Jump to content
मेरे गुरुवर... आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज
  • entries
    108
  • comments
    2
  • views
    15,930

Contributors to this blog

About this blog

Entries in this blog

हितोपदेश - 65 वां स्वर्णिम संस्मरण

संसारी प्राणी सुख चाहता है, दु:ख से भयभीत होता है। दु:ख छूट जावे ऐसा भाव रखता है। लेकिन दुःख किस कारण से होता है इसका ज्ञान नही रखा जावेगा तो कभीभी दुःख से दूर नही हुआ जा सकता। आचार्य कहते हैं - कारण के बिना कोई कार्य नही होता इसलिए दुःख के कारण को छोड़ दो दुःख अपने आप  समाप्त हो जायेगा। सुख के कारणों को अपना लिया जावे तो सुख स्वतः ही उपलब्ध हो जावेगा। दुःख की यदि कोई जड़(कारण) है तो वह है परिग्रह। परिग्रह संज्ञा के वशीभूत होकर यह संसारी प्राणी संसार मे रूल रहा है, दुःखी हो रहा है। पर वस्तु को अपन

हाजिरजवाबी ब्रम्हचारी विद्याधर - 102 वां हीरक संस्मरण

ज्ञानरथ के सार्थवाह गुरुवर श्री ज्ञानसागर जी महाराज को कोटिशः प्रणाम करता हूँ.... हे गुरुवर! आपके लाडले शिष्य ब्रम्हचारी विद्याधर जी आपको तो जवाब नही देते थे किन्तु अज्ञानियों के अज्ञान अंधकार को दूर करने के लिए कम शब्दों में, टू द पॉइंट बोलकर संतुष्ट करके निरुत्तर कर देते थे। इस सम्बन्ध में नसीराबाद के आपके। अनन्य भक्त रतनलाल पाटनी जी ने विद्याधर के हाजिर जवाबी का संस्मरण सुनाया-    हाजिरजवाबी ब्रम्हचारी विद्याधर "१९६८ ग्रीष्मकालीन प्रवास के दौरान नसीराबाद में ज्ञानसागर मुनिराज न

हल - संस्मरण क्रमांक 38

☀☀ संस्मरण क्रमांक 38☀☀            ? हल ? आचार्य श्री जी विहार करते हुए नेमावर की ओर से जा रहे थे,आचार्य श्री जी से पूछा-आप तो आचार्य श्री जी नवमी कक्षा तक पढ़े हैं और हम लोगों को m.a. पढ़ने के लिए कहते हैं यदि आचार्य ज्ञानसागर जी महाराज ने आपको m.a.करने को कहा होता तो आप हम लोगों को कहां तक पढ़ने को कहते पीएचडी लॉ आदि।  आचार्य श्री जी हसंकर बोल उठे-नहीं पहले मल्लिसागर जी (मल्लप्पा जी) कहते थे- ज्यादा क्या पढ़ना, खेती किसानी तो करना ही है। मेन सब्जेक्ट तो कृषि ही है।यह हल चलाओ जो की समस्त स

स्वाभिमानी ब्रम्हचारी विद्याधर - 96 वां स्वर्णिम संस्मरण

अयाचक वृत्ति के धनी स्वाभिमानी गुरुवर श्री ज्ञानसागर जी महाराज के चरणों मे नमस्कार- नमस्कार- नमस्कार.... हे गुरुवर! ब्रम्हचारी विद्याधर जी आपको पूर्णतः समर्पित होकर, आपके समान बनने के लिए, आपकी हर क्रिया को अपने अन्दर आचरित करते जा रहे थे। सही मायने में वो आपकी पर्याय बन आप में मिलना चाह रहे थे। इस सम्बन्ध में नसीराबाद के आपके भक्त प्रवीणचन्द गदीया ने एक स्मृति सुनायी-  स्वाभिमानी ब्रम्हचारी विद्याधर "नसीराबाद में प्रवास में हमारे घर पर चौक लगा करता था। जब जब परमपूज्य ज्ञानसागर जी महाराज

स्वाध्याय - 67 वां स्वर्णिम संस्मरण

श्री धवलाजी ग्रंथ की वाचना चल रही थी। आचार्य महाराज श्री ने कहा- पंडित जगन्मोहन लाल जी कटनी वालों ने एक दिन मुझे बताया कि- एक कोई व्रद्ध महान ग्रंथ को पढ़ रहे थे तो मैंने पूँछ- समज में आ रहा है, जो भी आप पढ़ रहे है। वृद्ध ने कहा ,हाँ इतना समज में आ रहा है कि-हम पढ़ रहे है, हमे तो स्वाध्याय करना है बस। गुरुदेव ने आगे बताया कि- बात सच है, जो केवलज्ञान के द्वारा जाना गया है वह हम पूर्ण नही जान सकते इसलिए यह प्रभु की वाणी है। ऐसा श्रद्धान रखकर पढ़ते जाना चाहिए क्योंकि ये तो मंत्र जैसे है। आचार्यो के प्र

स्वर्णिमसंस्मरण ग्रुप का इतिहास

अब तक का सफर (1) प्रस्तावना एक शिष्य दिन-रात, प्रतिपल यही मन में भावना भाता है कि- जिन सद्गुरु ने एक नया जीवन दिया, जो हर 1 श्वास में बसे हुए है, जो हृदय की धड़कन की तरह सदा इस दिल में धड़कते रहते है। जिन सद्गुरु ने रास्ते मे पड़े हुए इस कंकड़, पत्थर को उठाकर अपनी छत्रछ्या में रखकर इसे अच्छे संस्कारो से पल्लवित कर इसमें छुपी हुई अनन्त संभावनाओं को उजागर कर उसे एक हीरे का रूप दिया। इस कंकड़ पर अनन्त उपकार किये, जो वह अपने जीवन की अंतिम श्वासों तक स्मरण करेगा। कभी नहीं भूल पाएंगे, उन उपकारों को। इ

स्वर्णिम युगपुरूष - 75 वां स्वर्णिम संस्मरण

महापुरुषों की जन्म तपस्या एवं निर्वाण स्थली रहे धर्म प्रधान भारत देश की पहचान आध्यात्मिकता है और अहिंसा, त्याग आदि इसकी विशिष्टता है। प्रत्येक युग में युगदृष्टाओ ने यहां जन्म लेकर तप साधना के आदर्श प्रस्तुत किए हैं। ऐसे महापुरुषों के व्यक्तित्व एवं सत्कार्य प्रकाश स्तंभ के समान युगों युगों तक जन जन के जीवन को प्रेरणा के स्रोत के रूप में प्रकाशित करते रहते हैं। उनकी अमर जीवन गाथाएं स्वर्णाक्षरों में लिखी जाने योग्य हैं। वर्तमान युग में ऐसे ही आदर्श महापुरुष हैं विश्वविख्यात महान तपस्वी महाकवि दिग

सुविधा नहीं संयम - 74 वां स्वर्णिम संस्मरण

गर्मी का समय था,उन दिनों में मेरी शारीरिक अस्वस्थता बनी रहती थी। मैं आचार्य महाराज के पास गया और मैंने अपनी समस्या निवेदित करते हुए कहा- आचार्य श्री जी! पेट में दर्द(जलन) हो रहा है। आचार्य महाराज ने कहा-गर्मी बहुत पड़ रही है, गर्मी के कारण ऐसा होता है और तुम्हारा कल अंतराय हो गया था,इसलिए पानी की कमी हो गई होगी सो पेट में जलन हो रही है। कुछ रुककर गंभीर स्वर में बोले कि-क्या करें यह शरीर हमेशा सुविधा ही चाहता है लेकिन इस मोक्षमार्ग में शरीर की और मन की मनमानी नहीं चल सकती। बाहरी दु:ख के प्रति अचेत

सुविधा नही संयम - 62 वां स्वर्णिम संस्मरण

गर्मी का समय था, उन दिनों में मेरी शारीरिक अस्वस्थता बानी रहती थी। मैं आचार्य महाराज के पास गया और अपनी समस्या निवेदित करते हुए कहा - आचार्य श्री जी! पेट मे दर्द(जलन)हो रहा है। आचार्य महाराज ने कहा - गर्मी बहुत पड़ रही है, गर्मी के कारण ऐसा होता है और तुम्हारा कल अंतराय हो गया था इसीलिए पानी की कमी हो गई होगी सो पेट मे जलन हो रही है कुछ रुककर गंभीर स्वर में बोले की - क्या करे यह शरीर हमेशा सुविधा ही चाहता है लेकिन इस मोक्षमार्ग में शरीर और मन की मनमानी नही चल सकती। "वहिर्दुः खेषु अचेतनः"  अर्थात्

सिर की चोटी बांधकर अध्ययन करते विद्याधर - 97 वां स्वर्णिम संस्मरण

मदनगंज किशनगढ़ चातुर्मास में ब्रह्मचारी विद्याधर जी, पंडित श्री महेंद्र कुमार जी पाटनी शास्त्री जी से संस्कृत एवं हिंदी भाषा का ज्ञानार्जन करते थे। पंडित जी से उन्होंने कातंत्र रूपमाला (संस्कृत व्याकरण) धनंजय नाममाला (शब्द कोश) एवं श्रुतबोध (छंद रचना) इन 3 संस्कृत ग्रंथों को पढ़ा था। जितना वो पढ़ते थे उतना वह याद कर लेते थे और पंडित जी को सुनाते थे।   इसी प्रकार मदनगंज किशनगढ़ के शांतिलाल गोधा जी (आवड़ा वाले) ने लिखा- 1967 मदनगंज-किशनगढ़ के दिगंबर जैन चंद्रप्रभु मंदिर में ज्ञान सागर जी म

सात्विक व्यंग्य - 79 वां स्वर्णिम संस्मरण

ब्यावर के पश्च्यात १९७४ में आचार्य श्री ने अजमेर में चातुर्मास किया। आचार्य श्री दिव्य पुरुष है, प्रत्येक चातुर्मास में ऐसी घटनाएँ घटित होती है , जो इतिहास का अंग बन जाती हैं  आचार्यश्री प्रातः कालीन प्रतिक्रमण कर बैठे थे। भक्तो से चर्चा कर रहे थे। महाराष्ट्र अकलुज से एक युवा डॉक्टर चुन्नीलाल एम. बी. बी. एस. भी आचार्य श्री के दर्शन को आए थे। आचार्य श्री की आध्यत्मिक साधना और ज्ञान से प्रभावित होकर आध्यत्मिक-चर्चा करते रहते थे। एक दिन चर्चा के पश्चात आचार्य श्री की चरण रज लेने के लिए झुके तो उनकी

सात्विक धंधा - संस्मरण क्रमांक 29

☀☀ संस्मरण क्रमांक 29☀☀            ? सात्विक धंधा ? सर्वोदय तीर्थ अमरकंटक में श्रावकाचार की कक्षा में श्रावक को किस प्रकार से आजीविका चलना चाहिए । गुरुदेव ने बतलाते हुए कहा की आचार्य ज्ञानसागर जी महाराज जी ने बताया था की एक सेठजी थे वे अहिंसा धर्म मे बड़ी ही निष्ठा रखते थे। उन्होंने अपने पुत्र से कह दिया था कि तुम कपड़े की दुकान खोल सकते हो, लेकिन कपड़े की फैक्ट्री(मिल) नही खोल सकते क्योंकि उसमें हिंसा होती है। और सोने, चांदी, हीरे, जवाहरात की दुकान खोल सकते हो लेकिन खदान में ठेका नही ले सकते ह

संस्मरण क्रमांक 4

??????????? ??? संस्मरण क्रमांक 4 ???          आचार्य श्री का एक बहुत अच्छा संस्मरण है कुछ तथाकथित विद्वान यह कहते हुए पाये जाते है कि पंचम काल में यहाँ से किसी को मुक्ति नहीं मिलती इसलिए हम अभी मुनि नहीं बनते बल्कि विदेह क्षेत्र में जाकर मुनि बनेंगे इस प्रश्न का उत्तर देते हुए आचार्य श्री जी ने कहा कि-जो व्यक्ति यहाँ मुनि न बनकर विदेह क्षेत्र में जाकर मुनि बनने की बात करते है,वे ऐसे खिलाड़ी की तरह हैं जो अपने गाँव की पिच पर मैच नहीं खेल पाते एवं कहते है मैं तो विदेश में मैच खेलूंगा या सीध

संस्मरण क्रमांक 2

??????????? ??? संस्मरण क्रमांक 2 ??? पूज्यमुनिश्री क्षमासागर जी महाराज का अपने गुरु आचार्यश्री विद्यासागर जी के प्रति अनूठा समर्पण था। उनका जीवन मानो अपने गुरुकी ही धारा में बहता था... साये की तरह आचार्य श्री के पदचिन्हों पर चलते समय उनके जीवन से जुड़े अनेक संस्मरणों को मुनिश्री ने अपनी पुस्तक आत्मान्वेषी में संकलित किया...प्रस्तुत है संस्मरण  "आत्मीयता"शीतकाल में सारा संघ अतिशय क्षेत्र बीना-बारहा(देवरी) में साधनारतरहा। आचार्य महाराज के निर्देशानुसार सभी ने खुली दालान में रहकर मूलाचार व

संस्मरण क्रमांक 1

??????????  ???  संस्मरण क्रमांक 1??? हमने (आ.श्री विद्यासागर जी ने ) एक बार आ.ज्ञानसागर महाराजजी से पूछा था - ' महाराज ! मुझसे धर्म की प्रभावना कैसे बन सकेगी ? तब उनका उत्तर था कि ' आर्षमार्ग में दोष लगा देना अप्रभावना कहलाती है । तुम ऐसी अप्रभावना से बचते रहना, बस प्रभावना हो जाऐगी । ❄❄" मुनि मार्ग सफेद चादर के समान है, उसमें जरा सा दाग लगना अप्रभावनाका कारण है । उनकी यह सीख बड़ी पैनी है । इसलिए मेरा प्रयास यही रहा कि दुनिया कुछ भी कहे या न कहे, मुझे अपने ग्रहण किये हुए व्रतों का परिपालन

संवेदना - 54 वां स्वर्णिम संस्मरण

वीतरागी गुरुओं का जीवन दया और करुणा से भरा हुआ होता है। वह अपने दु:ख को सहन करने के लिए वज्र के समान कठोर हो जाते हैं, और दूसरे के दु:ख को देखकर नवनीत या मोम की तरह पिघल जाते है जब मेरे पैर में तकलीफ थी, तब आचार्य श्री जी कक्ष के सामने से देव वंदना के लिए निकले। कुछ 10-25 कदम आगे निकल गए, अचानक उन्हें कुछ याद आया, कि मुझे पैर में दर्द है। देव वंदना के पूर्व ही मेरे कक्ष में लौट कर आ गए। मैंने नमोस्तु करते हुए कहा- "आचार्य श्री जी आप देव वंदना के बाद भी तो आ सकते थे, आप बीच से ही लौट आए?"

संयमी जीवन - संस्मरण क्रमांक 14

??????????    ☀☀ संस्मरण क्रमांक 14☀☀            ? संयमी जीवन?  आज पंचमकाल में कैसी भौतिकता है,चारों तरफ वासनाओं का वास हो चुका है, और ऐसे समय में एक अकेला संत जो संयम की रक्षा करते हुए संतत्व से सिध्दत्व की यात्रा करते हुए, मोक्ष मार्ग की ओर निरंतर बिना रुके आगे बढ़ता जा रहा है वह यात्रा जो स्वयं ने अकेले शुरू की थी आज वह यात्रा अविरल रूप से प्रवाहमान है और लाखो हजारों लोग उस  यात्रा में शामिल होकर मोक्ष मार्ग की ओर निरंतर गमन कर रहे हैं लाखों लोगों की मन की सिर्फ एक ही इच्छा होती है कि

सतर्क मुनि चर्या - संस्मरण क्रमांक 12

??????????  ? सुनो भाई खुशियां मनाओ रे                      आयी संयम स्वर्ण जयंती?   ??????????    ☀☀ संस्मरण क्रमांक 12☀☀            ? सतर्क मुनि चर्या ? आचार्य श्री विद्यासागर जी संघ सहित विहार करके एक गांव में पहुंचे। लंबा विहार होने से उन्हें थकावट अधिक हो गई।कुछ मुनि महाराज वैयावृत्ति कर रहे थे।सामायिक का समय होने वाला था,अचानक आचार्य श्री बोले - मन कहता है शरीर को थोड़ा विश्राम दिया जाए .......सभी शिष्यों ने एक स्वर में आचार्य श्री जी की बात का समर्थन करते हुए कहा-हां हां आचार्

सतर्क मुनि चर्या - संस्मरण क्रमांक 11

☀☀ संस्मरण क्रमांक 11☀☀            ? सतर्क मुनि चर्या ? आचार्य श्री विद्यासागर जी संघ सहित विहार करके एक गांव में पहुंचे। लंबा विहार होने से उन्हें थकावट अधिक हो गई।कुछ मुनि महाराज वैयावृत्ति कर रहे थे।सामायिक का समय होने वाला था,अचानक आचार्य श्री बोले - मन कहता है शरीर को थोड़ा विश्राम दिया जाए .......सभी शिष्यों ने एक स्वर में आचार्य श्री जी की बात का समर्थन करते हुए कहा-हां हां आचार्य श्री जी आप थोड़ा विश्राम कर लीजिए आचार्य श्री जी हंसने लगे और तत्काल बोले मन भले ही विश्राम की बात कर

संतत्व से सिद्धत्व की अविराम यात्रा का पथिकन - 78 वां स्वर्णिम संस्मरण

30 जुलाई 1968, श्री भागचंद सोनी जी की नशियाँ बात उस समय की है जब युवा ब्रह्मचारी विद्याधर की मुनि दीक्षा होनी थी। सबसे पहले ब्रह्मचारी विद्याधर ने मुनि ज्ञान सागर जी की चरण वंदना की, उसके बाद मुनि श्री से दिगंबर दीक्षा प्रदान करने हेतु प्रार्थना की। मुनि श्री ने दीक्षा पूर्व जनसमूह के समक्ष अपनी भावनाएं प्रस्तुत करने हेतु विद्याधर को निर्देश दिया।मुनि श्री की अनुमति पाकर विद्याधर ने सिद्धम नम:, सिद्धम नम: के पवित्र उच्चारण के पश्चात आदि तीर्थंकर ऋषभदेव की प्रशस्ति में मंगलाचरण का उच्चारण किया,पश

सच्चा रास्ता - संस्मरण क्रमांक 9

??????????  ? सुनो भाई खुशियां मनाओ रे                      आयी संयम स्वर्ण जयंती?   ??????????     ☀☀ संस्मरण क्रमांक 9☀☀            ? सच्चा रास्ता ? 1978  नैनागिरी चातुर्मासमें जयपुर से कुछ लोग आचार्य महाराज के दर्शन करने नैनागिरी आ रहे थे, वह रास्ता भूल गए और नैनागिरी के समीप दूसरे रास्ते पर मुड़ गए। थोड़ी देर जाकर उन्हें एहसास हुआ कि वह भटक गए हैं , इस बीच 4 बंदूकधारी लोगों ने उन्हें घेर लिया,  गाड़ी में बैठे सभी यात्री घबरा गए एक यात्री ने थोड़ा साहस करके कहा कि - भैया ह

श्मशान में ध्यान - संस्मरण क्रमांक 39

☀☀ संस्मरण क्रमांक 39☀☀            ? श्मशान में ध्यान ? पहले जब संघ इतना बड़ा नहीं था,आचार्य श्री जी अष्टमी और चतुर्दशी को जंगल में वीराने शमशान में ध्यान किया करते थे उपवास रहता था और 24 घंटे तक एक ही आसन पर स्थिर रहा करते थे।ऐसा तप श्रेष्ठ मुनि करते हैं। एक बार राजस्थान केकड़ी ग्राम का प्रसंग है आचार्य महाराज के साथ एक क्षुल्लक जी भी थे। संध्या समय वहां के श्रावक गुरु- भक्ति के लिए आये।देखा- आचार्य महाराज जी नहीं है आचार्य श्री विहार कभी बताकर नहीं करते।सब चिंतित हो गए लोगों ने सोचा कहीं

शिथिलाचार विनाशक - संस्मरण क्रमांक 44

☀☀ संस्मरण क्रमांक 44☀☀            ? शिथिलाचार विनाशक ?  मुनिराज छहकाय के जीवों की हिंसा से विरक्त होते हैं,आधुनिक युग में विद्युत प्रयोग से उत्पन्न  अनेक साधन उपलब्ध होते हैं। आचार्य भगवन रात्रि में पठन, लेखन  आदि क्रिया ना स्वयं करते ना संघस्थो को करने के लिए अनुमोदित करते हैं। नैनागिरी शीतकाल में एक बार संघस्थ नव दीक्षित शिष्य ने आचार्य भगवंत से निवेदन करते हैं कि- रात्रि प्रतिक्रमण हम लोग रात में पढ़ नहीं सकते हैं इसलिए आपकी आज्ञा चाहते हैं कि बाहर प्रकाश उत्पन्न करने वाली लालटेन हैं,क

वे नहीं रहे - 66 वां स्वर्णिम संस्मरण

शीतकाल में भोजपुर क्षेत्र पर सारा संघ विराजमान था। प्रकृति के बीचों- बीच श्री शांतिनाथ, कुंथुनाथ और अरनाथ भगवान का मंदिर है। मंदिर प्रांगण से ही लगा हुआ जंगल है, बहुत विशाल-विशाल चट्टानें है।  चारो ओर हरियाली ही हरियाली नजर आती है। वहाँ बैठते ही ध्यान लग जाता है, ध्यान लगाने की जरूरत नही पड़ती ।  वहीं जिनालय से कुछ दूरी पर एक दो  मंजिल का।महल है, जो खण्डहर हो चुका है। उसमे आज भी सुंदर कलाकृति बानी हुई है। एक दिन आचार्य महाराज उस कलाकृति को देख रहे थे, उन्होंने कहा- इतना विशाल महल, इतनी अच्छी कलाक

वीतरागी से अनुराग - संस्मरण क्रमांक 18

☀☀ संस्मरण क्रमांक 18☀☀            ? वीतरागी से अनुराग ?  आचार्य महाराज संग सहित  विहार कर रहे थे, खुरई नगर में प्रवेश होने वाला था ,एक गरीब सा दिखने वाला व्यक्ति साइकिल पर अपनी आजीविका का बोझ लिए समीप से निकला और थोड़ी दूर जाकर ठहर गया,जैसे हीआचार्य महाराज उसके सामने से निकले वह भाव विह्वल होकर उनके श्री चरणों में गिर पड़ा।गदगद कंठ से बोला कि-" भगवान राम की जय हो"आचार्य महाराज ने क्षण भर उसे देखा और अत्यंत करुणा से भर कर धर्म वृद्धि का आशीष दिया,और आगे बढ़ गए। वह व्यक्ति हर्ष विभोर होकर बह
×
×
  • Create New...