओर बढ़ जाए कहा नही जा सकता...
भाव शब्द प्रस्तुति

●राजेश जैन भिलाई ●

 

*क्या कहता हैं आपका आनुमान - कहाँ होगा संतशिरोमणि का चातुर्मास* 
सुन लो सुन लो गुरुवर, कर रहे भक्त यही पुकार, इस बार हमारे नगर में हु गुरु आपका चातुर्मास |
अपनी भक्तिमय भावना कमेंट में जरूर प्रकट करें ( लिंक में लिखें )

 Share

3 Comments


Recommended Comments

संत शिरोमणि आचार्य श्री विद्यासागर जी के चरणो में कोटि कोटि नमन कोटि-कोटि वंदन

 

 इस साल आचार्य श्री का चातुर्मास कुंडलपुर के पवित्र धरती पर बड़े बाबा के साथ संपन्न होगा.

Edited by Rahul Mahajan
Link to comment

आचार्य श्री जी के पावन चरणों में कोटि-कोटि नमोस्तु 🙏🙏🙏

कुंडलपुर

 

Link to comment
Guest
Add a comment...

×   Pasted as rich text.   Paste as plain text instead

  Only 75 emoji are allowed.

×   Your link has been automatically embedded.   Display as a link instead

×   Your previous content has been restored.   Clear editor

×   You cannot paste images directly. Upload or insert images from URL.

  • बने सदस्य वेबसाइट के

    इस वेबसाइट के निशुल्क सदस्य आप गूगल, फेसबुक से लॉग इन कर बन सकते हैं 

    आचार्य श्री विद्यासागर मोबाइल एप्प डाउनलोड करें |

    डाउनलोड करने ले लिए यह लिंक खोले https://vidyasagar.guru/app/ 

×
×
  • Create New...