Jump to content
मेरे गुरुवर... आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज

Blogs

भारतीय किसान प्राचीन विज्ञान

आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज ने कहा कि भारतीय किसान प्राचीन विज्ञान के हिसाब से खेती करता आया है। खेती का तरीका बदल गया परंतु किसान वही है। किसान कई तरह के बीजारोपण करता है पांच जगह एक बार बीज जाता है यंत्र के माध्यम से। यंत्र में ऊपर ढक्कन लगा रहता है। किसान फिर भी चौकस निगाह रखता है खेत में फसल के साथ खरपतवार भी पैदा हो जाती है। जिसे किसान उखाड़ कर फेंकता जाता है साथ में कुछ अनुपयोगी और कमजोर पौधों को फेंकता जाता है। खरपतवार और फसल एक जैंसी दिखती है तो सावधानी से हटाना पड़ता है। इसी प्रकार आ

धार्मिक अनुष्ठान

पूज्य आचार्य श्री विद्यासागरजी महाराज ने कहा कि धार्मिक अनुष्ठान के लिए द्रव्य काल के साथ साथ क्षेत्र भी अपेक्षित है। निंद्रा के समय सम्यकदर्शन की प्राप्ति नहीं हो सकती हाँ सम्यक दर्शन के बाद निंद्रा अवश्य आ सकती है। निंद्रा के समय हम बुद्धिपूर्वक किसी पर पदार्थ को पहचान नहीं पाते । इसलिए हमारा प्रयास बिफल हो जाता है । जितनी निंद्रा आवश्यक है उतनी ही लेना चाहिए।   उन्होंने कहा कि जब दिनकर यानि सूर्य का आभाव हो तो भोजन ग्रहण नहीं करना चाहिए क्योंकि पाचन सम्भव नहीं होता और शाम को भोजन भी

श्रावक को धर्म

पूज्य आचार्य श्री विद्यासागरजी महाराज ने कहा कि श्रावक को धर्म के दायरे में रहकर ही धर्म के मूल सिद्धांतों का अक्षरशः पालन करना चाहिए। श्रावकों को जीवन में आचार,विचार, आहार, और व्यवहार का विशेष ध्यान रखना चाहिए।   उन्होंने कहा कि दृष्टि का उपयोग सही नहीं कर पा रहे हैं। अपने द्रष्टीकोण को सही दिशा में ले जाना है तो उसका उपयोग सही करना होगा। गुरुवर ने कहा कि पानी में रहने वाला प्राणी जितनी आवश्यकता हो उतना ही पानी लेता है पूरा नहीं पी जाता है परंतु आप जरूरत से ज्यादा संग्रह करते हो चाहे

वैराग्य का मर्म

पूज्य आचार्य श्री विद्यासागरजी महाराज ने कहा कि वैराग्य का मर्म समझने के लिए अध्यात्म को समझना होगा। आपके बच्चे अभी पारंगत नहीं है फिर भी आप उस पर ऐंसा बोझ डाल रहे हो जो धनुपार्जन की भागदौड़ की सिवाय कुछ नहीं है। उसमें धर्म के संस्कार नहीं डाल रहे हैं। पीढ़ी दर पीढ़ी यही चला आ रहा है। आज आने बाली पीढ़ी को संस्कारों का रोपण जरूरी है। ये संस्कार आपको ही देना होगा। मैं ऐंसा चिकित्सक हूँ जो आपकी नाड़ी देखकर आपको सही इलाज बता सकता हूँ। आप युवा पीढ़ी के सही चिकित्सक बनो,उसे सही प्रक्षिक्षण दो,उसे अच्छे बुरे

आपकी दृष्टि दूसरों पर

पूज्य आचार्य श्री विद्यासागरजी महाराज ने कहा कि आपकी दृष्टि दूसरों पर है, पराये दृश्य को आप अपना दृश्य समझ रहे हो तो दोष आपका ही है क्योकि दृष्टि स्वयं के दोषों पर जायेगी तभी निर्दोष चर्या हो सकेगी।   उन्होंने कहा कि यदि भेद विज्ञान को मानते हो, यदि स्वाध्याय करते हो तो आपको धर्म की रस्सी बाँधना पड़ेगी ताकि आप संसार में कहीं खो न जाओ। भेद विज्ञान का प्रयोजन है की आप मोह को छोड़कर मोक्ष की तरफ अग्रसर हों। राग द्वेष की प्रवत्ति आपको मोह के बंधन से मुक्त नही होने देती है। अध्यात्म में गहरे

अभिनय करने वाला ऐंसा अभिनय करता है

पूज्य आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज ने कहा कि अभिनय करने वाला ऐंसा अभिनय करता है की वास्तविक लगता है परंतु वो वास्तविक नहीं होता बनाबटी होता है। पूर्व के जो कर्म उदय में आते हैं उनसे बचने के लिए बनाबटी बातें नहीं चलेंगी बल्कि वास्तविकता को जानकार उन कर्मों का सामना किया जा सकता है। प्रत्येक सांस में आपके अतीत का फल वर्तमान में परिणाम के रूप में सामने आता है। साक्षी भाव होकर भी एकाक्षी बनकर जो रहते हैं वो कर्मों के यथार्थ को जान नहीं पाते। रुद्राक्ष में एक आँख को लौकिक पद्धति में दुर्लभ माना ज

नीचे रहकर भी पर्वत के मंदिर और शिखर को देख सकते हैं

पूज्य आचार्य श्री विद्यासागरजी महाराज ने अपने आशीष वचनों में कहा कि आप नीचे रहकर भी पर्वत के मंदिर और शिखर को देख सकते हैं। एक बार दृष्टी से दिखाई दे जाते हैं। जहां से रास्ता होता है वही से मंदिर की तरफ जाया जाता है। जब पहाड़ चढ़ते हैं तो झुकना पड़ता है,साबधानी रखनी पड़ती है। व्यबधान का समाधान एकाग्रता,संकल्पशक्ति में होता है। रास्ते को सुव्यवस्थित करने से आगे बढ़ा जा सकता है। रास्ते में नदी आती है तो नाव के सहारे नाविक आपको पतवार चलाकर पार लगाता है। जब उस पार पहुँच जाते हैं तो स्वयं चलकर फिर लक्ष्य

प्राशुक जल से सभी को शीतल

गुरुवर ने अपनी अमृतमयी वाणी के प्राशुक जल से सभी को शीतल कर दिया उन्होंने कहा कि प्रमाद और कषाय करने से  सुमेरु पर्वत के बराबर कचरा इकट्ठा हो जाता है। जो घाव हुआ था, धीरे धीरे भरते हुए आये औषधि उपचार किया पर प्रमाद के कारण पहले से और ज्यादा गहरा हो गया। पहले सात्विकता होते हुए भी कर्मों के थपेड़े ने एक को कर्जदार बना दिया, चुकाता गया वो थोड़ा सा रह गया अब वो चिंता से थोडा मुक्त हो गया और प्रमाद करने लगा तो फिर ऋणी हो गया। कषाय साफ़ हो जाती है माफ़ नहीं होती। हाथी निकल जाता है पूँछ रह जाती है। कषाय थ

मूकमाटी समापन सत्र

गुरुवर ने प्रवचनों में कहा कि  इस गोष्टी में विद्वानों ने तत्वों का उदघाटन किया। जिव्हा लोभ के कारण रोग को निमंत्रण दिया जा रहा है और चिकित्सकों को निमंत्रण दिया जा रहा है। जान बूझकर रोग को निमंत्रण देने से बचना चाहिए।   उन्होंने कहा कि गुणों के प्रति श्रद्धा भाव होना चाहिए,दुखित है, द्रवित है उसके प्रति आँखों में पानी आना चाहिए। पानी विज्ञान की देनें नहीं है वो तो भीतर से प्रकट होता है। वो पानी एक सात्विक जल है जिसमें दया का प्रतिष्ठापन हुआ है। सब अपने अपने ढंग से रोते हैं, दूसरों को

मूकमाटी चौथा सत्र

पूज्य आचार्य श्री विद्यासागरजी महाराज ने अपने आशीर्वचनों में कहा कि आजकल चित्र का जमाना चल रहा है, सभी लोग चित्र में अपना चित्त लगा कर बैठे हैं परंतु ये चित्र आपके चारित्र को कमजोर कर रहा है। बाहर का चित्र हमेशा आकर्षित करता है जिसके मोह में आप सभी पराश्रित हो जाते हैं । जब हम अंतरंग के चित्र को निहारते हैं तो  यथार्थ का बोध होता है और यहीं से चारित्र निर्माण की यात्रा प्रारम्भ होती है।   उन्होंने कहा की कोई भी काव्य शब्दों की अभिव्यक्ति को व्यक्त करने का सशक्त साधन  होता है। आज विद्या

मूक माटी संगोष्टी

गुरुवर ने कहा की  आप लोग बकताओं को एकाग्रता से सुन रहे थे में भी एक एक श्रोता बनकर सुन रहा था । मंथन में ही जो देखते हैं वो गायब हो जाता है जो नहीं दिखता बो उभर कर सामने आता है । भावों की कोई भाषा नहीं होती है बो तो तैरते हुए ही दिखाई देते हैं । अपने भावों की तरंगें व्यक्त करते रहना चाइये |   गुरुवर ने कहा कि कल प्रधानमंत्री जी आये थे तो भारत की बात हुई। कोई कितना भी बड़ा कलाकार हो यदि पूर्ण निष्ठां से कला की अभिव्यक्ति नहीं करेगा तो सार्थकता दिखाई नहीं देगी। भाषा में उलझकर कभी कभी भाव

सम्यक दर्शन की भूमिका

गुरुवर ने कहा कि सम्यक दर्शन की भूमिका में परिणामों की स्थिति बदलती है। नारकीय जीवन बहुत ही बदतर होता है, फिर भी सम्यक दर्शन की स्थिति बन जाती है। नार्कियों की अपेक्षा हमें अपनी स्थिति वेहतर बनाना है इसलिए उनके जीवन के बारे में जानना जरूरी है। प्रधानमंत्री का जीवन भी बहुत ही अनुशासन से बंधा होता है उन्हें आहार विहार और व्यवहार का ध्यान रखना पड़ता है।   उन्होंने कहा कि सब अपनी वेदनाओं को लेकर व्यथित हो जाते हैं परंतु जब नारकीय जीवन को जानेंगे तो शायद अपनी व्यथा आपको छोटी लगने लगेगी। नरक

सम्यक दर्शन की उत्पत्ति

पूज्य आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज ने अपने प्रवचनों में कहा कि सम्यक दर्शन की उत्पत्ति में अनेक कारण होते हैं हरेक गति में धर्म श्रवण होता है, नरक में भी देवलोग जाकर नार्कियों को संबोधित करते हैं। 16 स्वर्ग वाले शुक्ल लेश्या वाले देवों के नीचे वाले देव जाते हैं। अधोगति में अपने ढंग की कषाय अलग होती हैं बहुत तीव्र होती है फिर भी सम्यक दर्शन उन्हें होता है। यदि आप दुसरे से सत्य बुलवाना चाहते हो तो आपको भी सत्य को अंगीकार करना होगा। वात्सल्य चाहते हो तो अपने ह्रदय को वात्सल्य से भरना होगा। अधोल

पूर्व के कर्म जो बंधे

गुरुवर ने कहा कि पूर्व के कर्म जो बंधे हैं उसमें पुरुषार्थ का योगदान होता है। माचिस की तीली में एक तरफ बारूद लगाया जाता है, उसमें से चिंगारी निकलती है। ऐंसे ही जो कर्म हमने आत्मा पर चिपकाए हैं वो बाद में परिणाम के रूप में परिलक्षित होते हैं। माचिस के आजु बाजू में लगे मशाले में यदि पानी लग जाय तो फिर तीली नहीं जलती है। बारिश में पानी से बचने पर ही वो काम करती है। ऐंसे ही प्रमाद के कारण कर्म के उदय में लापरबाही करते हैं तो कर्म विपरीत हो जाते हैं। आवश्यकता के अनुसार कर्मों का उपयोग करना चाहिए ताकि

सत्य है कटु है सुनने में अच्छा नहीं लगता

आचार्य श्री ने कहा कि सत्य है कटु है सुनने में अच्छा न।हीं लगता, आँखें सत्य को देखना नहीं चाहती परंतु उसे सुनना, देखना और सहन करना पड़ता है ये सत्य है। पाठ्यक्रम को सरसरी निगाह से नहीं देख पाते परंतु उसका चिंतन करना पड़ता है। आज को प्रवचन में उद्घठित हो रहा है बो पुराना है परंतु बार बार सुनने में अच्छा लगता है। इस कथा के माध्यम से ये बता रहा हूँ जब तूफ़ान आता है तो बृक्ष के पत्ते, डाली, फल सभी टूट कर गिर जाते हैं परंतु तना मजबूत होता है वो टिका रहता है। पाठ्यक्रम में जो आया है उसे स्वीकार करना पड़ता

मनुष्यों में विभिन्न प्रकार की बीमारियां पनप रहीं हैं

पूज्य आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज ने कहा कि आज मनुष्यों में विभिन्न प्रकार की बीमारियां पनप रहीं हैं जिनके लिए विशेष योग्यता बाले चिकित्सक बुलाये जाते हैं। मधमेह की बीमारी तो तेजी से पनप रही है। देवलोक में देवों को कभी कोई बिमारी नहीं होती  न ही चिकित्सकों की कोई आवश्यकता उनहे पड़ती है। कषाय और चिंता से रहित होने पर ही आरोग्यता शरीर में आती है, इसके विपरीत देवलोक में कषायों की मंदता रहती है,शारीरिक और मानसिक रोगों से रहित होता है देवों का जीवन।   उन्होंने कहा कि आत्मपुरुषार्थ अलग ब

चिड़िया संघी पंचिन्द्रिय जीव

जो आप मोबाईल का उपयोग कर रहे हो, इसमें से निकलने वाली घातक किरणें आपके साथ साथ कुछ आकाश में विचरण करने वाले पंछियों के लिए भी नुक्सानदायक हैं। पूज्य आचार्य श्री विद्यासागरजी महाराज ने  कहा कि चिड़िया संघी पंचिन्द्रिय जीव होती है। एक अनुसंधान से पता चला है की मोबाइल के टावर से निकलने वाली किरणों से सबसे ज्यादा नुक्सान उनको हो रहा है और उनकी संख्या घटती जा रही है। आप मोबाइल मंदिर परिसर में लेकर घुमते हो तो अहिंसा धर्म का घात होता है। आप कम से कम मंदिर में उपयोग न करने का संकल्प तो ले ही सक

शिक्षा में तीन चरणों में परीक्षा के माध्यम

पूज्य आचार्य श्री विद्यासागरजी महाराज ने अपने आशीर्वचनों में कहा कि पहले की शिक्षा में तीन चरणों में परीक्षा के माध्यम से विद्यार्थी की योग्यता का मापदंड किया जाता था फिर अगली कक्षा में जाने के लिए भी एक परीक्षा होती थी ताकि सरलता से उसे प्रवेश की पात्रता मिल जाय ।आज सेमिस्टर सिस्टम के माध्यम से हर 6 माह में पाठ्यक्रम की परीक्षा होती है ये अव्यवहारिक तरीका है क्योंकि  वह 6 माह में पुनराबलोकन उस पाठ्यक्रम का नहीं कर पाता है और उसकी पढाई की धारा भी टूट जाती है जिससे उसका मनोबल टूटता है ।इस शिक्षा

अहिंसा दिवस एवं वाणी महोस्तव

आचार्य श्री ने कहा की महावीर जयंती पर इस मैदान में प्रवचन हुआ था । सूर्य देवता भी कहीं छुपे हुए हैं । धरती का नाम क्षमा है ,कीट पतंगे , नदी नाले सभी इस धरती की गोदी में विचरण करते हैं । स्वर्ग से अच्छी धरती है ये   भारत की धरती । अहिंसा को प्रणाम करने से अहिंसा का पालन नहीं होता । अहिंसा एक निषेधात्मक शब्द है । हिंशा का निषेध् जहां होता है अहिंसा का प्रादुर्भाव बहिसे होता है  । उन्होंने कहा कि भोजन चाहते हो तो आपको अग्नि से पाक हुआ भोजन मिलता है । बिना अग्नि के जीवन का निर्माण नहीं होता । कुम्भक

क्षमावाणी महोत्सव लाल परेड

परम पूज्य आचार्य श्री विद्यासागरजी महाराज ससंघ के सानिध्य एवं मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंहजी चौहान की उपस्थिति में गांधीजी और शास्त्री जी की "जन्म जयंती" के अवसर पर आयोजित भावों की निर्मल सरिता में अवगाहन करने आया  हूँ इन पंक्तियों को जीवन में चरितार्थ करने पर ही केवल ज्ञान का मार्ग प्रशस्त होगा और में भी इसी मार्ग पर चलने का प्रयास कर रहा हूँ । उक्त उदगार पूज्य आचार्य श्री विद्यासागरज महाराज ने आज 1 ओक्टूबर को हबीबगंज में आयोजित पुजन कार्यक्रम में अपने प्रवचनों में व्यक्त किये ।   उन्ह

संसार में आधी व्याधि रोग

पूज्य आचार्य श्री विद्यासागरजी महाराज ने जैन मंदिर परिसर हबीबगंज में आयोजित धर्मसभा में कहा कि संसार में आधी व्याधि रोग ,मानसिक रोग ,बौद्धिक रोग हर प्रकार के रोग हैं और उनकी चिकित्सा भी है ।जब आप भगवान को अर्घ समर्पित करते हो तो उसके अर्थ पर भी ध्यान दिया करो ।आप बोलते हैं क्षुधा रोग विनाशनाय परंतु आपकी क्षुधा हर पल बढ़ती ही जाती है ,शांत ही नहीं होती है ।अपने रोगों को लेकर आप संतों के पास भी जाते हो संतों के पास आपके तन की नहीं मन की ओषधि होती है और ये ओषधि आपको पूर्ण रूप से निरोगी कर देती है ।

आमंत्रण से जाते नहीं

पूज्य गुरुवर ने अपने आशीर्वचन में कहा कि हम आमंत्रण से जाते नहीं परंतु वृक्षों की भांति जो हमेशा खड़े रहते हैं सभी राहगीरों को  छाया, फल, सुगंध,शीतलता, ठंडी बयार आदि देते हैं किसी को आमंत्रण नहीं देते बल्कि राहगीर स्वयं चलकर उनके समक्ष आश्रय लेने जाता है। आत्मा का कल्याण तभी होता है  वृक्ष की भांति दूसरों को छाया के साथ साथ आश्रय प्रदान करने की भावना होती है।   उन्होंने कहा कि वीतरागी संत आमंत्रण और निमंत्रण से बहुत दूर रहते हैं। जिस तरह ट्रकों पर पीछे लिखा रहता है कि "फिर मिलेंगे" उसी

अपने दृष्टी कोण को बदलो

पूज्य आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज ने हबीबगंज जैन मंदिर में आयोजित धर्मसभा में कहा कि अपने दृष्टी कोण को बदलने से और सही दिशा में पुरुषार्थ करने से ज्ञान को भी सही दिशा मिलती है।   आचार्य श्री ने कहा कि जब दृष्टि में दोष आता है तो एक साथ दोनों आँखों की जांच नहीं होती, एक एक करके जाँच करके नम्बर निकाला जाता है। दर्पण के माध्यम से अक्षर और नम्बर पढ़ने को कहा जाता है फिर उसके आघार पर दृष्टि दोष का आंकलन किया जाता है।   उन्होंने कहा कि जब हम चलते हैं तो दृष्टि पैरों की तरफ नही
×
×
  • Create New...