Jump to content
मेरे गुरुवर... आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज

प्रतियोगिता अपडेट

  • entries
    77
  • comments
    222
  • views
    21,571

Contributors to this blog

 Share

57 Comments


Recommended Comments



प्रतियोगिता बहुत ही अच्छी लगी बहुत मजा आया आचार्य श्री जी के बारे मे जितना पढा उतना कम मन करता है बस पढते ही जाये । दो घण्टे कब बीत गये पता ही ना चला ।धन्य आचार्य गुरूवर उन्हे शत् शत् नमन जय जय गुरूदेव !

Link to comment

प्रतियोगिता बहुत ही अच्छी लगी बहुत मजा आया आचार्य श्री जी के बारे मे जितना पढा उतना कम मन करता है बस पढते ही जाये । दो घण्टे कब बीत गये पता ही ना चला ।धन्य आचार्य गुरूवर उन्हे शत् शत् नमन जय जय गुरूदेव !

Link to comment

आचार्य श्री विद्या सागर महाराज जी इस युग के महान संत है उनसे यह आचार्य पद सुशोभित है इस प्रतियोगिता के माध्यम से समय का सदुपयोग हुआ एक शाम गुरुवर के नाम हो गयी और गुरुदेव को जानने का अपूर्व अवसर मिला।जिन्होंने इस प्रतियोगिता का आयोजन किया वह बधाई के पात्र है वह अपना समय गुरुवर के चरणो में अर्पित कर रहे है उनके पुण्य की बहुत बहुत अनुमोदना।

Link to comment

Sarvpratham aacharyashree ke charno me kotisha naman🙏🙏🙏

Bahut hi gyanvardhak pratiyogita ,adhbhut samayojan prasno ka dil se aabhar questions select karne walo ko bahut mehnat ki ap logo ne ..hume bahut si jaankari mili jinse ab tak hum anbhigya the 🙏🙏🙏

Link to comment

प्रतियोगिता बहुत ही ज्ञानवर्धक, रोचक और उच्च स्तरीय थी। आयोजकों को बहुत बहुत धन्यवाद जो उन्होनें अत्यधिक मेहनत से गुरु व धर्म प्रभावना की है वह काबिले तारीफ़ है। इस तरह की प्रतियोगिताएं आयोजित होती रहनी चाहिए। आचार्य भगवंत के चरण कमलों में कोटिश नमोस्तु नमोस्तु नमोस्तु

Link to comment

गुरुवर के चरणों मे नमोस्तु

     गुरु तो वह बाती है जो अंधेरे में भी रोशनी भर देते हैं, उन्ही में से गुरुवर  आचार्य श्री विद्या सागर जी महाराज  जी हैं।

  उनके व्यक्तित्व और कृतित्व के बारे में जितना जानना चाहो शब्द या किताब भी कम पढ़ जाते है।

ऐसे में गुरुवर पर प्रतियोगिता आयोजित हुई वह अपने आप मे अद्भुत रही।

 जिससे हमें बहुत कुछ जानने  मिला, 

    इस प्रतियोगिता को आयोजित करने वाले आयोजक  की दिल से सराहना करते है और चाहते हैं कि आगे भी ऐसी ही प्रतियोगिता आयोजित करते  रहे आप लोग।

 आप लोगो को बहुत बहुत धन्यवाद

 

 

Link to comment

प्रतियोगिता में भाग लेकर हमे बहुत अच्छा लगा। आचार्य श्री के बारे मे इतना deeply जानने के लिए मिला, कितने सारे incidents जिनसे हम अपरिचित थे वो सब जान ने मिले।बहुत अच्छा अनुभव रहा।🙏

Link to comment

बहुत ही अच्छी प्रतियोगिता थी,,,,आप ऐसे ही और भी प्रतियोगिताएं करवाते रहे जिससे हमारा ज्ञान और स्वाध्याय नियमित चलता रहे,,,,जय जिनेनद्र,,,

Link to comment
3 hours ago, Sanchiti Goyal said:

आचार्य श्री विद्या सागर महाराज जी इस युग के महान संत है उनसे यह आचार्य पद सुशोभित है इस प्रतियोगिता के माध्यम से समय का सदुपयोग हुआ एक शाम गुरुवर के नाम हो गयी और गुरुदेव को जानने का अपूर्व अवसर मिला।जिन्होंने इस प्रतियोगिता का आयोजन किया वह बधाई के पात्र है वह अपना समय गुरुवर के चरणो में अर्पित कर रहे है उनके पुण्य की बहुत बहुत अनुमोदना।

आज की प्रतियोगिता से आचार्य श्री के बारे अति सूक्ष्म जानकारी के बारे में ज्ञान प्राप्त करने का अवसर.मिला । ज्ञातवर्धधन हुआ 

   भैया जी का सम्वोधन उत्साह बर्धक रहा, जिस कारण मैं इस प्रतियोगिता मे भाग ले सकी।  वस अब परिणाम काा इंंतजार है । सव को जय जिनेन्द्र 

आचार्य श्री को नमोस्तु 

                                       नीरू जैन 

                                     फिरोजाबाद

 

Link to comment

संत शिरोमणि आचार्य गुरुवर के आचार्य पदारोहण दिवस पर  vidhyasagar. Guru आयोजित यह प्रतियोगिता काफी आकर्षक थी| इसमें सौरभ भैया की काफी मेहनत लगी है उसी का परिणाम है ऐसे वक्त में भी लोग आचार्य गुरूवर का पदारोहण ही नहीं अन्य दिवस मना पा रहे हैं| इस प्रतियोगिता की तैयारी मे गुरुवर को ओर जानने और समझने का मौका मिला इसके लिए भैया को बहुत बहुत धन्यवाद 🙏

Link to comment
3 minutes ago, Niru jain said:

आज की प्रतियोगिता से आचार्य श्री के बारे अति सूक्ष्म जानकारी के बारे में ज्ञान प्राप्त करने का अवसर.मिला । ज्ञातवर्धधन हुआ 

   भैया जी का सम्वोधन उत्साह बर्धक रहा, जिस कारण मैं इस प्रतियोगिता मे भाग ले सकी।  वस अब परिणाम काा इंंतजार है । सव को जय जिनेन्द्र 

आचार्य श्री को नमोस्तु 

                                       नीरू जैन 

                                     फिरोजाबाद

 

 

Link to comment

बहुत कुछ जानने को मिला , जो मिला लगा बहुत कम है।

क्या करे इस ज्ञानावरणीय कर्म का , जब उदय में आया तोह प्रतियोगिता में कुछ याद ही नहीं आया।

जब पढ़ा आचार्य गुरुवर के बारे में डूबते ही चले गए उनके आचरण में । उतारना चाहा उनके आचरण को अपने आचरण में परन्तु कुछ उतार ही नहीं पाए अपने आचरण मैं। गुरुवर के चरित्र को पढ़ना बहुत अच्छा लगता है मेरे भगवन के बारे में जानना बड़ा अच्छा लगता है। बहुत बहुत धन्यवाद् इस तरह की प्रतियोगिता आपने रखी जिससे हम पढ़ पाए समझ पाए जान पाए हमारे गुरुवर को।

Link to comment

इस प्रतियोगिता के निमित्त से हम सभी को आचार्य श्री को जानने का एक अद्भुत अवसर प्रदान हुआ। और मुझे आशा है कि सभी प्रतिभागियों ने इस अवसर का भरपूर आनंद लिया होगा। 

धन्यवाद् तथा सभी को सादर जयजिनेंद्र 🙏

Edited by Rishabh Jain1997
Link to comment

यह प्रतियोगिता बहुत ही ज्ञानवर्धक थी इस प्रतियोगिता के माध्यम से हमें स्वाध्याय करने का मौका मिला आचार्य श्री के बारे में बहुत सी जानकारियां प्राप्त हुई उनको समझने का अवसर मिला धन्य है हमारे आराध्य हमारे गुरुदेव जो परीषहो को सहते हुए अपनी साधना में रत रहकर अपने मोक्षमार्ग को प्रशस्त कर रहे हैं।

 

जिनका सान्निध्य पाकर हम भी अपने आप को इस मार्ग पर बढ़ा सकते हैं।

    " धन्य है गुरुदेव, धन्य है उनकी चर्या "

 यह प्रतियोगिता कराने वाले आयोजक भी अनुमोदना के पात्र हैं ,🙏🙏🙏

  🙏🙏 एक शाम, गुरुवर के नाम 🙏🙏

 

गुरुवर के चरणों में शत शत नमन

सभी को सादर जय जिनेंद्र

 

👋👋👋👋👋👋👋👋👋

Link to comment

प्रतियोगिता से आचार्य श्री के बारे में बहुत अधिक जानकारी प्राप्त हुई। आयोजको एवम प्रायोजकों का बहुत बहुत हार्दिक आभार।आचार्य श्री को शत शत वंदन🙏🙏

Link to comment

नमोस्तु गुरूदेव 

मम गुरूवर आचार्य विद्यासागर

कहते सदा एक ही बात

शिष्यो से अपने संयमी यदि

करेगा अधिक वार्तालाप 

असंयमियो से बढाएगा यदि संपर्क उनसे

तो आ जायेगे विकार तुम मे

च्युत भी हो सकते तुम पद से अपने

आगमानुसार क्रियाएं न करके

इसलिए रहना चाहिए सावधान इसलिए

गुणहीनो के/ गुरूजनो के 

पास मे बैठे का प्रयास

भक्ति भाव रखकर उनके प्रति

करना चाहिए उनके 

गुणो का गुणगान

बनी रहेगी चर्या उनकी निर्दोष

मिलेगा तुम्हे भी 

उनके सानिध्य का पूरा लाभ

वर्ना तो जानते हम सभी 

सोला के वस्त्र पहने वाले को

यदि कोई छूट देता कोई अशुद्ध

तो वो हो जाता अशुद्ध

बचना चाहिए हमे

ऐसा निमित्त बनने से

बचना चाहिए गुरूजनो के / गुणीजनो के पास बैठकर

सांसारिक चर्चा करने से

जिससे बनाये रखे 

उनका और अपना मार्ग निर्विकार

 

 

    आचार्य श्री विद्यासागरजी के पदारोहण पर आयोजको के द्वारा कराई गई प्रतियोगिता बहुत ही ज्ञान वर्धक ,रूचिकर और आचार्य श्री के बारे मे बहुत ही जानकारी देने वाली थी ।यह प्रतियोगिता भरकर बहुत ही अच्छा लगा।आयोजको के लिए ह्दय से धन्यवाद।आगे भी हमे ऐसे ही  ज्ञान देते रहिएगा 🙏🙏

 

 

  • Thanks 1
Link to comment
21 hours ago, Sakshi Soni Jain said:

सादर जय जिनेन्द्र

आचार्य भगवंत के बारे में जानने को मिला और साथ ही में उन्ही के शिष्यों के बारे में भी। ये बहुत ही अनुपम, अद्भुत, ज्ञानवर्धक प्रतियोगिता है। vidyasagar.guru वेबसाइट के माध्यम से जब कभी भी प्रतियोगिताएं हुई है। अपने आप में बहुत ही अद्भुत एवम् अनुकरणीय ज्ञान वर्धक हुई है। जिस प्रकार की प्रतियोगिताएं आपके माध्यम से करवाई जाती है वैसी प्रतियोगिताएं मेंने आज तक अपने जीवन काल में नहीं देखी है और नाही भाग लिया है। आपका ह्रदय से आभार; आप आगे भी हम सभी को ज्ञान अर्जन करवाने में सहभागी बनते रहिए। आपके योगदान एवम् गुरु के प्रति समर्पण की खूब - खूब अनुमोदना - अनुमोदना  - अनुमोदना।

मैं आपके भावो की सराहना करती हूँ।

Link to comment

मेरे महान तपस्वी

गुरुवर के पावन चरणों में कोटिशः वन्दन, नमन, आभार। मुझे यह प्रतियोगिता बहुत रूचिकर लगी। गुरुवर के बारे में कुछ भी कहना असम्भव हैं मैं बस इतना ही कहना चाहती हूँ कि गुरुदेव का व्यक्तित्व तो समुद्र से भी ज्यादा गहरा हैं मैं तो गुरुदेव के बारे में पढ़ते-पढते थक गई और गुरुदेव ने सब कुुछ अपने भीतर घटित किया हैैंं मैं उनकी तपस्या की हृदय से खूब अनुुमोदना करती हूँ उन्होनेे 1969 से ही नमक, मीठे का त्याग किया हैंं ।    धन्य हैं गुरुदेव।

Link to comment

Jai jinendra,

Its awesome, 

Kabhi socha nahi tha itna door rahakar bhi Dharmalabh milega, 

Sirf aapki vajah se hame ye Swadhyay ka labh mila.

App ke madhyam se hame bahut janakari milti hai.

Khub khub Anumodana. 

Khub khub Dhanyavaad🙏🙏🙏

 

Link to comment

Guest
Add a comment...

×   Pasted as rich text.   Paste as plain text instead

  Only 75 emoji are allowed.

×   Your link has been automatically embedded.   Display as a link instead

×   Your previous content has been restored.   Clear editor

×   You cannot paste images directly. Upload or insert images from URL.

  • बने सदस्य वेबसाइट के

    इस वेबसाइट के निशुल्क सदस्य आप गूगल, फेसबुक से लॉग इन कर बन सकते हैं 

    आचार्य श्री विद्यासागर मोबाइल एप्प डाउनलोड करें |

    डाउनलोड करने ले लिए यह लिंक खोले https://vidyasagar.guru/app/ 

×
×
  • Create New...