Jump to content
मेरे गुरुवर... आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज

Blogs

पथ को कभी - आचार्य विद्यासागर जी द्वारा रचित हायकू १‍५८

पथ को कभी, मिटाना नहीं होता, पथ पे चलो।   हायकू जापानी छंद की कविता है इसमें पहली पंक्ति में 5 अक्षर, दूसरी पंक्ति में 7 अक्षर, तीसरी पंक्ति में 5 अक्षर है। यह संक्षेप में सार गर्भित बहु अर्थ को प्रकट करने वाली है।   आओ करे हायकू स्वाध्याय आप इस हायकू का अर्थ लिख सकते हैं। आप इसका अर्थ उदाहरण से भी समझा सकते हैं। आप इस हायकू का चित्र बना सकते हैं। लिखिए हमे आपके विचार क्या इस हायकू में आपके अनुभव झलकते हैं। इसके माध्यम से हम अपन

पुण्य-पथ लौ - आचार्य विद्यासागर जी द्वारा रचित हायकू १‍५७

पुण्य-पथ लौ, पाप मिटे पुण्य से, पुण्य पथ है।   हायकू जापानी छंद की कविता है इसमें पहली पंक्ति में 5 अक्षर, दूसरी पंक्ति में 7 अक्षर, तीसरी पंक्ति में 5 अक्षर है। यह संक्षेप में सार गर्भित बहु अर्थ को प्रकट करने वाली है।   आओ करे हायकू स्वाध्याय आप इस हायकू का अर्थ लिख सकते हैं। आप इसका अर्थ उदाहरण से भी समझा सकते हैं। आप इस हायकू का चित्र बना सकते हैं। लिखिए हमे आपके विचार क्या इस हायकू में आपके अनुभव झलकते हैं। इसके माध्यम से ह

कस न, ढील - आचार्य विद्यासागर जी द्वारा रचित हायकू १‍५६

कस न, ढील, अनति हो, सो वीणा, स्वर लहरी।   हायकू जापानी छंद की कविता है इसमें पहली पंक्ति में 5 अक्षर, दूसरी पंक्ति में 7 अक्षर, तीसरी पंक्ति में 5 अक्षर है। यह संक्षेप में सार गर्भित बहु अर्थ को प्रकट करने वाली है।   आओ करे हायकू स्वाध्याय आप इस हायकू का अर्थ लिख सकते हैं। आप इसका अर्थ उदाहरण से भी समझा सकते हैं। आप इस हायकू का चित्र बना सकते हैं। लिखिए हमे आपके विचार क्या इस हायकू में आपके अनुभव झलकते हैं। इसके माध्यम से हम अपन

कब लौं सोचो। - आचार्य विद्यासागर जी द्वारा रचित हायकू १‍५५

कब लौं सोचो।, कब करो, ना सोचे, करो क्या पाओ ?   हायकू जापानी छंद की कविता है इसमें पहली पंक्ति में 5 अक्षर, दूसरी पंक्ति में 7 अक्षर, तीसरी पंक्ति में 5 अक्षर है। यह संक्षेप में सार गर्भित बहु अर्थ को प्रकट करने वाली है।   आओ करे हायकू स्वाध्याय आप इस हायकू का अर्थ लिख सकते हैं। आप इसका अर्थ उदाहरण से भी समझा सकते हैं। आप इस हायकू का चित्र बना सकते हैं। लिखिए हमे आपके विचार क्या इस हायकू में आपके अनुभव झलकते हैं। इसके माध्यम से

धूम्र से बोध - आचार्य विद्यासागर जी द्वारा रचित हायकू १‍५४

धूम्र से बोध, अग्नि का हो गुरु से, सो आत्म बोध।   हायकू जापानी छंद की कविता है इसमें पहली पंक्ति में 5 अक्षर, दूसरी पंक्ति में 7 अक्षर, तीसरी पंक्ति में 5 अक्षर है। यह संक्षेप में सार गर्भित बहु अर्थ को प्रकट करने वाली है।   आओ करे हायकू स्वाध्याय आप इस हायकू का अर्थ लिख सकते हैं। आप इसका अर्थ उदाहरण से भी समझा सकते हैं। आप इस हायकू का चित्र बना सकते हैं। लिखिए हमे आपके विचार क्या इस हायकू में आपके अनुभव झलकते हैं। इसके माध्यम स

धूप-छाँव सी - आचार्य विद्यासागर जी द्वारा रचित हायकू १‍५३

धूप-छाँव सी, वस्तुत: वस्तुओं की, क्या पकड़ है ?   हायकू जापानी छंद की कविता है इसमें पहली पंक्ति में 5 अक्षर, दूसरी पंक्ति में 7 अक्षर, तीसरी पंक्ति में 5 अक्षर है। यह संक्षेप में सार गर्भित बहु अर्थ को प्रकट करने वाली है।   आओ करे हायकू स्वाध्याय आप इस हायकू का अर्थ लिख सकते हैं। आप इसका अर्थ उदाहरण से भी समझा सकते हैं। आप इस हायकू का चित्र बना सकते हैं। लिखिए हमे आपके विचार क्या इस हायकू में आपके अनुभव झलकते हैं। इसके माध्यम स

मोक्षमार्ग में - आचार्य विद्यासागर जी द्वारा रचित हायकू १‍५२

मोक्षमार्ग में, समिति समतल।, गुप्ति सीढ़ियाँ।   हायकू जापानी छंद की कविता है इसमें पहली पंक्ति में 5 अक्षर, दूसरी पंक्ति में 7 अक्षर, तीसरी पंक्ति में 5 अक्षर है। यह संक्षेप में सार गर्भित बहु अर्थ को प्रकट करने वाली है।   आओ करे हायकू स्वाध्याय आप इस हायकू का अर्थ लिख सकते हैं। आप इसका अर्थ उदाहरण से भी समझा सकते हैं। आप इस हायकू का चित्र बना सकते हैं। लिखिए हमे आपके विचार क्या इस हायकू में आपके अनुभव झलकते हैं। इसके माध्यम से

जिससे तुम्हें - आचार्य विद्यासागर जी द्वारा रचित हायकू १‍५१‍

जिससे तुम्हें, घृणा न हो उससे, अनुराग क्यों ?   हायकू जापानी छंद की कविता है इसमें पहली पंक्ति में 5 अक्षर, दूसरी पंक्ति में 7 अक्षर, तीसरी पंक्ति में 5 अक्षर है। यह संक्षेप में सार गर्भित बहु अर्थ को प्रकट करने वाली है।   आओ करे हायकू स्वाध्याय आप इस हायकू का अर्थ लिख सकते हैं। आप इसका अर्थ उदाहरण से भी समझा सकते हैं। आप इस हायकू का चित्र बना सकते हैं। लिखिए हमे आपके विचार क्या इस हायकू में आपके अनुभव झलकते हैं। इसके माध्यम से

प्रेस विज्ञप्ति *जैनाचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज का ७२ वां जन्म जयंती दिवस आज

५ अक्तूबर २०१७. नई दिल्ली. *दिगंबर जैनाचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज का नाम किसी परिचय का मुहताज नहीं है. शरद पूर्णिमा के दिन परम पूज्य गुरुदेव की जन्म जयंती देशभर में मनाई जा रही है. * ध्यातव्य है कि तीर्थंकर महावीर भगवान की महान दिगम्बर परंपरा के जीवंत प्रतिरूप आचार्य श्री १०८ विद्यासागर जी महाराज की मुनि दीक्षा के पचास वर्ष सन २०१८ में पूर्ण हो रहे हैं, इस अलौकिक अवसर को संयम स्वर्ण महोत्सव वर्ष के रूप में सम्पूर्ण भारत में वर्षभर में मनाया जा रहा है| *आचार्य श्री विद्या

रसों का भान - आचार्य विद्यासागर जी द्वारा रचित हायकू १‍५०

रसों का भान, जहाँ न, रहे वहाँ, शान्त-रस है।   हायकू जापानी छंद की कविता है इसमें पहली पंक्ति में 5 अक्षर, दूसरी पंक्ति में 7 अक्षर, तीसरी पंक्ति में 5 अक्षर है। यह संक्षेप में सार गर्भित बहु अर्थ को प्रकट करने वाली है।   आओ करे हायकू स्वाध्याय आप इस हायकू का अर्थ लिख सकते हैं। आप इसका अर्थ उदाहरण से भी समझा सकते हैं। आप इस हायकू का चित्र बना सकते हैं। लिखिए हमे आपके विचार क्या इस हायकू में आपके अनुभव झलकते हैं। इसके माध्यम से हम

छोटा सा हूँ मैं - आचार्य विद्यासागर जी द्वारा रचित हायकू १‍४९

छोटा सा हूँ मैं, छोर छूती सी तृष्णा, छेड़ती मुझे।   हायकू जापानी छंद की कविता है इसमें पहली पंक्ति में 5 अक्षर, दूसरी पंक्ति में 7 अक्षर, तीसरी पंक्ति में 5 अक्षर है। यह संक्षेप में सार गर्भित बहु अर्थ को प्रकट करने वाली है।   आओ करे हायकू स्वाध्याय आप इस हायकू का अर्थ लिख सकते हैं। आप इसका अर्थ उदाहरण से भी समझा सकते हैं। आप इस हायकू का चित्र बना सकते हैं। लिखिए हमे आपके विचार क्या इस हायकू में आपके अनुभव झलकते हैं। इसके माध्यम

निजी पराये - आचार्य विद्यासागर जी द्वारा रचित हायकू १‍४८

निजी पराये, वत्सों को, दुग्ध-पान, कराती गौ-माँ।   हायकू जापानी छंद की कविता है इसमें पहली पंक्ति में 5 अक्षर, दूसरी पंक्ति में 7 अक्षर, तीसरी पंक्ति में 5 अक्षर है। यह संक्षेप में सार गर्भित बहु अर्थ को प्रकट करने वाली है।   आओ करे हायकू स्वाध्याय आप इस हायकू का अर्थ लिख सकते हैं। आप इसका अर्थ उदाहरण से भी समझा सकते हैं। आप इस हायकू का चित्र बना सकते हैं। लिखिए हमे आपके विचार क्या इस हायकू में आपके अनुभव झलकते हैं। इसके माध्यम स

साष्टांग सम्यक् - आचार्य विद्यासागर जी द्वारा रचित हायकू १‍४७

साष्टांग सम्यक्, शान चढ़ा हीरा सा।, कहाँ दिखता ?   हायकू जापानी छंद की कविता है इसमें पहली पंक्ति में 5 अक्षर, दूसरी पंक्ति में 7 अक्षर, तीसरी पंक्ति में 5 अक्षर है। यह संक्षेप में सार गर्भित बहु अर्थ को प्रकट करने वाली है।   आओ करे हायकू स्वाध्याय आप इस हायकू का अर्थ लिख सकते हैं। आप इसका अर्थ उदाहरण से भी समझा सकते हैं। आप इस हायकू का चित्र बना सकते हैं। लिखिए हमे आपके विचार क्या इस हायकू में आपके अनुभव झलकते हैं। इसके माध्यम

ख़ाली बन जा - आचार्य विद्यासागर जी द्वारा रचित हायकू १‍४६

ख़ाली बन जा, घट डूबता भरा…, ख़ाली तैरता।   हायकू जापानी छंद की कविता है इसमें पहली पंक्ति में 5 अक्षर, दूसरी पंक्ति में 7 अक्षर, तीसरी पंक्ति में 5 अक्षर है। यह संक्षेप में सार गर्भित बहु अर्थ को प्रकट करने वाली है।   आओ करे हायकू स्वाध्याय आप इस हायकू का अर्थ लिख सकते हैं। आप इसका अर्थ उदाहरण से भी समझा सकते हैं। आप इस हायकू का चित्र बना सकते हैं। लिखिए हमे आपके विचार क्या इस हायकू में आपके अनुभव झलकते हैं। इसके माध्यम से हम अप

बिना चर्वण - आचार्य विद्यासागर जी द्वारा रचित हायकू १‍४५

बिना चर्वण, रस का रसना का, मूल्य ही क्या है ?   हायकू जापानी छंद की कविता है इसमें पहली पंक्ति में 5 अक्षर, दूसरी पंक्ति में 7 अक्षर, तीसरी पंक्ति में 5 अक्षर है। यह संक्षेप में सार गर्भित बहु अर्थ को प्रकट करने वाली है।   आओ करे हायकू स्वाध्याय आप इस हायकू का अर्थ लिख सकते हैं। आप इसका अर्थ उदाहरण से भी समझा सकते हैं। आप इस हायकू का चित्र बना सकते हैं। लिखिए हमे आपके विचार क्या इस हायकू में आपके अनुभव झलकते हैं। इसके माध्यम से

चलो बढ़ोऔ - आचार्य विद्यासागर जी द्वारा रचित हायकू १‍४४

चलो बढ़ोऔ, कूदो, उछलो यही, धुआँधार है।   हायकू जापानी छंद की कविता है इसमें पहली पंक्ति में 5 अक्षर, दूसरी पंक्ति में 7 अक्षर, तीसरी पंक्ति में 5 अक्षर है। यह संक्षेप में सार गर्भित बहु अर्थ को प्रकट करने वाली है।   आओ करे हायकू स्वाध्याय आप इस हायकू का अर्थ लिख सकते हैं। आप इसका अर्थ उदाहरण से भी समझा सकते हैं। आप इस हायकू का चित्र बना सकते हैं। लिखिए हमे आपके विचार क्या इस हायकू में आपके अनुभव झलकते हैं। इसके माध्यम से हम अपना

सुई निश्चय - आचार्य विद्यासागर जी द्वारा रचित हायकू १‍४३

सुई निश्चय, कैंची व्यवहार है, दर्ज़ी-प्रमाण।   हायकू जापानी छंद की कविता है इसमें पहली पंक्ति में 5 अक्षर, दूसरी पंक्ति में 7 अक्षर, तीसरी पंक्ति में 5 अक्षर है। यह संक्षेप में सार गर्भित बहु अर्थ को प्रकट करने वाली है।   आओ करे हायकू स्वाध्याय आप इस हायकू का अर्थ लिख सकते हैं। आप इसका अर्थ उदाहरण से भी समझा सकते हैं। आप इस हायकू का चित्र बना सकते हैं। लिखिए हमे आपके विचार क्या इस हायकू में आपके अनुभव झलकते हैं। इसके माध्यम से ह

तार न टूटी - आचार्य विद्यासागर जी द्वारा रचित हायकू १‍४२

तार न टूटी, लगातार चिर से, चैतन्य-धारा।   हायकू जापानी छंद की कविता है इसमें पहली पंक्ति में 5 अक्षर, दूसरी पंक्ति में 7 अक्षर, तीसरी पंक्ति में 5 अक्षर है। यह संक्षेप में सार गर्भित बहु अर्थ को प्रकट करने वाली है।   आओ करे हायकू स्वाध्याय आप इस हायकू का अर्थ लिख सकते हैं। आप इसका अर्थ उदाहरण से भी समझा सकते हैं। आप इस हायकू का चित्र बना सकते हैं। लिखिए हमे आपके विचार क्या इस हायकू में आपके अनुभव झलकते हैं। इसके माध्यम से हम अपन

बाहर नहीं - आचार्य विद्यासागर जी द्वारा रचित हायकू १‍४१‍

बाहर नहीं, वसन्त बहार तो, सन्त ! अन्दर…   हायकू जापानी छंद की कविता है इसमें पहली पंक्ति में 5 अक्षर, दूसरी पंक्ति में 7 अक्षर, तीसरी पंक्ति में 5 अक्षर है। यह संक्षेप में सार गर्भित बहु अर्थ को प्रकट करने वाली है।   आओ करे हायकू स्वाध्याय आप इस हायकू का अर्थ लिख सकते हैं। आप इसका अर्थ उदाहरण से भी समझा सकते हैं। आप इस हायकू का चित्र बना सकते हैं। लिखिए हमे आपके विचार क्या इस हायकू में आपके अनुभव झलकते हैं। इसके माध्यम से हम अपन

आचार्य विद्यासागर महाराज का भव्य स्वर्ण महोत्सव भोपाल में, मुख्यमंत्री का होगा सम्मान

भोपाल। दिगम्बर जैन संत आचार्यश्री विद्यासागर जी महाराज के पचासवें दीक्षा वर्ष के अवसर पर भोपाल में भव्य "संयम स्वर्ण महोत्सव" का आयोजन 5 अक्टूबर, शरद पूर्णिमा के दिन रविन्द्र भवन के मुक्ताकाश मंच पर किया जा रहा है। इस आयोजन में मप्र संस्कृति विभाग के सहयोग से उड़ीसा के प्रिंस ग्रुप की शानदार प्रस्तुति होगी। इसके अलावा मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का अभिनन्दन भी किया जायेगा। आपको बता दें कि पिछले साल वर्ष २०१६ में अपनी भोपाल यात्रा के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी आचार्य श्री का आशीर्वाद

सुधाकर की - आचार्य विद्यासागर जी द्वारा रचित हायकू १‍४०

सुधाकर की, लवणाकर से क्यों ?, मैत्री, क्या राज ?   हायकू जापानी छंद की कविता है इसमें पहली पंक्ति में 5 अक्षर, दूसरी पंक्ति में 7 अक्षर, तीसरी पंक्ति में 5 अक्षर है। यह संक्षेप में सार गर्भित बहु अर्थ को प्रकट करने वाली है।   आओ करे हायकू स्वाध्याय आप इस हायकू का अर्थ लिख सकते हैं। आप इसका अर्थ उदाहरण से भी समझा सकते हैं। आप इस हायकू का चित्र बना सकते हैं। लिखिए हमे आपके विचार क्या इस हायकू में आपके अनुभव झलकते हैं। इसके माध्यम

तारा दिखती - आचार्य विद्यासागर जी द्वारा रचित हायकू १‍३९

तारा दिखती, उस आभा में कभी, कुछ दिखी क्या ?   हायकू जापानी छंद की कविता है इसमें पहली पंक्ति में 5 अक्षर, दूसरी पंक्ति में 7 अक्षर, तीसरी पंक्ति में 5 अक्षर है। यह संक्षेप में सार गर्भित बहु अर्थ को प्रकट करने वाली है।   आओ करे हायकू स्वाध्याय आप इस हायकू का अर्थ लिख सकते हैं। आप इसका अर्थ उदाहरण से भी समझा सकते हैं। आप इस हायकू का चित्र बना सकते हैं। लिखिए हमे आपके विचार क्या इस हायकू में आपके अनुभव झलकते हैं। इसके माध्यम से ह

भ्रमर से हो - आचार्य विद्यासागर जी द्वारा रचित हायकू १‍३८

भ्रमर से हो, फूल सुखी, हो दाता, पात्र-योग से।   हायकू जापानी छंद की कविता है इसमें पहली पंक्ति में 5 अक्षर, दूसरी पंक्ति में 7 अक्षर, तीसरी पंक्ति में 5 अक्षर है। यह संक्षेप में सार गर्भित बहु अर्थ को प्रकट करने वाली है।   आओ करे हायकू स्वाध्याय आप इस हायकू का अर्थ लिख सकते हैं। आप इसका अर्थ उदाहरण से भी समझा सकते हैं। आप इस हायकू का चित्र बना सकते हैं। लिखिए हमे आपके विचार क्या इस हायकू में आपके अनुभव झलकते हैं। इसके माध्यम से
×
×
  • Create New...