Jump to content
आचार्य श्री विद्यासागर मोबाइल एप्प डाउनलोड करें | Read more... ×
  • entries
    498
  • comments
    141
  • views
    10,185

एकजुट हो - आचार्य विद्यासागर जी द्वारा रचित हायकू ४९२

492.jpg

 

एकजुट हो,

एक से नहीं जुड़ो,

बेजोड़ जोड़ो |

 

हायकू जापानी छंद की कविता है इसमें पहली पंक्ति में 5 अक्षर, दूसरी पंक्ति में 7 अक्षर, तीसरी पंक्ति में 5 अक्षर है। यह संक्षेप में सार गर्भित बहु अर्थ को प्रकट करने वाली है।

 

आओ करे हायकू स्वाध्याय

  • आप इस हायकू का अर्थ लिख सकते हैं
  • आप इसका अर्थ उदाहरण से भी समझा सकते हैं
  • आप इस हायकू का चित्र बना सकते हैं

लिखिए हमे आपके विचार

  • क्या इस हायकू में आपके अनुभव झलकते हैं
  • सके माध्यम से हम अपना जीवन चरित्र कैसे उत्कर्ष बना सकते हैं ?


6 Comments


Recommended Comments

एक जुट हो मतलब सब एक साथ रहे पर किसी एक के साथ या एक ही से जुड़ कर नही रहे बल्कि सभी से इस तरह जुड़ जाए कि वह बेजोड़ हो जाये ।जब आप सभी से जुड़ जाएंगे तो उसे कोई अलग नही कर सकता।वह जोड़ मजबूत हो जाता है बेजोड़ हो जााता है।

  • Like 1

Share this comment


Link to comment

सभी स्वार्थो से ऊपर उठकर सबका हो जा  तभी तू अपनी आत्मा से जुड़कर बेजोड़ हो जाएगा

Share this comment


Link to comment

एक जूट हो मतलब एक दुसरे के साथ  हम कोई धर्म कार्य करें तो मिलकर करें वो भी एक के नही बहुतों के मतलब असंख्यो के साथ मिलकर करें 

Share this comment


Link to comment

ऐसे जुड़ो कि हम बेजोड़ हो जाएं बचपन में हमने सभी ने एक लघु कथा सुनी थी उसमें एक गरीब किसान के 5:00 पुत्र थे उसने अपने अंतिम समय में पांचों को बुलाकर एक एक लकड़ी लाने को कहा और फिर  एक एक को तोड़ने के लिए कहा तो वह लकड़ियां आसानी से टूट गई किसान ने फिर पांचों पुत्रों को  एक एक लकड़ी लाने को कहा और बड़े पुत्र को इन लकड़ियों को रस्सी से बांधने को कहा फिर पांचों पुत्रों को बारी बारी से तोड़ने के लिए कहा अब वह लकड़ियां तोड़ना संभव नहीं था यही संदेश आचार्य श्री इस हाइकु के माध्यम से शायद देना चाहते हैं जय जिनेंद्र

Share this comment


Link to comment

एक और एक ग्यारह होते है अगर समाज मे एकता है तो सभी धार्मिक कार्य निविध्न पूर्ण हो जाते है एक से कुछ भी नही होता जंगल मे एक लकड़ी भी अच्छी नही लगती अकेला प्राणी हॅसता भी रोता भी अच्छा नही लगता जैजिनेन्द्र 

Share this comment


Link to comment

The bundle of wood titly bounded by rope and they are present in unity, independanc,and growth.In this way we should live and makes our nation higher.

Share this comment


Link to comment

Create an account or sign in to comment

You need to be a member in order to leave a comment

Create an account

Sign up for a new account in our community. It's easy!

Register a new account

Sign in

Already have an account? Sign in here.

Sign In Now
×