Jump to content

आचार्य श्री के चरण जब नाव पर पड़े

गुरुजी ने कल जो लीला दिखलाई उसे देखकर मेरा मन प्रफुल्लित हो उठा और उठी कलम✒ लिख डाली कुछ पंक्तियां।।
 *डॉ ० विद्या मैडम🖊 (इटारसी)* 

आज पुनः रामायण दुहराई,
बिन मांगे नाव🛶 शरण में आई,
चौदह 💰करोड़💵 का लालच छोडा ,
हुआ अहिंसक 🐄मन को मोड़ा,
राम ने अहिल्या 🛶उपल की कीनी,
तुमने 🙏नाव अहिंसक किनी।।
दोहा:-
देवगढ़ में चरण👣 पखारे आपके
फिर बैठाया 🛶नाव,
नदी 🚤नाव संयोग है आए मुंगावली गांव।।

लेखिका:-
डॉ ० *विद्या जैन* (रेट. प्रोफेसर)
इटारसी(म. प्र)

 *निवेदन* :-
🙏यह कविता *मुंगावली जैन समाज* के लिए है एवम् अगर आप चाहे तो यह बात गुरुजी तक पहुंचाए।।
यह कविता में संशोधन करके गुरु के प्रति मेरी भावना को ठेस न पहुचाएं।।



1 Comment


Recommended Comments

Guest
Add a comment...

×   Pasted as rich text.   Paste as plain text instead

  Only 75 emoji are allowed.

×   Your link has been automatically embedded.   Display as a link instead

×   Your previous content has been restored.   Clear editor

×   You cannot paste images directly. Upload or insert images from URL.

×
×
  • Create New...